कृषि बिल बनने जा रहा है कानून, 10 बातों में समझें क्या है बिल का मकसद

तमाम धरना प्रदर्शनों खासकर हरियाणा-पंजाब के किसानों के विरोधों के बीच रविवार को तीन में से दो कृषि संबंधी विधेयकों को राज्यसभा से भी पारित कर दिया गया. विरोध के तीखे सुर को इससे भी समझा जा सकता है कि एनडीए की पुरानी सहयोगी अकाली दल की सांसद हरसिमरत कौर ने मंत्री पद से इस्तीफा दे दिया. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी दोहराते रहे हैं कि इन बदलावों से किसान फायदे में रहेंगे. किसानों को लेकर मोदी सरकार के तीन अध्यादेशों ने अब विधेयक का रूप ले लिया है.

विपक्ष के विरोध के बावजूद सदन ने कृषि उपज व्यापार और वाणिज्य (संवर्द्धन और सरलीकरण) विधेयक-2020 और कृषक (सशक्तिकरण एवं संरक्षण) कीमत आश्वासन समझौता और कृषि सेवा पर करार विधेयक-2020 को ध्वनिमत से मंजूरी दे दी. सरकार की दलीलों, किसानों और राजनीतिक पार्टियों के विरोध के बीच कौन सही है यह समझना होगा.

  1. क्या हैं सरकार के तीन बिल

पहले बिल को सरसरी तौर पर देखें तो इससे किसानों को APMC द्वारा संचालित मंडियों के बाहर भी किसानों को अपनी उपज को बेचने की आजादी मिल रही है. यह ध्यान रखना होगा कि यह आइडिया एपीएमसी को बंद करने का नहीं, बल्कि एक किसान की पसंद को तरजीह देने का है. यदि किसी किसान को यह लगता है कि अन्य खरीदार के साथ वह बेहतर सौदा कर सकता है तो वो एपीएमसी मंडी में अपनी उपज बेचने के बजाय बाहरी विकल्प को चुन सकता है.

दूसरा विधेयक कारोबारियों को खाद्य सामग्री के भंडारण की इजाजत देता है जबकि पहले एसेंसियल एक्ट के तहत इस पर रोक थी क्योंकि माना जाता था कि इससे कालाबाजारी और जमाखोरी बढ़ती है. लेकिन नए विधेयक के बाद कारोबारी बिना रोक टोक के खाद्य सामग्री का भंडारण कर सकेंगे.

यह भी पढ़ें -  इस दिन लगेगा साल का अंतिम सूर्य ग्रहण, जानें तारीख-प्रभाव

तीसरा विधेयक फॉर्मर्स अग्रीमेंट ऑन प्राइस एश्योरेंस एंड फार्म सर्विस बिल किसानों को कॉन्ट्रैक्ट फॉर्मिंग यानी ठेके पर खेती करने को लेकर एक फ्रेमवर्क मुहैया कराएगा. इसमें एक किसान किसी कंपनी से कॉन्ट्रैक्ट पर लिखित समझौता कर सकता है और कंपनी अपनी मर्जी के हिसाब से खेती करेगी. इसकी एवज में कंपनी को किसान को भुगतान करना होगा.

  1. क्या है बिल का मकसद?

उपर्युक्त तीनों विधेयकों का मकसद कृषि बाजार को उदार बनाना है. इनका मुख्य मकसद भारतीय कृषि बाजार को उद्यमी बनाना है जहां किसानों को अपनी उपज का उचित मूल्य मिल सके.

  1. क्या है सरकार का तर्क

अंग्रेजी के समाचार पत्र इंडियन एक्सप्रेस की एक रिपोर्ट बताती है कि इन बदलावों को देखने का दो नजरिया है. एक पक्ष का मानना है कि जो मसौदा है वह जमीन पर भी उसी रूप में उतरेगा. सरकार का मानना है कि किसान एपीएमसी मंडियों के एकाधिकार के चंगुल से बाहर निकलेंगे और पारंपरिक बिचौलियों (जिसे आढ़तिया कहते हैं) से उबर पाएंगे. किसान मन मुताबिक अपनी उपज को बेच सकेंगे.

  1. विरोधियों की दलील

इसके उलट विपक्ष और किसान संगठनों का मानना है कि सरकार इसके जरिये न्यूनतम समर्थन (एमएसपी) तय करने की भूमिका से अपने को अलग कर रही है. निश्चित रूप से सरकार की तरफ से रेगुलेट होने वाली मंडियों में भी एमएसपी लागू होगी, लेकिन निजी तौर पर किए जाने वाले सौदे इस दायरे से बाहर होंगे.

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने शहीद गजेंद्र सिंह बिष्ट की पुण्यतिथि पर आयोजित कार्यक्रम में किया प्रतिभाग

अब सवाल है कि कौन सा नजरिया सही है? इसका जवाब देना आसान नहीं है. लेकिन इतना जरूर है कि दोनों पक्षों के पास कुछ वैलिड प्वाइंट हैं. हालांकि दोनों के नजरिया को पूरी तरह सही नहीं ठहराया जा सकता है.

  1. क्या मंडियां बंद हो जाएंगी?

मसलन, नए कानून से एपीएमसी मंडियां बंद नहीं हो जाएंगी और न ही एमएसपी की प्रक्रिया खत्म होगी. यह सच है कि अर्थव्यवस्था के कई क्षेत्रों में उदारीकरण का विस्तार हुआ है और हालात भी सुधरे हैं.

  1. किसान के पास अधिक विकल्प क्यों नहीं होने चाहिए?

सवाल है कि किसान के पास अपनी उपज को बेचने का अधिक ऑप्शन क्यों नहीं होना चाहिए? अगर किसान को बाहर सौदा पसंद नहीं आएगा तो जाहिर है वह पहले की तरह मंडी में ही अपनी उपज बेचेगा. अगर कॉरपोरेट APMC मंडियों को कमजोर करते हैं तो इसका मतलब है कि किसानों ने मंडी से बाहर अपनी उपज को बेचने का रास्ता चुना है. क्या ऐसा हो सकता है कि आढ़तिये और मंडी के दिग्गजों को नए सुधारों से खतरा हो?

  1. क्या कहते हैं आंकड़े?

भारत में एमएसपी को लेकर बेवजह का हंगामा हो रहा है. अंतिम कृषि जनगणना (2015-16) के मुताबिक कुल भूमि जोत में 86% हिस्सेदारी लघु और सीमांत (2 हेक्टेयर से कम) थी. छोटे खेतिहर किसान विशुद्ध रूप से खरीद कर खाने पर निर्भर हैं. जैसे ही एमएसपी बढ़ाई जाती है तो सबसे ये छोटे किसान ही प्रभावित होते हैं.आंकड़े बताते हैं कि ज्यादातर किसान सरकार द्वारा तय एमएसपी के बजाय अपनी उपज मंडी से बाहर खरीदारों को बेचते हैं.

  1. किसान बाजारों को लेकर इतने सशंकित क्यों हैं?
यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले कोरोना के 36 नए संक्रमित, बढ़ी सक्रिय मरीजों की संख्या

दूसरी तरफ, कोई यह समझ सकता है कि किसान बाजारों को लेकर इतने सशंकित क्यों हैं? इसका सबसे अच्छा उदाहरण है जब सरकार ने प्याज के निर्यात पर बैन लागू किया था. ऐसा करते हुए सरकार ने किसानों (उत्पादकों) के बजाय उपभोक्ताओं के हितों को प्राथमिकता दी.

अतीत में ऐसा कई दफा हो चुका है जब सरकार ने किसानों के बजाय उपभोक्ताओं के हितों को तरजीह दी गई. सरकार के इन फैसलों के चलते किसान अपनी उपज को ऊंची कीमत पर बेचने से वंचित रह गया.

  1. कैसे मिले उपज का सही दाम?

किसानों के साथ एक दूसरी समस्या जानकारी की कमी है. इसके चलते वो अपना भला-बुरा नहीं सोच पाते हैं. फैसला लेने में उन्हें दिक्कत होती है. उदाहरण के लिए, एक औसत किसान अपनी उपज का सही मूल्य कैसे प्राप्त करेगा? इसी तरह, अपनी उपज का भंडारण करने को लेकर पर्याप्त बुनियादी ढांचा न होने की वजह से किसान मोल भाव करने में सक्षम नहीं हो पाता है, भले ही उन्हें सही कीमत पता हो.

10 आखिर क्या होगा?

आखिरकार इन सुधारों को लागू किए जाने के बाद क्या होगा? अगर किसान बाजार में शोषण महसूस करेंगे तो राजनेताओं को दोषी ठहराएंगे, और अगर उन्हें खुले बाजार में लाभ मिला तो जाहिर वे उधर का रुख करेंगे.

साभार- आजतक

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,152FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

पराग अग्रवाल होंगे ट्विटर के नए सीईओ, जैक डॉर्सी ने दिया इस्तीफा

0
माइक्रो ब्लॉगिंग प्लेटफॉर्म ट्विटर के मुख्य कार्यकारी अधिकारी जैक डॉर्सी ने अपने पद से इस्तीफा दे दिया है. मीडिया रिपोर्ट के मुताबिक, भारतीय मूल...

उत्तराखंड: सीएम पुष्कर सिंह धामी ने की ‘ओमीक्रोन’पर हाई-लेवल मीटिंग, दिए ये...

0
सोमवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने कोविड सैम्पलिंग को बढ़ाने और कान्टैक्ट ट्रेसिंग को सुनिश्चित करने के निर्देश दिए हैं. कोविड के बढ़ते...

Covid19: उत्तराखंड में मिले 8 नए कोरोना संक्रमित, एक मरीज की मौत

0
उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में आठ नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक मरीज की मौत हुई है. 18 मरीजों को ठीक होने के बाद घर...

देहरादून: मत्स्य पालन कर आत्मनिर्भर बनने के लिए प्रशिक्षण कार्यक्रम, प्रधानमंत्री मत्स्य संपदा योजना...

0
प्रधानमंत्री मत्स्यसम्पदा योजना एक दिवसीय जागरूकता एवं प्रशिक्षण कार्यक्रम का आयोजन राष्ट्रीय सहकारी विकास निगम द्वारा आज 29 नवम्बर को IRDT,ऑडिटोरियम, देहरादून...

पेटीएम पेमेंट्स बैंक ने लॉन्च किया ट्रांजिट कार्ड, जानें कैसे और कहां होगा इस्‍तेमाल

0
देश की सबसे बड़ी ई-वॉलेट कंपनी पेटीएम ने हाल में एक प्रीपेड रुपे कार्ड पेटीएम वॉलेट ट्रांजिट कार्ड पेश किया है. इस कार्ड...

दिल्ली में डेंगू का कहर जारी: अब तक सामने आए 8276 मामले, इस महीने...

0
कोरोना संक्रमण के साथ साथ डेंगू भी खतरे की घंटी बजा रहा है. अगर बात करे दिल्ली की तो इस सीजन में डेंगू के...

उत्तराखंड: देहरादून अनाथालय के नाबालिग के साथ हुआ दुष्कर्म, आरोपी भी नाबालिग

0
राजधानी देहरादून के एक अनाथ आश्रम में एक नाबालिग के साथ दुष्कर्म का मामला सामने आया है. यह अनाथालय खुड़बुड़ा पुलिस चौकी इलाके में...

Kanpur Test-5th Day: जीत के करीब पहुंचकर चूकी टीम इंडिया, न्यूजीलैंड खिलाफ ...

0
टीम इंडिया और न्यूजीलैंड के बीच कानपुर में खेला गया टेस्ट ड्रॉ हो गया है. टीम इंडिया गेंदबाजों ने पांचवें और आखिरी दिन शानदार...

जल्द लगेगा कोरोना टीके का बूस्टर डोज और किशोरों को टीका, कोविड-19 टास्क फोर्स...

0
कोरोना वायरस के नए स्वरूप ओमिक्रॉन ने खतरे की घंटी बजा दी है. इसको ध्यान में रखते हुए कोविड-19 टास्क फोर्स के अध्यक्ष डा....

राज्यसभा के 12 सांसद निलंबित, कांग्रेस के 6, शिवसेना-टीएमसी के 2-2

0
सदन में हंगामे को लेकर राज्यसभा के 12 सांसदों को निलंबित कर दिया गया है. शीतकालीन सत्र के पहले दिन ही इन 12 सांसदों...