हैलो उत्तराखंड!

याज्ञवल्क्य जयंती ​विशेष: जानिए महाज्ञानी महर्षि याज्ञवल्क्य के बारे में


प्राचीन ऋषियों में महर्षि याज्ञवल्क्य का जन्म फाल्गुन कृष्ण पक्ष की पंचमी तिथि को मिथिला नगरी के निवासी ब्रह्मरथ और सुनंदा के घर हुआ था. श्रीमद्भागवत के मुताबिक, इनका जन्म देवराज के पुत्र के रूप में हुआ था. वही सात वर्षों में याज्ञवल्क्य ने अपने मामा वैशंपायन से शिक्षा ग्रहण कर वेद की सभी ऋचाएं कंठस्थ कर ली थी.

बाद में इन्होंने उद्धालक आरुणिक ऋषि से अध्यात्म तो ऋषि हिरण्यनाम से योगशास्त्र की शिक्षा प्राप्त की थी. इन्हीं के जन्म दिवस को याज्ञवल्क्य जयंती जयंती के रूप में प्रतिवर्ष मनाया जाता है.

इस वर्ष 18 मार्च 2021 को याज्ञवल्क्य जयंती मनाई जाएगी याज्ञवल्क्य जी को पुराणों में ब्रह्मा जी का अवतार माना गया है इस कारण इन्हें ब्रह्मर्षि कहा जाता है और श्रीमद्भागवत में उन्हें देवरात के पुत्र कहा गया है. भगवान सूर्य की प्रत्यक्ष कृपा से इन्हें ज्ञान की प्राप्ति हुई.

याज्ञवल्क्य जीवन वर्णन-:
याज्ञवल्क्य ऋषि वैशम्पायन के शिष्य थे तथा राजा जनक के कार्यों में एक सलाहकार एवं गुरू रूप में उनके साथ रहे याज्ञवल्क्य, को योगीश्वर याज्ञवल्क्य के नाम से भी जाना गया है. मैत्रेयी और गार्गी इनकी पत्नियाँ थी. वैदिक मन्त्र द्रष्टा तथा उपदेष्टा आचार्यों में ऋषि याज्ञवल्क्य का प्रमुख स्थान रहा है. याज्ञवल्क्य महर्षि वैशम्पायन के शिष्य थे.

एक बार गुरु वैशम्पायन जी से इनका विवाद हो जाता है जिस कारण गुरू उनसे अप्रसन्न हो उन्हें अपने शिष्य होने के पद से तथा अपने द्वारा दिए गए ज्ञान को वापस लौटाने के लिए कहते हैं. गुरू की आज्ञा सुनकर याज्ञवल्क्य ने अपने सारी विद्या को उगल दिया जिसे, वैशंपायन के अन्य शिष्यों ने तीतर बनकर चुग लिया यजुर्वेद की यही शाखा , तैत्तिरीय शाखा के नाम से विख्यात हुई थी.

ब्रह्मर्षि याज्ञवल्क्य जी गुरू का ज्ञान देकर ज्ञान रहित हो जाते हैं इसलिए पुन: ज्ञान की प्राप्ति हेतु वह सूर्य देव की उपासना करने लगते हैं तथा उनसे ज्ञान प्रदान करने की प्रार्थना करते हैं. सूर्यदेव, याज्ञवल्क्य की तपस्या से प्रसन्न होकर उन्हें दर्शन देते हैं तथा वरदान स्वरूप यजुर्वेद के गूढ़ मंत्रों का ज्ञान देते हैं.

सूर्य देव के वरदान स्वरूप ऋषि याज्ञवल्क्य शुक्ल यजुर्वेद या वाजसनेयी संहिता के आचार्य बनते हैं और

वाजसनेय के नाम से जाने जाते हैं. मध्य दिन के समय ज्ञान प्राप्त होने से ‘माध्यन्दिन’ शाखा का उदय हुआ एवं शुक्ल यजुर्वेद संहिता के मुख्य मन्त्र द्रष्टा ऋषि याज्ञवल्क्य हुए इस प्रकार शुक्ल यजुर्वेद हमें ऋर्षि याज्ञवल्क्य जी द्वारा प्राप्त हुआ है.

ब्रह्मर्षि याज्ञवल्क्य द्वारा रचित ग्रंथ-:

याज्ञवल्क्य जी द्वारा रचित ग्रंथों की श्रेणी में सर्वप्रथम ग्रंथ शुक्ल यजुर्वेद संहिता प्राप्त होता है इसके 40 अध्यायों में पद्यात्मक मंत्र तथा गद्यात्मक यजुर्वेद भाग का संग्रह है अधिकांश लोग इस वेद शाखा से ही संबद्ध हैं.

ऋषि याज्ञवल्क्य जी द्वारा रचित अन्य महत्वपूर्ण ग्रंथ शतपथ ब्राह्मण की रचना है. इस ग्रंथ में दर्श, पौर्णमास इष्टियों का वर्णन है, पशुबंध, सोमयज्ञों का वर्णन है,

बृहदारणयकोपनिषद भी महर्षि याज्ञवल्क्य द्वारा ही हमें प्राप्त हुआ है. याज्ञवल्क्य, वैशंपायन, शाकटायन आदि की परंपरा में हुए, याज्ञवल्क्य स्मृति प्रसिद्ध है, मनुस्मृति के उपरांत इन्हीं की स्मृति का महत्व है. इन ग्रंथों के द्वारा याज्ञवल्क्य का महान व्यक्तित्व प्रतिष्ठित होता है, ऋषि याज्ञवल्क्य एक तेजस्वी युग दार्शनिक थे.

याज्ञवल्क्य जयंती महत्व
ब्रह्मर्षि याज्ञवल्क्य जयंती के अवसर पर पूरे भारतवर्ष में प्रार्थना, पूजा एवं सभाओं क आयोजन किया जाता है. साथ ही में उनके द्वारा रचित ग्रंथों का पाठ एवं वर्णन होता है, इनके समस्त गुणों एवं उपदेशों को अपनाकर सभी अपना मार्ग दर्शन पाते हैं. इनके द्वारा रचित ग्रंथों में उनके विज्ञ का बोध होता है वैदिक साहित्य में शुक्ल यजुर्वेद की वाजसनेयी शाखा के वह दृष्टा हुए.

यह भी पढ़ें -  असम में तीन विधानसभा सीटों के 4 पोलिंग बूथ पर 20 अप्रैल को होगा दोबारा मतदान
यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड के कई जिलों में 12वीं तक के स्कूल 30 अप्रैल तक बंद, जानिये जिलों के नाम

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

यह भी पढ़ें -  डीएसएसएसबी ने निकाली बंपर वैकेंसी, जल्द करे आवेदन

Stay Connected

58,493FansLike
2,849FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Latest Articles

स्मार्ट सिटी के काम में लापरवाही बर्दाश्त नहीं: तीरथ सिंह रावत

रविवार को सीएम तीरथ सिंह रावत ने पलटन बाजार एवं परेड ग्राउण्ड में स्मार्ट सिटी के कार्यों का औचक स्थलीय निरीक्षण किया. पलटन मार्केट...

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत पहुंचीं कोयंबटूर सद्गुरु के आश्रम में, भगवान शिव भक्ति...

आज बात करेंगे फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत की. अपने बयानों से हमेशा सुर्खियों में रहने वाली अभिनेत्री कंगना इस समय भगवान शिव की भक्ति...

Covid19: उत्तराखंड में 24 घंटे के भीतर मिले 1333 नए संक्रमित, 8 की मौत

उत्तराखंड में रविवार को 24 घंटे के भीतर 1333 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. जबकि आठ कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है.
यह भी पढ़ें -  क्या ममता का तीसरी बार सीएम बनने का सपना टूट जाएगा! प्रशांत किशोर की चैट लीक होने के बाद बीजेपी का दावा
वहीं,...

जब राहुल द्रविड़ ने गुस्से में बैट मारकर तोड़ा कार का शीशा, विराट को...

दिग्गज भारतीय बल्लेबाज राहुल द्रविड़ को बेहद शांत और संयमित क्रिकेटर माना जाता है लेकिन क्या आप यकीन कर पाएंगे कि उन्होंने गुस्से...

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत एम्स से डिस्चार्ज, सोशल मीडिया पर लिखा भावनात्मक पोस्ट

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत कोरोना संक्रमित हो गए थे उनका इलाज दिल्ली एम्स में चल रहा था....

उत्तराखंड: कोविड टीके की नई खेप मिलने से मिली राहत, पहुंचीं 1.38 लाख...

उत्तराखंड को कोविड टीके की नई खेप मिलने से राहत मिल गई है. रविवार को 1.38 लाख कोविशील्ड वैक्सीन की डोज राज्य को मिल गई....

कश्मीर: आर्मी के जवान की हत्‍या का सुरक्षा बलों ने 24 घंटों में लिया...

श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों ने एक मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों को मार गिराया. मरने वालों में 14 साल का...

ममता बनर्जी ने कूच बिहार में गोलीबारी की घटना को बताया ‘नरसंहार’ , केंद्र...

सिलीगुड़ी| कूच बिहार में गोलीबारी की घटना को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 'नरसंहार' करार देते हुए रविवार को कहा कि...

CSK VS DC: मैच भी हारे, अब धोनी पर लगा 12 लाख का...

मुंबई| चेन्नई सुपरकिंग्स के कप्तान महेंद्र सिंह धोनी पर दिल्ली कैपिटल्स के खिलाफ टीम के पहले इंडियन प्रीमियर लीग मुकाबले के दौरान धीमी ओवर...

एंटीलिया मामला: एनआईए के हाथ लगी एक और कामयाबी, सचिन वाजे के सहयोगी एपीआई...

एंटीलिया केस में राष्ट्रीय जांच एजेंसी (एनआईए) के हाथ एक और कामयाबी लगी है. समाचार एजेंसी एएनआई के हवाले से एनआईए के एक...