हैलो उत्तराखंड!

स्वस्थ जीना है तो गेहूं छोड़ो!

अमेरिका के एक हृदय रोग विशेषज्ञ हैं डॉ विलियम डेविस. 2011 में उन्होंने एक पुस्तक लिखी थी जिसका नाम था Wheat belly गेंहू की तौंद यह पुस्तक अब फूड हेबिट पर लिखी गई सर्वाधिक चर्चित पुस्तक बन गई है. पूरे अमेरिका में इन दिनों गेहूं को त्यागने का अभियान चल रहा है. कल यह अभियान यूरोप होते हुये भारत भी आएगा.यह पुस्तक ऑनलाइन भी उपलब्ध है और कोई फ़्री में पढ़ना चाहे तो भी मिल सकती है.

चौंकाने वाली बात यह है कि डॉ डेविस का कहना है कि पूरी दुनिया को अगर मोटापे, डायबिटिज और हृदय रोगों से स्थाई मुक्ति चाहिए तो उन्हें पुराने भारतीयों की तरह मक्का, बाजरा, जौ, चना, ज्वार या इन सबका मिक्स (सामेल) अनाज ही खाना चाहिये गेंहू नहीं. जबकि यहां भारत का हाल यह है कि 1980 के बाद से लगातार सुबह शाम गेहूं खा खाकर हम मोटापे और डायबिटिज के मामले में दुनिया की राजधानी बन चुके हैं.

गेहूं मूलतः भारत की फसल नहीं है. यह मध्य एशिया और अमेरिका की फसल मानी जाती है. आक्रांता बाबर के भारत आने के साथ यह अनाज भारत आया था.उससे पहले भारत में जौ की रोटी बहुत लोकप्रिय थी. मौसम अनुसार मक्का, बाजरा, ज्वार आदि.भारतीयों के #मांगलिककार्यों में भी यज्ञवेदी या मन्दिरों में जौ अथवा चावल (अक्षत) ही चढ़ाए जाते रहे हैं. #प्राचीनग्रंथों में भी इन्हीं दोनों अनाजों का अधिकतम जगहों पर उल्लेख है.

ब्रह्मपुरी (जयपुर) निवासी प्रशासनिक अधिकारी की बेटी रही विजयकांता भट्ट (81 वर्षीय) अम्मा जी कहती हैं कि 1980-85 तक भी आम भारतीय घरों में #बेजड़ (मिक्स अनाज) की रोटी या जौ की रोटी का प्रचलन था जो धीरे धीरे खत्म हो गया. 1980 के पहले आम तौर पर घरों में मेहमान आने या दामाद के आने पर ही गेहूं की रोटी बनती थी और उस पर घी लगाया जाता था, अन्यथा जौ ही मुख्य अनाज था. आज घरवाले उसी बेजड़ की रोटी को चोखी धाणी में खाकर हजारों रुपए खर्च कर देते हैं.

हम अक्सर अपने ही परिवारों में बुजुर्गों के लम्बी दूरी पैदल चल सकने, तैरने, दौड़ने, सुदीर्घ जीने, स्वस्थ रहने के किस्से सुनते हैं. वे सब #मोटा_अनाज ही खाते थे, गेहूं नहीं. एक पीढ़ी पहले किसी का मोटा होना आश्चर्य की बात होती थी, आज 77 प्रतिशत भारतीय ओवरवेट हैं और यह तब है जब इतने ही प्रतिशत भारतीय कुपोषित भी हैं.फ़िर भी 35 पार का हर दूसरा भारतीय अपनी तोंद घटाना चाहता है.

गेंहू की लोच ही उसे आधुनिक भारत में लोकप्रिय बनाये हुये है क्योंकि इसकी रोटी कम समय और कम आग में आसानी से बन जाती है. पर यह अनाज उतनी #आसानीसेपचता_नहीं है. समय आ गया है कि भारतीयों को अपनी रसोई में 80-90 प्रतिशत अनाज जौ, ज्वार, बाजरे आदि को रखना चाहिये और 10-20 प्रतिशत गेंहू को.

हाल ही में कोरोना ने जिन एक लाख लोगों को भारत में लीला है उनमें से डायबिटीज वाले लोगों का प्रतिशत 70 के करीब है. #वाकईगेहूंत्यागनाहीपड़ेगा.

यह भी पढ़ें -  गॉल टेस्ट : इंग्लैंड 6 विकेट से जीता, सीरीज 2-0 से जीती

Related Articles

Stay Connected

58,026FansLike
2,849FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Latest Articles

चरमराई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए बजट 2021 में होंगे कई बड़े...

नई दिल्ली| भारत धीरे-धीरे कोविड-19 महामारी के प्रकोप बाहर निकल रहा है और इसको देखते हुए कि टीकाकरण अभियान पहले ही शुरू हो...

Kisan tractor Rally: किसानों के कब्जे में लाल किला, फहराए अपने संगठनों के झंडे

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे 41 किसान संगठनों का संयुक्त किसान मोर्चा ने आज (26 जनवरी 2021) ट्रैक्टर रैली...

भारत में लॉन्च हुआ FAU-G गेम, जानें फोन में डाउनलोड करने का तरीका- इसके...

FAU-G गेम आखिरकार भारत में लॉन्च हो गया है. बेसब्री से इंतज़ार हो रहे इस गेम को nCORE गेमिंग नाम की भारतीय कंपनी...

उत्तराखंड: बीजेपी मिशन 2022 में जुटी, जीत के लिए बनाया ये खास प्लान…

देहरादून| उत्तराखंड बीजेपी मिशन 2022 में जुट गई है. इस बार टारगेट 60 सीटों के साथ सत्ता में वापसी का है. पिछले विधानसभा चुनाव...

Tractor Parade: किसानों पर संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में छोड़ी आंसू गैस, गाजीपुर में...

दिल्ली पुलिस से इजाजत मिलने के बाद आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली में 'ट्रैक्टर परेड' निकाल...

Tractor Parade : किसानों ने गाजीपुर टोल पार किया, सिंघु और टिकरी बॉर्डर पर...

दिल्ली पुलिस से इजाजत मिलने के बाद आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली में 'ट्रैक्टर परेड' निकाल...

गणतंत्र दिवस परेड और किसान ट्रैक्टर मार्च पर दिल्ली में इन इलाकों पर ट्रैफिक...

गणतंत्र दिवस परेड और किसान ट्रैक्टर रैली के चलते नई दिल्ली व मध्य दिल्ली के कुछ मार्ग बंद रहें तो कुछ का मार्ग परिवर्तित...
फटाफट समाचार

फटाफट समाचार (26 -01 -2021) सुनिए आज के मुख्य समाचार

01 गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ पर होने वाली परेड में इस बार उत्तराखंड की झांकी 'केदारखंड' भी नजर आएगी। इस झांकी में...

राशिफल 26-01-2021: आज 26 जनवरी राशिनुसार कैसा रहेगा आपका दिन, जानिए

मेष-: आज मनचाहा जीवन साथी मिलने से आप प्रसन्न रहेंगे. पुराने वादे पूरे करने का समय है. अपनी निजी जिन्दगी में दूसरों को दखल...

26 जनवरी 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 26 जनवरी 2021 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...