चुनाव आयोग का निर्देश, उम्मीदवारों को 3 बार विज्ञापनों में देना होगा आपराधिक ब्यौरा

नई दिल्ली| चुनाव आयोग ने दागी छवि के उम्मीदवारों के बारे में जनता को जागरूक करने के लिए नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं. प्रत्याशियों और उनके राजनीतिक दलों को अखबारों और टीवी चैनलों पर तीन बार विज्ञापन देकर आपराधिक ब्यौरा बताना होगा. चुनाव आयोग की शुक्रवार को हुई बैठक के बाद इस बारे में नए दिशा-निर्देश जारी किए गए हैं.

दरअसल, चुनाव आयोग की ओर से आपराधिक छवि के उम्मीदवारों पर दर्ज मुकदमों के ब्यौरे को विज्ञापन के रूप में प्रचारित करने के लिए इससे पूर्व दस अक्टूबर 2018 और छह मार्च 2020 के निर्देश जारी किए थे.

इस सिलसिले में शुक्रवार को हुई बैठक में कुछ नए दिशा-निर्देश तय किए गए हैं. ताकि दागी प्रत्याशियों के आपराधिक मामलों से जनता को जागरूक करने का तंत्र और कारगर हो.

नए निर्देशों के मुताबिक, प्रत्याशी को पहली बार नामांकन वापसी की अंतिम तारीख के चार दिन के अंदर अपने ऊपर दर्ज आपराधिक मामलों का विज्ञापन प्रकाशित कराना होगा.

दूसरी बार यह विज्ञापन नामांकन वापसी की तारीख के पांच से आठ दिन के भीतर देना होगा. वहीं तीसरी और आखिरी बार यह विज्ञापन नामांकन वापसी के नौवें दिन से लेकर कैंपेन के आखिरी दिन के बीच देना होगा.

आयोग ने कहा है कि निर्विरोध उम्मीदवारों और उनके राजनीतिक दलों को भी आपराधिक ब्यौरे का विज्ञापन देना होगा. आयोग ने कहा है कि नए दिशा-निर्देश तत्काल प्रभाव से लागू होंगे.

बता दें कि भाजपा नेता और सुप्रीम कोर्ट के वकील अश्विनी उपाध्याय की याचिका पर आपराधिक छवि के उम्मीदवारों के विज्ञापन जारी करने की व्यवस्था हुई थी.

कोर्ट के निर्देश के बाद चुनाव आयोग ने वर्ष 2018 और फिर वर्ष 2020 में इस संबंध में दिशा-निर्देश जारी किए थे. ताकि जनता को उम्मीदवारों के चाल-चरित्र के बारे में जानकारी हो सके. अब इस संबंध में आयोग ने नए दिशा-निर्देश जारी किए हैं.

Related Articles

अंतरराष्ट्रीय स्तर तक फैला है रिया चक्रवर्ती का ड्रग्स कनेक्शन, एनसीबी चीफ का दावा

मुंबई| बॉलीवुड अभिनेता सुशांत सिंह राजपूत की मौत की जांच के...

अगर मार्शल नहीं होते तो उप सभापति को सांसद चोट पहुंचा देते: रविशंकर प्रसाद

राज्यसभा में अमर्यादित आचरण को लेकर तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन...

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में विलम्ब न हो: सीएम रावत

सीएम रावत ने भर्ती प्रक्रियाओं को निर्धारित टाईम टेबल में सुनिश्चित करने...

उत्तराखंड में कोरोना के 814 नए मामले आए सामने, संक्रमित मरीजों की संख्या 41000 के पार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. हालांकि,...

गूगल पे ने शुरू की ‘टैप टु पे’ सुविधा, जानें कैसे करें इस्तेमाल

सोमवार को गूगल पे ने अपने प्लेटफॉर्म पर टोकनाइजेशन को लागू करने...

Navratri 2020: कब से शुरू है शारदीय नवरात्रि, जानें चौकी स्थापना से नवमी तक का कार्यक्रम

पितृपक्ष समाप्त होने के साथ ही शारदीय नवरात्रि शुरू हो जाते...

संसद परिसर में धरने पर बैठीं ‘महाभारत’ फेम रूपा गांगुली, लगाई महिला सुरक्षा की गुहार

मुंबई| फिल्म डायरेक्टर अनुराग कश्यप पर लगे यौन शोषण का मुद्दा...

Latest Updates

अगर मार्शल नहीं होते तो उप सभापति को सांसद चोट पहुंचा देते: रविशंकर प्रसाद

राज्यसभा में अमर्यादित आचरण को लेकर तृणमूल कांग्रेस के डेरेक ओ ब्रायन और आम आदमी पार्टी के संजय सिंह सहित विपक्ष...

कोरोना के कारण भर्ती प्रक्रियाओं में विलम्ब न हो: सीएम रावत

सीएम रावत ने भर्ती प्रक्रियाओं को निर्धारित टाईम टेबल में सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. उन्होंने कहा कि कोरोना के लिए...

उत्तराखंड में कोरोना के 814 नए मामले आए सामने, संक्रमित मरीजों की संख्या 41000 के पार

उत्तराखंड में कोरोना संक्रमण का ग्राफ दिन-ब-दिन बढ़ता जा रहा है. हालांकि, स्वस्थ होने वाले मरीजों का आंकड़ा राहत पहुंचा रहा है.

अन्य खबरें

निलंबित सांसद रात भर संसद के पास देंगे धरना, संजय सिंह ने घर से मंगवाया तकिया-बिस्तर: सूत्र

संसद के मॉनसून सत्र का सोमवार को 8वां दिन है. किसान बिल को लेकर सरकार और विपक्ष की तनातनी आज...

बिहार चुनाव में ओवैसी की एंट्री, कुछ के लिए फायदा तो कुछ के लिए नुकसान

बिहार विधानसभा चुनाव में एआईएमआईएम प्रमुख असदुद्दीन ओवैसी की एंट्री हुई है. बिहार की जनता को लुभाने के...

जबरदस्त हंगामे के बीच राज्यसभा से पारित हुआ कृषि बिल, सांसदों ने रूल बुक फाड़ी और माइक तोड़ा

नई दिल्ली| राज्यसभा में कृषि बिल 2020 पर चर्चा के दौरान रविवार को जबरदस्त हंगामा हुआ. हंगामे की वजह से राज्यसभा...

राज्यसभा में बिल पास कराने के लिए मोदी सरकार को अभी भी अन्य दलों से करनी पड़ रही है ‘जी हुजूरी’

पिछले तीन दिनों से केंद्र की भाजपा सरकार एक बार फिर परेशान है. मोदी सरकार की परेशानी का बड़ा कारण राज्यसभा में...

कृषि विधेयक पास कराना सरकार के लिए चुनौती, विरोध में केजरीवाल ने की ये अपील

नई दिल्ली| लोकसभा में कृषि विधेयकों के पारित होने के बाद अब इस विधेयक को राज्यसभा में पेश किया जा सकता है...

उद्धव-आदित्य और सुप्रिया सुले की बढ़ी मुश्किलें, चुनावी हलफनामे में संपत्ति और देनदारी की गलत जानकारी देने का आरोप

मुंबई| महाराष्ट्र के मुख्यमंत्री उद्धव ठाकरे , उनके बेटे आदित्य ठाकरे और एनसीपी सांसद सुप्रिया सुले फिलहाल मुश्किल में...