डीडीसीए से नाराज बिशन सिंह बेदी ने कहा- ‘अरुण जेटली स्टेडियम के स्टैंड से मेरा नाम हटाएं’

टीम इंडिया के पूर्व कप्तान और बाएं हाथ के स्पिनर बिशन सिंह बेदी ने दिल्ली एवं जिला क्रिकेट संघ (डीडीसीए) से कहा है कि वह फिरोजशाह कोटला स्टेडियम के स्टैंड पर लगी पट्टिका से उनका नाम हटा दे. दो साल पहले ही कोटला स्टेडियम में एक स्टैंड का नाम बेदी के नाम पर रखा गया था. बेदी ने 70 के दशक में दिल्ली को दो बार रणजी ट्रॉफी खिताब दिलाया था. साथ ही उन्होंने डीडीसीए की सदस्यता छोड़ने का भी फैसला किया है.

स्टेडियम में लगेगी जेटली की प्रतिमा
बेदी का यह फैसला डीडीसीए के उस फैसले के बाद आया, जिसके मुताबिक, अरुण जेटली स्टेडियम में पूर्व डीडीसीए अध्यक्ष अरुण जेटली की प्रतिमा लगाई जाएगी. उनके बेटे रोहन जेटली इस समय डीडीसीए के अध्यक्ष हैं. उनके पिता की 68वीं वर्षगांठ पर उनकी प्रतिमा स्टेडियम में लगाई जाएगी. बेदी ने इसे एक कारण बताया है. इस स्टेडियम का नाम पहले फिरोज शाह कोटला स्टेडियम हुआ करता था, जिसे पिछले साल 24 अगस्त को अरुण जेटली के निधन के बाद उनके नाम पर कर दिया गया.

बेदी ने लिखा रोहन जेटली को पत्र
74 साल के बेदी ने डीडीसीए के मौजूदा अध्यक्ष रोहन जेटली को मंगलवार रात को पत्र लिखते हुए कहा है, “मुझे अपने आप पर गर्व है कि मैं काफी सहनशील और धैर्यवान हूं, लेकिन डीडीसीए जिस तरह से चल रही है, उसने मेरी परीक्षा ली है और इसी ने मुझे यह फैसला लेने को मजबूर किया है. इसलिए अध्यक्ष महोदय, मैं आपसे अपील करता हूं कि आप मेरा नाम स्टैंड पर से तत्काल प्रभाव से हटा दें. साथ ही मैं अपनी डीडीसीए की सदस्यता त्याग रहा हूं. मैंने यह फैसला जानबूझ कर लिया है.”

उन्होंने लिखा, “मुझे बताया गया है कि दिवंगत अरुण जेटली शानदार राजनेता थे. ऐसे में भावी पीढ़ी के लिए संसद को उन्हें याद रखना चाहिए न कि क्रिकेट स्टेडियम को. वह हो सकता है कि बहुत बड़े क्रिकेट प्रशंसक रहे हों, लेकिन क्रिकेट प्रशासन में उनका जुड़ाव संदिग्ध रहा है और काम काफी कुछ बचा रह गया है. यह एक ऐसे ही दिया गया बयान नहीं है, बल्कि डीडीसीए में उनके समय का तथ्यात्मक विश्लेषण है. मेरे शब्द याद रखिए, असफलताओं का ढिंढोरा नहीं पीटा जाता, उन्हें भुला दिया जाता है.”

रोहन के काम से खुश नहीं बेदी
बेदी, रोहन की अध्यक्षता में चल रहे डीडीसीए के काम से खुश नहीं हैं. अरुण जेटली के खिलाफ बेदी ने 1999 में अध्यक्ष पद का चुनाव लड़ा था. बेदी हार गए थे और फिर जेटली अगले 14 साल तक डीडीसीए के अध्यक्ष रहे. बेदी, जेटली के समय में डीडीसीए में व्याप्त भ्रष्टाचार से परेशान थे. बेदी ने रोहन को यह भी याद दिलाया कि स्टेडियम में मूर्तियां महान खिलाड़ियों की लगाई जाती हैं.

टीम इंडिया के पूर्व मैनेजर ने लिखा, “माननीय अध्यक्ष, अगर आप दुनियाभर के स्टेडियमों का दौरा करेंगे तो पता चलेगा कि कोटला मैदान में कितनी खामियां हैं और यह टेस्ट सेंटर के लिहाज से कितना पीछे है. आपको यह सीखना होगा कि खेल प्रशासक अपनी सेवाएं करवाने वाले नहीं होते हैं. जिन लोगों ने आपको घेर रखा है, वो आपको कभी नहीं बताएंगे कि लॉर्डस में डब्ल्यूजी ग्रेस की मूर्ति है, लंदन के द ओवल में सर जैक हॉब की मूर्ति है. सिडनी क्रिकेट ग्राउंड पर सर डॉन ब्रेडमैन की मूर्ति है, बारबाडोस में सर गारफील्ड सोबर्स की मूर्ति है और मेलबर्न क्रिकेट ग्राउंड में शेन वार्न की मूर्ति है.”

बेदी ने पत्र में लिखा, मेरी विरासत की चिंता न करें
बेदी ने लिखा, “इसलिए जब बच्चे इन स्टेडियमों में आते हैं तो उनके बड़े इन लोगों के बारे में जो कहानियां उन्हें सुनाते हैं, उससे बच्चों को प्ररेणा मिलती है. प्रशासक की जगह उसके ग्लास के केबिन में होती है.” उन्होंने लिखा, “मैं उस स्टेडियम का हिस्सा नहीं हो सकता, जिसकी प्राथमिकताएं ही अलग हैं और जहां प्रशासकों को क्रिकेटरों के ऊपर तरजीह दी जाती है. इसलिए तत्काल प्रभाव से मेरा नाम स्टैंड से हटा दीजिए. आपको मेरे और मेरी विरासत की चिंता करने की जरूरत नहीं है.” डीडीसीए के एक सीनियर अधिकारी ने कहा कि रोहन इस समय बीसीसीआई की एजीएम के लिए दिल्ली से बाहर हैं और वापस अकर वह बेदी के घर पर जाकर उनसे मिलकर बात करेंगे.

बेदी से मिलने आएंगे रोहन
डीडीसीए के अधिकारी ने कहा, “हमारे अध्यक्ष बेदी से समय लेंगे और उनसे मुलाकात करेंगे और उन्हें फैसला वापस लेने के लिए मनाने की कोशिश करेंगे. वह 25 दिसंबर को लौटेंगे और संभवत: अगले दिन बैठक हो सकती है. हम पूरी कोशिश करेंगे कि वह अपना फैसला वापस लें. स्टैंड का नाम रखा जाना और मूर्ति स्थापित करना दोनों अलग-अलग मुद्दे हैं. जनता बेदी को प्यार करती है और उनके खेल को सराहती है, इसलिए स्टैंड उनके नाम पर रखा गया है. जनता ने उन्हें स्टार बनाया है. इसलिए उन्हें जनता की भावनाओं की कद्र करनी चाहिए.”

सीनियर चयन समिति का चयन
बेदी की नाराजगी का संभवत: एक और कारण 2020-21 सीजन में दिल्ली की सीनियर चयन समिति का चयन भी हो सकता है. 60 साल की आयुसीमा के नियम ने दिल्ली और टीम इंडिया के पूर्व खिलाड़ी कीर्ति आजाद को चयनकर्ता बनने की दौड़ से बाहर कर दिया. 61 साल के आजाद बेदी के काफी करीबी माने जाते हैं.

आयु सीमा के नियम को देखते हुए आजाद चयनकर्ता पद के लिए अयोग्य हो गए थे. इसके बाद बेदी ने नेशनल कैपिटल टेरीटरी क्रिकेट संघ के अध्यक्ष के तौर पर डीडीसीए के लोकपाल बादर दुरेज को पत्र लिखा, जिसमें उन्होंने नियमों के गलत क्रियान्वयन का जिक्र किया. इस कारण आजाद को इंटरव्यू के लिए नहीं बुलाया गया. इसके बाद डीडीसीए ने आजाद से कथित तौर पर माफी मांगी. इस संबंध में लोकपाल का आदेश जल्दी आ सकता है.

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने की अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा

साभार-जी न्यूज़

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,109FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी की फ्लाइट में कुछ इस प्रकार हुई मुलाकात

0
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव, यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी की आज एक फ्लाइट में अचानक मुलाकात हुई....

सीएम धामी ने की अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने राज्य में अक्तूबर...

…तो इस कारण नरसिम्हा राव सरकार नहीं लाई नेताजी की अस्थियां, हुआ बड़ा खुलासा

0
पीवी नरसिम्हा राव सरकार 1990 के दशक में जापान से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां भारत लाने के करीब पहुंच गई थी,...

Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले  12 नए मामले, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण काबू में आ गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत...

लौटे गृह राज्य: आलाकमान ने सुनी फरियाद, पंजाब प्रभारी पद से हरीश रावत मुक्त...

0
पंजाब की सियासत में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच घमासान में फंसे पूर्व मुख्यमंत्री...

टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द टेस्ट मैच का आया नया शेड्यूल, जानें...

0
टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द हुए सीरीज के 5वें टेस्ट मैच (IND vs ENG) को अगले साल जुलाई महीने के लिए शेड्यूल...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की चुनावी प्रतिज्ञा के अनुसार कल से शुरू होगी यूपी...

0
यूपी विधानसभा चुनाव लिए कांग्रेस पार्टी प्रदेश भर में 23 अक्तूबर से प्रतिज्ञा यात्रा निकालेगी. इसके लिए सभी तैयारिया पूरी हो चुकी है. पूरे...

सत्यपाल मलिक ने किया बड़ा खुलासा: “अंबानी से जुड़ी फाइल पास करने के लिए...

0
जम्मू-कश्मीर के पूर्व गवर्नर एवं मौजूदा मेघालय के उप राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बड़ा खुलासा किया है. सत्यपाल मलिक नें दावा किया है...

बिगड़ा बजट: फिलहाल राहत नहीं, अभी पेट्रोल-डीजल के दामों में और हो सकती है...

0
यह भी कहा जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 90 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकता है. ऐसे में...

देहरादून: डिफेन्स कॉलोनी में हुआ अनोखी रामलीला का मंचन, बच्चों ने निभाए सभी पात्र

0
उत्तराखंड में बुराई खत्म करने का प्रतीकात्मक पर्व विजय दशमी पर्व धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. राजधानी दून के कई जगहों में दशहरे मेले...