स्वतंत्रता दिवस विशेष: देश की आजादी की जमीन ‘मेरठ क्रांति’ ने तय कर दी थी


पूरा देश आजादी के रंग में रंगा हुआ है. इस बार 15 अगस्त को भारत अपनी स्वतंत्रता के 74वीं वर्षगांठ मना रहा है. कोरोना संकट में भी देशवासी आजादी के जश्न में रंगे हुए हैं. आज स्वतंत्रता दिवस के अवसर पर बात होगी ‘मेरठ क्रांति’ की. जिसे भारत की 1857 कि विद्रोह क्रांति के नाम से भी जाना जाता है. भारतीयों का यही प्रथम आंदोलन था जिसने अंग्रेजों को पहली बार हिला दिया था.

स्वतंत्रता सेनानियों ने सही मायने में देश की आजादी की जमीन यहीं से तैयार कर दी थी. बाद में मेरठ से शुरू हुई आजादी की चिंगारी अंग्रेजों को देश से भगाने में सबब बनी. 1857 का वह दिन भारत के इतिहास में स्वर्णिम अक्षरों में दर्ज है. जब जब भारत की स्वतंत्रता की बात होती है तब मेरठ की क्रांति का भी नाम लिया जाता है. मेरठ की क्रांति का जिक्र किए बिना देश की आजादी के किस्से अधूरे हैं. मेरठ से आजादी के पहले आंदोलन की शुरुआत हुई थी, जो बाद में पूरे देश में फैल गया. सैनिकों के विद्रोह से एक छोटी चिंगारी निकली और ज्वाला बन गई थी.

1857 की क्रांति के पीछे चर्बी लगे कारतूस की मुख्य भूमिका थी
यहां हम आपको बता दें कि अंग्रेज अफसर कर्नल माइकल स्मिथ ने चर्बी लगे कारतूस भारतीय सैनिकों को देने के आदेश दिए. इन कारतूसों को मुंह से खोलना पड़ता था. तीसरी रेजीमेंट लाइन गैलरी के 90 में से 85 सैनिकों ने इस कारतूस के खिलाफ बगावत कर दी. कहा जाता है कि अंग्रेजों ने गाय और सुअर की चर्बी का कारतूस दिया था, सैनिकों ने चलाने से मना कर दिया, क्योंकि उस कारतूस को मुंह से खोलना पड़ता था और इन सैनिकों में हिंदू और मुस्लिम दोनों समाज के लोग थे.

अंग्रेजों ने ये जानबूझकर किया था, जिसके बाद इन सैनिकों ने विद्रोह कर दिया तो उनका कोर्ट मार्शल हुआ और उन्हें विक्टोरिया के पास एक जेल थी, जहां रखा गया था और जब धीरे-धीरे आंदोलन पूरे देश मे शुरू हो गया और यही वजह है कि आज भी इतिहास में वो तारीख दर्ज है. यही विरोध प्रथम स्वतंत्रता संग्राम का बुनियाद बना था. बैरकपुर छावनी से शुरू हुआ विद्रोह पूरे देश में फैल गया, जिसके बाद देशभर में लोगों ने अंग्रेजी हुकूमत के खिलाफ उग्र प्रदर्शन किया.


ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ विद्रोह के नायक मंगल पांडे थे

मंगल पांडे ने 29 मार्च, 1857 को बंगाल की बैरकपुर छावनी में ब्रिटिश के खिलाफ विद्रोह का बिगुल फूंका था. मंगल पांडे ने इस क्रांति नायक थे. दरअसल जो एंफील्ड बंदूक सिपाही इस्तेमाल करते थे, उसमें कारतूस भरने के लिए दांतों का इस्तेमाल करना पड़ता था. पहले कारतूस को काटकर खोलना पड़ता था और उसके बाद उसमे भरे हुए बारूद को बंदूक की नली में भर कर कारतूस को डालना पड़ता था.

सिपाहियों में यह अफवाह फैल गई थी कि कारतूस में लगी हुई चर्बी सुअर और गाय के मांस से बनाई जाती है. ऐसे में सिपाहियों को लगा की अंग्रेज उनका धर्म भ्रष्ट करना चाहते हैं. अंग्रेजों के इस षड्यंत्र से आक्रोशित मंगल पांडे ने बैरकपुर छावनी में ब्रिटिश साम्राज्य के खिलाफ बिगुल बजा दिया था. छावनी के परेड ग्राउंड में मंगल पांडे ने लेफ्टिनेंट बाग और सार्जेंट मेजर ह्यूसन की हत्या कर दी थी. इसके बाद में मंगल पांडे ने खुद को गोली मार ली, लेकिन वे सिर्फ घायल ही हुए थे. बाद में 7 अप्रैल, 1957 को मंगल पांडे को अंग्रेजी हुकूमत ने फांसी दे दी थी.


शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

24 घंटे में कोरोना के मिले करीब 87 हजार मरीज, कुल केस 54 लाख के पार

भारत में कोरोना वायरस के संक्रमितों का आंकड़ा रविवार को 54 लाख...

पिथौरागढ़: ग्राम प्रधान की गोली मार कर हत्या, आरोपी गिरफ्तार

बीती रात पिथौरागढ़ के माछीखेत गांव में एक युवक ने ग्राम प्रधान...

अनलॉक-4 में आज से मिलेंगी ये छूट, कई राज्यों में स्कूल खुला

नई दिल्ली| देश में तेजी से बढ़ते कोरोन वायरस संक्रमण के...

एसएसजे परिसर अल्मोड़ा समेत कुमाऊं के 37 महाविद्यालयों का किया जाएगा विलय

अल्मोड़ा| सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अस्तित्व में आने के बाद अब इसको...

किसान बिल को लेकर राज्यसभा में हंगामा करने पर 8 विपक्षी सांसद निलंबित

कृषि बिलों पर चर्चा के दौरान रविवार को राज्‍यसभा में जो कुछ...

नैनीताल: कुमाऊं विश्वविद्यालय ने चार सौ विद्यार्थियों का परीक्षाफल रोका

कुमाऊं विश्वविद्यालय ने संबद्ध परिसरों, महाविद्यालयों और संस्थानों के करीब चार सौ...

एनएसए, सीडीएस और सेना प्रमुख की रणनीति के आगे चीन पस्त, एलएसी पर नहीं चल पा रही ‘चालबाजी’

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना वास्वतिक नियंत्रण...

मुंबई: भिवंडी में 3 मंजिला इमारत गिरी, 8 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

मुंबई| महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से बड़े हादसे की खबर है.

राशिफल 21-09-2020: आज का दिन इन राशि वालों के लिए रहेगा कठिन

मेष:- आज भाग्य उदय का समय है. नौकरी मिलने की संभावनाओं के...

Latest Updates

एसएसजे परिसर अल्मोड़ा समेत कुमाऊं के 37 महाविद्यालयों का किया जाएगा विलय

अल्मोड़ा| सोबन सिंह जीना विश्वविद्यालय अस्तित्व में आने के बाद अब इसको संचालित करने की कवायद तेज हो गयी है.

किसान बिल को लेकर राज्यसभा में हंगामा करने पर 8 विपक्षी सांसद निलंबित

कृषि बिलों पर चर्चा के दौरान रविवार को राज्‍यसभा में जो कुछ भी हुआ, सभापति एम. वेंकैया नायडू उससे खासे नाराज दिखे....

नैनीताल: कुमाऊं विश्वविद्यालय ने चार सौ विद्यार्थियों का परीक्षाफल रोका

कुमाऊं विश्वविद्यालय ने संबद्ध परिसरों, महाविद्यालयों और संस्थानों के करीब चार सौ विद्यार्थियों के असाइनमेंट के अंक प्राप्त नहीं होने के चलते...

अन्य खबरें

जबरदस्त हंगामे के बीच राज्यसभा से पारित हुआ कृषि बिल, सांसदों ने रूल बुक फाड़ी और माइक तोड़ा

नई दिल्ली| राज्यसभा में कृषि बिल 2020 पर चर्चा के दौरान रविवार को जबरदस्त हंगामा हुआ. हंगामे की वजह से राज्यसभा...

राज्यसभा में बिल पास कराने के लिए मोदी सरकार को अभी भी अन्य दलों से करनी पड़ रही है ‘जी हुजूरी’

पिछले तीन दिनों से केंद्र की भाजपा सरकार एक बार फिर परेशान है. मोदी सरकार की परेशानी का बड़ा कारण राज्यसभा में...

कृषि विधेयक पास कराना सरकार के लिए चुनौती, विरोध में केजरीवाल ने की ये अपील

नई दिल्ली| लोकसभा में कृषि विधेयकों के पारित होने के बाद अब इस विधेयक को राज्यसभा में पेश किया जा सकता है...

उद्धव-आदित्य और सुप्रिया सुले की बढ़ी मुश्किलें, चुनावी हलफनामे में संपत्ति और देनदारी की गलत जानकारी देने का आरोप

मुंबई| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे , उनके बेटे आदित्य ठाकरे और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले फिलहाल मुश्किल में...

‘बॉर्डर पर होने वाली झड़पें बढ़ रही हैं और लोग मर रहे हैं’- पाकिस्तान के साथ बातचीत के पक्ष में फारूक अब्दुल्ला

नई दिल्ली| नेशनल कॉन्फेंस के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर कश्मीर में शांति के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत पर...

योगी सरकार के मंत्री ने कहा लव जिहाद रोकने के लिए यूपी में बनेगा कानून

यूपी योगी सरकार के एक मंत्री ने लव जिहाद रोकने के लिए महत्वपूर्ण बयान दिया है.‌ यह बयान यूपी शासन की ओर...