मांगलिक-धार्मिक और सोने की खरीदारी के लिए अक्षय तृतीया है सबसे शुभ दिन

आज अक्षय तृतीया का पर्व पूरे देश भर में धूमधाम के साथ मनाया जा रहा है । इस दिन सबसे अच्छा शुभ मुहूर्त माना जाता है । देश में कोरोना संकटकाल की वजह से भले ही इस त्योहार की रौनक कम कर दी हो लेकिन लोगों में हर्ष और उल्लास छाया हुआ है। देशवासी एक दूसरे को सोशल मीडिया के माध्यम से अक्षय तृतीया और भगवान परशुराम जयंती की शुभकामनाएं दे रहे हैं ।

वही आज चार धामों में से एक यमुनोत्री के कपाट भी शुभ घड़ी में खोले जाने की परंपरा रही है । आइए जानते हैं अक्षय तृतीया के बारे में । अक्षय तृतीया को अखा तीज भी कहा जाता है। यह पर्व वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि को मनाया जाता है। अक्षय तृतीया को अबूझ मुहूर्त माना गया है। इस तिथि पर सूर्य और चंद्र अपनी उच्च राशि में होते हैं। इसलिए इस दिन शादी, कारोबार की शुरुआत और गृह प्रवेश करने जैसे- मांगलिक काम बहुत शुभ रहते हैं।

यह भी पढ़ें -  चक्रवाती तूफान जवाद को लेकर पीएम मोदी ने की बैठक, मौजूदा हालात का लिया जाएजा

शादी के लिए जिन लोगों के ग्रह-नक्षत्रों का मिलान नहीं होता या मुहूर्त नहीं निकल पाता, उनको इस शुभ तिथि पर दोष नहीं लगता व निर्विघ्न विवाह कर सकते हैं। अक्षय तृतीया के दिन सोना और सोने के आभूषण खरीदना शुभ होता है। परंपरागत रूप से, दिवाली से पहले धनतेरस की तरह अक्षय तृतीया पर, लोग समृद्धि के लिए सोना खरीदते हैं । चूंकि अक्षय का अर्थ शाश्वत होता है, इसलिए लोग अपने जीवन में खुशहाली और समृद्धि लाने के लिए सोना और चांदी खरीदते हैं। लोग कार या महंगे घरेलू इलेक्ट्रॉनिक सामान खरीदने के लिए भी दिन सुरक्षित रखते हैं।

इस दिन विवाह, सगाई आदि करना उत्तम माना जाता है क्योंकि यह दिन अत्यंत शुभ होता है। इस तिथि को भगवान विष्णु के अवतार परशुराम जी का जन्म हुआ था, इसलिए भी यह दिन शुभ माना जाता है। अक्षय तृतीया पर, दान या दान कार्य पारंपरिक रूप से महत्वपूर्ण माना जाता है। लोग वंचितों को खाद्यान्न, कपड़े, गुड़ और अन्य सामान वितरित करते हैं। शास्त्रों के अनुसार, अक्षय तृतीया पर दान कार्य पूरे वर्ष के लिए असीमित सौभाग्य लाता है। पूजा, जप और यज्ञ: शास्त्रों के अनुसार, भगवान विष्णु, गणेश या गृह देवता को समर्पित प्रार्थनाओं का जाप करने से ‘शाश्वत’ सौभाग्य प्राप्त होता है।

यह भी पढ़ें -  आंध्र प्रदेश में चक्रवात जवाद का खौफ: सरकार ने दिया दो दिनों तक स्कूल बंद रखने का आदेश, 65 ट्रेनो को किया रद्द

अक्षय तृतीया के दिन भगवान परशुराम की जयंती भी मनाई जाती है—-

बता दें कि अक्षय तृतीया के दिन ही भगवान परशुराम की जयंती भी मनाई जाती है । भगवान परशुराम का जन्म ब्राह्मण कुल में वैशाख मास के शुक्ल पक्ष की तृतीया तिथि पर हुआ था। यह तिथि बेहद महत्वपूर्ण मानी जाती है क्योंकि इस तृतीया तिथि को अक्षय तृतीया भी कहा जाता है जो सनातन धर्म के लोगों के लिए बहुत विशेष होती है। हिंदू धर्म शास्त्रों में यह उल्लेख किया गया है कि भगवान परशुराम भगवान विष्णु के छठवें अवतार हैं। न्याय के देवता परशुराम को भगवान शिव ने परशु आशीर्वाद में दिया था

यह भी पढ़ें -  दिल्ली में प्रदूषण: सुनवाई से पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

जिसके वजह से उनका नाम परशुराम रखा गया। परशु का अर्थ फरसा होता है। ऐसी मान्यता है कि परशुराम जी की पूजा करने से सभी तरह का भय मिट जाता है तथा इंसान के साहस में वृद्धि होती है। पौराणिक कथा के अनुसार भगवान परशुराम ने तीर चला कर गुजरात से लेकर केरल तक समुद्र को पीछे धकेल दिया। इससे नई भूमि का निर्माण हुआ। इसी कारण कोंकण, गोवा और केरल मे भगवान परशुराम की विशेष पूजा की जाती है।

उत्तरी गोवा में हरमल के पास आज भूरे रंग के एक पर्वत को परशुराम के यज्ञ करने का स्थान माना जाता है। परशुराम ने भगवान शिव की कठोर तपस्या की थी। तपस्या से प्रसन्न होकर भगवान शिव ने उन्हें कई अस्त्र शस्त्र प्रदान किया। भगवान शिव ने अपना परशु परशुराम को प्रदान किया था। यह अस्त्र परशुराम को बहुत प्रिय था । इस अस्त्र को वे हमेशा अपने साथ रखते थे। इसी कारण इन्हें परशुराम कहा गया।

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,159FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

नेवी चीफ आर हरि कुमार ने कहा- चीन की तरफ से मिलने वाली चुनौतियों...

0
मानव रहित प्रणालियों के रोडमैप पर नौसेना प्रमुख एडमिरल आर हरि कुमार हमारे पास स्वदेशी मानव रहित हवाई, पानी के भीतर और स्वायत्त प्रणालियों...

IND vs NZ 2nd Test: अंतिम सत्र शुरू, टीम इंडिया का स्कोर...

0
भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का आज दूसरा और आखिरी मुकाबला है. इस सीरीज का पहला मैच ड्रॉ होने के...

पीएम मोदी की रैली को सफल बनाने के लिए भाजपा नेताओं ने झोंकी पूरी...

0
प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी की देहरादून में चार दिसंबर को होने वाली रैली को भव्य बनाने के लिए भाजपा ने पूरी ताकत झोंक दी है....

मायावती ने भाजपा, सपा, कांग्रेस पर साधा निशाना, चुनावी वादों को लेकर कही ये...

0
बहुजन समाज पार्टी (बसपा) मुखिया मायावती 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव को लेकर काफी सक्रिय हैं. इसीलिए वह ट्वीटर के माध्यम से समय-समय...

देहरादून: सीएम धामी ने किया डांडी कांठी क्लब की स्मारिका 2021 ‘दृढ़ संकल्प’ का...

0
शुक्रवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने मुख्यमंत्री आवास में डांडी कांठी क्लब की स्मारिका 2021 ‘दृढ़ संकल्प’ का विमोचन किया. मुख्यमंत्री ने कहा...

पीएम मोदी का देहरादून दौरा: सीएम धामी ने स्थलीय निरीक्षण कर लिया विभिन्न व्यवस्थाओं...

0
शुक्रवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने परेड ग्राउंड का स्थलीय निरीक्षण कर विभिन्न व्यवस्थाओं का जायजा लिया. 4 दिसम्बर 2021 को परेड ग्राउण्ड, देहरादून...

लाइव रिपोर्ट: पीएम मोदी की देहरादून में रैली कल, खराब मौसम के बाद भी...

0
उत्तराखंड की राजधानी देहरादून में तीन दिनों से मौसम खराब है. धूप के दर्शन नहीं हुए, बादल छाए हुए हैं. ऊपरी इलाकों पहाड़ पर...

दिल्ली में ‘ओमिक्रॉन’ की दस्तक, मिले 12 संदिग्ध मरीज

0
राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ के 12 संदिग्ध मरीज मिले हैं. सभी को लोक नायक जय प्रकाश नारायण अस्पताल...

आंध्र प्रदेश में चक्रवात जवाद का खौफ: सरकार ने दिया दो दिनों तक स्कूल...

0
आंध्र प्रदेश में चक्रवात जवाद के खौफ से सरकार ने विशाखापत्तनम और श्रीकाकुलम जिलों में स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया गया है....

पीएम मोदी ने किया इनफिनिटी फोरम का उद्घाटन, पढ़े पीएम का महत्वपूर्ण भाषण

0
शुक्रवार को पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फिनटेक पर एक विचारशील नेतृत्व मंच, इनफिनिटी फोरम का उद्घाटन किया है. पीएम मोदी...