उत्तराखंड: आसान नहीं है पहाड़ की सियासत में ‘आप’ का चढ़ना

पिथौरागढ़|आम आदमी पार्टी के मुखिया और दिल्ली के सीएम अरविंद केजरीवाल ने उत्तराखंड के आगामी विधानसभा चुनावों में उतरने का ऐलान कर दिया है. केजरीवाल साफ़ कर चुके हैं कि सभी 70 सीटों पर उम्मीदवार उतारे जाएंगे. भारी बहुमत के साथ दिल्ली में आम आदमी पार्टी दूसरी बार सिर्फ़ अपने बलबूते सत्ता पर काबिज है लेकिन सच्चाई यह भी है कि दिल्ली से बाहर ‘आप’ को पांव जमाने में खासी दिक्कत हो रही है. उत्तराखंड में जहां बीजेपी और कांग्रेस बारी-बारी से सत्ता में आते रहे हैं तीसरी शक्ति की संभावना फ़िलहाल तो नहीं दिख रही है.

2017 में आम आदमी पार्टी ने 29 उम्मीदवारों को गुजरात के चुनावी मैदान में उतारा था लेकिन सभी की ज़मानत ज़ब्त हो गई थी. हालत यह थी कि ‘आप’ से ज्यादा वोट नोटा को मिले थे. आप को गुजरात में 29 सीटों पर कुल 27000 वोट मिले थे जबकि नोटा को 75880 वोट पड़े. छोटा प्रदेश होने के नाते आप नेताओं को भरोसा था कि गोवा में उन्हें कुछ कामयाबी हासिल होगी लेकिन वहां भी 2017 के विधानसभा चुनावों में उसे निराशा ही हाथ लगी. आप को 6.4 फ़ीसदी वोट के साथ कुल 42 हजार लोगों ने वोट दिया.

यह बात अलग है कि इसी साल पंजाब में हुए चुनावों में उसने बेहतर प्रदर्शन किया. पंजाब में आप को 23.7 फ़ीसदी वोट मिले और 20 सीटों पर जीत भी मिली लेकिन आम आदमी पार्टी की इस जीत के पीछे कई राजनीतिक कारण थे. 2017 के चुनावों में भाजपा-अकाली गठबंधन की सरकार खासी अलोकप्रिय हो चुकी थी जबकि कांग्रेस को भी लोग बहुत ज्यादा पसंद नहीं कर रहे थे. ऐसे में आप का प्रदर्शन कुछ बेहतर रहा.

2018 में छत्तीसगढ़, मध्यप्रदेश और राजस्थान में भी आम आदमी पार्टी ने चुनावी ताल ठोकी. छत्तीसगढ़ की 85 सीटों में पार्टी ने उम्मीदवार उतारे लेकिन कोई भी सीट जीतने में उसे सफलता नहीं मिली. वोट प्रतिशत की बात करें तो मात्र 0.9 फ़ीसदी लोगों ने आप को पसंद किया जबकि राजस्थान की 142 सीटों पर चुनाव में उतरी आप को सिर्फ़ 0.7 फ़ीसदी वोट मिले. कुछ ऐसा ही हाल मध्यप्रदेश में भी हुआ. यहां आप के 208 उम्मीदवार 0.4 फ़ीसदी ही वोट जुटा पाए.

आम आदमी पार्टी को सबसे करारा झटका बीते साल हरियाणा में हुए विधानसभा चुनावों में लगा. केजरीवाल के होम स्टेट में पार्टी ने 46 सीटों पर उम्मीदवार उतारे और सभी की ज़मानत ज़ब्त हो गई. यहां पार्टी को सिर्फ़ 0.45 फ़ीसदी वोट मिले. इस लिहाज से देखें तो दिल्ली से बाहर पांव फैलाने की कोशिशें अब तक आम आदमी पार्टी की क़ामयाब नहीं रही है.

दिल्ली में सीनियर जर्नलिस्ट पूनम पांडे ने आप को लंबे समय तक कवर किया है. उनका मानना है कि दिल्ली में आम आदमी पार्टी के पास केजरीवाल का चेहरा है. यही नहीं केजरीवाल सियासत में आने से पहले भी लंबे समय तक दिल्ली में सोशल एक्टिविस्ट के बतौर सक्रिय रहे थे उनके पास एक टीम थी. इसी टीम के साथ केजरीवाल 2012 में अन्ना हजारे के साथ आंदोलन में उतरे.

दिल्ली चुनाव में उतरने से पहले केजरीवाल टीम ने बिजली-पानी जैसे मुद्दों पर लड़ाई भी लड़ी थी. इसी कारण केजरीवाल को चुनाव में लोगों का अच्छा समर्थन मिला. साथ ही पूनम का मानना है कि दिल्ली से बाहर आम आदमी पार्टी चुनावों में तो जरूर उतर रही है लेकिन दिल्ली जैसा ज़मीनी संघर्ष कहीं दिखाई नहीं देता.

उत्तराखंड में तो आप को और भी ज़्यादा चुनौती का सामना करना पड़ेगा. 13 जिलों वाले उत्तराखंड में 10 ज़िले पूरी तरह पहाड़ी हैं. पहाड़ की विधानसभाओं तक पहुंच पाना भी आसान नहीं है. सोशल मीडिया के ज़रिये भी पहाड़ों तक अपनी बात पहुंचा पाना आसान नहीं है. अधिकांश पहाड़ी इलाके आज भी इंटरनेट से कोसों दूर हैं. पहाड़ों में सियासत का सफर ज़मीनी कार्यकर्ता के सहारे ही पार किया जा सकता है.

राजनीतिक मामलों के जानकार डीएस पांगती का कहना है कि उत्तराखंड की राजनीति बीजेपी-कांग्रेस के इर्द-गिर्द ही रही है. 1992 में उत्तराखंड राज्य आंदोलन के बाद क्षेत्रीय दल उत्तराखंड क्रांति दल को कुछ समर्थन ज़रूर मिला था. लेकिन फिर मतदाताओं का रुझान बीजेपी और कांग्रेस की ओर सिमट गया.

पांगती यह तो मानते हैं कि बीजेपी-कांग्रेस से राज्य का एक तबका खासा नाराज है और ह तीसरे विकल्प को तलाश भी रहा है लेकिन आम आदमी पार्टी ने तीसरा विकल्प बनने के लिए कोई ज़मीनी संघर्ष नही किया है. सिर्फ़ उम्मीदवार उतारने से लोग वोट देंगे इसमें संदेह हैं.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

कश्मीर मुद्दे पर बात रखने वाले वकील बाबर कादरी की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में गुरुवार को अज्ञात आतंकवादियों के हमले...

उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश-राजस्थान के लिए बस सेवा शुरू करने को त्रिवेंद्र सिंह सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश और राजस्थान यात्रियों के लिए खुशखबरी है. उत्तराखंड की त्रिवेंद्र...

कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क भी वैक्सीन तरह ही काम करता है

देश के कोरोना वायरस का संकटकाल चल रहा है. इस महामारी से...

उत्तराखंड में आज मिले 684 लोग कोरोना पॉजिटिव, 13 लोगों की मौत

गुरुवार को उत्तराखंड में 684 लोग कोरोनावायरस संक्रमित मिले और 13...

सीएम रावत ने की खरीफ खरीद सत्र 2020-21 की समीक्षा

गुरूवार को सीएम रावत द्वारा सचिवालय में खरीफ खरीद सत्र 2020-21 हेतु...

बड़ी खबर: भारत की आपत्ति के बावजूद नहीं माना पाकिस्तान, 15 नवंबर को होंगे गिलगित-बाल्टिस्‍तान चुनाव

इस्‍लामाबाद|... पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर के गिलगित-बाल्टिस्‍तान इलाके को लेकर पाकिस्‍तान में...

दिल्ली हिंसा मामले में उमर खालिद को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत

नई दिल्ली| गुरुवार को दिल्ली की एक अदालत ने जवाहर लाल...

उत्तराखंड: पूर्व विधायक कृष्ण चन्द्र पुनेठा का निधन

अविभाजित यूपी में पिथौरागढ़ विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रहे कृष्ण...

Latest Updates

उत्तराखंड में आज मिले 684 लोग कोरोना पॉजिटिव, 13 लोगों की मौत

गुरुवार को उत्तराखंड में 684 लोग कोरोनावायरस संक्रमित मिले और 13 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ...

सीएम रावत ने की खरीफ खरीद सत्र 2020-21 की समीक्षा

गुरूवार को सीएम रावत द्वारा सचिवालय में खरीफ खरीद सत्र 2020-21 हेतु धान क्रय सम्बन्धी व्यवस्थाओं की समीक्षा की गई.

अब लड़कियों के लिए भी खुले सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के द्वार, स्कूल सोसाइटी ने अपर मुख्य सचिव को भेजा पत्र

नैनीताल| सैनिक स्कूल घोड़ाखाल के द्वार अब लड़कियों के लिए भी खुल गए हैं. इस सत्र से यहां छात्राओं के एडमिशन के...

अन्य खबरें

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस पर संजय राउत का बड़ा बयान- ‘महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार से मिला इनाम’

मुंबई| बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस यानी वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब इस मामले को लेकर सियासी बयानबाजी...

कोरोना से जूझते उत्तराखंड में कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा जाने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़कर किया तमाशा

उत्तराखंड में कोरोना वायरस बेकाबू होता जा रहा है, शासन से लेकर प्रशासन और आम लोग तक डरे सहमे हुए हैं.

बसपा संगठन में अहम बदलाव, मुनकाद अली से ली गई उत्तराखंड की जिम्मेदारी वापस

बहुजन समाज पार्टी ने मंडल स्तरीय संगठन में अहम बदलाव कर दिया है. बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने फरमान...