कभी अल्मोड़ा जिले का हिस्सा रहा पिथौरागढ़ सामरिक रूप से देश के लिए है अति महत्वपूर्ण, जानें कैसे

--Advertisement--

पिथौरागढ़| लम्बे समय तक अल्मोड़ा जिला का हिस्सा रहा पिथौरागढ़ 24 फरवरी 1960 को एक जिले के रूप में अस्तित्व में आया. पिथौरागढ़ का पुराना नाम सोरघाटी है. सोर शब्द का अर्थ यहां सरोवर से था.

चीन के साथ खराब होते रिश्तों को देखते हुए तत्कालीन यूपी सरकार ने 1960 में एक ही दिन पिथौरागढ़, चमोली और उत्तरकाशी जिलों को गठन किया था.

सामरिक नजरिए से अहम ये तीनों जिले लम्बे समय तक उत्तराखंड कमिश्नरी के बजाय यूपी के मुख्य सचिव के अधिन होते थे. माना जाता है कि पहले इस घाटी में सात सरोवर थे.

वक्त के साथ सरोवरों का पानी सूखता चला गया और यहां पर पठारी भूमि का जन्म हुआ. पठारी भूमि होने के कारण इसका नाम पिथौरागढ़ पड़ा.

पर अधिकांश लोगों का मानना है कि यहां राय पिथौरा (पृथ्वीराज चौहान) की राजधानी थी. उन्हीं के नाम से इस जगह का नाम पिथौरागढ़ पड़ा.

पीरू गोसाई ने पिथौरागढ़ की स्थापना की
पिथौरागढ़ के इतिहास का एक अन्य विवादास्पद वर्णन है. एटकिंसन के अनुसार चंद वंश के एक सामंत पीरू गोसाई ने पिथौरागढ़ की स्थापना की.

यह भी पढ़ें -  एक अगस्त से बैंक-एटीएम के बदल जाएंगे नियम,जाने क्या फर्क पड़ेगा आप पर

ऐसा लगता है कि चंद वंश के राजा भारती चंद के शासनकाल 1437 से 1450 में उसके पुत्र रत्न चंद ने नेपाल के राजा दोती को परास्त कर सोर घाटी पर कब्जा कर लिया और 1440 में इसे कुमाऊं या कुर्मांचल में मिला लिया.

उसी के शासनकाल में पीरू यानी पृथ्वी गोसांई ने पिथौरागढ़ नाम से यहां एक किला बनाया. किले के नाम पर ही बाद में इस नगर का नाम पिथौरागढ़ हुआ.

चंदों ने 1740 तक कुमाऊं में राज किया
चंदों ने 1740 तक कुमाऊं में राज किया. उन्होंने कई कबीलों को परास्त किया तथा पड़ोसी राजाओं से युद्ध भी किया. 1740 में गोरखियाली कहे जाने वाले गोरखाओं ने कुमाऊं पर कब्जा कर चंदवंश पर शासन किया.

यह भी पढ़ें -  Tokyo Olympics 2021: भारत की कमलप्रीत कौर ने डिस्कस थ्रो के फाइनल के लिए किया क्वालिफाई

1815 में गोरखा शासकों का अंत ईस्ट इंडिया कंपनी ने उन्हें परास्त कर किया. एटकिंसन के अनुसार, वर्ष 1881 में पिथौरागढ़ की कुल जनसंख्या 552 थी.

यह भी पढ़ें -  सीबीएसई 12वीं का रिजल्ट घोषित, 99.37 विद्यार्थी सफल

अंग्रेजों के समय में यहां एक सैनिक छावनी, एक चर्च तथा एक मिशन स्कूल था. इस क्षेत्र में क्रिश्चियन मिशनरी बहुत सक्रिय थे.

पिथौरागढ़ में 11 तहसील और 8 विकासखंड हैं
वर्तमान में पिथौरागढ़ जिले में 4 विधानसभाएं हैं, जबकि 2007 तक यहां 5 विधानसभा थीं. तकरीबन 5 लाख की आबादी वाले पिथौरागढ़ में 11 तहसील और 8 विकासखंड हैं.

पिथौरागढ़ अपने प्राकृतिक सौन्दर्य के लिए विश्व विख्यात है. चौकोड़ी, मुनस्यारी और हिमालय की ऊंचे इलाकों में साल भर सैलानियों का तांता लगा रहता है.

चीन सीमा के करीब छियालेख में यहां फूलों की घाटी भी है. यही नहीं मिलम और रालम जैसे विश्व विख्यात ग्लेशियर भी यहीं हैं.

पर्वतारोहण की चाह रखने वालों के लिए नंदा देवी ईस्ट भी यहीं मौजूद है. गंगोलीहाट का हाट-कालिका मंदिर महाकाली के उपासकों के लिए आस्था का केन्द्र बिंदू है. इस मंदिर में कालिका की दर्शनों के लिए देश भर से भक्त पहुंचते हैं.

नारायण आश्रम की स्थापना नारायण स्वामी ने 1936 में की थी
वहीं, धारचूला से 30 किलोमीटर की दूरी पर नारायण स्वामी द्वारा बनाया गया नारायण आश्रम भी यहीं पर है. नारायण आश्रम की स्थापना नारायण स्वामी ने 1936 में की थी. धारचूला और मुनस्यारी तहसील में यहां भोटिया जनजातियां भी रहती हैं.

दुनिया भर के हिन्दुओं की आस्था का केन्द्र कैलाश-मानसरोवर जाने वाले तीर्थ यात्री भी इसी जिले से होकर गुजरते हैं. टनकपुर से तवाघाट मार्ग को मानसरोवर यात्रा का परम्परागत मार्ग माना जाता है. मानसखंड में इस स्थान का वर्णन किया गया है.

पिथौरागढ़ की सीमाएं चीन और नेपाल से सटी हैं
पिथौरागढ़ उत्तराखंड का इकलौता ऐसा जिला है, जिसकी सीमाएं चीन और नेपाल से सटी हैं. यही वजह है कि यहां सेना, आईटीबीपी और एसएसबी की कई बटालियन तैनात रहती हैं.

यह भी पढ़ें -  तेज पत्ता इस्तेमाल के ये फायदे आप को कर देंगे हैरान
यह भी पढ़ें -  जन्मदिन विशेष: फिल्मी परदे के विलेन सोनू सूद रियल लाइफ में बने लोगों के सुपरहीरो

पिथौरागढ़ से काली,सरयू और धौली जैसी नदियां भी निकलती हैं. उत्तराखंड के पहाड़ी जिलों में ये इकलौता जिला है जहां पर एयरपोर्ट मौजूद हैं. नैनी-सैनी एयरपोर्ट के जरिए ये इलाका हवाई सेवा से सीधे जुड़ा हुआ है.

साभार -न्यूज़ 18



Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,041FollowersFollow
474SubscribersSubscribe
--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

जम्‍मू-कश्मीर: पुलवामा हमले के साजिशकर्ताओं में शामिल मोहम्‍मद इस्‍माल अल्‍वी मुठभेड़ में ढेर

श्रीनगर| जम्‍मू-कश्मीर के पुलवामा जिले में सुरक्षा बलों ने शनिवार को एक मुठभेड़ में दो आतंकियों को मार गिराया, जिनका संबंध पाकिस्‍तान स्थित आतंकी...

बीजेपी सांसद बाबुल सुप्रियो ने किया राजनीति से संन्यास का ऐलान

बाबुल सुप्रियो ने राजनीति से संन्यास का ऐलान कर दिया है. सुप्रियो ने सोशल मीडिया के जरिए संन्यास का ऐलान किया है. हालांकि...

Tokyo Olympics 2020: भारत की बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु सेमीफाइनल में हारी, अब ब्रॉन्ज...

भारत की बैडमिंटन स्टार पीवी सिंधु टोक्यो ओलंपिक में बैडमिंटन सिंगल्स के सेमीफाइनल में हार गईं. चीनी ताइपे की खिलाड़ी ताई जु यिंग ने...

यूपी बोर्ड 10वीं, 12वीं का रिजल्‍ट घोषित, ऐसे करें चेक

यूपी बोर्ड के 10वीं व 12वीं के रिजल्‍ट (शनिवार, 31 जुलाई) जारी कर दिए गए हैं. शैक्षणिक सत्र 2020-21 के लिए यूपी बोर्ड का...

उत्तराखंड बीजेपी हो सकता है एक और बड़ा बदलाव, मदन कौशिक की जगह...

देहरादून| उत्तराखंड बीजेपी एक और बड़े बदलाव की ओर बढ़ रही है. बीजेपी प्रदेश अध्यक्ष मदन कौशिक की जगह किसी और को जिम्मेदारी...

रेप केस में सिविल जज को अवमानना का नोटिस, उत्तराखंड हाई कोर्ट ने चार...

नैनीताल| उत्तराखंड हाई कोर्ट ने एक निचली अदालत को कोर्ट की अवमानना का नोटिस जारी करते हुए जवाब तलब किया है. बलात्कार के...

एक अगस्त से बैंक-एटीएम के बदल जाएंगे नियम,जाने क्या फर्क पड़ेगा आप पर

केंद्र सरकार एक बार फिर बैंक और एटीएम में नई व्यवस्था लागू करने जा रही है. इन नए बदलाव को आप भी जान लीजिए....

श्रीलंका क्रिकेट ने गुणाथिलका, मेंडिस और डिकवेला पर लगाया बैन , लगाया एक करोड़...

शुक्रवार (30 जुलाई) को श्रीलंका क्रिकेट ने दनुष्का गुणाथिलका , कुसल मेंडिस और निरोशन डिकवेला के इंटरनेशनल क्रिकेट खेलने पर एक साल का और...

महान फनकार: मोहम्मद रफी की एक बार मखमली आवाज सुन लेता वह कभी नहीं...

आज से 41 वर्ष पहले देश ने एक महान फनकार और मखमली आवाज को खो दिया था. आज 31 जुलाई है जब-जब यह तारीख...

1 अगस्त से यूएन सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालेगा भारत, आतंकवाद पर रहेगा विशेष...

संयुक्त राष्ट्र|.... भारत एक अगस्त को संयुक्त राष्ट्र सुरक्षा परिषद की अध्यक्षता संभालेगा और इस दौरान वह तीन प्रमुख क्षेत्रों समुद्री सुरक्षा, शांतिरक्षण और...