उत्तर प्रदेश में सियासी दलों ने सत्ता पर काबिज होने के लिए ब्राह्मणों को बनाया ‘जजमान’


प्रदेश में अभी विधानसभा चुनाव होने में डेढ़ वर्ष बचे हैं लेकिन सपा, बसपा, भाजपा और कांग्रेस ने ब्राह्मणों का गुणगान करना शुरू कर दिया है. प्रदेश की राजनीति में इन दिनों हर तरफ ब्राह्मणों की चर्चा है. हर पार्टी ब्राह्मण नाम की माला जप रही है. कोई भगवान परशुराम के नाम पर मूर्तियां बनवाने की बात कर रहा है तो कोई परशुराम के नाम पर अस्पताल और रैन बसेरे. इन सबसे आगे बढ़कर भाजपा ने भी नया दांव चलते हुए ब्राह्मणों के लिए जीवन बीमा और हेल्थ इंश्योरेंस कराने की घोषणा कर दी है. सपा ने बीजेपी को जुमला पार्टी कहते हुए कहा है कि वह जो कहती है वह करती नहीं है.

उत्तर प्रदेश में वर्ष 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए सभी दलों ने ब्राह्मणों को अपना-अपना ‘जजमान’ बना रखा है. यानी सत्ता पर काबिज होने के लिए सियासी दलों में ब्राह्मणों को अपने पक्ष में करने के लिए हर हथकंडे अपनाए जा रहे हैं. दूसरी ओर विपक्षी दलों ने योगी सरकार में लगातार ब्राह्मण वर्ग पर हो रहे हमले को अब भाजपा सरकार के खिलाफ एक मजबूत हथियार बना लिया है.

वहीं पिछले महीने विकास दुबे एनकाउंटर ने आग में घी डालने का काम किया. ब्राह्मणों की नाराजगी को विपक्षी दल भी भुनाने में कोई कसर नहीं छोड़ना चाहते. यूपी में सभी मुख्य विपक्षी दल योगी सरकार पर ब्राह्मणों की अनदेखी का आरोप लगाते हुए निशाना साध रहे हैं. वहीं अब ब्राह्मणों की आस्था के प्रतीक परशुराम के जरिए समाजवादी पार्टी और बहुजन समाज पार्टी में घमासान मचा हुआ है.

कांग्रेस भी ब्राह्मण चेतना संवाद के जरिए वोट बैंक को साधने में जुटी है. गौरतलब है कि पिछले साल (2019) लोकसभा चुनाव लड़ने वाले एसपी और बीएसपी ब्राह्मण वोट साधने के लिए इस बार एक दूसरे हमले कर रहे हैं. पिछले दिनों ब्राह्मण वोट भुनाते हुए समाजवादी पार्टी ने सूबे में परशुराम की मूर्ति लगाने का वादा किया. तो मायावती कैसे पीछे रहने वाली थीं. मौके का फायदा उठाते हुए बसपा प्रमुख ने जोर शोर से प्रचार करते हुए भगवान परशुराम की मूर्ति पूरे प्रदेश भर में लगाने का एलान कर डाला. यही नहीं उत्तर प्रदेश में सभी राजनीतिक दलों की तरफ से ब्राह्मण वोट बैंक को ध्यान में रखकर एक से एक वादे किए जा रहे हैं.


ब्राह्मणों पर कार्रवाई को लेकर विपक्ष के साथ भाजपा विधायक के भी योगी से सवाल

उत्तर प्रदेश में ब्राह्मणों को रिझाने की कोशिश अपने अपने चरम पर है. सबको लग रहा है कि ब्राह्मण उसके साथ आ जाए तो बात बन जाए. यूपी की राजनीति में अब तक विपक्षी दल ही अपने अपने तरीके से ब्राह्मणों को लुभाने की कोशिश कर रहे थे लेकिन अब भाजपा विधायक भी सरकार से जवाब मांगने की कोशिश करने लगे हैं. सुलतानपुर जिले की लम्भुआ सीट से भारतीय जनता पार्टी के विधायक देवमणि द्विवेदी ने अपने ही योगी सरकार से सवाल जवाब किए हैं.

देवमणि द्विवेदी ने अपने सवाल में पूछा है कि बीते तीन वर्ष में कितने ब्राह्मणों की हत्या हुई है. भाजपा में विधायक द्विवेदी ने इसका जवाब प्रदेश के गृहमंत्री से मांगा है. हम आपको बता देंगे ब्राह्मण यूपी का एक प्रभावशाली समाज है. बीजेपी सीधे सीधे हिंदुत्व कार्ड खेल रही है. भाजपा के पास भगवान राम के मंदिर का मुद्दा है, प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का चेहरा है और योगी जैसा भगवाधारी संत है. इसी को लेकर विपक्ष योगी के खिलाफ गोलबंदी करने में जुटा है.

विकास दुबे एनकाउंटर और उसके बाद कई ऐसे अपराधी, जो ब्राह्मण समाज से आते हैं, उन पर हुई कार्रवाई को आधार बनाकर यूपी में सपा बसपा और कांग्रेस की कोशिश हो रही है कि ये साबित किया जाए कि योगी सरकार ब्राह्मणों के खिलाफ है. इसी मौके को देखते हुए सबसे पहले सपा ने और फिर बसपा ने परशुराम के बहाने ब्राह्मणों को अपनी तरफ जोड़ने की कोशिश की है.

यूपी में भाजपा सरकार ब्राह्मणों को सुरक्षा और सम्मान दें : मायावती
भाजपा विधायक के योगी सरकार से ब्राह्मणों की कार्रवाई को लेकर पूछे गए सवाल के बाद बसपा प्रमुख मायावती भी मुख्यमंत्री योगी आदित्यनाथ पर हमलावर हो गई हैं. बसपा सुप्रीमो ने राज्य सरकार द्वारा गरीब ब्राह्मणों को बीमा देने संबंधी बयान आने पर कहा है कि पहले उनके सम्मान और सुरक्षा की गारंटी दी जाए.

उन्होंने कहा है कि प्रदेश की भाजपा सरकार द्वारा गरीब ब्राह्मणों का बीमा कराने की बात इस वर्ग के प्रति केवल अपनी कमियों पर पर्दा डालने के लिए ही लगता है, जबकि ब्राह्मण समाज को वास्तव में बीमा से पहले उन्हें सरकार से अपने मान-सम्मान व पूरी सुरक्षा की गारंटी चाहिए. मायावती इन दिनों ब्राह्मणों को लेकर सरकार को घेर रही हैं.

बसपा सुप्रीमो ने इसके पहले कहा था कि प्रदेश में उनकी सरकार बनने पर भगवान परशुराम की प्रतिमा लगवाने के साथ ही जयंती पर अवकाश घोषित करने का वादा पहले की कर चुकी हैं. इन दिनों ब्राह्मण समाज कि बसपा में बहुत सम्मान किया जा रहा है. जिले से लेकर बूथ स्तर तक बनने वाले कमेटियों में ब्राह्मणों को स्थान दिया जा रहा है.


शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

कोरोना ने दी नए खतरे की आहट, रूप बदलकर ठीक हुए मरीजों पर दोबारा हमला कर रहा वायरस

दुनियाभर में कोरोना वायरस संक्रमण के बढ़ते मामलों ने वैज्ञानिकों की...

देहरादून: रविवार को खुली रहेंगी आवश्यक सेवाओं की दुकानें

देहरादून में रविवार साप्ताहिक बंदी वाले बाजारों में मेडिकल स्टोर, दूध-दही आदि...

सुशांत सिंह राजपूत डेथ केस पर बनेगी फिल्म, ये एक्टर निभाएंगे सुशांत का किरदार

बॉलीवुड एक्टर सुशांत सिंह राजपूत को इस दुनिया से विदा हुए काफी...

केदारनाथ धाम: तीर्थपुरोहितों ने अपना 49 दिनों से चल रहा धरना-प्रदर्शन किया खत्म, इन मांगों पर बनी सहमति

केदारनाथ धाम में प्रशासन व पुलिस अधिकारियों से वार्ता और लिखित आश्वासन...

आज से शुरू हो रहा 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनों का रिजर्वेशन, जानिए नियम

कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे पूरी सतर्कता के साथ रेल सेवाओं...

केरल और बंगाल से एनआईए की गिरफ्त में आए अलकायदा से जुड़े 9 संदिग्ध आतंकी

राष्ट्रीय जांच एजेंसी नेअलकायदा के बड़े नेटवर्क का पता लगाते...

उत्तराखंड: इस जिले में तैयार हो रहा राष्ट्रीय स्तर का पक्षी संग्रहालय, 80 से अधिक प्रजातियां होंगी संरक्षित

रुद्रप्रयाग में उत्तराखंड पर्यटन विभाग की ओर से राष्ट्रीय स्तर का पक्षी संग्रहालय...

Latest Updates

आईपीएल-13 : उद्घाटन मुकाबले में आज आमने-सामने होंगे सुपर किंग्स, मुम्बई इंडियंस, जानिए किसका पलड़ा भारी

अबु धाबी|... शनिवार को आईपीएल के 13वें संस्करण का आगाज होगा और दुनिया की इस सबसे बड़ी पेशेवर टी20 लीग के...

केदारनाथ धाम: तीर्थपुरोहितों ने अपना 49 दिनों से चल रहा धरना-प्रदर्शन किया खत्म, इन मांगों पर बनी सहमति

केदारनाथ धाम में प्रशासन व पुलिस अधिकारियों से वार्ता और लिखित आश्वासन के बाद तीर्थपुरोहितों ने अपना 49 दिनों से चल रहा...

आज से शुरू हो रहा 20 जोड़ी क्लोन ट्रेनों का रिजर्वेशन, जानिए नियम

कोरोना संकट के बीच भारतीय रेलवे पूरी सतर्कता के साथ रेल सेवाओं का परिचालन कर रहा है. कुछ खास मार्गों पर यात्रा...

अन्य खबरें

केंद्र से लेकर योगी सरकार तक युवाओं के आक्रोश पर विपक्ष की चमक रही राजनीति

केंद्र से लेकर उत्तर प्रदेश की योगी सरकार के खिलाफ युवाओं और बेरोजगारों का आक्रोश अब भारी पड़ने लगा है. 'भाजपा सरकार...

अकाली दल एनडीए से अलग हुई या पंजाब चुनावों के लिए भाजपा से किया समझौता !

एनडीए का सबसे पुराना घटक दल शिरोमणि अकाली दल भाजपा सरकार के खिलाफ विरोध में उतरना सियासी पंडितों को भी समझ नहीं...

यूपी विधानसभा उपचुनाव: कांग्रेस-बसपा के चुनावी समर में उतरने से दिलचस्प होगा मुकबला

लखनऊ| यूपी के आठ विधानसभा क्षेत्रों में होंने वाले उप चुनावों में कांग्रेस ने कमेटी बनाकर तो बसपा ने उम्मीदवारों के चयन...

हरसिमरत बादल का इस्तीफा राष्ट्रपति ने स्वीकार किया, तोमर को मिला अतिरिक्त प्रभार

नई दिल्ली| शिरोमणि अकाली दल (शिअद) की नेता एवं खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने कृषि से जुड़े तीन विधेयकों...

केंद्रीय मंत्री हरसिमरत कौर का इस्तीफा

नई दिल्ली| शिरोमणी अकाली दल की नेता और खाद्य प्रसंस्करण उद्योग मंत्री हरसिमरत कौर बादल ने केंद्रीय मंत्रिमंडल से इस्तीफा दे...

कोरोना-भाभीजी के पापड़ में क्या है कनेक्शन, संजय राउत ने कसा तंज

देश में कोरोना वायरस के सिलसिले में 10 रेड जोन हैं जिसमें मुंबई भी शामिल है. इसके साथ साथ महाराष्ट्र में कोरोना...