देश की आजादी के लिए भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु ने अंग्रेजों की हुकूमत हिला दी थी

‘शहीदों की चिताओं पर लगेंगे हर बरस मेले
वतन पर मिटने वालों का यही निशान होगा’ । जी हां आज हम बात करेंगे उन शहीदों की जिन्होंने अपने देश को आजाद कराने में प्राणों को न्योछावर कर दिया। आज 23 मार्च है ।

इस तारीख को हर वर्ष शहीद दिवस के रूप में याद किया जाता है । इस मौके पर पूरा देश अपने वीर सपूतों को याद करते हुए श्रद्धांजलि दे रहा है ।

आज शहीद दिवस पर बात होगी भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु की। इन तीनों क्रांतिकारियों ने अपने आखिरी वक्त में भी मौत का कोई खौफ नहीं दिखाई दिया । बल्कि सीना चौड़ा करके फांसी के फंदे पर झूल गए । कहा जाता है कि जिस दिन उन्हें फांसी दी गई थी उस दिन वो तीनों मुस्कुराते हुए आगे बढ़े और एक-दूसरे को गले से लगाया था।

यह भी पढ़ें -  देश में आज टीकाकरण का आंकड़ा 100 करोड़ डोज को कर जाएगा पार, चीन-अमेरिका में फिर बढ़े मामले

इन तीनों वीर सपूतों ने भारत को आजाद कराने में अपने प्राणों की आहुति दे दी । देशवासियों को आज की तारीख कभी नहीं भूलती है ।

आजादी के लिए ब्रिटिश सरकार से मुकाबला करने वाले शहीद भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को 23 मार्च की रात साल 1931 में फांसी दी गई थी। उन्हें लाहौर षड्यंत्र के आरोप में फांसी पर लटकाया गया था। यहां हम आपको बता दें कि इन तीनों क्रांतिकारियों को फांसी दिए जाने की तारीख 24 मार्च 1931 तय की थी, लेकिन उन्हें एक दिन पहले की फांसी दे दी गई थी। दरअसल, इनको फांसी दिए जाने की खबर से देशभर में लोग भड़के हुए थे। वो उन्हें देखना चाहते थे।

फांसी को लेकर विरोध प्रदर्शन भी चल रहे थे। अंग्रेज सरकार इसी बात से डर गई थी। उन्हें लगा कि माहौल बिगड़ सकता है, इसलिए उन्होंने फांसी का दिन और समय बदल दिया । भगत सिंह, सुखदेव और राजगुरु को एक दिन पहले ही फांसी दे दी गई। 23 मार्च की तारीख तभी से इतिहास के पन्नों में दर्ज हो गई।

यह भी पढ़ें -  पेट्रोल-डीजल के दामों में फिर लगी आग, जानें आज का भाव

लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए तीनों ने सांडर्स की कर दी थी हत्या–

महान स्वतंत्रता सेनानी लाला लाजपत राय की मौत का बदला लेने के लिए शहीद भगत सिंह, सुखदेव राजगुरु ने अंग्रेज अधिकारी जॉन सांडर्स की हत्या कर दी थी । लाला लाजपत राय की मौत के जिम्मेदार इस अधिकारी की हत्या के बाद यह तीनों क्रांतिकारी चुप नहीं बैठे। उसके बाद अप्रैल 1929 में भगत सिंह और बटुकेश्वर दत्त ने सेंट्रल असेंबली में बम फेंके थे। जहां अंग्रेजों की मीटिंग चल रही थी ।

इसके बाद एसेंबली में अफरा-तफरी मच गई । चाहते तो वे आराम से निकल सकते थे लेकिन वे भागे नहीं, बल्कि मजबूती से वहीं खड़े रहे और साथ में पर्चे भी फेंकते रहे । उनका इरादा था कि इससे आजादी को लेकर देशवासियों की जन भावना को भड़काना था । बाद में सभी को अंग्रेजों ने गिरफ्तार कर लिया। इसके बाद करीब दो साल उन्हें जेल में रखा गया।

यह भी पढ़ें -  लखनऊ: प्रियंका गांधी ने चला एक सियासी दांव, कहा कांग्रेस की सरकार बनीं तो इंटर पास छात्राओं को स्मार्टफोन तो ग्रेजुएट लड़कियों को मिलेगी स्कूटी

बाद में भगत सिंह को राजगुरु और सुखदेव के साथ फांसी की सजा सुनाई गई। फांसी पर चढ़ते समय भगत सिंह की उम्र 24, राजगुरु की 23 और सुखदेव लगभग 24 साल के थे। इतनी कम उम्र में ही इन क्रांतिकारियों से अंग्रेज हुकूमत घबरा गई थी ।

यहां हम आपको बता दें कि फांसी से पहले भगत सिंह ने जेल में रहतेेे हुए एक पत्र लिखा था, जिसमें उन्होंने आजादी का मोल समझाते हुए देश के युवाओं से आंदोलन का हिस्सा बनने को कहा था।

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,109FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी की फ्लाइट में कुछ इस प्रकार हुई मुलाकात

0
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव, यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी की आज एक फ्लाइट में अचानक मुलाकात हुई....

सीएम धामी ने की अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने राज्य में अक्तूबर...

…तो इस कारण नरसिम्हा राव सरकार नहीं लाई नेताजी की अस्थियां, हुआ बड़ा खुलासा

0
पीवी नरसिम्हा राव सरकार 1990 के दशक में जापान से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां भारत लाने के करीब पहुंच गई थी,...

Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले  12 नए मामले, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण काबू में आ गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत...

लौटे गृह राज्य: आलाकमान ने सुनी फरियाद, पंजाब प्रभारी पद से हरीश रावत मुक्त...

0
पंजाब की सियासत में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच घमासान में फंसे पूर्व मुख्यमंत्री...

टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द टेस्ट मैच का आया नया शेड्यूल, जानें...

0
टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द हुए सीरीज के 5वें टेस्ट मैच (IND vs ENG) को अगले साल जुलाई महीने के लिए शेड्यूल...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की चुनावी प्रतिज्ञा के अनुसार कल से शुरू होगी यूपी...

0
यूपी विधानसभा चुनाव लिए कांग्रेस पार्टी प्रदेश भर में 23 अक्तूबर से प्रतिज्ञा यात्रा निकालेगी. इसके लिए सभी तैयारिया पूरी हो चुकी है. पूरे...

सत्यपाल मलिक ने किया बड़ा खुलासा: “अंबानी से जुड़ी फाइल पास करने के लिए...

0
जम्मू-कश्मीर के पूर्व गवर्नर एवं मौजूदा मेघालय के उप राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बड़ा खुलासा किया है. सत्यपाल मलिक नें दावा किया है...

बिगड़ा बजट: फिलहाल राहत नहीं, अभी पेट्रोल-डीजल के दामों में और हो सकती है...

0
यह भी कहा जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 90 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकता है. ऐसे में...

देहरादून: डिफेन्स कॉलोनी में हुआ अनोखी रामलीला का मंचन, बच्चों ने निभाए सभी पात्र

0
उत्तराखंड में बुराई खत्म करने का प्रतीकात्मक पर्व विजय दशमी पर्व धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. राजधानी दून के कई जगहों में दशहरे मेले...