हैलो उत्तराखंड!

नेपाल: प्रचंड ने लगाया पीएम ओली पर भारत के इशारे पर काम करने का आरोप

काठमांडू|… इन दिनों नेपाल में राजनीतिक अस्थिरता का दौर चल रहा है. नेपाल पर अब चीन की हर चाल नाकामयाब हो रही हैं. नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी में जारी विवाद को चीन ने सुलझाने की कोशिश खूब की थी लेकिन चीन असफल रहा.

सत्तारूढ़ कम्युनिस्ट पार्टी के दोनों बड़े नेताओं केपी ओली और पुष्प कमल दहल प्रचंड के बीच आई दूरियों की वजह से नेपाल में आई राजनीतिक अस्थिरता के बीच अब प्रचंड ने पीएम ओली पर बड़ा आरोप लगाया है.

नेपाल के कम्युनिस्ट पार्टी (एनसीपी) एक धड़े के अध्यक्ष पुष्प कमल दहल ‘प्रचंड’ ने बुधवार को प्रधानमंत्री के पी शर्मा ओली पर भारत के इशारे पर सत्तारूढ़ दल को विभाजित और संसद को भंग करने का आरोप लगाया.

यह भी पढ़ें -  लाल किले पर झंडा मामले को लेकर भड़के नेता, शशि थरूर से लेकर संजय राउत ने जताया विरोध

पूर्व प्रधानमंत्री प्रचंड ने कहा, ‘(लेकिन) अब क्या ओली ने भारत के निर्देश पर पार्टी को विभाजित कर दिया और प्रतिनिधि सभा को भंग कर दिया?’ उन्होंने कहा कि सच नेपाल की जनता के सामने आ गया.

पीटीआई के अनुसार, प्रचंड ने आरोप लगाया, ‘ओली ने भारत की खुफिया शाखा रॉ के प्रमुख सामंत गोयल के बालुवतार में अपने निवास पर किसी भी तीसरे व्यक्ति की गैरमौजूदगी में तीन घंटे तक बैठक की जो स्पष्ट रूप से ओली की मंशा दर्शाता है.’

यह भी पढ़ें -  26 जनवरी 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार
यह भी पढ़ें -  अगले महीने बंद होने जा रहा है द कपिल शर्मा शो! फैंस के टूटेंगे दिल, जानें वजह

उन्होंने प्रधानमंत्री पर बाहरी ताकतों की गलत सलाह लेने का आरोप लगाया. प्रचंड ने कहा कि प्रतिनिधि सभा को भंग करके ओली ने संविधान एवं लोकतांत्रिक व्यवस्था को एक झटका दिया जिसे लोगों के सात दशक के संघर्ष के बाद स्थापित किया गया था.

दरअसल जैसे ही नेपाल की संसद भंग की गई तो चीन भी हैरान रह गया था क्योंकि चीन का इन दिनों नेपाल में काफी दखल बढ़ गया था. चीन के लिए यह किसी झटके से कम नहीं था वो भी ऐसे समय जब उसने नेपाल में निवेश के साथ-साथ उसके कुछ हिस्से पर कब्जा भी कर लिया है.

नेपाल कम्युनिस्ट पार्टी के विभाजन को रोकने तथा राजनीतिक अस्थिरता दूर करने के लिए चीन के राष्ट्रपति शी जिनपिंग ने नेपाल में एक उच्च स्तरीय प्रतिनिधिमंडल को भेजा जिसने नेपाल के राष्ट्रपति, प्रधानमंत्री, स्पीकर सहित पार्टी के सभी शीर्ष नेताओं से मुलाकात थी लेकिन कहीं से भी उसे सफलता नहीं मिल सकी थी.

जानकारी के लिए आप को बता कि पिछले साल 20 दिसंबर को नेपाल की राष्ट्रपति बिद्या देवी भंडारी ने ओली सरकार की सिफ़ारिश के बाद नेपाल की संसद को भंग कर दिया था और अप्रैल मध्यावधि चुनाव कराने की घोषणा की थी.

यह भी पढ़ें -  लोकतंत्र की सफलता के लिए आवश्यक है कि देश का प्रत्येक नागरिक अपने मत का प्रयोग करे: सीएस ओमप्रकाश
यह भी पढ़ें -  Kisan tractor Rally: दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में रात 12 बजे इंटरनेट बैन, हिंसा के बाद लिया फैसला

Related Articles

Stay Connected

58,023FansLike
2,849FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Latest Articles

रोम: इटली में सियासी उलटफेर, पीएम ग्यूसेप कोंते ने पद से दिया इस्तीफा

रोम|..... इटली के पीएम ग्यूसेप कोंते ने सीनेट में अपनी सरकार को गिराने से बचाने के बाद अपने गठबंधन के बाहर के सांसदों से...

गणतंत्र दिवस समारोह में उत्तराखण्ड राज्य की ओर से “केदारखंड” की झांकी की गई...

72वें गणतंत्र दिवस के अवसर पर राजपथ, नई दिल्ली में उत्तराखण्ड राज्य की ओर से “केदारखंड” की झांकी प्रदर्शित की गई. राजपथ पर...

अपने गणतंत्र दिवस और लोकतंत्र के महापर्व पर हम दुनिया के सामने मजाक बन...

नहीं-नहीं यह किसान नहीं हो सकते हैं. यह तो उपद्रवी थे. जिन्होंने हमारा गणतंत्र दिवस और लोकतंत्र को पूरे दुनिया के सामने शर्मसार कर...

लाल किले पर झंडा मामले को लेकर भड़के नेता, शशि थरूर से लेकर संजय...

दिल्ली में आज का दिन कई मायनों में याद रखा जाएगा, आज किसानों ने कृषि कानूनों के विरोध में ट्रैक्टर रैली का आयोजन किया...

Kisan tractor Rally: दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में रात 12 बजे इंटरनेट बैन,...

गणतंत्र दिवस के दिन किसानों के ट्रैक्टर मार्च में हिंसा के बाद दिल्ली-एनसीआर के कई इलाकों में इंटरनेट बैन कर दिया...

चरमराई अर्थव्यवस्था को पटरी पर लाने के लिए बजट 2021 में होंगे कई बड़े...

नई दिल्ली| भारत धीरे-धीरे कोविड-19 महामारी के प्रकोप बाहर निकल रहा है और इसको देखते हुए कि टीकाकरण अभियान पहले ही शुरू हो...

Kisan tractor Rally: किसानों के कब्जे में लाल किला, फहराए अपने संगठनों के झंडे

केंद्र के तीन नए कृषि कानूनों का विरोध कर रहे 41 किसान संगठनों का संयुक्त किसान मोर्चा ने आज (26 जनवरी 2021) ट्रैक्टर रैली...

भारत में लॉन्च हुआ FAU-G गेम, जानें फोन में डाउनलोड करने का तरीका- इसके...

FAU-G गेम आखिरकार भारत में लॉन्च हो गया है. बेसब्री से इंतज़ार हो रहे इस गेम को nCORE गेमिंग नाम की भारतीय कंपनी...

उत्तराखंड: बीजेपी मिशन 2022 में जुटी, जीत के लिए बनाया ये खास प्लान…

देहरादून| उत्तराखंड बीजेपी मिशन 2022 में जुट गई है. इस बार टारगेट 60 सीटों के साथ सत्ता में वापसी का है. पिछले विधानसभा चुनाव...

Tractor Parade: किसानों पर संजय गांधी ट्रांसपोर्ट नगर में छोड़ी आंसू गैस, गाजीपुर में...

दिल्ली पुलिस से इजाजत मिलने के बाद आज गणतंत्र दिवस के अवसर पर तीनों कृषि कानूनों के खिलाफ किसान दिल्ली में 'ट्रैक्टर परेड' निकाल...