हैलो उत्तराखंड!

कुमाऊँनी होली में रंग नहीं, रागों में उड़ते हैं होली के ‘रंग’

उत्तराखण्ड के कुमाऊँ क्षेत्र में होली का त्यौहार एक अलग तरह से मनाया जाता है, जिसे कुमाऊँनी होली कहते हैं. कुमाऊँनी होली का अपना ऐतिहासिक और सांस्कृतिक महत्त्व है. यह कुमाऊँनी लोगों के लिए सबसे महत्वपूर्ण त्यौहारों में से एक है, क्योंकि यह केवल बुराई पर अच्छाई की जीत का ही नहीं, बल्कि पहाड़ी सर्दियों के अंत का और नए बुआई के मौसम की शुरुआत का भी प्रतीक है, जो इस उत्तर भारतीय कृषि समुदाय के लिए बहुत महत्व रखता है.

होली का त्यौहार कुमाऊँ में बसंत पंचमी के दिन शुरू हो जाता है। कुमाऊँनी होली के तीन प्रारूप हैं; बैठकी होली, खड़ी होली और महिला होली. इस होली में सिर्फ अबीर-गुलाल का टीका ही नहीं होता, वरन बैठकी होली और खड़ी होली गायन की शास्त्रीय परंपरा भी शामिल होती है। बसंत पंचमी के दिन से ही होल्यार प्रत्येक शाम घर-घर जाकर होली गाते हैं, और यह उत्सव लगभग 2 महीनों तक चलता है.

इनमें ‘दैंण होया सबूं हुं हो गणेश, बांणी गावै को दुब धरण लागि रयां, त्यार निभाया बिघ्नेश’, राग काफी में ‘गणपति को भज लीजै’ जैसी होलियों से शुरू करते हुए आगे ‘क्यों मेरे मुख पै आवे रे भंवरा, नाही कमल यह श्याम सुंदर की सांवरी सूरत को क्यों मोहे याद दिलाए’, श्याम कल्याण राग में ‘माई के मंदिरवा में दीपक बारूं’ जंगला काफी में ‘होली खेलें पशुपतिनाथ नगर नेपाल में’ जैसी होलियां प्रमुख रूप से गायी जाती हैं.

वहीं शिवरात्रि से शिव की होलियां अधिक गाई जाती हैं. अलबत्ता, शिवरात्रि से होलिका अष्टमी तक बिना रंग के ही होलियां गाई जाती हैं. आगे बसंत पंचमी से होली गीतों में श्रृंगार रस चढ़ने लगता है, जबकि फाल्गुन माह में पुरुषों के द्वारा रंग युक्त खड़ी व महिलाओं के द्वारा बैठकी होलियां गाई जाती हैं.

यह भी पढ़ें -  डीएसएसएसबी ने निकाली बंपर वैकेंसी, जल्द करे आवेदन

होलिका अष्टमी को मंदिरों में आंवला एकादशी को गाँव-मोहल्ले के निर्धारित स्थान पर चीर बंधन होता है और रंग डाला जाता है, और होली गायन की शुरुआत बसन्त के स्वागत के गीतों से होती है, जिसमें प्रथम पूज्य गणेश, राम, कृष्ण व शिव सहित कई देवी देवताओं की स्तुतियां व उन पर आधारित होली गीत गाऐ जाते हैं. बसन्त पंचमी के आते आते होली गायकी में क्षृंगारिकता बढ़ने लगती है यथा
‘आयो नवल बसन्त सखी ऋतुराज कहायो, पुष्प कली सब फूलन लागी, फूल ही फूल सुहायो’
के अलावा जंगला काफी राग में
‘राधे नन्द कुंवर समझाय रही, होरी खेलो फागुन ऋतु आइ रही’
व झिंझोटी राग में
‘आहो मोहन क्षृंगार करूं में तेरा, मोतियन मांग भरूं’
तथा राग बागेश्वरी में
‘अजरा पकड़ लीन्हो नन्द के छैयलवा अबके होरिन में…’
आदि होलियां गाई जाती हैं. इसके साथ ही महाशिवरात्रि पर्व तक के लिए होली बैठकों का आयोजन शुरू हो जाता है. शिवरात्रि के अवसर पर शिव के भजन जैसे
‘जय जय जय शिव शंकर योगी’
होली के रूप में गाऐ जाते हैं. इसके पश्चात कुमाऊं के पर्वतीय क्षेत्रों में होलिका एकादशी से लेकर पूर्णमासी तक खड़ी होली गीत जैसे
‘शिव के मन मांहि बसे काशी’, ‘जल कैसे भरूं जमुना गहरी’ व ‘सिद्धि को दाता विघ्न विनाशन, होरी खेलें
गिरिजापति नन्दन’ आदि होलियां गाई जाती हैं.
सामान्यतया खड़ी होलियां कुमाऊं की लोक परंपरा के अधिक निकट मानी जाती हैं और यहां की पारंपरिक होलियां कही जाती हैं.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: कोविड टीके की नई खेप मिलने से मिली राहत, पहुंचीं 1.38 लाख डोज
यह भी पढ़ें -  देहरादून: सीएस ओमप्रकाश ने सचिवालय में की कोविड-19 की समीक्षा, दिए ये निर्देश

कुमाऊँनी होली विशेष रूप से बैठकी होली की संगीत परंपरा की शुरुआत तो 15 वीं शताब्दी में चम्पावत के चन्द राजाओं के महल में, और इसके आस-पास स्थित काली-कुमाऊँ, सुई और गुमदेश क्षेत्रों में मानी जाती है. बाद में चन्द राजवंश के प्रसार के साथ ही यह सम्पूर्ण कुमाऊँ क्षेत्र तक फैली. सांस्कृतिक नगरी अल्मोड़ा में तो इस त्यौहार पर होली गाने के लिए दूर दूर से गायक आते थे.

बैठकी होली पारम्परिक रूप से कुमाऊँ के बड़े नगरों में (मुख्यतः अल्मोड़ा और नैनीताल में) ही मनाई जाती रही है. बैठकी होली बसंत पंचमी के दिन से शुरू हो जाती है, और इस में होली पर आधारित गीत घर की बैठक में राग रागनियों के साथ हारमोनियम और तबले पर गाए जाते हैं.

इन गीतों में मीराबाई से लेकर नज़ीर और बहादुर शाह ज़फ़र की रचनाएँ सुनने को मिलती हैं। ये बैठकें आशीर्वाद के साथ संपूर्ण होती हैं जिसमें मुबारक हो मंजरी फूलों भरी..। या ऐसी होली खेले जनाब अली…जैसी ठुमरियाँ गाई जाती हैं.

खड़ी होली बैठकी होली के कुछ दिनों बाद शुरू होती है. इसका प्रसार कुमाऊँ के ग्रामीण क्षेत्रों में अधिक देखने को मिलता है. खड़ी होली में गाँव के लोग नुकीली टोपी, कुरता और चूड़ीदार पायजामा पहन कर एक जगह एकत्रित होकर होली गीत गाते हैं, और साथ साथ ही ढोल-दमाऊ तथा हुड़के की धुनों पर नाचते भी हैं.

यह भी पढ़ें -  बंगाल चुनाव: बीजेपी उम्मीदवार लॉकेट चटर्जी की गाड़ी पर हमला
यह भी पढ़ें -  देहरादून में आज से नाइट कर्फ्यू लागू, दून शहर में 19 स्थानों पर है लॉकडाउन

खड़ी होली के गीत, बैठकी के मुकाबले शास्त्रीय गीतों पर कम ही आधारित होते हैं, तथा पूर्णतः कुमाऊँनी भाषा में होते हैं. होली गाने वाले लोग, जिन्हें होल्यार कहते हैं, बारी बारी गाँव के प्रत्येक व्यक्ति के घर जाकर होली गाते हैं, और उसकी समृद्धि की कामना करते हैं.

महिला होली में प्रत्येक शाम बैठकी होली जैसी ही बैठकें लगती हैं, परन्तु इनमें केवल महिलाएं ही भाग लेती हैं। इसके गीत भी प्रमुखतः महिलाओं पर ही आधारित होते हैं.

होलिका दहन के लिए कुमाऊँ में छरड़ी से 15 दिन पहले ही चीड़ की लकड़ियों से होलिका का निर्माण किया जाता है, जिसे चीड़ बंधन कहते हैं. प्रत्येक गांव अपने अपने चीड़ की सुरक्षा में लग जाते हैं, क्योंकि प्रतिद्वंद्वी गाँव के लोग दूसरों की चीड़ चुराने की कोशिश करते हैं. होली से एक रात पहले चीड़ को जलाया जाता है, जिसे चीड़ दहन कहा जाता है. चीड़ दहन प्रह्लाद की हिरण्यकशिपु के विचारों पर जीत का प्रतीक माना जाता है.

छरड़ी (धुलेंडी) के दिन लोग एक दूसरे पर रंग, अबीर-गुलाल इत्यादि फेंकते हैं. ऐतिहासिक तौर पर इस क्षेत्र में छरड़ से होली मनाई जाती थी, जिस कारण इसे छरड़ी कहा जाता था. छरड़ बनाने के लिए टेसू के फूलों को धूप में सुखाकर पानी में घोला जाता था, जिससे नारंगी-लाल रंग का घोल बनता था, जो छरड़ कहलाता था.

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,493FansLike
2,849FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 12-04-2021: सोमवार को कैसा रहेगा सभी राशियों का दिन, जानिए

मेष - भविष्य के प्रति चिंतित रहेंगे. स्वयं पर नियंत्रण रखें. नौकरी में स्थान परिवर्तन संभव. पारिवारिक माहौल सामान्य रहेगा. मित्रों के साथ...

12 अप्रैल 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 12 अप्रैल 2021 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

स्मार्ट सिटी के काम में लापरवाही बर्दाश्त नहीं: तीरथ सिंह रावत

रविवार को सीएम तीरथ सिंह रावत ने पलटन बाजार एवं परेड ग्राउण्ड में स्मार्ट सिटी के कार्यों का औचक स्थलीय निरीक्षण किया. पलटन मार्केट...

बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत पहुंचीं कोयंबटूर सद्गुरु के आश्रम में, भगवान शिव भक्ति...

आज बात करेंगे फिल्म अभिनेत्री कंगना रनौत की. अपने बयानों से हमेशा सुर्खियों में रहने वाली अभिनेत्री कंगना इस समय भगवान शिव की भक्ति...

Covid19: उत्तराखंड में 24 घंटे के भीतर मिले 1333 नए संक्रमित, 8 की मौत

उत्तराखंड में रविवार को 24 घंटे के भीतर 1333 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. जबकि आठ कोरोना संक्रमित मरीजों की मौत हुई है.
यह भी पढ़ें -  बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत पहुंचीं कोयंबटूर सद्गुरु के आश्रम में, भगवान शिव भक्ति में डूबी
वहीं,...

जब राहुल द्रविड़ ने गुस्से में बैट मारकर तोड़ा कार का शीशा, विराट को...

दिग्गज भारतीय बल्लेबाज राहुल द्रविड़ को बेहद शांत और संयमित क्रिकेटर माना जाता है लेकिन क्या आप यकीन कर पाएंगे कि उन्होंने गुस्से...

पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत एम्स से डिस्चार्ज, सोशल मीडिया पर लिखा भावनात्मक पोस्ट

उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और कांग्रेस के राष्ट्रीय महासचिव हरीश रावत कोरोना संक्रमित हो गए थे उनका इलाज दिल्ली एम्स में चल रहा था....

उत्तराखंड: कोविड टीके की नई खेप मिलने से मिली राहत, पहुंचीं 1.38 लाख...

उत्तराखंड को कोविड टीके की नई खेप मिलने से राहत मिल गई है. रविवार को 1.38 लाख कोविशील्ड वैक्सीन की डोज राज्य को मिल गई....

कश्मीर: आर्मी के जवान की हत्‍या का सुरक्षा बलों ने 24 घंटों में लिया...

श्रीनगर| जम्मू-कश्मीर के शोपियां जिले में सुरक्षा बलों ने एक मुठभेड़ में तीन आतंकवादियों को मार गिराया. मरने वालों में 14 साल का...

ममता बनर्जी ने कूच बिहार में गोलीबारी की घटना को बताया ‘नरसंहार’ , केंद्र...

सिलीगुड़ी| कूच बिहार में गोलीबारी की घटना को पश्चिम बंगाल की मुख्यमंत्री ममता बनर्जी ने 'नरसंहार' करार देते हुए रविवार को कहा कि...