राजनीति में महिलाओं की निर्णायक भूमिका के बावजूद भी नहीं मिला ‘समानता का अधिकार’


आज 26 अगस्त है. यह दिन महिलाओं की समानता का अधिकार बढ़ाने के लिए अंतरराष्‍ट्रीय स्‍तर पर मनाया जाता है. इस दिन महिलाओं की आजादी और समानता के प्रति समाज को जागरूक करने के लिए कई कार्यक्रम आयोजित किए जाते हैं. इस मौके पर तमाम संगठन और संस्‍थान संगोष्‍ठी का आयोजन करके समानता के अधिकारों का खूब ढिंढोरा पीटते हैं. दूसरी ओर देश में तमाम राजनीतिक दलों के द्वारा महिलाओं को समान अधिकार देने के लिए बड़ी-बड़ी बातें, लंबे-चौड़े भाषण दिए तो जाते हैं, लेकिन जमीनी स्तर पर अमल में लाया नहीं जाता है. आमतौर पर किसी के समानता के अधिकारों को अगर जानना है तो हमें सामाजिक, राजनीतिक परिवेश को समझना होगा.

जब बात महिलाओं की हो रही है तो इनकी भूमिका न तो सामाजिक स्तर पर अभी तक सुधर पाई है न राजनीति में उचित भागीदारी मिल पाई है. बात को आगे बढ़ाएं उससे पहले बता दें कि आज ‘अंतरराष्ट्रीय महिला समानता दिवस’ है. महिलाओं की समानता, राजनीति में उनकी उपेक्षित भागीदारी, समाज में उनको मिले अभी तक बराबरी का हक कितना सफल हो पाया है, इसी पर आज चर्चा करेंगे. बात पहले होगी राजनीति के क्षेत्र में महिलाओं की निर्णायक भूमिका की. भारत में आजादी के बाद से ही महिलाओं को पुरुषों के समान वोट देने का अधिकार जरूर मिला लेकिन उनकी स्थिति अभी तक बेहद विचारणीय है.

बता दें कि राजनीति में महिलाओं का नीति-निर्माण प्रक्रिया में बहुत कम योगदान रहता है, उसके बावजूद उन्हें महत्त्वपूर्ण राजनीतिक फैसलों से दूर रखा जाता है. विश्व के सबसे बड़े लोकतंत्र भारत में महिलाओं का राजनीतिक प्रतिनिधित्व पड़ोसी देश नेपाल व बांग्लादेश की तुलना में भी कम है. राजनीतिक दलों द्वारा महिलाओं को टिकट देने तथा जीतने के बाद अहम भूमिका देने के मुद्दे पर महिलाओं के प्रति भेदभाव नेताओं की राजनीतिक छवि को दर्शाता है.

भले ही राजनीति में महिलाओं का पर्याप्त प्रतिनिधित्व न हो, लेकिन वे अपने बल पर निर्णायक राजनीतिक वर्ग हैं. समानता लाने के लिए राजनीतिक दलों को महिलाओं को राजनीति से जुड़ने के लिए प्रोत्साहित करना चाहिए. लेकिन आज सभी राजनीतिक दलोंं की धारणा बन गई है कि महिलाओंं का प्रयोग सत्ता पर काबिज होने के लिए ही किया जाए.

समानता के अधिकारों पर महिलाओं की सामाजिक स्थिति अभी भी दयनीय
बात करेंगे महिलाओं की सामाजिक स्थिति पर समानता अधिकारों की. भारतीय महिलाओं ने हर मोर्चे पर अपनी कामयाबी का परचम लहराया है, लेकिन अब भी ज्‍यादातर महिलाएं ऐसी हैं जो अपने घर और समाज में असमानता और भेदभाव का शिकार हैं. ज्‍यादातर घरों में लड़का-लड़की का फर्क किया जाता है. जहां लड़के की परवरिश में कोई कमी नहीं रखी जाती, वहीं लड़कियों की मूलभूत जरूरतों को भी पूरा नहीं किया जाता.

लैंगिक अनुपात में बड़ा अंतर इस बात का सबसे बड़ा सबूत है. हर साल महिला दिवस और महिला समानता दिवस तो खूब मनाया जाता है, लेकिन आज भी महिलाओं को पुरुषों की तुलना में कमतर ही आंका जाता है. महत्त्वपूर्ण पदों पर आसीन होने के बावजूद उनके राजनीतिक फैसलों के पीछे उनके पिता, पुत्र या पति की अहम भूमिका होती है. यही नहीं भारत में आज भी अधिकतर महिलाएं आर्थिक रूप से दूसरेेे पर निर्भर हैं. दूसरा पहलू यह है कि महिलाओं को आर्थिक रूप से स्वतंत्रता, आत्मनिर्भर होने की आवश्यकता है.

राजनीति में प्रवेश के लिए उनमें साहस, त्याग तथा निर्भीकता की भावना का विकास होना जरूरी है, जो आर्थिक निर्भरता से ही आएगी. दूसरी ओर भारतीय सामाजिक संरचना का समानता के आधार पर गठन करना होगा जिससे महिलाओं में जागरूकता लाई जा सके. महिलाओं के प्रति हो रहे अपराधों के प्रति सरकारों को कठोर रुख अपनाया होगा.

न्यूजीलैंड में 1893 में महिला समानता दिवस मनाने की हुई शुरुआत
प्रत्येक वर्ष 26 अगस्त को महिला समानता दिवस मनाया जाता है. न्यूजीलैंड विश्व का पहला देश है, जिसने 1893 में महिला समानता की शुरुआत की. उसके बाद अमेरिकी कांग्रेस ने 26 अगस्‍त 1971 में महिला समानता दिवस के रूप में मनाने का एलान किया था. इसी दिन अमेरिकी संविधान में हुए 19वें संशोधन के तहत महिलाओं को वोट देने का अधिकार दिया गया. यह दिवस इसी ऐतिहासिक घोषण की याद में विश्व भर में मनाया जाता है.

यह वह दिन था जब पहली बार अमेरिकी महिलाओं को पुरुषों की तरह वोट देने का अधिकारा दिया गया. इसके पहले वहां महिलाओं को द्वितीय श्रेणी नागरिक का दर्जा प्राप्त था. महिलाओं को समानता का दर्जा दिलाने के लिए लगातार संघर्ष करने वाली एक महिला वकील बेल्ला अब्जुग के प्रयास से 1971 से 26 अगस्त को ‘महिला समानता दिवस’ के रूप में मनाया जाने लगा.

हम अगर अपने देश की बात करें तो भारत में आजादी के बाद से ही महिलाओं को वोट देने का अधिकार प्राप्त तो था, लेकिन पंचायतों तथा नगर निकायों में चुनाव लड़ने का कानूनी अधिकार 73वें संविधान संशोधन के माध्यम से तत्कालीन प्रधानमंत्री राजीव गांधी के प्रयास से मिला. इसी का परिणाम है की आज भारत की पंचायतों में महिलाओं की 50 प्रतिशत से अधिक भागीदारी है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

सीएम के ओएसडी गोपाल सिंह रावत का निधन

मंगलवार को सीएम रावत के ओएसडी गोपाल सिंह रावत का ...

केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के माध्यम से सीएम के साथ की जल जीवन मिशन योजना की समीक्षा

मंगलवार को केन्द्रीय जल शक्ति मंत्री गजेन्द्र सिंह शेखावत ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग...

उत्तराखंड में 874 नए मामले आए सामने, संक्रमित मरीजों की संख्या 42000 के पार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है.

राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन की जीत चीन की जीत होगी: डोनाल्ड ट्रम्प

वॉशिंगटन| अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि, देश में...

मोदी सरकार के कृषि विधेयक ने शिवराज की बढ़ाई टेंशन, सीएम किसानों की आवभगत में जुटे

केंद्र की भाजपा सरकार ने कृषि विधेयक संसद से पारित कराकर किसानों...

बड़ी खबर: इनकम टैक्स से जुडे़ बिल को संसद से मिली मंजूरी, आपको होंगे ये फायदें

नई दिल्ली| संसद में टैक्सेशन और अन्य कानून (कुछ प्रावधानों में...

महाराष्ट्र: भिवंडी इमारत हादसे में मरने वालों की संख्या 20 पहुंची

भिवंडी| महाराष्ट्र में ठाणे जिले के भिवंडी इलाके में सोमवार को हुई...

Latest Updates

उत्तराखंड में 874 नए मामले आए सामने, संक्रमित मरीजों की संख्या 42000 के पार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. हालांकि, कोरोना वायरस से जंग जीतने वाले मरीजों...

राष्ट्रपति चुनाव में बाइडेन की जीत चीन की जीत होगी: डोनाल्ड ट्रम्प

वॉशिंगटन| अमेरिका के राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प ने कहा है कि, देश में नवंबर में होने वाले राष्ट्रपति पद के चुनाव में डेमोक्रेटिक...

सीएम रावत एवं वन मंत्री ने झाझरा वन रेंज परिसर में उत्तराखण्ड सिटी फॉरेस्ट ‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण किया

सीएम रावत एवं वन मंत्री डॉ. हरक सिह रावत ने झाझरा वन रेंज परिसर में उत्तराखण्ड सिटी फॉरेस्ट ‘आनन्द वन’ का लोकापर्ण...

अन्य खबरें

मोदी सरकार के कृषि विधेयक ने शिवराज की बढ़ाई टेंशन, सीएम किसानों की आवभगत में जुटे

केंद्र की भाजपा सरकार ने कृषि विधेयक संसद से पारित कराकर किसानों के साथ मध्य प्रदेश 'शिवराज सिंह चौहान सरकार की भी...

संसद के बाद अब सड़क पर भी भाजपा-विपक्ष में किसानों का नेता बनने की छिड़ी सियासी जंग

कमाल की राजनीति है. कोई भी राजनीतिक दल देश की जनता के सामने अपने आपको सबसे बड़ा हितेषी बताने के लिए तमाम...

उत्तराखंड में बढ़ा ‘आप’ का कुनबा सैकड़ों समर्थकों के साथ जितेंद्र मलिक ने ज्वाइन की पार्टी

उत्तराखंड में साल 2022 का चुनावी रण दिलचस्प होने वाला है. विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी आम आदमी पार्टी हर स्तर...

ब्रेकिंग: राज्यसभा से निलंबित सभी 8 सांसदों का धरना ख़त्म

राज्यसभा से निलंबित किए जाने वाले सांसदों ने अपना धरना खत्म कर दिया है.विपक्ष के वाकआउट के बाद धरने पर बैठे विपक्षी...

सांसदों का निलंबन वापस होने तक विपक्ष कार्यवाही का बहिष्कार करेगा: गुलाम नबी

नयी दिल्ली| राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने मंगलवार को कहा कि जब तक उच्च सदन के आठ सदस्यों का,...

निलंबित सांसद रात भर संसद के पास देंगे धरना, संजय सिंह ने घर से मंगवाया तकिया-बिस्तर: सूत्र

संसद के मॉनसून सत्र का सोमवार को 8वां दिन है. किसान बिल को लेकर सरकार और विपक्ष की तनातनी आज...