जैश-ए-मुहम्मद ने पाक पीएम से जिहादी समूहों से बैन हटाने को कहा

जम्मू-कश्मीर में भारतीय सेनाओं को निशाना बनाने वाले अभियानों को लंबे समय से चल रहे तालाबंदी का सामना करना पड़ रहा है. हालांकि इस बीच जैश-ए-मुहम्मद ने अपनी पत्रिकाओं और डिजिटल प्लेटफार्मों में कई लेख प्रकाशित किए हैं, जिसमें पाकिस्तान के प्रधानमंत्री इमरान खान सरकार से जिहादी समूहों पर प्रतिबंध हटाने और उन्हें सक्षम करने का आह्वान किया गया है. जैश-ए-मुहम्मद ने इस क्षेत्र के अलगाववादी आंदोलन के समर्थन में नियंत्रण रेखा के पार अभियान चलाने की बात की है.

जैश-ए-मुहम्मद की घरेलू ​पत्रिका अल-कलम पत्रिका के 4 सितंबर के अंक में एक उसकी एक कविता प्रकाशित हुई है जिसमें कविता पाकिस्तान सरकार से गुजारिश करती है कि ‘गलती से भी दुश्मन से बात ना करें’. इस कविता में यह भी कहा गया है कि “सत्ता में बैठे उपदेशकों से सत्ता की भाषा में बात करें.

जैश-ए-मुहम्मद पुलवामा में आतंकवादी घटना को अंजाम देने के बाद से कुछ छोटे पैमाने पर अपनी गतिविधियां संचालित करने में सफल रहा है. जैश-ए-मुहम्मद ने बीते जून महीने में एक घृणित कार-बम हमले का प्रयास किया. इस दुघर्टना में सेना के जवानों के साथ दूसरे लोग भी जख्मी हुए. इस घटना में बेहतरीन विस्फोटक ​बनाने वाले आतंकवादी अब्दुल रहमान की मौत पुलिस के साथ मुठभेड़ में हो गई थी.

सरकारी आंकड़ों से पता चलता है कि 17 आतंकवादियों को या तो पाकिस्तानी के रूप में या विदेशी नागरिकों के तौर पर पहचाना गया. इन सभी को 31 अगस्त तक कश्मीर में सेना या पुलिस ने मुठभेड़ के दौरान मार गिराया. 33 आतंकवादियों को वर्ष 2019 में और 2018 में 64 आतंकवादियों को मार गिराया गया था. एक वरिष्ठ खुफिया अधिकारी ने कहा कि आंकड़े बताते हैं कि इस वर्ष नियंत्रण रेखा के पास घुसपैठ में कमी आई है.

सरकारी सूत्रों का कहना है कि कश्मीर में 2020 तक मारे गए सभी आतंकवादियों में से 40 प्रतिशत केवल स्वचालित पिस्तौल से लैस थे और कुछ मामलों में उनके पास कोई हथियार नहीं था. एक वरिष्ठ पुलिस अधिकारी ने कहा, “कश्मीर में जिहादी आंदोलन स्पष्ट रूप से हथियार से लेकर प्रशिक्षण तक संसाधनों के गंभीर संकट का सामना कर रहा है.”

पाकिस्तान में जिहादी गुटों के प्रमुख अधिकारी, पाकिस्तानी विद्वान आयशा सिद्दीका का कहना है कि कश्मीर पर प्रधानमंत्री खान की सरकार के शब्दों में जिहादियों को एकजुट करने की इच्छा के कारण बहुत सारे कारण मौजूद हैं. आयशा का कहना है कि सऊदी अरब ने यह स्पष्ट कर दिया है कि यह कश्मीर पर संकट की संभावना से उत्साहित नहीं है. यह वित्तीय कार्य टास्क फोर्स से प्रतिबंधों का खतरा है, युद्ध का खतरा है.

साभार न्यूज़ 18

Related Articles

कश्मीर मुद्दे पर बात रखने वाले वकील बाबर कादरी की गोली मारकर हत्या

श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर के श्रीनगर में गुरुवार को अज्ञात आतंकवादियों के हमले...

उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश-राजस्थान के लिए बस सेवा शुरू करने को त्रिवेंद्र सिंह सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश और राजस्थान यात्रियों के लिए खुशखबरी है. उत्तराखंड की त्रिवेंद्र...

कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क भी वैक्सीन तरह ही काम करता है

देश के कोरोना वायरस का संकटकाल चल रहा है. इस महामारी से...

उत्तराखंड में आज मिले 684 लोग कोरोना पॉजिटिव, 13 लोगों की मौत

गुरुवार को उत्तराखंड में 684 लोग कोरोनावायरस संक्रमित मिले और 13...

सीएम रावत ने की खरीफ खरीद सत्र 2020-21 की समीक्षा

गुरूवार को सीएम रावत द्वारा सचिवालय में खरीफ खरीद सत्र 2020-21 हेतु...

बड़ी खबर: भारत की आपत्ति के बावजूद नहीं माना पाकिस्तान, 15 नवंबर को होंगे गिलगित-बाल्टिस्‍तान चुनाव

इस्‍लामाबाद|... पाकिस्‍तान अधिकृत कश्‍मीर के गिलगित-बाल्टिस्‍तान इलाके को लेकर पाकिस्‍तान में...

Latest Updates

उत्तराखंड से उत्तर प्रदेश-राजस्थान के लिए बस सेवा शुरू करने को त्रिवेंद्र सिंह सरकार तैयार

उत्तर प्रदेश और राजस्थान यात्रियों के लिए खुशखबरी है. उत्तराखंड की त्रिवेंद्र सिंह रावत सरकार इन दोनों प्रदेशों में जल्द ही...

कोरोना वायरस से बचने के लिए मास्क भी वैक्सीन तरह ही काम करता है

देश के कोरोना वायरस का संकटकाल चल रहा है. इस महामारी से बचने के लिए सरकार और वैज्ञानिकों ने गाइडलाइन तय कर...

उत्तराखंड में आज मिले 684 लोग कोरोना पॉजिटिव, 13 लोगों की मौत

गुरुवार को उत्तराखंड में 684 लोग कोरोनावायरस संक्रमित मिले और 13 लोगों की मौत हुई है. इसके साथ...

अन्य खबरें

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस पर संजय राउत का बड़ा बयान- ‘महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार से मिला इनाम’

मुंबई| बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस यानी वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब इस मामले को लेकर सियासी बयानबाजी...

कोरोना से जूझते उत्तराखंड में कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा जाने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़कर किया तमाशा

उत्तराखंड में कोरोना वायरस बेकाबू होता जा रहा है, शासन से लेकर प्रशासन और आम लोग तक डरे सहमे हुए हैं.

बसपा संगठन में अहम बदलाव, मुनकाद अली से ली गई उत्तराखंड की जिम्मेदारी वापस

बहुजन समाज पार्टी ने मंडल स्तरीय संगठन में अहम बदलाव कर दिया है. बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने फरमान...