वैश्विक भूख सूचकांक में भारत 94वें स्थान पर, पाकिस्तान- नेपाल से भी पिछड़ा

नई दिल्ली| भारत वैश्विक भूख सूचकांक 2020 में 107 देशों की सूची में 94 वें स्थान पर है और भूख की ‘गंभीर’ श्रेणी में है. विशेषज्ञों ने इसके लिए खराब कार्यान्वयन प्रक्रियाओं, प्रभावी निगरानी की कमी, कुपोषण से निपटने का उदासीन दृष्टिकोण और बड़े राज्यों के खराब प्रदर्शन को दोषी ठहराया.

पिछले साल 117 देशों की सूची में भारत का स्थान 102 था. वहीं पड़ोसी बांग्लादेश, म्यांमार और पाकिस्तान भी ‘गंभीर’ श्रेणी में हैं, लेकिन इस साल के भूख सूचकांक में भारत से ऊपर हैं.

बांग्लादेश 75 वें, म्यांमार 78 वें और पाकिस्तान 88 वें स्थान पर हैं. रिपोर्ट के अनुसार, नेपाल 73वें और श्रीलंका 64वें स्थान पर हैं. दोनों देश ‘मध्यम’ श्रेणी में आते हैं.

उधर चीन, बेलारूस, यूक्रेन, तुर्की, क्यूबा और कुवैत सहित 17 देश भूख और कुपोषण पर नजर रखने वाले वैश्विक भूख सूचकांक (जीएचआई) में शीर्ष रैंक पर हैं.

जीएचआई की वेबसाइट पर शुक्रवार को यह जानकारी दी गई है. रिपोर्ट के अनुसार भारत की 14 फीसदी आबादी कुपोषण की शिकार है.

रिपोर्ट में कहा गया है कि पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर 3.7 प्रतिशत थी. इसके अलावा ऐसे बच्चों की दर 37.4 थी जो कुपोषण के कारण नहीं बढ़ पाते.

बांग्लादेश, भारत, नेपाल और पाकिस्तान के लिए 1991 से अब तक के आंकड़ों से पता चलता है कि वैसे परिवारों में बच्चों के कद नहीं बढ़ पाने के मामले ज्यादा है जो विभिन्न प्रकार की कमी से पीड़ित हैं. इनमें पौष्टिक भोजन की कमी, मातृ शिक्षा का निम्न स्तर और गरीबी आदि शामिल हैं

इस अवधि के दौरान भारत में पांच साल से कम उम्र के बच्चों की मृत्यु दर में कमी दर्ज की गई. रिपोर्ट में कहा गया है कि समय से पहले जन्म और कम वजन के कारण बच्चों की मृत्यु दर विशेष रूप से गरीब राज्यों और ग्रामीण क्षेत्रों में बढ़ी है.

विशेषज्ञों का मानना ​​है कि खराब क्रियान्वयन प्रक्रिया, प्रभावी निगरानी की कमी और कुपोषण से निपटने के लिए दृष्टिकोण में समन्वय का अभाव अक्सर खराब पोषण सूचकांकों का कारण होते हैं.

अंतरराष्ट्रीय खाद्य नीति शोध संस्थान, नयी दिल्ली में वरिष्ठ शोधकर्ता पूर्णिमा मेनन ने कहा कि भारत की रैंकिंग में समग्र परिवर्तन के लिए उत्तर प्रदेश, बिहार और मध्य प्रदेश जैसे बड़े राज्यों के प्रदर्शन में सुधार की आवश्यकता है.

मेनन ने कहा अगर हम भारत में बदलाव चाहते हैं, तो हमें उत्तर प्रदेश, झारखंड, मध्य प्रदेश और बिहार में भी बदलाव की आवश्यकता होगी.

न्यूट्रीशन रिसर्च की प्रमुख श्वेता खंडेलवाल ने कहा कि देश में पोषण के लिए कई कार्यक्रम और नीतियां हैं लेकिन जमीनी हकीकत काफी निराशाजनक है.

यह भी पढ़ें -  सीएम पुष्कर सिंह धामी के तूफानी दौरे, त्वरित फैसले, कड़क मॉनिटरिंग से आपदा प्रभावितो को मिली राहत

उन्होंने महामारी के कारण अभाव की समस्या को कम करने के लिए कई उपाय सुझाए. उन्होंने कहा कि पौष्टिक, सुरक्षित और सस्ता आहार तक पहुंच को बढ़ावा देना, मातृ और बाल पोषण में सुधार लाने के लिए निवेश करना, बच्चे का वजन कम होने पर शुरुआती समय में पता लगाने और उपचार के साथ ही कमजोर बच्चों के लिए पौष्टिक और सुरक्षित भोजन महत्वपूर्ण हो सकते हैं.

मेनन ने कहा, ‘राष्ट्रीय औसत उत्तर प्रदेश और बिहार जैसे राज्यों से बहुत अधिक प्रभावित होता है… जिन राज्यों में वास्तव में कुपोषण अधिक है और वे देश की आबादी में खासा योगदान करते हैं.’ उन्होंने कहा, ‘भारत में पैदा होने वाला हर पांचवां बच्चा उत्तर प्रदेश में है.

यह भी पढ़ें -  Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले 8 नए संक्रमित, एक मरीज की मौत

इसलिए यदि उच्च आबादी वाले राज्य में कुपोषण का स्तर अधिक है तो यह भारत के औसत में बहुत योगदान देगा. स्पष्ट है कि तब भारत का औसत धीमी होगा.’


Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,108FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

57 के हुए गृहमत्री: भाजपा में कुशल प्रबंधन के साथ सियासी दांवपेच में भी...

0
मौजूदा राजनीति जगत में सबसे व्यस्त नेताओं में शुमार गृहमत्री अमित शाह आज 57 साल के हो गए हैं. भारतीय जनता पार्टी को हाल...

उत्तराखंड: आपदा में लापता लोगो के परिजनों से मुलाकात करने चमोली-पौड़ी दौरे पर सीएम...

0
आज मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी राज्य के पौड़ी और चमोली जिले के आपदाग्रस्त इलाकों के दौरे पर पहुंच गए हैं. सबसे पहले चमोली पहुंचकर...

चीन में हुई कोरोना की वापसी, फिर से लोग हुए घरों में कैद

0
चीन में एक बार फिर से कोरोना वायरस बेकाबू होने लगा है. महामारी का प्रकोप बढ़ने से सरकार ने कई फ्लाइटें रद्द कर दिए...

इन स्मार्ट फोन्स पर एक नवम्बर से नहीं चलेगा वॉट्सऐप, कही आप का फोन...

0
अगले महीने (नवम्बर) की एक तारीख से कुछ स्मार्टफोन्स पर वॉट्सऐप काम करना बंद कर देगा. यदि वॉट्सऐप काम करना बंद कर देता...

पढ़े पीएम मोदी के संबोधन की 10 बड़ी बातें

0
कोविड-19 के खिलाफ 100 करोड़ डोज का आंकड़ा छूने के मौके पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी देश के नाम संबोधन दे रहे हैं. उन्होंने इसे...

उत्तराखंड: आपदा में मृतकों की कुल संख्या पहुंची 69, अभी भी तलाश जारी

0
उत्तराखंड में 17 से 19 अक्तूबर तक हुई भारी बारिश से अभी तक नुक्सान देखने को मिल रहा है. आपदा में जान गंवाने वालो...

Covid 19: पिछले 24 घंटों में सामने आये 15,786 नए मामले, केरल बना चिंता...

0
भारत में वैश्विक महामारी की धीमी होती रफ्तार के बीच शुक्रवार को 15,786 नए मामलों का आंकड़ा दर्ज किया गया. इसका प्रमुख कारण केरल...

फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर की पाक के साथ बातचीत की वकालत, बोले-बातचीत...

0
जम्मू के पूर्व सीएम और नेशनल कॉन्फ्रेंस के नेता फारूक अब्दुल्ला ने एक बार फिर पाकिस्तान के साथ बातचीत की वकालत की है....

पेट्रोल-डीजल के दामों में फिर लगी आग, जानें आज का भाव

0
शुक्रवार को एक बार फिर सरकारी तेल कंपनियों ने पेट्रोल और डीजल की कीमतों में इजाफा कर दिया है. इस बढ़ोतरी के बाद सिर्फ...

एक बार फिर राष्ट्र को संबोधित करेंगे पीएम मोदी, आज 10 बजे देशवासियों से...

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी शुक्रवार को सुबह 10 बजे एक बार फिर देशवासियों को संबोधित करेंगे. प्रधानमंत्री कार्यालय की तरफ से ट्वीट कर इस...