पत्रकारिता दिवस विशेष: लोकतंत्र के ‘चौथे स्तंभ पत्रकारिता’ की राष्ट्र निर्माण में रहती है महत्वपूर्ण भूमिका

हर वर्ष 30 मई को हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाया जाता है. देश में 195 वर्ष पहले शुरू हुई इस मिशन पर लोगों की ‘विश्वसनीयता’ आज भी बरकरार है. लोकतंत्र के चौथे स्तंभ पत्रकारिता की राष्ट्र के निर्माण में महत्वपूर्ण भूमिका भी रहती है. सामाजिक कुरीतियाें को उजागर करने व इसके उत्थान में अहम भूमिका निभाते लोग पुलिस-प्रशासन और नेताओं से ज्यादा ‘भरोसा’ करते हैं.

पत्रकारिता के बिना लोकतंत्र अधूरा है. न्यायपालिका, कार्यपालिका और व्यवस्थापिका के साथ पत्रकारिता जुड़ी हुई है. किसी भी देश को सरकार चलाने में पत्रकारिता का भी बड़ा योगदान है. चाहे कैसी भी प्राकृतिक आपदाएं हो लोगों को सूचना पहुंचाने के लिए पत्रकार मौके पर एक ‘योद्धा’ की तरह डटा रहता है. कोरोना के दौरान अभी तक देश में कई पत्रकारों ने अपनी जान गंवा दी है. आज बात होगी पत्रकारिता दिवस को लेकर.

पिछले एक वर्ष से देश में कोविड-19 महामारी के दौर इस ‘मिशन’ की बड़ी भूमिका साबित हुई . इस महामारी के प्रति देशवासियों को लगातार खबरों से पत्रकारिता जागरूक करने में लगी हुई है. पत्रकारिता को समाज का आईना भी कहा जाता है.‌ हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत साल 1826 में मानी जाती है तब से लेकर मौजूदा समय तक पत्रकारिता ने काफी उतार-चढ़ाव देखे हैं.

जब से लेकर अब तक इसका स्वरूप बदला, काम करने का अंदाज बदला, कलेवर बदला, लेकिन एक चीज पर बदलाव नहीं हुआ वह है इसकी ‘विश्वसनीयता’ आज भी देश और दुनिया में कायम है. अपने शुरुआती दौर से लेकर मौजूदा समय में पत्रकारिता जन-जन तक आवाज पहुंचाने के लिए सबसे अच्छा माध्यम बना हुआ है. करीब दो दशक पहले पत्रकारिता को नया नाम ‘मीडिया’ कहा जाने लगा है.‌ हिंदी पत्रकारिता ने एक लंबा सफर तय किया है.

आज हिंदी भाषी पत्रकारों के लिए बेहद खास दिन है. आज ही के दिन यानी 30 मई 1826 को हिंदी का पहला समाचार पत्र ‘उदन्त मार्तण्ड’ शुरू किया गया था. हालांकि आज के युग में पत्रकारिता के कई माध्यम हो गए हैं जैसे- अखबार, मैगजीन, रेडियो, दूरदर्शन, समाचार चैनल और डिजिटल मीडिया.‌ पत्रकारिता आधुनिक सभ्यता का एक प्रमुख व्यवसाय बन गया है, जिसमें देश और दुनिया भर से समाचारों को इकट्ठा करना, लिखना और उसे लोगों तक पहुंचाना शामिल है .

यह भी पढ़ें -  पुलिस स्मृति दिवस पर मुख्यमंत्री धामी ने सिपाहियों को 4600 ग्रेड पे की दी सौगात

‘उदन्त मार्तण्ड’ हिंदी का पहला समाचार पत्र प्रकाशित हुआ था
भारत में हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत बंगाल से हुई थी. पंडित जुगल किशोर शुक्ल ने कोलकाता से 30 मई 1826 में प्रथम हिंदी समाचार पत्र ‘उदन्त मार्तण्ड’ का प्रकाशन आरंभ किया था. उदन्त मार्तण्ड का शाब्दिक अर्थ है ‘समाचार-सूर्य‘. अपने नाम के अनुरूप ही उदन्त मार्तण्ड हिंदी की समाचार दुनिया के सूर्य के समान ही था. यह पत्र ऐसे समय में प्रकाशित हुआ था जब हिंदी भाषियों को अपनी भाषा के पत्र की आवश्यकता महसूस हो रही थी. इसी उद्देश्य को ध्यान में रखकर ‘उदन्त मार्तण्ड‘ का प्रकाशन किया गया था.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: आपदा में मृतकों की कुल संख्या पहुंची 69, अभी भी तलाश जारी

इसके प्रकाशक और संपादक भी वे खुद थे. इस तरह हिंदी पत्रकारिता की शुरुआत करने वाले जुगल किशोर शुक्ल का हिंदी पत्रकारिता की जगत में विशेष सम्मान है. पैसों की तंगी की वजह से ‘उदन्त मार्तण्ड’ का प्रकाशन बहुत दिनों तक नहीं हो सका आखिरकार 1927 के आखिरी में इसका प्रकाशन बंद कर दिया गया.

लेकिन इस समाचार पत्र से ही भारत में आजादी की अलख भी जगह दी थी. यह समाचार पत्र भले ही बहुत दिनों तक नहीं चल सका लेकिन इसके बाद देश में कई हिंदी समाचार पत्रों का प्रकाशन बहुत तेजी साथ हुआ था . आज उदन्त मार्तण्ड की याद में ही पूरा देश हिंदी पत्रकारिता दिवस मनाता है.

यह भी पढ़ें -  अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी की फ्लाइट में कुछ इस प्रकार हुई मुलाकात

समाज के साथ पत्रकारिता का स्वरूप भी बदलता गया
आज का दौर बिल्कुल बदल चुका है. पत्रकारिता में बहुत ज्यादा आर्थिक निवेश हुआ है और इसे उद्योग का दर्जा हासिल हो चुका है. पिछले कुछ वर्षों से पत्रकारिता का स्वरूप बदल गया है अब यह बहुत तेज गति वाली पत्रकारिता बन गई है. ऑनलाइन जर्नलिज्म, वेब आधारित पत्रकारिता है.

इसे नए जमाने की पत्रकारिता भी कह सकते हैं. प्रिंट मीडिया और इलेक्ट्रॉनिक मीडिया की अपेक्षा यह तेजी से लोकप्रिय हुई हालांकि इन दोनों पत्रकारिता के लक्ष्य तो समान हैं, लेकिन तरीका, उपकरण अलग-अलग हैं. ऑनलाइन पत्रकारिता को डिजिटल पत्रकारिता भी कह सकते हैं.

डिजिटल पत्रकारिता में सभी प्रकार की न्यूज, फीचर एवं रिपोर्ट संपादकीय सामग्री आदि को इंटरनेट के जरिए वितरित किया जाता है. इसमें सामग्री को ऑडियो और वीडियो के रूप में प्रसारित किया जाता है. इसमें सामग्री को नवीन नेटवर्किंग तकनीकी के सहयोग से प्रसारित करते हैं.

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,109FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

अखिलेश यादव और प्रियंका गांधी की फ्लाइट में कुछ इस प्रकार हुई मुलाकात

0
समाजवादी पार्टी के राष्ट्रीय अध्यक्ष अखिलेश यादव और कांग्रेस की राष्ट्रीय महासचिव, यूपी प्रभारी प्रियंका गांधी की आज एक फ्लाइट में अचानक मुलाकात हुई....

सीएम धामी ने की अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपने एक माह का वेतन मुख्यमंत्री राहत कोष में देने की घोषणा की है. मुख्यमंत्री ने राज्य में अक्तूबर...

…तो इस कारण नरसिम्हा राव सरकार नहीं लाई नेताजी की अस्थियां, हुआ बड़ा खुलासा

0
पीवी नरसिम्हा राव सरकार 1990 के दशक में जापान से नेताजी सुभाष चंद्र बोस की अस्थियां भारत लाने के करीब पहुंच गई थी,...

Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले  12 नए मामले, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण काबू में आ गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत...

लौटे गृह राज्य: आलाकमान ने सुनी फरियाद, पंजाब प्रभारी पद से हरीश रावत मुक्त...

0
पंजाब की सियासत में पूर्व मुख्यमंत्री कैप्टन अमरिंदर सिंह और कांग्रेस के नेता नवजोत सिंह सिद्धू के बीच घमासान में फंसे पूर्व मुख्यमंत्री...

टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द टेस्ट मैच का आया नया शेड्यूल, जानें...

0
टीम इंडिया और इंग्लैंड के बीच रद्द हुए सीरीज के 5वें टेस्ट मैच (IND vs ENG) को अगले साल जुलाई महीने के लिए शेड्यूल...

कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी की चुनावी प्रतिज्ञा के अनुसार कल से शुरू होगी यूपी...

0
यूपी विधानसभा चुनाव लिए कांग्रेस पार्टी प्रदेश भर में 23 अक्तूबर से प्रतिज्ञा यात्रा निकालेगी. इसके लिए सभी तैयारिया पूरी हो चुकी है. पूरे...

सत्यपाल मलिक ने किया बड़ा खुलासा: “अंबानी से जुड़ी फाइल पास करने के लिए...

0
जम्मू-कश्मीर के पूर्व गवर्नर एवं मौजूदा मेघालय के उप राज्यपाल सत्यपाल मलिक ने एक बड़ा खुलासा किया है. सत्यपाल मलिक नें दावा किया है...

बिगड़ा बजट: फिलहाल राहत नहीं, अभी पेट्रोल-डीजल के दामों में और हो सकती है...

0
यह भी कहा जा रहा है कि अंतरराष्ट्रीय बाजार में कच्चे तेल का भाव 90 डॉलर प्रति बैरल तक पहुंच सकता है. ऐसे में...

देहरादून: डिफेन्स कॉलोनी में हुआ अनोखी रामलीला का मंचन, बच्चों ने निभाए सभी पात्र

0
उत्तराखंड में बुराई खत्म करने का प्रतीकात्मक पर्व विजय दशमी पर्व धूमधाम एवं हर्षोल्लास के साथ मनाया गया. राजधानी दून के कई जगहों में दशहरे मेले...