राधाअष्टमी विशेष: मोक्ष की प्राप्ति के लिए भक्त राधारानी की करते हैं आराधना

राधे-राधे. आ गई राधाअष्टमी, आओ चले बरसाने. समूचे ब्रज में धर्म की बयार बह रही है. अपनी राधा रानी का जन्मदिन मनाने के लिए श्रद्धालुओं का जमावड़ा मथुरा में उमड़ आया है. ब्रज की कुंज गलियों में हर ओर राधे-राधे की गूंज सुनाई दे रही है.

हम बात करेंगे आज राधाअष्टमी की. भगवान श्री कृष्ण की पत्नी राधा का जन्म श्री कृष्ण जन्माष्टमी के ठीक 15 दिन बाद मनाया जाता है. इस बार राधा अष्टमी 26 अगस्त, बुधवार को है.

ये त्योहार कृष्ण जन्म अष्टमी की तरह विशेष कर मथुरा, वृंदावन और बरसाना में बड़े ही धूमधाम और श्रद्गा से मनाया जाता है. माना जाता है कि राधा का जन्म इसी दिन हुआ था. इसलिए देश के अन्य जगहों पर श्रद्धालु त्योहार को बड़े ही उत्साह से मनाते हैं. हर साल अपनी राधा रानी का जन्म मनाने के लिए देश-विदेश से हजारों श्रद्धालु बरसाना पहुंचते हैं लेकिन इस बार कोरोना संकट काल की वजह से इस बार इतनी रौनक नजर नहीं आएगी.

कहा जाता है कि श्री कृष्ण के बिना राधा अधूरी है. कृष्ण के नाम से पहले उनका नाम लेना जरूरी है. वेद, पुराण में राधा की प्रशंसा ‘कृष्ण वल्लभ’ के तौर पर की गई है. भगवान श्रीकृष्ण का नाम राधा के साथ लिया जाता है, जबकि उनकी पत्नी रुक्मिणी हैं. राधा अष्टमी के दिन श्रीकृष्ण और राधा की पूजा की जाती है. धार्मिक मान्यता है कि भक्तों को मोक्ष की प्राप्ति राधा जाप से मिलती है.

यह भी पढ़ें -  वॉट्सऐप ला रहा है Undo बटन, जानिए किस काम आएगा और कैसे करे यूज

बरसाना में पूरी रात भक्त अपनी राधारानी की उपासना में लीन हो जाते हैं
कृष्ण नगरी के बरसाना को राधा का जन्म स्थान माना जाता है. बरसाना की गलियों में पूरी रात चहल-पहल रहती है. कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन होता है. कार्यक्रमों की शुरुआत धार्मिक गीतों और भजन से होती है, भक्त इस मौके पर उपवास रखते हैं. आपको बता दें कि हर वर्ष भाद्रपद मास के शुक्ल पक्ष की अष्टमी तिथि को राधा अष्टमी का जन्मोत्सव मनाया जाता है.

राधा रानी द्वापर युग में प्रकट हुईं थीं. उनका प्राकट्य मथुरा के रावल गांव में वृषभानु की यज्ञ स्थली के पास हुआ था. उनकी माता का नाम कीर्ति और पिता का नाम वृषभानु है‌. इस मौके पर बरसाना में हजारों श्रद्धालु पहुंचते हैं.

ऐसा कहा जाता है कि राधा अष्टमी का उपवास रखनेवाले को उनका दर्शन होता है. राधा अष्टमी का त्योहार श्री राधा रानी के प्राकट्य उत्सव के रूप में मनाया जाता है. राधा रानी भगवान श्री कृष्ण की शक्ति माना जाता है. भगवान कृष्ण के बिना राधा जी की पूजा अधूरी मानी जाती है. मान्यता है कि राधा संपूर्ण जगत को परम आनंद प्रदान करती है. राधा को मोक्ष देने वाली, सौम्य और संपूर्ण जगत की जननी माना जाता है.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 25-10-2021: जानिए अक्टूबर के आखिरी सोमवार को कैसा रहेगा सभी राशियों का दिन

इस बार राधा अष्टमी पर बहुत ही शुभ संयोग बन रहा है. इस दिन चंद्रमा वृश्चिक राशि और अनुराधा नक्षत्र में रहेगा. सूर्य सिंह राशि में, बुध सिंह राशि में, राहु और शुक्र मिथुन राशि में, गुरु और केतु धनु राशि में, शनि अपनी स्वंय की राशि मकर में और मंगल अपनी मूल त्रिकोण राशि मेष में स्थित रहेंगे. जिसके अनुसार इस दिन ग्रहों की स्थिति काफी शुभ रहेगी.

मान्यता है, राधा का जाप करने से सुख-समृद्धि की प्राप्ति होती है
राधा-कृष्‍ण के भक्‍तों के लिए राधा अष्‍टमी का विशेष महत्‍व है. मान्यता है कि जो लोग इस व्रत को करते हैं उनके घर में धन की कमी नहीं होती. उन लोगों पर श्रीकृष्ण और राधा की कृपा होती है. यही वजह है कि अपने आराध्‍य कृष्‍ण को मनाने के लिए भक्‍त पहले राधा रानी को प्रसन्‍न करते हैं. कहा जाता है कि राधा अष्‍टमी का व्रत करने सेपाप नष्‍ट हो जाते हैं. राधा जन्मोत्सव की कथा सुनने से भक्त सुखी, धनी और सर्वगुण संपन्न बनता है.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में दल-बदल का सिलसिला जारी ,भाजपा के कई लोग कांग्रेस में होना चाहते हैं शामिल: पूर्व सीएम हरीश

श्रीमद्देवीभागवत् में श्री राधा जी की आराधना के विषय में कहा गया है कि इनकी पूजा न की जाए तो भक्त श्री कृष्ण की पूजा का अधिकार भी नहीं रखता, क्योंकि राधा ही भगवान श्री कृष्ण के प्राणों की अधिष्ठात्री देवी मानी गई हैं. घर पर श्रद्धालु राधा रानी की इस प्रकार करें पूजा. इस दिन सूर्योदय से पहले स्नान कर लें. एक चौकी पर पीला कपड़ा बिछाएं, उस पर श्री राधा कृष्ण के युगल रूप की प्रतिमा या फोटो विराजित करें.

प्रतिमा पर फूलों की माला चढ़ाएं. चंदन का तिलक लगाएं, साथ ही तुलसी पत्र भी अर्पित करें. राधा रानी के मंत्रों का जाप करें. राधा चालीसा, राधा स्तुति का पाठ करें. श्री राधा रानी और भगवान श्री कृष्ण की आरती करें. आरती के बाद राधा को भोग चढ़ाएं.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,114FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 12 नए संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण कम हो गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं...

”मुख्यमंत्री स्वरोजगार नैनो योजना” में अब 50 हजार तक मिल सकेगा ऋण और 20...

0
उत्तराखंड में छोटे व्यवसायियों एवं उद्यमियों को मजबूत बनाने की दिशा में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखंड शासन ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार...

परेशान किंग खान: बेटे को जेल से बाहर लाने के लिए शाहरुख ने अब...

0
फिल्म अभिनेता शाहरुख खान ने अपने बेटे आर्यन खान की जमानत करवाने के लिए 15 दिनों से सभी दांव चल दिए हैं. लेकिन शाहरुख...

सीएम धामी ने किया खटीमा मंडी में धान क्रय केन्द्रों का निरीक्षण, किसानों की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मंगलवार को अपराह्न में खटीमा पहुंचे. उन्होंने निर्माणाधीन आश्रम पद्धति जनजाति विद्यालय खटीमा के निर्माणाधीन भवन का निरीक्षण किया तथा...

अखिलेश ने फोटो ट्वीट कर सत्ता में वापसी का किया दावा, भाजपा पर लगाया...

0
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सत्ता में वापसी के लिए कमर कस चुके सपा प्रमुख अखिलेश यादव लगातार योगी सरकार पर हमला करते आ...

आइसीसी टी20 वर्ल्ड कप SA vs WI: दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी...

0
दुबई|… एनरिक नॉर्किया की अगुवाई में अपने गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के बाद एडेन मार्कराम के 26 गेंद में नाबाद 51 रन की मदद...

नेताओं में जुबानी जंग: केजरीवाल के ‘हिंदुत्व पॉलिटिक्स’ पर योगी का चढ़ा पारा तो...

0
यूपी विधानसभा चुनाव अभी शुरू होने में कुछ माह बचे हैं लेकिन राजनीतिक दलों के नेताओं के बीच 'जुबानी जंग' तेज होती जा रही...

बागेश्वर ग्लेशियर हादसा: सुंदरढूंगा से एसडीआरएफ ने निकाले पांच शव, लापता गाइड की तलाश...

0
बागेश्वर ज़िले के ग्लेशियर रूट पर गायब हुए लोगों में से 5 के मारे जाने की बात​ पिछले करीब चार दिनों से कही जा...

कल होगी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ मनसुख मंडाविया की बैठक, कोरोना टीकाकरण...

0
कल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया देश में कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान की चर्चा करने के लिए राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों...

भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने किया टीम इंडिया के हेडकोच पद के...

0
पूर्व भारतीय कप्तान और नेशनल क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) के हेड राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया के हेडकोच पद के लिए आवेदन दिया है. बीसीसीआई...