आमना-सामना हुए बिना ही युद्ध लड़ने की तैयारी, DRDO फैंटेसी मूवी जैसे हथियार बनाने में जुटा

डिफेंस रिसर्च ऐंड डेवलपमेंट ऑर्गनाइजेशन (DRDO) की तैयारी डायरेक्‍टेड एनर्जी वेपंस (DEWs) के लिए एक नैशनल प्रोग्राम चलाने की है.

पूरी दुनिया में ऐसे हथियारों की पूछ बढ़ रही है ताकि आमना-सामना हुए बिना ही युद्ध लड़े जा सकें. ये हथियार कुछ-कुछ वैसे ही होंगे जैसे फैंटेसी मूवी सीरीज ‘स्‍टार वार्स’ में दिखाए गए हैं.

DRDO के इस नैशनल प्‍लान में शॉर्ट, मीडियम और लॉन्‍ग टर्म के लिए लक्ष्‍य तय किए जाएंगे. कोशिश होगी कि घरेलू इंडस्‍ट्री के साथ मिलकर 100 किलोवाट क्षमता तक के DEWs डेवलप किए जा सकें.

DRDO पहले से ही कई DEW प्रोजेक्‍ट्स पर काम कर रहा है. इसमें ‘केमिकल ऑक्सिजन आयोडीन’ से लेकर ‘हाई पावर फाइबर’ लेसर तक शामिल हैं.

DRDO एक पार्टिकल बीम वेपन ‘काली’ पर भी काम कर रहा है. हालांकि इनमें से कोई भी ऑपरेशनल होने के करीब नहीं है.

परंपरागत हथियारों में काइनेटिक/केमिकल एनर्जी का इस्‍तेमाल होता है. मिसाइलों व अन्‍य प्रक्षेपास्‍त्रों की मदद से टारगेट को उड़ाया जाता है.

डायरेक्‍टेड एनर्जी वेपंस में टारगेट पर इलेक्‍ट्रॉनिक/मैग्‍नेटिक एनर्जी या सबएटॉमिक पार्टिकल्‍स की बौछार की जाती है. इनके दो मेजर सब-सिस्‍टम होते हैं- लेसर सोर्स और पार्टिकल बीम कंट्रोल सिस्‍टम.

पावर की बात करें तो एक मिसाइल को उड़ाने के लिए किसी लेसर वेपन को 500 किलोवॉट की बीम की जरूरत पड़ेगी.

ये पहली बार नहीं है जब DRDO का ध्यान इस तरफ गया है. रक्षा अनुसंधान और विकास संगठन पहले से कई DEW (डायरेक्टेड एनर्जी वेपन्स) प्रोजेक्ट्स पर काम कर रहा है. इसमें हाई पॉवर फाइबर लेसर से लेकर केमिकल ऑक्सीजन आयोडीन तक शामिल हैं.

जिस हथियार से लड़ाई आपने अभी तक सिर्फ फिल्मों में देखी है आखिर वो है क्या. जिन हथियारों का उपयोग सेनाएं करती हैं, जिन्हें हम आमतौर पर परंपरागत हथियार कहते हैं, उनमें केमिकल एनर्जी का इस्तेमाल किया जाता है.

इन हथियारों को मिसाइल की मदद से उड़ाया जाता है. जबकि इस नए हथियार में टारगेट पर इलेक्ट्रॉनिक/मग्नेटिक एनर्जी या सबएटॉमिक पार्टिकल की बौछार की जाती है.

क्‍या हैं ऐसे हथियारों के फायदे?
– प्रकाश की गति से लगते हैं, निशाना एकदम सटीक.
– एक शॉट पर कम खर्च आता है, मिसाइलों के मुकाबले फ्लेक्सिबल.
– रैपिड री-टारगेटिंग के साथ कई टारगेट्स को एक साथ निशाना बनाया जा सकता है.
– अगर पावर सप्‍लाई पर्याप्‍त हो तो इनका जब तक चाहें, इस्‍तेमाल जारी रख सकते हैं.

Related Articles

मोदी सरकार के कृषि विधेयक ने शिवराज की बढ़ाई टेंशन, सीएम किसानों की आवभगत में जुटे

केंद्र की भाजपा सरकार ने कृषि विधेयक संसद से पारित कराकर किसानों...

बड़ी खबर: इनकम टैक्स से जुडे़ बिल को संसद से मिली मंजूरी, आपको होंगे ये फायदें

नई दिल्ली| संसद में टैक्सेशन और अन्य कानून (कुछ प्रावधानों में...

महाराष्ट्र: भिवंडी इमारत हादसे में मरने वालों की संख्या 20 पहुंची

भिवंडी| महाराष्ट्र में ठाणे जिले के भिवंडी इलाके में सोमवार को हुई...

रिया की ज्यूडिशियल कस्टडी 6 अक्टूबर तक बढ़ी

सुशांत मामले की जांच के सिलसिले में ड्रग्स केस में गिरफ्तार रिया...

1 नवंबर से देशभर में शुरू होंगी ग्रेजुएशन की क्लास’- यहां देखें पूरा शेड्यूल

नईदिल्ली| शिक्षा मंत्रालय ने कोरोना वायरस के बढ़ते खतरे और देश में लागू अनलॉक...

पौड़ी: खतरे में पारंपरिक घराटों का वजूद, जा‍निए कैसे चलता है घराट

पहाड़ी क्षेत्रों में पारंपरिक घराटों (पनचक्‍की) का वजूद खतरे में है.

Latest Updates

महाराष्ट्र: भिवंडी इमारत हादसे में मरने वालों की संख्या 20 पहुंची

भिवंडी| महाराष्ट्र में ठाणे जिले के भिवंडी इलाके में सोमवार को हुई इमारत ढहने की घटना में मरने वालों की संख्या में...

सामने आया योगी सरकार की फिल्म सिटी का मास्टर प्लान, जानिए इस फिल्म सिटी से जुड़ी खासियत

लखनऊ | यूपी में नई फिल्म सिटी की रूपरेखा सामने आ गई है. उत्तर प्रदेश सरकार ने इस फिल्म सिटी के निर्माण के लिए...

रिया की ज्यूडिशियल कस्टडी 6 अक्टूबर तक बढ़ी

सुशांत मामले की जांच के सिलसिले में ड्रग्स केस में गिरफ्तार रिया चक्रवर्ती की ज्यूडिशियल कस्टडी 6 अक्टूबर तक बढ़ा दी गई...

अन्य खबरें

मोदी सरकार के कृषि विधेयक ने शिवराज की बढ़ाई टेंशन, सीएम किसानों की आवभगत में जुटे

केंद्र की भाजपा सरकार ने कृषि विधेयक संसद से पारित कराकर किसानों के साथ मध्य प्रदेश 'शिवराज सिंह चौहान सरकार की भी...

संसद के बाद अब सड़क पर भी भाजपा-विपक्ष में किसानों का नेता बनने की छिड़ी सियासी जंग

कमाल की राजनीति है. कोई भी राजनीतिक दल देश की जनता के सामने अपने आपको सबसे बड़ा हितेषी बताने के लिए तमाम...

उत्तराखंड में बढ़ा ‘आप’ का कुनबा सैकड़ों समर्थकों के साथ जितेंद्र मलिक ने ज्वाइन की पार्टी

उत्तराखंड में साल 2022 का चुनावी रण दिलचस्प होने वाला है. विधानसभा चुनाव की तैयारियों में जुटी आम आदमी पार्टी हर स्तर...

ब्रेकिंग: राज्यसभा से निलंबित सभी 8 सांसदों का धरना ख़त्म

राज्यसभा से निलंबित किए जाने वाले सांसदों ने अपना धरना खत्म कर दिया है.विपक्ष के वाकआउट के बाद धरने पर बैठे विपक्षी...

सांसदों का निलंबन वापस होने तक विपक्ष कार्यवाही का बहिष्कार करेगा: गुलाम नबी

नयी दिल्ली| राज्यसभा में विपक्ष के नेता गुलाम नबी आजाद ने मंगलवार को कहा कि जब तक उच्च सदन के आठ सदस्यों का,...

निलंबित सांसद रात भर संसद के पास देंगे धरना, संजय सिंह ने घर से मंगवाया तकिया-बिस्तर: सूत्र

संसद के मॉनसून सत्र का सोमवार को 8वां दिन है. किसान बिल को लेकर सरकार और विपक्ष की तनातनी आज...