एक्सपर्ट्स ने माना कम लक्षण वाले मरीज़ पर भी रहता है जान का खतरा! कोरोना वायरस कई अंगों पर करता है हमला


पिछले साल जब दिसंबर में कोरोना वायरस ने दुनिया में दस्तक दी थी तो डॉक्टरों ने इससे होने वाली दिक्कतों को रहस्यमय निमोनिया का नाम दिया था. भारत में जनवरी के आखिरी हफ्ते में कोरोना का पहला मरीज मिला था. उस वक्त पॉजिटिव निकलने वाले लोगों में ज्यादा लक्षण नहीं दिखते थे.

कुछ लोगों को हल्का बुखार होता था. जबकि कुछ मरीजों को सांस लेने में तकलीफ होती थी. लेकिन अब पिछले 8 महीनों में कोरोना का रूप बदल गया है.

एक्सपर्ट्स का कहना है कि कोरोना वायरस अब शरीर के कई अंगों पर अलग-अलग तरीके से हमला करता है. लिहाजा सरकार को प्रोटोकोल को बदले की जरूरत है.

अंग्रेजी वेबसाइट इंडिया टूडे के मुताबिक नीति आयोग ने पिछले हफ्ते एक चर्चा का आयोजन किया था जहां एम्स के डॉक्टरों ने इस वायरस को लेकर अपनी-अपनी राय रखी. इन सबने माना कि मरीज के सारे अंगों पर ये वायरस हमला करता है.

एम्स के न्यूरॉलोजी डिपार्टमेंट के प्रमुख डॉक्टर एमवी श्रीवास्तव ने कहा कि उनके पास 35 साल के एक कोरोना के ऐसे मरीज आए जिनमें कोरोना के कोई लक्षण नहीं थे. उन्हें सिर्फ सिर दर्द और उल्टियां हो रही थी. लेकिन जांच में पता चला कि उकी नसों में खून जम गया है. ऐसे में उनकी जान को भी खतरा था. डॉक्टरों का कहना है सरकार को अब इस बीमारी के प्रोटोकॉल बदलने की जरूरत है.

डॉक्टरों का कहना है कि ये वायरस शरीर के कई अंग मसलन ब्रेन, किडनी, लीवर, हार्ट, ब्लड वेसल्स, आंख और त्वचा पर भी हमला करता है. देश में कोरोना क्लीनिकल रिसर्च टास्क फोर्स के प्रमुख डॉक्टर गुलेरिया ने इस वायरस के बदलते रूप को लेकर पिछले दिनों कहा था कि अब ये ‘सिस्टेमिक डिजीज’ बन गया है.

मेडिकल साइंस की भाषा उस बीमारी को सिस्टेमिक डिजीज कहा जाता है, जो एक साथ शरीर के कई अंगों पर हमला करता हो. उन्होंने कहा था कि कोरोना से ठीक होने के बाद भी कई मरीजों को फेफड़ों में काफी दिक्कते आती है. हालत ये है कि कई महीनों के बाद भी ऐसे मरीजों को घर पर ऑक्सीजन की जरूरत पड़ती है.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले...

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस का निधन

गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर डीन जोंस का निधन...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा...

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया...

बड़ी खबर: फ्लाइट में सामान ले जाने का नियम बदला, ​जारी हुआ नया आदेश

नई दिल्ली| घरेलू पैसेंजर्स के लिए ​नगर विमानन मंत्रालय ने विमान...

टाइम मैगजीन ने पीएम मोदी को प्रभावशाली तो माना लेकिन गहरा जख्म भी दे दिया

इसे कहते हैं सम्मान देकर सम्मान छीन लेना. या कहें कि कुछ...

अल्मोड़ा: एक ही गांव में 91 लोग निकले कोरोना पॉज़िटिव, स्वास्थ्य विभाग में मचा हड़कंप

अल्मोड़ा के धौलादेवी के काभड़ी गांव में 91 लोग कोरोना पॉज़िटिव पाए...

IPL2020: आज पंजाब-बैंगलोर आमने-सामने, विराट की नजर लगातार दूसरी जीत पर

दुबई| इंडियन प्रीमियर लीग के 13वें सीजन का 6वां मैच आज...

Latest Updates

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

बड़ी खबर: फ्लाइट में सामान ले जाने का नियम बदला, ​जारी हुआ नया आदेश

नई दिल्ली| घरेलू पैसेंजर्स के लिए ​नगर विमानन मंत्रालय ने विमान कंपनियों पर ही बैगेज लिमिटेशन का फैसला छोड़ दिया है....

अन्य खबरें

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस पर संजय राउत का बड़ा बयान- ‘महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार से मिला इनाम’

मुंबई| बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस यानी वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब इस मामले को लेकर सियासी बयानबाजी...

कोरोना से जूझते उत्तराखंड में कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा जाने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़कर किया तमाशा

उत्तराखंड में कोरोना वायरस बेकाबू होता जा रहा है, शासन से लेकर प्रशासन और आम लोग तक डरे सहमे हुए हैं.

बसपा संगठन में अहम बदलाव, मुनकाद अली से ली गई उत्तराखंड की जिम्मेदारी वापस

बहुजन समाज पार्टी ने मंडल स्तरीय संगठन में अहम बदलाव कर दिया है. बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने फरमान...