हैलो उत्तराखंड!

देश की प्रगति में महत्वपूर्ण भूमिका निभाने वाला प्रेस आज भी अपनी ‘स्वतंत्रता’ का कर रहा संघर्ष

आज हम बात करेंगे देश के उस चौथे स्तंभ की जिसकी स्वतंत्रता बनाए रखने के लिए बातें तो बहुत बड़ी-बड़ी की जाती है लेकिन कभी वास्तविक अमल में लाया नहीं जाता है । सरकारों पर चौथे स्तंभ को दबाने के भी आरोप लगते रहे हैं । अब बात को आगे बढ़ाते हैं । आज 3 मई है। यानी प्रेस की स्वतंत्रता का दिन।

आज ‘विश्व प्रेस अपनी स्वतंत्रता दिवस’ (वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे) मना रहा है। चाहे हालात कितने भी बदल गए हो लेकिन चुनौती और कठिनाइयों से भरी हुई है प्रेस की स्वतंत्रता। मौजूदा समय में भी अभिव्यक्ति की आजादी के लिए तमाम ‘बंदिशें’ लगी हुई हैं।

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस को मानाने का मुख्य उद्देश्य प्रेस स्वतंत्रता के मूल सिद्धांतों का जश्न मनाने के साथ दुनिया भर में इसकी स्थिति का आकलन करना, साथ ही हमलों से मीडिया की रक्षा करना और उन पत्रकारों को श्रद्धांजलि अर्पित करते हैं, जिन्होंने कर्तव्य के चलते अपना जीवन खो दिया है।

हर साल विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की ‘थीम’ बदल जाती है। यूनिस्को ने इस साल 2021 में विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस की थीम ‘लोगों के अच्छे के लिए सूचना’ रखी है। मीडिया के सामने वर्तमान चुनौतियों के साथ-साथ शांति और सुलह प्रक्रियाओं के समर्थन करना है। दुनिया के किसी भी देश के उदय और उसकी प्रगति में पत्रकारों की अहम भूमिका रही है। कोई भी देश पत्रकारों को अंदेखा कर तरक्की नहीं कर सकता है।

यह भी पढ़ें -  Covid-19: धीमी होती जा रही कोरोना की रफ्तार, 3 लाख के नीचे गिरा नए मामलों का ग्राफ, लेकिन मौत का तांडव जारी

भारत की आजादी के समय भी पत्रकारों ने महत्वपूर्ण भूमिका अदा किया है, जिसे भुलाया नहीं जा सकता। दूसरी ओर भारत समेत आज कई देशों में प्रेस की स्वतंत्रता को दबाने का प्रयास किया जाता है। विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने का कारण भारत सहित कई देशों से पत्रकारों के ऊपर हुए अत्याचारों की खबर आती रहती हैं। इसके अलावा मीडिया हाउस के एडिटर, प्रकाशकों और पत्रकारों को डराया जाता है।

यह भी पढ़ें -  18 मई 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने के पीछे यूनिस्को का मकसद सरकारों को यह याद दिलाना है कि उन्हें प्रेस की आजादी के प्रति प्रतिबद्धता के सम्मान करने की जरूरत है। यह मीडियाकर्मी, पत्रकारों को प्रेस की आजादी और व्यवासायिक मूल्यों की याद करना का भी दिन है। यह दिन मीडिया के उन लोगों के समर्थन के लिए है जो प्रेस और अभिव्यक्ति की आजादी के लिए काम करते हुए विरोध और जुल्म का शिकार हुए हैं।

इसके अलावा देश और विदेशों में कोरोना काल केेे दौरान सैकड़ों पत्रकारों और मीडियाकर्मियों ने अपनी जान गंवा दी इसके बावजूद अपनेे फर्ज से पीछेेे नहीं। प्रेस यानी मीडिया को लोकतंत्र का चौथा स्तंभ कहा जाता है। यूं तो पूरी दुनिया में आज भी प्रेस आम आदमी की जुबान है, लेकिन बात भारत की करें तो आजादी की लड़ाई से लेकर आज के हालात में प्रेस की काफी अहम भूमिका रही है।

यह भी पढ़ें -  राहत का दिन, महामारी के घटते मामलों के बीच मरीजों को मिली 'ऑक्सीजन 2-डीजी'

भारत लोकतांत्रिक देश में प्रेस की स्वतंत्रता ‘मौलिक’ जरूरत है। भारत में प्रेस की स्वतंत्रता भारतीय संविधान के अनुच्छेद-19 में भारतीयों को दिए गए अभिव्यक्ति की आजादी के मूल अधिकार से सुनिश्चित होती है।

प्रेस की आजादी को लेकर भारत की अंतरराष्ट्रीय स्तर पर अच्छी नहीं स्थिति—-

यहां हम आपको बता दें कि चीन, उत्तर कोरिया, म्यानमार, अरब के कई देशों ने प्रेस की आजादी पर तमाम बंदिशें लगा रखी हैं । 20 अप्रैल, 2021 को जारी नवीनतम विश्व प्रेस स्वतंत्रता सूचकांक 2021 की लिस्ट जारी की गई है। 180 देशों में भारत 142वें स्थान पर है। पिछले साल भी अपना देश 142वें पायदान पर रहा था। इस लिस्ट में नॉर्वे शीर्ष पर बरकरार है। नॉर्वे पिछले पांच सालों से पहले स्थान पर है।

इसके बाद फिनलैंड और डेनमार्क दूसरे और तीसरे स्थान पर हैं। इरीट्रिया सूचकांक के सबसे निचले स्थान, 180 वें स्थान पर है। इस सूची में उत्तरी कोरिया 179वें, तुर्कमेनिस्तान 178वें और चीन 177वें स्थान पर हैं। जर्मनी 13वें जबकि अमेरिका एक पायदान नीचे खिसककर 44वें स्थान पर है।

यह भी पढ़ें -  18 मई 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार
यह भी पढ़ें -  राशिफल 17-05-2021: आज इन राशियों पर रहेगा महादेव का आशीर्वाद

ब्राजील भारत के साथ 142वें जबकि मेक्सिको 143वें और रूस 150वें स्थान पर है। सूचकांक में प्रेस आजादी के लिहाज से देशों को बहुत बुरा और समस्याग्रस्त की श्रेणी में रखा गया है। आइए जानते हैं विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने की शुरुआत कब हुई थी । साल 1991 में अफ्रीका के पत्रकारों ने प्रेस की आजादी के लिए एक छोटी सी शुरुआत की थी।

तीन मई को प्रेस की आजादी के सिद्धांतों से संबंधित एक बयान जारी किया था जिसे डिक्लेरेशन ऑफ विंडहोक के नाम से जाना जाता है। 3 मई को हर वर्ष ‘वर्ल्ड प्रेस फ्रीडम डे’ के तौर पर मनाया जाता है। यूनेस्को की आम सम्मेलन की सिफारिश के बाद दिसंबर 1993 में संयुक्त राष्ट्र महासभा द्वारा विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस घोषित किया गया था।

तब से 3 मई को विंडहोक की घोषणा की सालगिरह को विश्व प्रेस स्वतंत्रता दिवस के रूप में मनाया जाता है। प्रेस स्वतंत्रता दिवस मनाने का मकसद था दुनियाभर में स्वतंत्र पत्रकारिता का समर्थन करना और उसकी रक्षा करना। प्रेस किसी भी समाज का आइना होता है। प्रेस की आजादी से यह बात साबित होती है कि उस देश में अभिव्यक्ति की कितनी स्वतंत्रता है।

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,394FansLike
2,974FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Latest Articles

अब देहरादून में खलबली मचा रहे पीएम मोदी की आलोचना वाले पोस्टर

दिल्ली में लगे कोरोना वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी की आलोचना वाले विवादित पोस्टर अब देहरादून में खलबली मचा रहे हैं. यहां कांग्रेस भवन...

Ganga Jayanti 2021: जानें कब है गंगा जयंती, क्या है इसका माहात्म्य और इस...

पुण्य सलिला गंगा को सनातन धर्म का प्रतीक माना जाता है. गंगा सिर्फ नदी ही नहीं बल्कि हमारी सभ्यता और आस्था का प्रतिमान भी...

कोरोना प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों से पीएम बोले,’आपको फ्री हैंड है, संक्रमण...

मंगलवार को पीएम मोदी ने कोरोना महामारी से सर्वाधित प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों के साथ ऑनलाइन बातचीत की. इस बातचीत के दौरान...

इजरायल के हमले में गिरी 6 मंजिला इमारत, हमास भी लगातार दाग रहा रॉकेट,...

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच हवाई हमले दूसरे हफ्ते भी जारी हैं। इजरायल ने मंगलवार को गाजा पर किए हवाई हमले में एक छह...
कंगना रनौत

इजरायल को लेकर ट्रोलर्स पर फिर भड़की कंगना

अपनी बेबाक बयानबाजी की वजह से मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत सोशल मीडिया पर इजरायल-फलस्तीन मुद्दे को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं।...

कितनी कारगर है डीआरडीओ की 2 डीजी दवा, जानिए कीमत

देश की पहली स्वदेशी एंटी कोविड-19 दवा 2 डेओक्सी डी ग्लूकोज अथवा 2 डीजी (2-deoxy-D-glucose or ‘2-DG’) सोमवार को लॉन्च हो गई. रक्षा मंत्री...

आईसीएमआर ने प्लाज्मा थेरेपी को जारी नई गाइड लाइन्स से हटाया, जानिए कारण

लगातार दूसरे दिन देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कोरोना के केस तीन लाख से कम आए हैं. लेकिन मौतों के आंकड़ों...

घाटी में इजरायल की तर्ज हो सकती है आतंकी संगठनों की नई साजिश, पढ़े...

कश्मीर घाटी में आतंकी संगठनों की नई साजिश इजरायल की तर्ज पर हो सकती है. खुफिया सूत्रों के मुताबिक, ये आतंकी झंडों के डंडों...

पीएम मोदी आज कलेक्टरों से कोरोना के हालातों पर सीधा संवाद कर अनुभव-सुझाव करेंगे...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज जिलाधिकारियों से संवाद करेंगे. पीएम मोदी देश में कोरोना महामारी के चलते पैदा हुए हालत को लेकर 19 राज्यों के...

Covid19: देश में संक्रमण के नए मामलों कमी, लेकिन मौत के आंकड़ों ने तोड़ा...

देश में बीते 24 घंटे में कोरोना संक्रमण के 2,63,533 नए केस मिले हैं जबकि 4,329 लोगों की मौत हुई है. इस दौरान उपचार...