वर्ल्ड रेबीज डे विशेष: रेबीज भी खतरनाक वायरस, इसकी अनदेखी पड़ सकती है भारी

28 सितंबर को पूरी दुनिया एक खतरनाक वायरस को दिवस के रूप में मनाती है.

पिछले कई महीनों से भारत ही नहीं समूचा विश्व कोविड-19 खतरनाक वायरस से जूझ रहा है.

ऐसे में हमें सभी वायरसों से अपने आप को बचाना है. आज हम बात करेंगे एक ऐसे ही खतरनाक वायरस ‘रेबीज’ की.

जी हां आज वर्ल्ड रेबीज डे है. आमतौर पर यह रेबीज जानवरों के काटने से फैलता है.

अधिकांश लोगों का मानना है कि यह कुत्तों के काटने से मनुष्य के शरीर में प्रवेश करता है.

लेकिन हम आपको बता दें कि कुत्तों के अलावा भी कई ऐसे जानवर है जिनके अंदर रेबीज होता है जैसे बिल्ली, बंदर, लंगूर आदि मनुष्य को काट ले तो जानलेवा हो जाता है.

लेकिन यह सच है कि इंसानों में रेबीज के कारण मौत और बीमारी से जुड़े 96 फीसद मामले कुत्तों के काटने की वजह से होते हैं.

यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 304 संक्रमित, कुल संक्रमितों का आंकड़ा 61 हजार के पार

वर्ल्ड रेबीज डे मनाने का उद्देश्य इसकी रोकथाम और लोगों में जागरूकता बढ़ाना है.

डब्ल्यूएचओ के अनुसार, अफ्रीका और एशिया में होने वाले 95 प्रतिशत मामलों में रेबीज के कारण सालाना 150 से अधिक देशों में 59000 मानव मौतें होती हैं.

रेबीज एक घातक वायरस है जो संक्रमित जानवरों की लार से फैलता है.

रेबीज दरअसल एक वायरल इंफेक्शन है जो आमतौर पर इंफेक्टेड जानवरों के काटने से फैलता है.

यह पालतू जानवरों के चाटने, उनके लार के खून के संपर्क में आने से भी फैलता है.

जरूरी बात यह कि इस जानलेवा बीमारी के लक्षण काफी देर में नजर आते हैं.

यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में एक्टिव केस चार हजार से कम, 24 घंटे में मिले 213 नये मामले
यह भी पढ़ें -  राशिफल 29-10-2020: लाभदायी है आज का दिन, जानें क्या लाया है आप के लिए

जानवर के काटने का हल्का सा भी निशान है तो एंटी रेबीज इंजेक्शन जरूर लगवाना चाहिेए. इस मामले में लापरवाही ठीक नहीं.

यदि समय रहते इलाज न किया जाए या फिर इलाज में देर हो जाए तो ये जानलेवा साबित हो जाता है.

यह संक्रमण केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क पर हमला करता है
आमतौर पर जानवरों के काटने के बाद लक्षण दिखने के लिए 4 से 12 सप्ताह लगते हैं.

काटने और लक्षणों की शुरुआत के बीच की अवधि को ऊष्मायन अवधि के रूप में वर्णित किया गया है. शुरुआती लक्षण फ्लू के समान हो सकते हैं.

भारत में रेबीज के काफी ज्यादा मामले सामने आते हैं और यह आंकड़ा पूरे विश्व का 36 फीसद है. ये कुछ दिनों तक रह सकते हैं.

यह भी पढ़ें -  अल्मोड़ा: सल्ट के विधायक सुरेंद्र सिंह जीना की पत्नी का दिल का दौरा पड़ने से निधन, सीएम ने जताया शोक

ये हैं रेबीज के लक्षण, रेबीज रोगियों में सिरदर्द, घबराहट, बुखार, बेचैनी, चिंता, भोजन निगलने में परेशानी, भ्रम की स्थिति, ज्यादा लार निकलना, अनिद्रा, पानी से डर, अंग में लकवा मार जाना आदि हैं.

बता दें कि रेबीज एक बेहद घातक वायरस है जो इंसानों और जानवरों को संक्रमित करता है.

यह संक्रमण केंद्रीय तंत्रिका तंत्र और मस्तिष्क पर हमला करता है, और अगर इसके लक्षण दिखने शुरू हो जाएं तो यह घातक हो सकता है.

घबराने की जरूरत नहीं है, अगर आप समय पर सही कदम उठाएंगे तो इस बीमारी को रोका जा सकता है.

सरकारी अस्पतालों में रेबीज के इंजेक्शन निशुल्क लगाए जाते हैं.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार




यह भी पढ़ें -  नैनीताल हाईकोर्ट ने रावत सरकार को दिया बड़ा झटका, दिए सीएम पर आरोपों के मामले में सीबीआई जांच के आदेश

Related Articles

अखिलेश पर बरसी मायावती, बोलीं- मुलायम के बाद अखिलेश की भी होगी बुरी गति, सपा को हराने के लिए किसी को भी सपॉर्ट

गुरुवार को बहुजन समाज पार्टी(बसपा) सुप्रीमो मायावती ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने...

1 नवंबर से बदल जाएंगे आपके पैसों से जुड़े ये 7 नियम

नई दिल्ली| 1 नवंबर 2020 से देशभर में कई नए नियम लागू होने जा रहे हैं, ज‍िसका सीधा असर आपकी जिंदगी पर...

नहीं रहे गुजरात के पूर्व सीएम केशुभाई पटेल, 92 साल में ली अंतिम सांस

अहमदबाद| गुजरात के पूर्व मुख्‍यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन हो गया है. वह 92 वर्ष के थे. सांस लेने में तकलीफ की...

Stay Connected

57,055FansLike
2,837FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

- Advertisement -

Latest Articles

अखिलेश पर बरसी मायावती, बोलीं- मुलायम के बाद अखिलेश की भी होगी बुरी गति,...

गुरुवार को बहुजन समाज पार्टी(बसपा) सुप्रीमो मायावती ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि लोकसभा चुनाव के दौरान सांप्रदायिक ताकतों से लड़ने...

1 नवंबर से बदल जाएंगे आपके पैसों से जुड़े ये 7 नियम

नई दिल्ली| 1 नवंबर 2020 से देशभर में कई नए नियम लागू होने जा रहे हैं, ज‍िसका सीधा असर आपकी जिंदगी पर...

नहीं रहे गुजरात के पूर्व सीएम केशुभाई पटेल, 92 साल में ली अंतिम सांस

अहमदबाद| गुजरात के पूर्व मुख्‍यमंत्री केशुभाई पटेल का निधन हो गया है. वह 92 वर्ष के थे. सांस लेने में तकलीफ की...

‘जब तक दवाई नहीं, तब तक ढिलाई नहीं‘‘ का किया जाए व्यापक प्रचार प्रसारः...

बुधवार को मुख्य सचिव ओम प्रकाश ने सचिवालय में कोविड-19 की रोकथाम हेतु किये जा रहे प्रयासों के सम्बन्ध में बैठक की....

राशिफल 29-10-2020: लाभदायी है आज का दिन, जानें क्या लाया है आप के लिए

मेष-: मेहनत का फल मिलेगा. कम समय में अधिक लाभ पाने के विचार में आप फंस न जाएं इसका ध्यान रखें. कोर्ट-कचहरी...

29 अक्टूबर 2020 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 29 अक्टूबर 2020 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 304 संक्रमित, कुल संक्रमितों का आंकड़ा...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में कोरोना के 304 संक्रमित मरीज मिले हैं. कुल संक्रमितों का आंकड़ा 61 हजार पार हो गया...

दिल्ली विश्वविद्यालय के कुलपति योगेश त्यागी निलंबित, राष्ट्रपति ने दिए जांच के आदेश

नई दिल्ली| राष्ट्रपति रामनाथ कोविंद ने दिल्ली विश्वविद्यालय के विजिटर के रूप में अपनी शक्तियों का इस्तेमाल करते हुए कुलपति...

केंद्रीय मंत्री स्मृति ईरानी कोरोना भी आई कोरोना की चपेट, ट्वीट कर दी जानकारी

देश दुनिया में कोरोना केसों की मार बढ़ती ही जा रही है, भारत में भी इसका प्रसार बढ़ता ही जा रहा है...

सी प्लेन की सौगात- महज 1500 रुपये में कर पायेंगे सी-प्लेन से सफर,जानें कैसे

स्पाइसजेट भारत के लोगों के लिए देश की पहलाी सी प्लेन यात्रा की शुरूआत करने जा रही है, लोग इसको लेकर...