श्राद्ध पक्ष विशेष: आओ अपने पितरों का श्रद्धा पूर्वक करें श्राद्ध और तर्पण

आज से हमारे देश में श्राद्ध पक्ष (पितृ पक्ष) आरंभ हो गए हैं. हिंंदू शास्त्रों के अनुसार 16 दिन तक चलने वाले श्राद्ध की सदियों पुरानी परंपरा रही है कि हम अपने पितरोंं (पूर्वजों) तर्पण करते हुए आराधना करते हैं। श्राद्ध के दिनों में पवित्र मन से अपने पितरों के प्रति श्रद्धा के साथ सूर्य के याद करतेेेे हुए जल विसर्जित किया जाता है.

हिंदू रीति रिवाजों में पितृ पक्ष का बड़ा महत्त्व है. इन दिनों लोग अपने पितरों को प्रसन्न करने के लिए श्राद्ध करते हैं. श्राद्ध करने से पितर तृप्त होते हैं और वे हमें आशीर्वाद देते हैं. सनातन धर्म में ही ऐसी सभ्यता रही है कि हम अपने पितरों को देवता के बराबर स्थान देते हैं. पुराणों में बताया है श्राद्ध के दिनों में पितर पृथ्वी पर आते हैं. पितृ पक्ष अश्विन मास के कृष्ण पक्ष में पड़ते हैं. इनकी शुरुआत पूर्णिमा तिथि से होती है और समापन अमावस्या पर होता है. अंग्रेजी कैलेंडर के मुताबिक हर साल सितंबर के महीने में पितृ पक्ष की शुरुआत होती है.

आमतौर पर पितृ पक्ष में कुल 16 श्राद्ध होते हैं. इस बार पूर्णिमा श्राद्ध 2 सितंबर को और सर्वपितृ अमावस्या श्राद्ध 17 सितंबर को है. धर्मग्रंथों में कहा गया है कि तीर्थों में जाकर श्राद्ध करने का विशेष महत्व है, लेकिन इस बार कोरोना महामारी के कारण तीर्थ में जाकर श्राद्ध न कर पाएं तो घर पर ही श्राद्ध करें. श्राद्ध में तर्पण, पिंडदान और ब्राह्मण भोजन ये तीन चीजें खासतौर से होनी चाहिए।


हिंदू धर्म में श्राद्ध करना बेहद ही महत्वपूर्ण माना जाता है
हिंदू धर्म में मृत्यु के बाद मृत व्यक्ति का श्राद्ध किया जाना बेहत जरूरी माना जाता है. मान्यता है कि यदि श्राद्ध न किया जाए तो मरने वाले व्यक्ति की आत्मा को मुक्ति नहीं मिलती है. पितृ पक्ष के दौरान पितरों का श्राद्ध करने से वो प्रसन्न हो जाते हैं और उनकी आत्मा को शांति मिलती है. कहा जाता है पितृ पक्ष में यमराज पितरो को अपने परिजनों से मिलने के लिए मुक्त कर देते हैं. इस दौरान अगर पितरों का श्राद्ध न किया जाए तो उनकी आत्मा दुखी व नाराज हो जाती है. अथर्ववेद में कहा गया है कि जब सूर्य कन्या राशि में रहता है, तब पितरों को तृप्त करने वाली चीजें देने से स्वर्ग मिलता है.

यह भी पढ़ें -  अमर जवान ज्योति के विलय को लेकर चढ़ा सियासी पारा, बयानों की लगी झड़ी

इसके साथ ही याज्ञवल्क्य स्मृति और यम स्मृति में भी बताया गया है कि इन 16 दिनों में पितरों के लिए विशेष पूजा और दान करना चाहिए। इनके अलावा पुराणों की बात करें तो ब्रह्म, विष्णु, नारद, स्कंद और भविष्य पुराण में बताया गया है कि श्राद्धपक्ष के दौरान पितरों की पूजा कैसे की जाए.

यह भी पढ़ें -  बॉलीवुड की फिल्म एक्ट्रेस प्रियंका चोपड़ा ने बेटे को जन्म दिया, सोशल मीडिया पर शेयर की जानकारी

ग्रंथों में कहा गया है कि पितृपक्ष शुरू होते ही पितृ मृत्युलोक में अपने वंशजों को देखने के लिए आते हैं और तर्पण ग्रहण करके लौट जाते हैं। इसलिए, इन दिनों में पितरों की तृप्ति के लिए तर्पण, पिंडदान, ब्राह्मण भोजन और अन्य तरह के दान किए जाते हैं।


दिवंगत पूर्वजों की आत्मशांति के लिए किया जाता है श्राद्ध
पितृ पक्ष के दौरान दिवंगत पूर्वजों की आत्मा की शांति के लिए श्राद्ध किया जाता है. माना जाता है कि यदि पितर नाराज हो जाएं तो व्यक्ति का जीवन भी परेशानियों और तरह-तरह की समस्याओं में पड़ जाता है और खुशहाल जीवन खत्म हो जाता है. साथ ही घर में भी अशांति फैलती है और व्यापार और गृहस्थी में भी हानि होती है. ऐसे में पितरों को तृप्त करना और उनकी आत्मा की शांति के लिए पितृ पक्ष में श्राद्ध करना आवश्यक है. श्राद्ध के जरिए पितरों की तृप्ति के लिए भोजन पहुंचाया जाता है और पिंड दान और तर्पण कर उनकी आत्मा की शांति की कामना की जाती है.

यह भी पढ़ें -  Uttarakhand Poll 2022: अल्मोड़ा विधानसभा सीट पर भाजपा-कांग्रेस में लड़ाई, जानिए इससे जुड़ी पूरी जानकारी

इस बार श्राद्ध पक्ष इस प्रकार है. पूर्णिमा का श्राद्ध, 2 सितंबर- प्रतिपदा का श्राद्ध, 3 सितंबर- द्वितीया का श्राद्ध, 5 सितंबर- तृतीया का श्राद्ध, 6 सितंबर- चतुर्थी का श्राद्ध, 7 सितंबर- पंचमी का श्राद्ध, 8 सितंबर- षष्ठी का श्राद्ध, 9 सितंबर- सप्तमी का श्राद्ध, 10 सितंबर- अष्टमी का श्राद्ध, 11सितंबर- नवमी का श्राद्ध, 12 सितंबर- दशमी का श्राद्ध, 13 सितंबर- एकादशी का श्राद्ध, 14 सितंबर- द्वादशी का श्राद्ध, 15 सितंबर- त्रयोदशी का श्राद्ध, 16 सितंबर- चतुर्दशी का श्राद्ध, 17 सितंबर- अमावस का श्राद्ध के साथ समापन हो जाता है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,183FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

भारत में शुरू हुई Realme 9i की पहली सेल, जानें इसके प्राइस और फीचर्स

0
रियलमी ने कुछ समय पहले भारत में अपना Realme 9i स्मार्टफोन लॉन्च किया था. इसकी पहली सेल आज भारत में शुरू हो चुकी है. रियलमी 9आई आज दोपहर...

Uttarakhand Polls 2022: सोमेश्वर सीट पर इस बार जोरदार टक्कर होने की संभावना, जानिए...

0
उत्तराखंड विधानसभा चुनाव 2022 को लेकर पूरे प्रदेश में माहौल गर्म हो गया है. प्रदेश की सोमेश्वर विधानसभा सीट जहां 2017 में भाजपा...

इंग्‍लैंड और ऑस्‍ट्रेलिया के स्‍टार खिलाड़‍ियों ने आईपीएल से किया किनारा, नीलामी की पहली...

0
बेन स्‍टोक्‍स, जोफ्रा आर्चर, जो रूट और मिचेल स्‍टार्क ने इस साल के इंडियन प्रीमियर लीग 2022 में हिस्‍सा नहीं लेने का फैसला किया...

पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा कोरोना वायरस की चपेट में, फिलहाल नहीं दिख वायरस के...

0
पूर्व प्रधानमंत्री एचडी देवगौड़ा कोरोना वायरस की चपेट में आ गए हैं. राहत की बात ये है कि फिलहाल उनमें वायरस के लक्षण...

टीकाकरण की तेज रफ्तार का सिलसिला जारी, 161 करोड़ के पार पहुंचा आंकड़ा

0
भारत में रोजाना कोरोना के तीन लाख से ज्‍यादा केस दर्ज किए जा रहे हैं, वही केंद्र और राज्‍य सरकारें इसका डटकर सामना कर रही है....

भारत सरकार ने 35 यूट्यूब चैनल, दो वेबसाइट को किया ब्लॉक

0
नई दिल्ली| केंद्र सरकार ने शुक्रवार को जानकारी दी कि उसने भारत विरोधी फर्जी खबरें और अन्य सामग्री चलाने के लिए 35 यूट्यूब चैनल,...

मुंबई: बहुमंजिला इमारत में लगी आग, 7 लोगों की मौत-3 लोग गंभीर रूप से...

0
मुंबई| मुंबई के ताड़देव स्थित एक बहुमंजिला इमारत में शनिवार सुबह आग लग गई. खबर है कि हादसे में 7 लोगों की मौत हो...

IPL 2022 की नई फ्रेंचाइजी लखनऊ ने केएल राहुल को बनाया सबसे महंगा खिलाड़ी, विराट...

0
भारत के धुरंधर बल्लेबाज केएल राहुल को IPL की नई फ्रेंचाइजी लखनऊ ने सीजन 15 का सबसे महंगा खिलाड़ी बना दिया है. लखनऊ फ्रेंचाइजी ने राहुल...

Covid19: देश में 24 घंटे के दौरान कोरोना के 3.37 लाख से ज्यादा केस,...

0
देश भर में पिछले 24 घंटे के दौरान कोरोना के 3,37,704 नए केस मिले हैं. ये कल के मुकाबले 9,550 कम हैं. इस दौरान...

प्रियंका गांधी का बड़ा बयान, बोलीं- ‘यूपी चुनावों के बाद बीजेपी छोड़कर किसी भी...

0
यूपी विधानसभा चुनाव को लेकर कांग्रेस नेता प्रियंका गांधी वाड्रा ने कहा है कि चुनाव के बाद पार्टी उत्तर प्रदेश में बीजेपी को छोड़कर किसी भी पार्टी...
%d bloggers like this: