ट्रंप ने कभी नहीं होगी सोची इस तरह अपनी विदाई, जाते-जाते करा गए अपनी किरकिरी

वाशिंगटन|… अमेरिकी संसद (यूएस कैपिटल) में सात जनवरी (गुरुवार) को जो कुछ हुआ उसने अमेरिका की ऐसी तस्वीर पेश की जिसके लिए उसे जाना नहीं जाता है. दुनिया का सबसे पुराने लोकतंत्र गुरुवार की हिंसा, उत्पात, आगजनी एवं उपद्रव से शर्मसार हो गया.

फसाद करने पर उतारू ट्रंप समर्थकों को शांत करने और दोनों इमारतों को सुरक्षित करने में नेशनल सेक्युरिटी गार्ड को कम से कम चार घंटे का समय लगा. संसद के दोनों सदनों को बंधक बनाने और विद्रोह करने पर उतारू उन्मादित भीड़ ने जो दुनिया के लिए संदेश दिया वह कहीं से भी अमेरिका के हित में नहीं है.

चुनाव हारने के बाद जिस तरह से ट्रंप का रवैया था उससे अंदेशा लग रहा था कि 20 जनवरी से पहले अमेरिका में कुछ बड़ा हो सकता है. ट्रंप के ‘उजड्ड’ समर्थक हिंसा और उत्पात मचा सकते हैं. इस अंदेशा में सड़कों पर सुरक्षा व्यवस्था बढ़ाई गई थी लेकिन हजारों समर्थक संसद भवन पर धावा बोल देंगे, इसका अंदाजा किसी को नहीं था.

यह भी पढ़ें -  लौटा मानसून: संडे सुबह लोगों का बारिश से हुआ 'सामना', कई राज्यों में तीन दिनों तक बिगड़ा मौसम का मूड

ट्रंप समर्थकों ने जो उत्पात मचाया उसे पूरी दुनिया ने देखा है. इस घटना पर खुद रिपब्लिकन पार्टी के नेता शर्मसार हैं. डेमोक्रेट नेताओं ने इसे अमेरिका इतिहास का ‘काला दिन’ बताया है. कुल मिलाकर ह्वाइस हाउस छोड़ते-छोड़ते ट्रंप ने अपनी किरकिरी करा ली है.

साल 2015 में रिपब्लिन पार्टी की तरफ से राष्ट्रपति पद के लिए ट्रंप की उम्मीदवारी जब पक्की हुई तभी से उनकी राजनीतिक सोच एवं अगंभीरता को लेकर सवाल उठने लगे. राजनीतिक विश्लेषकों ने शुरू से ही ट्रंप के नेतृत्व पर संदेह जताया. अपने चुनाव प्रचार एवं उसके बाद ट्रंप ने अपने विभाजनकारी एजेंडे को आगे बढ़ाया. ट्रंप में सबको साथ लेकर चलने की सोच का अभाव दिखा. ऐसे कई मौके आए जब उन्होंने नस्लीय एवं संकीर्ण सोच का परिचय दिया. अमेरिका के स्वाभाविक चरित्र के विरूद्ध वह कार्य करते दिखे

यह भी पढ़ें -  अंत्योदय की भावना के साथ काम कर रही सरकारः सीएम धामी
यह भी पढ़ें -  जम्मू-कश्मीर: दो पुलिस कांस्टेबल की हत्या में शामिल लश्कर का मोस्ट वाटेंड आतंकवादी मुश्ताक खांडे ढेर

इस घटना से यह बात साबित हुई कि जीवंत लोकतंत्र एवं मानवाधिकारों के उत्कर्ष का दंभ भरने वाला अमेरिका अंदर से उतना ही कमजोर और खोखला है जितना कि अन्य देश.

गुरुवार की घटना के पीछे और कोई नहीं बल्कि दुनिया और अमेरिका के सबसे शक्तिशाली व्यक्ति राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रंप थे जिनके उन्मादित भाषणों ने उनके समर्थकों को उकसाया और कैपिटल पर धावा बोलने के लिए भड़काया. इस घटना के बाद ट्रंप ने भले ही अफसोस जताते हुए सत्ता के शांतिपूर्ण हस्तांतरण और अमेरिका को फिर से महान बनाने की अपनी बात दोहराई हो लेकिन उनके ‘बड़बोलेपन’ जितना नुकसान करना था कर दिया.

यह भी पढ़ें -  नारायण दत्त तिवारी के नाम से जाना जाएगा पंतनगर इंडस्ट्रियल स्टेट, सीएम धामी ने की घोषणा

बहरहाल, ट्रंप 20 जनवरी को जो बिडेन को सत्ता सौंपने के लिए तैयार हो गए हैं. इस बीच, राष्ट्रपति पद से उन्हें हटाने के लिए महाभियोग और 25वें संशोधन के इस्तेमाल की मांग ने जोर पकड़ ली है.

हालांकि, अपने वीडियो संदेश में हिंसा के लिए अफसोस जताकर उन्होंने अपने खिलाफ नेताओं एवं जनता के गुस्से को शांत करने का प्रयास किया है.

अमेरिकी संसद यदि ट्रंप के खिलाफ महाभियोग लाती है या 25वें संशोधन का इस्तेमाल किया जाता है तो अमेरिकी इतिहास में इस तरह का यह पहला मामला होगा. खुद ट्रंप ने अपनी विदाई इस तरह से कभी सोची नहीं होगी.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी, 18 अक्टूबर को सभी जिलों के स्कूल-आंगनबाड़ी केंद्र रहेंगे बंद

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,082FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

नारायण दत्त तिवारी के नाम से जाना जाएगा पंतनगर इंडस्ट्रियल स्टेट, सीएम धामी...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पंतनगर में स्थित औद्योगिक क्षेत्र (इंडस्ट्रियल स्टेट) का नाम पूर्व मुख्यमंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी जी के नाम पर...

कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने बिहार के तीन लोगों को मारी गोली, दो...

जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों से आतंकवादियों की घटना तेजी के साथ बढ़ती जा रही है. ये आतंकी बाहरी राज्यों के मजदूरों को निशाना बनाने...

अयोध्या से लौटने पर सीएम धामी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि...

उत्तर प्रदेश के अयोध्या दौरे से लौटे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रविवार को जम्मू कश्मीर में पिछले दिनों शहीद...

उत्तराखण्ड पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने...

उत्तराखण्ड राज्य, पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने वाला राज्य बन गया है. मीडिया सेंटर सचिवालय में...

उत्तराखंड: दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी, 18 अक्टूबर को सभी जिलों...

मौसम विभाग ने उत्तराखंड में दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. इसे देखते हुए एहतियातन प्रदेश के सभी जिलों...

आसान नहीं होगी सोनिया की अगुवाई में कांग्रेस की राह, सामने है ये चुनौतियां

शनिवार को (16अक्टूबर ) सोनिया गांधी ने हुई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बेहद अहम बैठक में इस बात पर खासा जोर दिया...

बीसीसीआई ने हेड कोच सहित 5 पदों के लिए निकाला विज्ञापन

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को मुख्य कोच बनने के लिये मनाने के दो दिन बाद बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) ने लोढा समिति की...

गूगल ने किया किस बारे में खुलासा जो है खतरे की घंटी, आप भी...

गूगल की एक रिपोर्ट का कहना है कि रैंसमवेयर की मुसीबत झेल रहे दुनिया के 140 देशों की लिस्ट में भारत छठवें नंबर...

पश्चिम बंगाल: दुर्गापुर में ‘दुर्गा प्रतिमा विसर्जन’ से लौट रही भीड़...

शनिवार रात पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में 'दुर्गा प्रतिमा विसर्जन' से लौट रही भीड़ पर कुछ लोगों ने देशी बम...

सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी, इन 13 मुद्दों का किया जिक्र

एक बार फिर पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने चिट्ठी लिखी है. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को चार पेज की...