शांति के दिखावे के बीच साजिश रच रहा चीन, लद्दाख में बिछा रहा ऑप्टिकल फाइबर नेटवर्क

एक तरफ चीन और भारत के बीच में एलएसी पर तनाव कम करने के लिए उच्च-स्तरीय वार्ता जारी है. चीन लगातार कई अंतरराष्ट्रीय मंचों से कह चुका है कि वह सीमा विवाद का हल शांति से निकालना चाहता है.

हालांकि दूसरी तरफ चीनी सेना अपनी साजिशों से बाज नहीं आ रही है. द टेलीग्राफ में छपी रिपोर्ट के मुताबिक़ चीन ने लद्दाख में ऑप्टिकल फाइबर केबल का नेटवर्क बिछाना शुरू कर दिया है.

रिपोर्ट के मुताबिक चीनी सेना ने इस ऑप्टिकल फाइबर केबल का नेटवर्क को बिछाने के लिए लंबी दूरी तक खुदाई की है. इस केबल नेटवर्क की मदद से चीनी सेना को आपसी बातचीत के लिए एक सुरक्षित साधन मिल जाएगा. भारतीय सेना के अधिकारियों के मुताबिक पैंगोंग त्सो झील के दक्षिणी हिस्से में ये केबल नेटवर्क बिछाने का काम जारी है.

उधर चीन के विदेश मंत्री वांग यी ने इस मसले पर समाचार एजेंसी रॉयटर्स के सवालों का जवाब देने से साफ़ इनकार कर दिया है. फ़िलहाल इस आरोप पर चीनी सेना की तरफ से भी किसी तरह की प्रतिक्रिया नहीं आई है.

भारत और चीन के बीच पिछले कुछ महीनों में गतिरोध पैदा होने की वजह से हज़ारों भारतीय और चीनी फ़ौजी टैंकों और एयरक्राफ्ट के साथ पैंगोंग सो झील के दक्षिण में 70 किलोमीटर के क्षेत्र में फंसे हुए हैं.

दोनों देशों के विदेश मंत्रियों के बीच पिछले हफ्ते हुई मुलाकात के बाद भी कोई अहम बदलाव नहीं हुआ है और पहले की तरह ही तनाव बरकरार है. उधर एक अंग्रेजी अखबर की पड़ताल में पता चला है कि चीन की सरकार और चाइनीज़ कॉम्युनिस्ट पार्टी से जुड़ी जुनख्वा डेटा इंफोर्मेशन टेक्नॉलॉजी को लिमिटेड नाम की कंपनी भारत में शुरू हो रही नई व्यापारिक योजनाओं पर नज़र रखे हुई हैं.

इस जासूसी की चपेट में भारतीय रेलवे के साथ इंटर्न कर रहे इंजीनियरिंग के छात्र से लेकर अज़ीम प्रेमजी की वेंचर कैपिटल कंपनी के चीफ़ इंवेस्टमेंट ऑफिसर तक कम से कम 1400 लोग शामिल हैं जिन पर नज़र रखी जा रही है.

मुख्य तौर पर जिन पर यह चीनी कंपनी नज़र रख रही है, उनमें वेंचर कैपिटलिस्ट, एंजेल इंवेस्टर, फाउंडर्स और स्टार्ट अप और भारत स्थित ई-कॉमर्स प्लेटफॉर्म्स के चीफ़ टेक्नॉलॉजी अफसर शामिल हैं. ये उन 10 हज़ार भारतीय लोगों और संस्थाओं में शामिल हैं जिन पर चीन की इस कंपनी ने नज़र रखा हुआ है.

जिन लोगों पर चीनी कंपनी ने नज़र रखा हुआ है उनमें राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद और प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी, कांग्रेस अध्यक्ष सोनिया गांधी और उनके परिवार, ममता बनर्जी, अशोक गहलोत, नवीन पटनायक, उद्धव ठाकरे से लेकर कैबिनट मंत्री राजनाथ सिंह, रवि शंकर प्रसाद, निर्मला सीतारमण, स्मृति इरानी शामिल हैं.

इसके अलावा चीफ़ ऑफ़ डिफेंस स्टाफ़ बिपिन रावत, आर्मी, नेवी और एयरफोर्स के 15 प्रमुखों से लेकर मुख्य न्यायाधीश शरद बोबडे, लोकपाल पीसी घोष, कैग प्रमुख जीसी मुर्मु, भारत पे के संस्थापक निपुण मेहरा, उद्योगपति रतन टाटा और गौतम अडानी को भी ये कंपनी मॉनिटर कर रही है. ये कंपनी खुद दावा करती है कि ये चीन की खुफ़िया एजेंसी, सेना और सुरक्षा एजेंसियों के साथ काम करती है.

साभार-न्यूज़ 18

Related Articles

दिल्ली हिंसा मामले में उमर खालिद को 22 अक्टूबर तक न्यायिक हिरासत

नई दिल्ली| गुरुवार को दिल्ली की एक अदालत ने जवाहर लाल...

उत्तराखंड: पूर्व विधायक कृष्ण चन्द्र पुनेठा का निधन

अविभाजित यूपी में पिथौरागढ़ विधानसभा क्षेत्र से दो बार विधायक रहे कृष्ण...

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले...

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस का निधन

गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर डीन जोंस का निधन...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा...

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया...

बड़ी खबर: फ्लाइट में सामान ले जाने का नियम बदला, ​जारी हुआ नया आदेश

नई दिल्ली| घरेलू पैसेंजर्स के लिए ​नगर विमानन मंत्रालय ने विमान...

Latest Updates

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

ऑस्ट्रेलियाई क्रिकेटर डीन जोंस का निधन

गुरुवार को ऑस्ट्रेलिया क्रिकेट टीम के पूर्व क्रिकेटर डीन जोंस का निधन 59 साल की उम्र में हो गया. सूत्रों के हवाले...

संस्कृति और परम्परा के लिए ही नहीं, बल्कि शौर्य व अदम्य साहस के लिए भी जाना जाता है पौड़ी गढ़वाल

पौड़ी गढ़वाल| पौड़ी गढ़वाल उत्तराखंड का सुन्दर और प्रकृति की गोद में बसा एक जिला है. इस...

अन्य खबरें

विपक्षी नेताओं के सदन के बहिष्कार का भाजपा सरकार ने उठाया पूरा फायदा

कोरोना काल के बीच शुरू हुआ मानसून सत्र तय समय से पहले खत्म हो गया. बुधवार को राज्यसभा...

संसद में केंद्र सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने के लिए नहीं थी गंभीर

दस दिनों के मानसून सत्र में भाजपा सरकार महत्वपूर्ण विषयों पर चर्चा करने से दूर भागती रही है.

मानसून सत्र में विपक्ष को हंगामे में लगाकर मोदी सरकार महत्वपूर्ण बिल पास करा गई

नाम है भारतीय जनता पार्टी. इस पार्टी के मौजूदा समय में मुखिया प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी और गृहमंत्री अमित शाह हैं.

गुप्तेश्वर पांडेय के वीआरएस पर संजय राउत का बड़ा बयान- ‘महाराष्ट्र पर राजकीय तांडव का बिहार से मिला इनाम’

मुंबई| बिहार के डीजीपी गुप्तेश्वर पांडेय ने वीआरएस यानी वॉलंटरी रिटायरमेंट ले लिया है. अब इस मामले को लेकर सियासी बयानबाजी...

कोरोना से जूझते उत्तराखंड में कांग्रेसी विधायकों ने विधानसभा जाने के लिए ट्रैक्टर पर चढ़कर किया तमाशा

उत्तराखंड में कोरोना वायरस बेकाबू होता जा रहा है, शासन से लेकर प्रशासन और आम लोग तक डरे सहमे हुए हैं.

बसपा संगठन में अहम बदलाव, मुनकाद अली से ली गई उत्तराखंड की जिम्मेदारी वापस

बहुजन समाज पार्टी ने मंडल स्तरीय संगठन में अहम बदलाव कर दिया है. बसपा की राष्ट्रीय अध्यक्ष मायावती ने फरमान...