हैलो उत्तराखंड!

कामदा एकादशी 2021: इस दिन मनाई जाएगी कामदा एकादशी, जानें व्रत मुहूर्त और कथा

कामदा एकादशी व्रत चैत्र शुक्ल एकादशी को कामदा एकादशी कहते हैं. इस बार यह 23 अप्रैल 2021 को पड रही है. यानि शुक्र बार को हिन्दू पंचाग के अनुसार एकादशी तिथि का आरम्भ हालांकि 22 अप्रैल 2021 गुरु बार देर रात 11 बजकर 35 मिनट पर हो रहा है और समापन 23 अप्रैल 2021 शुक्रवार रात्रि बजकर 45 मिनट पर हो रहा है.

चूंकि उदयातिथि 23 अप्रैल होने की वजह से एकादशी व्रत 23 अप्रैल को ही रखा जायेगा. और पारण 24 अप्रैल को प्रातः 5 बजकर 47 मिन से 8 बजकर 24 मिनट के बीच होगा. भक्तों एवं पाठक बन्धुओ को बताना चाहता हूँ कि कामदा एकादशी व्रत करने से क्रोध. काम लोभ मोह जैसे पापों से मुक्ति मिल जाती है. और पाप नष्ट हो जाते हैं. इस व्रत कथा को पढने से एवं सुनने से भी कयेक पाप नष्ट हो जातें हैं.

व्रत कथा इस प्रकार है
प्राचीन काल में भोगीपुर नामक एक नगर था. वहाँ पर अनेक ऐश्वरयों से युक्त पुण्डरीक नाम का एक राजा राज्य करता था.

भोगीपुर नगर में अनेक अप्सराएँ किन्नर तथा गंधर्व वास करते थे. उनमें से एक जगह ललित और ललिता नामक दम्पति अत्यंत वैभवशाली घर में निवास करते थे. उन दोनों में अत्यंत स्नेह था. यहाँ तक कि वो अलग अलग हो जाने पर व्याकुल हो जाते थे. एक समय पुण्डरीक की सभा में अन्य गंधर्वों सहित ललित भी गान कर रहा था. गाते हुए उसे अपनी प्रिय ललिता का ध्यान आ गयाथा और उसका स्वर बिगड़ गया ललित के मन के भाव जानकर कार्कोट नामक नाग ने पद भंग होने का कारण राजा से कह दिया.

तब पुण्डरीक ने क्रोध पूर्वक कहा कि तू मेरे सामने गाता हुआ अपनी स्त्री का स्मरण कर रहाहै. अत तू कच्चा मांशाहार और मनुष्यों को खाने वाला राक्षस बन कर अपने किये कर्मों का फल भोग. पुण्डरीक के श्राप से ललित उसी क्षण महाकाय विशाल राक्षस हो गया. उसका मुख अत्यंत भयंकर नेत्र सूर्य चन्द्र की तरह प्रदीप्त तथा मुख से अग्नि निकलने लगी. उसकी नाक पर्वत की कंदराओं के समान और सिर के बाल पर्वत पर खड़े वृक्षों के समान लगने लगे. उसका शरीर आठ योजन विस्तार में हो गया.

इस प्रकार वह राक्षस होकर अनेक प्रकार के दुख भोगने लगा जब उसकी प्रिय तमा ललिता को यह वृतान्त मालूम हुआ तो उसे अत्यंत दुख हुआ वह अपने पति के उद्धार का यत्न सोचने लगी वह राक्षस अनेक प्रकार के दुख सहते हुए घने जंगलों में रहने लगा उसकी स्त्री अपने पति के पीछे घूमते हुए विन्ध्याचल पर्वत पर पंहुच गयी. जहाँ पर श्रंगिऋषी का आश्रम था. ललिता शीघ्र ही श्रंगिऋषी के आश्रम में आ गयी और वहाँ जाकर विनित भाव से प्रार्थना करने लगी उसे देख कर श्रंगिऋषी बोले कि हे सुभाष तुम कौन हो और यहाँ किसलिए आई हो.

ललिता बोली कि हे मुनि मेरा नाम ललिता है. मेरे पति राजा पुण्डरीक के श्राप से राक्षस बन गया है. उसका मुझे महान दुख है. इसके उद्धार का कोई उपाय बताऐ. ऋषि बोले हे गंधर्व कन्या अब चैत्र शुक्ल एकादशी व्रत आने वाला है जिसका नाम कामदा एकादशी व्रत है. इसका व्रत करने से पुण्य का फल अपने पति को देदेना वह शीघ्र राक्षस योनि से मुक्त हो जायेगा. और राजा का श्राप भी अवश्य शांत होगा.

मुनि के ऐसे वचन सुनकर ललिता ने चैत्र शुक्ल एकादशी आने पर व्रत किया और द्वादशी को व्राह्मणों के सामने अपने व्रत का फल अपने पति को देती हुवी भगवान से इस प्रकार प्रार्थना करने लगी कि हे भगवान मैंने जो यह व्रत किया है इसका फल मेरे पति को प्राप्त हो वह राक्षस योनि से मुक्त हो जाये. एकादशी व्रत का फल देते ही उसका पति राक्षस योनि से मुक्त होकर अपने पुराने स्वरूप को प्राप्त हुआ.

उसके पश्चात वे दोनों विमान में वैठकर स्वर्ग लोक चले गये. मुनि कहने लगे कि हे राजन इस व्रत को विधि पूर्वक करने से समस्त पाप नष्ट हो जाते हैं. तथा राक्षस आदि योनि छूट जाती है. संसार में इसके बराबर व्रत नहीं है. इसकी कथा पढने व सुनने से वाजपेयी यज्ञ का फल प्राप्त होता है.

लेखक पंडित प्रकाश जोशी गेठिया नैनीताल

यह भी पढ़ें -  17 मई को खुलेंगे श्री केदारनाथ धाम के कपाट, सीएम ने दीं श्रद्धालुओं को शुभकामनायें
यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में भी दिखा तौकते का असर, तेज हवाएं, बारिश-बर्फबारी का अलर्ट जारी

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

यह भी पढ़ें -  आईसीएमआर ने प्लाज्मा थेरेपी को जारी नई गाइड लाइन्स से हटाया, जानिए कारण

Stay Connected

58,394FansLike
2,974FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Latest Articles

कोरोना की दूसरी लहर के चलते अब तक देश भर में 269 डॉक्टर की...

देश में कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए कोरोना वैक्सीनेशन का अभियान तेजी से चल रहा है. ऐसे में फ्रंटलाइन वर्कर्स खासकर...

दिल्ली: सीएम केजरीवाल ने जताई कोरोना के तीसरे लहर की आशंका, केंद्र सरकार से...

दिल्ली|.... गत वर्ष 2020 में आई कोरोना की पहली लहर के बाद अब देशभर में कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है....

उत्तराखंड: राहत भरी खबर, अब घर बैठे बनेगा लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस-ये सुविधाएं हो...

कोरोना काल में इंसान घरों में कैद हो कर रह गया है. ऐसे में ज़रूरी सेवाओं से जुड़ा हर विभाग, नागरिकों को घर बैठे...

अब देहरादून में खलबली मचा रहे पीएम मोदी की आलोचना वाले पोस्टर

दिल्ली में लगे कोरोना वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी की आलोचना वाले विवादित पोस्टर अब देहरादून में खलबली मचा रहे हैं. यहां कांग्रेस भवन...

Ganga Jayanti 2021: जानें कब है गंगा जयंती, क्या है इसका माहात्म्य और इस...

पुण्य सलिला गंगा को सनातन धर्म का प्रतीक माना जाता है. गंगा सिर्फ नदी ही नहीं बल्कि हमारी सभ्यता और आस्था का प्रतिमान भी...

कोरोना प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों से पीएम बोले,’आपको फ्री हैंड है, संक्रमण...

मंगलवार को पीएम मोदी ने कोरोना महामारी से सर्वाधित प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों के साथ ऑनलाइन बातचीत की. इस बातचीत के दौरान...

इजरायल के हमले में गिरी 6 मंजिला इमारत, हमास भी लगातार दाग रहा रॉकेट,...

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच हवाई हमले दूसरे हफ्ते भी जारी हैं। इजरायल ने मंगलवार को गाजा पर किए हवाई हमले में एक छह...
कंगना रनौत

इजरायल को लेकर ट्रोलर्स पर फिर भड़की कंगना

अपनी बेबाक बयानबाजी की वजह से मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत सोशल मीडिया पर इजरायल-फलस्तीन मुद्दे को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं।...

कितनी कारगर है डीआरडीओ की 2 डीजी दवा, जानिए कीमत

देश की पहली स्वदेशी एंटी कोविड-19 दवा 2 डेओक्सी डी ग्लूकोज अथवा 2 डीजी (2-deoxy-D-glucose or ‘2-DG’) सोमवार को लॉन्च हो गई. रक्षा मंत्री...

आईसीएमआर ने प्लाज्मा थेरेपी को जारी नई गाइड लाइन्स से हटाया, जानिए कारण

लगातार दूसरे दिन देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कोरोना के केस तीन लाख से कम आए हैं. लेकिन मौतों के आंकड़ों...