हैलो उत्तराखंड!

इस मंदिर में झूला झूलती हैं देवी दुर्गा, मां की रखवाली में पहरा देते हैं शेर

झुला देवी मंदिर रानीखेत शहर से 7 कि.मी. की दुरी पर स्थित एक लोकप्रिय पवित्र एवम् धार्मिक मंदिर है. यह मंदिर माँ दुर्गा को समर्पित है एवम् इस मंदिर को झुला देवी के रूप में नामित किया गया है. स्थानीय लोगों के अनुसार यह मंदिर 700 वर्ष पुराना है.

रानीखेत में स्थित झूला देवी मंदिर पहाड़ी स्टेशन पर एक आकर्षण का स्थान है. यह भारत के उत्तराखंड राज्य में अल्मोड़ा जिले के चौबटिया गार्डन के निकट रानीखेत से 7 किमी की दूरी पर स्थित है. वर्तमान मंदिर परिसर 1935 में बनाया गया है.

झूला देवी मंदिर के समीप ही भगवान राम को समर्पित मंदिर भी है. झूला देवी मंदिर को झुला देवी मंदिर और घंटियों वाला मंदिर के रूप में भी जाना जाता है.

हिंदू पौराणिक कथाओं के अनुसार इस मंदिर का निर्माण क्षेत्र में रहने वाले जंगली जानवरों द्वारा उत्पीड़न से मुक्त कराने के लिए मां दुर्गा की कृपा बनाये रखने के उद्देश्य से किया गया था. मंदिर परिसर में झुला स्थापित होने के कारण देवी को “झूला देवी” नाम से पूजा जाता है.

मां के झूला झूलने के बारे में एक और कथा प्रचलित है. माना जाता है कि एक बार श्रावण मास में माता ने किसी व्यक्ति को स्वप्न में दर्शन देकर झूला झूलने की इच्छा जताई.

यह भी पढ़ें -  देश भर के लाखों श्रद्धालु वर्चुअल माध्यम से कर सकेंगे बदरीनाथ-केदारनाथ के दर्शन

ग्रामीणों ने मां के लिए एक झूला तैयार कर उसमें प्रतिमा स्थापित कर दी. उसी दिन से यहां देवी मां “झूला देवी” के नाम से पूजी जाने लगी.

यह कहा जाता है कि मंदिर लगभग 700 वर्ष पुराना है. चैबटिया क्षेत्र जंगली जानवर से भरा घना जंगल था. “तेंदुओं और बाघ” आसपास के लोगों पर हमला करते थे और उनके पालतू पशुओं को ले जाते थे.

लोगों को “तेंदुओं और बाघ” से डर लग रहता था और खतरनाक जंगली जानवर से सुरक्षा के लिए आसपास के लोग ‘माता दुर्गा’ से प्रार्थना करते थे.

यह भी पढ़ें -  कोरोना प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों से पीएम बोले,'आपको फ्री हैंड है, संक्रमण कम करने के लिए जो करना पड़े, करें'
यह भी पढ़ें -  18 मई को ब्रह्म मुहुर्त में खुलेंगे श्री बदरीनाथ धाम के कपाट, सीएम ने श्रद्धालुओं को शुभकामनायें दीं

ऐसा कहा जाता है कि ‘देवी’ ने एक दिन चरवाहा को सपने में दर्शन दिए और चरवाहा से कहा कि वह एक विशेष स्थान खोदे क्योंकि देवी उस स्थान पर अपने लिए एक मंदिर बनवाना चाहती थी. जैसे ही चरवाहा ने गड्ढा खोद दिया तो चरवाहा को उस गड्ढे से देवी की मूर्ति मिली.

इसके बाद ग्रामीणों ने उस जगह पर एक मंदिर का निर्माण किया और देवी की मूर्ति को स्थापित किया और इस तरह ग्रामीणों को जंगल जानवरों द्वारा उत्पीड़न से मुक्त कर दिया गया और मंदिर की स्थापना के कारण चरवाहा अपने पशुओ को घास चरने के लिए छोड़ जाते थे.

मंदिर परिसर के चारों ओर लटकी हुई अनगिनत घंटियां ‘मा झुला देवी’ की दिव्य व दुख खत्म करने वाली शक्तियो को दर्शाती है.

यह भी पढ़ें -  केरल-गोवा में दिखा चक्रवात 'टाउते' का असर, अन्य राज्य अलर्ट पर-पढ़ें 10 बड़े अपडेट्स

मंदिर में विराजित झूला देवी के बारे में यह माना जाता है कि झूला देवी अपने भक्तों की इच्छाओं को पूरा करती हैं और इच्छाओं को पूरा करने के बाद भक्त यहाँ तांबे की घंटी भेटस्वरुप चढाने आते हैं , घंटियों की मधुर ध्वनि से हर किसी का मन आनंदित हो उठता है.

श्रद्धालुओं का मानना है कि मंदिर में प्रार्थना करने वाले लोगों की मनोकामनाएं मां झूला देवी पूर्ण करती हैं। यहां जाने पर आपको राम मंदिर जाने का मौका भी मिलता है, जो पास में ही स्थित है. यहां झूला देवी मंदिर में नियमित रूप से श्रद्धालुओं का आवागमन लगा रहता है.

यह भी पढ़ें -  मर्डर केस - पहलवान सुशील कुमार कर सकते हैं आत्मसमर्पण, व्हाट्सएप काल कर दी जानकारी

मंदिर के प्रति हिंदूओ का अत्यधिक विश्वास है , झुला देवी मंदिर उत्तराखंड में यात्रा के लिए एक लोकप्रिय स्थान है.


Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,394FansLike
2,974FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

Advertisement

Advertisement

Advertisement

Latest Articles

कोरोना की दूसरी लहर के चलते अब तक देश भर में 269 डॉक्टर की...

देश में कोरोना संक्रमण से लोगों को बचाने के लिए कोरोना वैक्सीनेशन का अभियान तेजी से चल रहा है. ऐसे में फ्रंटलाइन वर्कर्स खासकर...

दिल्ली: सीएम केजरीवाल ने जताई कोरोना के तीसरे लहर की आशंका, केंद्र सरकार से...

दिल्ली|.... गत वर्ष 2020 में आई कोरोना की पहली लहर के बाद अब देशभर में कोरोना की दूसरी लहर कहर बरपा रही है....

उत्तराखंड: राहत भरी खबर, अब घर बैठे बनेगा लर्निंग ड्राइविंग लाइसेंस-ये सुविधाएं हो...

कोरोना काल में इंसान घरों में कैद हो कर रह गया है. ऐसे में ज़रूरी सेवाओं से जुड़ा हर विभाग, नागरिकों को घर बैठे...

अब देहरादून में खलबली मचा रहे पीएम मोदी की आलोचना वाले पोस्टर

दिल्ली में लगे कोरोना वैक्सीन को लेकर पीएम मोदी की आलोचना वाले विवादित पोस्टर अब देहरादून में खलबली मचा रहे हैं. यहां कांग्रेस भवन...

Ganga Jayanti 2021: जानें कब है गंगा जयंती, क्या है इसका माहात्म्य और इस...

पुण्य सलिला गंगा को सनातन धर्म का प्रतीक माना जाता है. गंगा सिर्फ नदी ही नहीं बल्कि हमारी सभ्यता और आस्था का प्रतिमान भी...

कोरोना प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों से पीएम बोले,’आपको फ्री हैंड है, संक्रमण...

मंगलवार को पीएम मोदी ने कोरोना महामारी से सर्वाधित प्रभावित राज्यों एवं जिलों के अधिकारियों के साथ ऑनलाइन बातचीत की. इस बातचीत के दौरान...

इजरायल के हमले में गिरी 6 मंजिला इमारत, हमास भी लगातार दाग रहा रॉकेट,...

इजरायल और फिलिस्तीन के बीच हवाई हमले दूसरे हफ्ते भी जारी हैं। इजरायल ने मंगलवार को गाजा पर किए हवाई हमले में एक छह...
कंगना रनौत

इजरायल को लेकर ट्रोलर्स पर फिर भड़की कंगना

अपनी बेबाक बयानबाजी की वजह से मशहूर बॉलीवुड अभिनेत्री कंगना रनौत सोशल मीडिया पर इजरायल-फलस्तीन मुद्दे को लेकर एक बार फिर सुर्खियों में हैं।...

कितनी कारगर है डीआरडीओ की 2 डीजी दवा, जानिए कीमत

देश की पहली स्वदेशी एंटी कोविड-19 दवा 2 डेओक्सी डी ग्लूकोज अथवा 2 डीजी (2-deoxy-D-glucose or ‘2-DG’) सोमवार को लॉन्च हो गई. रक्षा मंत्री...

आईसीएमआर ने प्लाज्मा थेरेपी को जारी नई गाइड लाइन्स से हटाया, जानिए कारण

लगातार दूसरे दिन देश में कोरोना महामारी की दूसरी लहर में कोरोना के केस तीन लाख से कम आए हैं. लेकिन मौतों के आंकड़ों...