गुलाम नबी आज़ाद बोले- कांग्रेस पार्टी 50 साल तक विपक्ष में बैठी रहेंगी, अगर…

कांग्रेस में मची रार खत्म होती हुई नहीं दिख रही है. वरिष्ठ कांग्रेस नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा है कि कांग्रेस कार्यसमिति और राज्य प्रमुखों, जिला अध्यक्षों, ब्लॉक अध्यक्षों के प्रमुख संगठनात्मक पदों के लिए चुनाव होने चाहिए और इसका विरोध करने वालों को अपने पदों को खोने का डर है.

पार्टी में बदलाव के लिए चुनाव कराने की मांग करने वाले वरिष्‍ठ नेता गुलाम नबी आजाद ने कहा कि जिन 23 लोगों ने पत्र लिखा था, उनकी मंशा कांग्रेस को सक्रिय करने की थी. उन्होंने कहा कि यदि निर्वाचित निकाय पार्टी का नेतृत्व करते हैं तो उसके लिए संभावनाएं हैं अन्यथा कांग्रेस अगले 50 वर्षों तक विपक्ष में बैठी रहेगी.

उन्होंने कहा,’जब आप चुनाव लड़ते हैं तो कम से कम 51 प्रतिशत आपके साथ होते हैं और आप पार्टी के भीतर केवल 2 से 3 लोगों के खिलाफ चुनाव लड़ते हैं. एक व्यक्ति जिसे 51 प्रतिशत वोट मिलेंगे, अन्य को 10 या 15 प्रतिशत वोट मिलेंगे. जो व्यक्ति जीतता है और अध्यक्ष पद का प्रभार प्राप्त करता है, इसका मतलब है कि 51 प्रतिशत लोग उसके साथ हैं.

चुनाव का लाभ है ये कि जब आप चुनाव लड़ते हैं, तो कम से कम आपकी पार्टी में 51 प्रतिशत लोग आपके पीछे खड़े रहते हैं. अभी, अध्यक्ष बनने वाले व्यक्ति के पास एक प्रतिशत समर्थन भी नहीं हो सकता है. यदि सीडब्ल्यूसी सदस्य चुने जाते हैं, तो उन्हें हटाया नहीं जा सकता. तो समस्या क्या है.’


उन्होंने आगे कहा, ‘जो दूसरे, तीसरे या चौथे स्थान पर रहेंगे वे सोचेंगे कि हमें कड़ी मेहनत करते हुए पार्टी को मजबूत करना होगा और अगली बार जीतना होगा. लेकिन, अभी जो अध्यक्ष चुना गया है उसे पार्टी के 1 प्रतिशत कार्यकर्ताओं का समर्थन भी नहीं है.’ उन्होंने चुनाव की मांग को दोहराते हुए कहा कि इससे पार्टी की नींव मजबूत होगी.

पार्टी में चुनाव नहीं कराए जाने के परिणामों की तरफ ध्यान आकर्षित करते हुए उन्होंने कहा कि कांग्रेस पार्टी किसी ऐसे शख्स को राज्य में पार्टी अध्यक्ष के रूप में नियुक्त कर रही है जो दिल्ली में आता है और जिसके लिए पार्टी के बड़े नेताओं द्वारा सिफारिश की जाती है.


उन्होंने कहा, ‘हमें यह भी नहीं पता होता है कि ऐसे व्यक्तियों को 1 प्रतिशत या 100 प्रतिशत का समर्थन प्राप्त है. कई ऐसे हैं जिनके पास 1 प्रतिशत समर्थन भी नहीं है. पार्टी नेतृत्व के लिए ऐसा राज्य, जिले, सीडब्ल्यूसी चुनावों में होता है. व्यक्ति को हटाया जा सकता है लेकिन एक निर्वाचित व्यक्ति को नहीं हटाया जा सकता है. इसमें गलत क्या है.’

उन्होंने उन नेताओं की कड़ी आलोचना की जो चुनावों का विरोध कर रहे हैं. आजाद ने कहा कि जो लोग वफादारी का दावा कर रहे हैं, वे वास्तव में सस्ती राजनीति कर रहे हैं और यह पार्टी तथा राष्ट्र के हितों के लिए नुकसानदायक हैं. आजाद ने कहा कि अगर मेरी पार्टी अगले 50 वर्षों के लिए विपक्ष में रहना चाहती है, तो पार्टी के भीतर चुनाव की कोई आवश्यकता नहीं है

.

Related Articles

उत्तराखंड में जल्द लग सकते हैं मेडिसन एटीएम

मुख्यमंत्री श्री त्रिवेन्द्र सिंह रावत ने प्रदेश में चिकित्सा के क्षेत्र में...

हल्द्वानी: युवक पर गिरी हाईटेंशन लाइन, मौके पर ही दर्दनाक मौत

हल्द्वानी| हल्द्वानी से एक दर्दनाक घटना सामने आई है. यहां शुक्रवार की...

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम नहीं रहे

आज हिंदी सिनेमा की गायकी के क्षेत्र में एक और बड़ी क्षति...

बिहार विधानसभा चुनाव तारीखों का ऐलान, तीन चरणों में होंगे चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों का ऐलान हो गया है. चुनाव...

पिथौरागढ: तेंदुए ने 11 वर्षीय बालिका को बनाया निवाला

पिथौरागढ़| पिथौरागढ़ के चंडाक के छाना पांडे में तेंदुए ने 11 वर्षीय...

Latest Updates

बॉलीवुड के मशहूर सिंगर एसपी बालासुब्रमण्यम नहीं रहे

आज हिंदी सिनेमा की गायकी के क्षेत्र में एक और बड़ी क्षति हो गई. बॉलीवुड और साउथ फिल्मों के प्रसिद्ध सिंगर एसपी...

बिहार विधानसभा चुनाव तारीखों का ऐलान, तीन चरणों में होंगे चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों का ऐलान हो गया है. चुनाव आयोग ने बिहार में तीन चरणों में चुनाव कराने...

सुशांत परिवार के वकील का सनसनीखेज दावा, आत्महत्या नहीं- गला दबाकर की गई सुशांत सिंह की हत्या

शुक्रवार को सुशांत सिंह राजपूत के पिता के वकील विकास सिंह ने सनसनीखेज दावा किया. विकास सिंह ने...

अन्य खबरें

बिहार विधानसभा चुनाव तारीखों का ऐलान, तीन चरणों में होंगे चुनाव

बिहार विधानसभा चुनाव 2020 की तारीखों का ऐलान हो गया है. चुनाव आयोग ने बिहार में तीन चरणों में चुनाव कराने...

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस पर संजय राउत का बड़ा बयान- ‘महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार से मिला इनाम’

मुंबई| बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस यानी वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब इस मामले को लेकर सियासी बयानबाजी...

कोरोना से जूझते उत्तराखंड में कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा जाने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़कर किया तमाशा

उत्तराखंड में कोरोना वायरस बेकाबू होता जा रहा है, शासन से लेकर प्रशासन और आम लोग तक डरे सहमे हुए हैं.