पौड़ी: खतरे में पारंपरिक घराटों का वजूद, जा‍निए कैसे चलता है घराट

--Advertisement--

पहाड़ी क्षेत्रों में पारंपरिक घराटों (पनचक्‍की) का वजूद खतरे में है.

अपवाद को छोड़ दिया जाए तो राज्य बनने के इन बीते वषों में शायद ही कभी ऐसे देखने को मिला हो, जब इनके संरक्षण की दिशा में कोई प्रभावी पहल हुई हो.

हश्र यह हुआ कि जैसे-जैसे पहाड़ी क्षेत्रों से पलायन बढ़ा, वैसे ही घराट भी सिमटते गए.

आलम यह है कि अब सीमित तादाद में ही गदेरों (बरसाती नाले) में पानी से संचालित होने वाले घराट देखने को मिलते हैं.

बता दें कि पहले सिर्फ पौड़ी जिले में 400 के करीब घराट हुआ करते थे, लेकिन वर्तमान में इनकी संख्‍या 40 के करीब रह गई है.

शैलेश मटियानी पुरस्कार से सम्मानित शिक्षक आशीष चौहान बताते हैं कि पहले पौड़ी जनपद के ग्रामीण क्षेत्रों में काफी संख्या में पानी से संचालित होने वाले पारंपरिक घराट न केवल गेहूं पिसाई का जरिया हुआ करता थे, बल्कि गांव में जिस व्यक्ति का पानी से संचालित होने वाला घराट हुआ करता था उसे गांव के आर्थिक रूप से समृद्धशाली लोगों में गिना भी जाता था.

अब पलायन की मार ऐसी पड़ी कि पौड़ी जनपद में वर्ष 2011 के बाद सड़क सुविधा, बिजली, स्वास्थ्य सुविधा आदि के अभाव में करीब 33 गांव निर्जन हो गए.

यह भी पढ़ें -  Ind Vs Eng 1 Test: पहले दिन का खेल खत्म, टीम इंडिया का स्कोर 21/0-रोहित-राहुल क्रीज पर

इस सब के बीच जनपद के विभिन्न क्षेत्रों से 25,584 व्यक्ति पूर्णकालिक तौर पर पलायन कर गए. जाहिर सी बात है कि पलायन की मार से घराटों पर बुरा असर पड़ा होगा.

चकबंदी आंदोलन के प्रणेता गणेश गरीब बताते हैं कि पहले गांवों में घराट एक पहचान हुआ करती थी.

यह भी पढ़ें -  यूपी-असम के बाद अब धामी सरकार उत्तराखंड में जनसंख्या नियंत्रण कानून लाने की तैयारी में
यह भी पढ़ें -  अब अल्मोड़ा से हल्द्वानी के बीच का सफर कुछ ही मिनटों में होगा पूरा, केंद्र ने दी हेली सेवा शुरू करने को अनुमति

खेत आबाद थे तो गेहूं पिसाई के चलते ग्रामीणों का सीधा लगाव घराटों से हुआ करता था, लेकिन अभी तक की सरकारों ने न तो घराटों की सुध ली और ना ही घराट स्वामियों की.

ऐसे में हश्र यह हुआ कि पलायन के साथ-साथ घराटों का वजूद भी खतरे में पड़ने लगा.

सामाजिक कार्यकर्ता जगमोहन डांगी ने भी सरकार से पारंपरिक घराटों के संरक्षण की दिशा में प्रभावी कदम उठाने की मांग की है.


कैसे चलता है घराट

किसी खड्ड या नाले के किनारे कूहल के पानी की ग्रेविटी से घराट चलते हैं. यह आम तौर पर डेढ़ मंजिला घर की तरह होते हैं.

यह भी पढ़ें -  पठानकोट: रणजीत सागर झील में आर्मी का हेलिकॉप्टर क्रैश, पायलट और को-पायलट सेफ

ऊपर की मंजिल में बड़ी चट्टानों से काटकर बनाए पहिए लकड़ी या लोहे की फिरकियों पर पानी के बेग से घूमते हैं और चक्कियों में आटा पिसता है.


शुल्क में लेते हैं आटा
घराट में अनाज पीसने का शुल्क रुपये की बजाय हिस्सेदारी से लिया जाता है.

गेहूं, मडुवा, जौं आदि की मात्रा के अनुसार घराट मालिक का भाग होता है.

अनाज पीसने के बाद लोग उसके हिस्से का अनाज घराट पर छोड़ देते हैं.

इससे जहां घराट मालिक को रोजी रोटी मिलती है, वहीं आपसी सद्भाव भी बढ़ता है.

साभार-जागरण

यह भी पढ़ें -  लालू प्रसाद यादव ने दिया सक्रिय राजनीति में लौटने का इशारा, 2024 के लिए दिए ये बड़े संकेत

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,045FollowersFollow
474SubscribersSubscribe
--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

Ind Vs Eng 1 Test: पहले दिन का खेल खत्म, टीम इंडिया का स्कोर...

नॉटिंघम|....बुधवार को टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच पांच टेस्ट मैचों की सीरीज का पहला मुकाबला खेला जा रहा है. दोनों टीमें नॉटिंघम...

यूपी चुनाव से पहले ओम प्रकाश राजभर की ‘ब्लैकमेलिंग’ से नतमस्तक भाजपा

उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आते जा रहे हैं भाजपा, सपा, कांग्रेस और बसपा सियासी पिच पर अपनी 'बिसात' बिछाने में लगी हुई...

शर्तें लागू: राजभर ने एनडीए में लौटने के लिए भाजपा के सामने रख दी...

आखिरकार दो साल बाद भाजपा और ओमप्रकाश राजभर करीबी देखने को मिली. बता दें कि इसकी शुरुआत मंगलवार सुबह यूपी की राजधानी लखनऊ से...

सड़क पर भिड़े: कृषि बिल पर संसद के बाहर कांग्रेस-अकाली दल की सांसद के...

मानसून सत्र के दौरान संसद भवन में जारी हंगामे और शोर-शराबे का असर अब बाहर भी दिखने लगा है. जहां संसद के अंदर कांग्रेस...

राकेश टिकैत ने किसानों के साथ किया धोखा, आंदोलन में पड़ी दरार!

किसान आंदोलन के नाम पर आठ महीने से दिल्ली की सीमाओं पर आंदोलन चल रहा है. अब इस आंदोलन में बड़ी दरार पड़ गई...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 37 नए कोरोना संक्रमित, जानें अपने जिले का...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 37 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि 42 मरीजों को ठीक होने...

सीएम धामी ने किया उत्तराखण्ड भूकम्प एलर्ट एप लांच, ऐसा एप बनाने वाला उत्तराखण्ड...

बुधवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में मोबाइल एप्लीकेशन ‘‘ उत्तराखण्ड भूकंप अलर्ट’’ एप का शुभारम्भ किया. उत्तराखण्ड राज्य आपदा प्रबंधन प्राधिकरण,...

श्री राम मंदिर के निर्माण कार्य को शुरू हुए 1 साल पूरा, जानें कब...

पिछले साल 5 अगस्त को प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने अयोध्या में राम मंदिर के निर्माण हेतु भूमिपूजन किया था. इसके पश्चात निर्माण का कार्य...

Tokyo Olympics: भारतीय महिला हॉकी टीम सेमीफाइनल हारी, पर मेडल की उम्मीद अब भी...

टोक्‍यो|.... भारतीय महिला हॉकी टीम बुधवार को टोक्‍यो ओलंपिक्‍स में सेमीफाइनल मुकाबले में अर्जेंटीना से पार नहीं पा सकी. भारत को अर्जेंटीना के हाथों...

अब अल्मोड़ा से हल्द्वानी के बीच का सफर कुछ ही मिनटों में होगा पूरा,...

अब अल्मोड़ा से हल्द्वानी के बीच का सफर कुछ ही मिनटों में पूरा हो जाएगा. केंद्र सरकार ने अल्मोड़ा-हल्द्वानी-पिथौरागढ़ हेली सेवा शुरू करने को...