इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र में एक माह का अंतर, 19 वर्षों बाद बन रहा ऐसा संयोग

इस वर्ष पितृ पक्ष और नवरात्र के बीच में अधिकमास पड़ने के कारण दोनों में एक महीने का अंतर होगा. आश्विन मास में अधिकमास (मलमास) लगना और एक महीने के अंतर पर दुर्गा पूजा आरंभ होना ऐसा संयोग करीब 19 वर्षों बाद बन रहा है. 

हर वर्ष पितृ पक्ष के समापन के अगले दिन से नवरात्र का आरंभ हो जाता था. पितृ अमावस्या के अगले दिन से प्रतिपदा के साथ शारदीय नवरात्र का आरंभ हो जाता है, लेकिन इस साल ऐसा नहीं होगा.

इस बार पितृ पक्ष समाप्त होते ही अधिकमास लग जाएगा. अधिकमास लगने से नवरात्र और पितृपक्ष के बीच एक महीने का अंतर आ जाएगा. चतुर्मास जो हमेशा चार माह का होता है, इस बार पांच माह का होगा. 

भारतीय प्राच्य विद्या सोसायटी के अध्यक्ष और ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी का कहना है कि अधिकमास पूरे वर्ष में किसी भी माह के बाद या पहले आ सकता है. इस बार अधिकमास अश्विन मास के बाद आ रहा है. यानी इस वर्ष दो अश्विन मास होंगे. ये मास पितृ पक्ष के बाद प्रारंभ होगा और 30 दिनों तक रहेगा.

हर बार पितृ पक्ष के बाद नवरात्र प्रारंभ होते हैं परंतु इस बार अधिकमास आने के कारण नवरात्र देर से शुरू होंगे. ऐसा 19 साल बाद ऐसा संयोग बन रहा है. प्रतीक ने बताया कि कुछ विद्वानों का यह भी कहना है की ये संयोग 165 वर्षों के बन रहा है.

क्या होता है अधिकमास 
ज्योतिषाचार्य प्रतीक मिश्रपुरी ने बताया कि हमारे सभी व्रत, आस्था मेले, मुहूर्त ग्रहों पर आधारित होते हैं. सूर्य चंद्र के द्वारा हिंदी माह का निर्माण होता है. 30 तिथियों का माह होता है, जिसमें 15 दिनों बाद अमावस्या और 15 दिनों बाद बाद पूर्णिमा होती है. इन माह में पूरे वर्ष ये तिथियां घटती बढ़ती रहती हैं.

तीन वर्षों के उपरांत ये घटी-बढ़ी तिथियां एक पूरे माह का निर्माण करती हैं. विशेष ये होता है की इस माह में संक्रांति नहीं होती. इस कारण लोग इसे मलमास भी कहते हैं. मलमास में विवाह, मुंडन, गृह प्रवेश जैसे कोई भी शुभ कार्य नहीं किए जाते हैं.

मांगलिक कार्यों के लिए करना होगा इंतजार
क्योंकि पितृ पक्ष में कोई मुहूर्त नहीं होता है. अधिकमास में भी कोई मुहूर्त नहीं होगा. जो लोग नवरात्रि में नई दुकान, घर, वाहन या कोई भी नया कार्य प्रारंभ करने की सोच रहे हैं. उन्हें अभी और इंतजार करना होगा.

तीन बार बना था ऐसा संयोग
सबसे पहले वर्ष 1942 में ऐसा संयोग बना था. इसके बाद वर्ष 1982 और फिर वर्ष 2001 में भी दो अश्विन मास आए थे. इस अश्विन मास के दो महीने होंगे. अश्विन माह 3 सितंबर से 31 अक्तूबर तक रहेगा. यानी इसकी अवधि दो माह रहेगी.

इन दो माह में बीच की अवधि वाला एक माह का समय अधिकमास रहेगा. पितृमोक्ष अमावस्या के बाद 18 सितंबर से 16 अक्तूबर तक पुरुषोत्तम मास रहेगा. इस कारण 17 अक्तूबर से शारदीय नवरात्रि पर्व शुरू होगा.

Related Articles

एनएसए, सीडीएस और सेना प्रमुख की रणनीति के आगे चीन पस्त, एलएसी पर नहीं चल पा रही ‘चालबाजी’

चीन के साथ जारी सीमा विवाद के बीच भारतीय सेना वास्वतिक नियंत्रण...

मुंबई: भिवंडी में 3 मंजिला इमारत गिरी, 8 लोगों की मौत, कई लोगों के फंसे होने की आशंका

मुंबई| महाराष्ट्र की राजधानी मुंबई से बड़े हादसे की खबर है.

राशिफल 21-09-2020: आज का दिन इन राशि वालों के लिए रहेगा कठिन

मेष:- आज भाग्य उदय का समय है. नौकरी मिलने की संभावनाओं के...

DC vs KXIP IPL: दिल्ली कैपिटल्स का रोमांचक आगाज, सुपर ओवर में किंग्ल इलेवन पंजाब को दी मात

दुबई| रविवार को आईपीएल के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स...

ओरेकल अमेरिका में चीनी कंपनी टिकटॉक को खरीदेगा

वाशिंगटन| अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप ने अमेरिकी सॉफ्टवेयर कंपनी ओरेकल...

NEET 2020: नीट परीक्षा का रिजल्ट जल्द होगा घोषित, ऐसे कर पाएंगे चेक

राष्ट्रीय पात्रता-सह-प्रवेश परीक्षा (NEET) 2020 के परिणाम राष्ट्रीय परीक्षण एजेंसी (NTA) द्वारा...

मोदी सरकार के 6 मंत्रियों ने की प्रेस कॉन्फ्रेंस, विपक्ष पर हमलावर रहे राजनाथ सिंह

नई दिल्ली| मोदी सरकार के 6 केंद्रीय मंत्रियों ने मीडिया को संबोधित...

Latest Updates

21 सितम्बर 2020 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 21सितम्बर 2020 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो,...

DC vs KXIP IPL: दिल्ली कैपिटल्स का रोमांचक आगाज, सुपर ओवर में किंग्ल इलेवन पंजाब को दी मात

दुबई| रविवार को आईपीएल के दूसरे मुकाबले में दिल्ली कैपिटल्स और किंग्स इलेवन पंजाब की भिड़ंत हो रही है. रविचंद्रन अश्विन, अमित...

बड़ी खबर: भारत में अभी टला नहीं है कोविड-19 का खतरा, कुछ राज्यों ने लगाया लॉकडाउन तो कुछ ने धारा-144

नई दिल्ली| कोरोना वायरस महामारी के कारण पहले लॉकडाउन और अब अनलॉक-4 की प्रक्रिया पूरे देश में चल रही...

अन्य खबरें

जबरदस्त हंगामे के बीच राज्यसभा से पारित हुआ कृषि बिल, सांसदों ने रूल बुक फाड़ी और माइक तोड़ा

नई दिल्ली| राज्यसभा में कृषि बिल 2020 पर चर्चा के दौरान रविवार को जबरदस्त हंगामा हुआ. हंगामे की वजह से राज्यसभा...

राज्यसभा में बिल पास कराने के लिए मोदी सरकार को अभी भी अन्य दलों से करनी पड़ रही है ‘जी हुजूरी’

पिछले तीन दिनों से केंद्र की भाजपा सरकार एक बार फिर परेशान है. मोदी सरकार की परेशानी का बड़ा कारण राज्यसभा में...

कृषि विधेयक पास कराना सरकार के लिए चुनौती, विरोध में केजरीवाल ने की ये अपील

नई दिल्ली| लोकसभा में कृषि विधेयकों के पारित होने के बाद अब इस विधेयक को राज्यसभा में पेश किया जा सकता है...

उद्धव-आदित्य और सुप्रिया सुले की बढ़ी मुश्किलें, चुनावी हलफनामे में संपत्ति और देनदारी की गलत जानकारी देने का आरोप

मुंबई| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे , उनके बेटे आदित्य ठाकरे और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले फिलहाल मुश्किल में...

‘बॉर्डर पर होने वाली झड़पें बढ़ रही हैं और लोग मर रहे हैं’- पाकिस्तान के साथ बातचीत के पक्ष में फारूक अब्दुल्ला

नई दिल्ली| नेशनल कॉन्फेंस के सांसद फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर कश्मीर में शांति के लिए पाकिस्तान के साथ बातचीत पर...

योगी सरकार के मंत्री ने कहा लव जिहाद रोकने के लिए यूपी में बनेगा कानून

यूपी योगी सरकार के एक मंत्री ने लव जिहाद रोकने के लिए महत्वपूर्ण बयान दिया है.‌ यह बयान यूपी शासन की ओर...