कोविड से अपनों को गंवाने वाले बच्चों के मन पर पड़ रहा है बहुत बुरा असर, पढ़े पूरी खबर

मेरी दादी की मौत हो गई. पापा भी कोरोना पॉजिटिव हैं और अस्पताल में एडमिट हैं.’ यह बताते हुए एक बच्चे को पिता की चिंता होती है. इन हालात में कई बच्चे जी रहे हैं. एक बेटा तो पिता की मौत के लिए खुद को जिम्मेदार समझता है. वह कहते हैं कि मैं बेकार हूं, अपने पिता के लिए ऑक्सिजन भी नहीं दिला पाया. मनोवैज्ञानिक असर इतना डरावना है कि कुछ बच्चे ऐसी घटनाओं को लेकर इंटरनेट पर सर्च कर रहे हैं कि पैरेंट्स की मौत हो जाएगी तो हम कैसे जिंदा रहेंगे? इंटरनेट पर यह भी सर्च किया जा रहा है कि जान गंवा चुके उनके पैरंट्स को उनकी आत्मा को शांति मिली होगी या नहीं. कुछ ऐसे हालात से इन दिनों कई बच्चे गुजर रहे हैं.

18 साल के एक स्कूली बच्चे को किसी पर विश्वास नहीं होता. वह भ्रम में रहता है. अपने भाई-बहन से भी बात नहीं करता है. दरअसल, कोविड की वजह से उसके माता-पिता दोनों की मौत हो गई है. इस हादसे के बाद वह इतना डर गया है कि वह किसी पर विश्वास नहीं कर पा रहा है. काउंसिल के बाद बच्चे में अब सुधार हो रहा है.

यह भी पढ़ें -  IND vs NZ 2nd Test: टीम इंडिया ने जीता टॉस, चुनी बल्लेबाजी

एक और बच्चे के पिता की कोविड से मौत हो गई. घर में मां और दो भाई हैं. पिता की मौत के बाद आर्थिक स्थिति खराब होने लगी है. बड़ा भाई अभी 12वीं में ही पढ़ रहा है और सिर्फ 17 साल का है. वह इन दिनों नौकरी की तलाश में है. पूरा परिवार सदमे के साथ आर्थिक तंगी से भी जूझ रहा है.

मनोवैज्ञानिक डॉक्टर रागिनी सिंह का कहना है कि इस महामारी ने सबसे ज्यादा बच्चों के जीवन को प्रभावित किया है. उन्होंने सब कुछ देखा है और झेला है. किसी के घर में कोरोना हुआ, दादी की मौत हो गई. माता-पिता एडमिट हैं. घर के लोगों अस्पताल में एडमिट करने, दवा के लिए भटकते हुए, ऑक्सिजन के भागदौड़ करते हुए देखा है. यह स्ट्रेस उनके मन से आसानी से नहीं जाता है.

यही नहीं, कई बार एक ही परिवार में पहले पिता की मौत, फिर माता की मौत होती है. डेड बॉडी घर आती है. बच्चे अचानक अनाथ हो जाते हैं. जिन बच्चों ने ऐसे माहौल को देखा है, उसके मन पर गहरा असर पड़ा है. वे स्ट्रेस और एंजायटी से पीड़ित हैं. मन में खुद की मौत डर और अंदेशा हो गया है. इसलिए, इन बच्चों के लिए यह बहुत ही नाजुक समय है. उन्हें सबसे ज्यादा अपने परिवार, रिश्तेदारों, दोस्तों, समाज और सरकार के सहयोग की जरूरत है.

यह भी पढ़ें -  Covid19: देश में 'ओमिक्रोन' की दस्तक से बढे कोरोना के मामले, जानें ताजा स्थिति

सायकायट्रिस्ट डॉक्टर समीर पारिख का कहना है कि कहा कि पिछले डेढ़ साल से महामारी है. बच्चों के एग्जाम नहीं हो पा रहे हैं. कभी पड़ोसी, कभी रिश्तेदार, तो कभी अपने घर में कोविड की वजह से हो रही मौत को वह आए दिन देख रहे हैं. बच्चों का रूटीन बना रहना चाहिए, नहीं तो आगे इसका और नुकसान हो सकता है.

संयुक्त परिवार को उसके बारे में सोचना होगा. एकल परिवार के बच्चों को यह ज्यादा दिक्कत हो रही है, क्योंकि किसी की मौत के बाद उनके साथ कोई अपना खड़ा नहीं है, जिस पर वह विश्वास कर सके. हमारे समाज की सबसे बड़ी मजबूती संयुक्त परिवार है. ऐसे में परिवार और रिश्तेदारों का सबसे अहम योगदान है.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में कोरोना ने बढ़ाई टेंशन: 13,000 पुलिसकर्मियों के हुए टेस्ट, 50 पुलिसकर्मी संक्रमित

डॉ रागिनी ने कहा कि ऐसे बच्चों को इलाज की भी जरूरत होती है. इसलिए समय पर इलाज कराएं. कई बार केमिकल इनबैलेंस की वजह से होता है शुरू में कुछ दवा देनी पड़ती है और इसके बाद काउसंलिंग की जाती है. परिवार और रिश्तेदार के बाद स्कूल और पड़ोसी व दोस्त का अहम रोल आता है.

उसमें निगेटिव चीजों के बजाय पॉजिटिव चीजों को उभारना होगा. हौसला देना होगा. डॉ समीर ने कहा कि परिवार, पड़ोसी, आरडब्ल्यूए के बाद सरकार की जिम्मेदारी आती है. सोशल सपोर्ट सबसे अहम है. ऐसे बच्चों का खास ध्यान देना चाहिए. इकॉनमी सपोर्ट के बारे में सोचने की जरूरत है. काउंसिलिंग जारी रखनी चाहिए, ताकि बच्चों को यह समझाया जा सके कि जो हुआ वह महामारी थी, न कि आपकी गलती. समय के साथ सुधार होगा, लेकिन इसके लिए हर किसी को अपनी अपनी जिम्मेदारी निभानी होगी.

साभार-नवभारत

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,158FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

IND vs NZ 2nd Test: टीम इंडिया ने जीता टॉस, चुनी बल्लेबाजी

0
भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का आज दूसरा और आखिरी मुकाबला है. इस सीरीज का पहला मैच ड्रॉ होने के...

उत्तराखंड में बदला मौसम का मिज़ाज, पहाड़ों में बर्फबारी -मैदानों में रिमझिम बारिश

0
देहरादून| उत्तराखंड में मौसम का मिज़ाज बदल गया है. पहाड़ी इलाकों में बर्फीली हवाएं शुरू हो गई हैं. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पहाड़ी...

उत्तराखंड: देहरादून में पीएम मोदी की रैली को लेकर चार दिसंबर को बदले रहेंगे...

0
कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराखंड दौरा है. देहरादून के परेड ग्राउंड में मोदी रैली में हिस्सा लेंगे. इसको देखते हुए पुलिस ने रूट...

नए साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना पड़ेगा महंगा, जानिए डिटेल्स

0
अगले महीने यानी साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना महंगा पड़ेगा. जी हां..अब कैश निकालना और महंगा होने वाला है. ग्राहक...

दिल्ली में प्रदूषण: सुनवाई से पहले केंद्र सरकार ने सुप्रीमकोर्ट में दाखिल किया हलफनामा

0
दिल्ली में प्रदूषण को लेकर सुप्रीम कोर्ट के तेवर सख्त हैं. कागजी समाधानों से प्रदूषण कम न होता देख कोर्ट अपनी नाराजगी जता चुका...

Covid19: देश में ‘ओमिक्रोन’ की दस्तक से बढे कोरोना के मामले, जानें ताजा स्थिति

0
कोरोना के नए वेरिएंट 'ओमिक्रोन' को लेकर देश में दहशत का माहौल पैदा हो गया है तो वहीं देश में पिछले 24 घंटों में...

गैस त्रासदी के 37 साल: भोपाल की जहरीली रात, हवा में ऐसा जहर फैला...

0
आज से 37 साल पहले देश में ऐसी त्रासदी हुई थी जिसने भारत समेत पूरी दुनिया को झकझोर कर दिया था. इस घटना में...

राशिफल 03-12-2021: आज कर्क राशि की वाहन खरीदारी सम्भव, जानें अन्य का हाल

0
मेष- आज के दिन जीवनसाथी का सानिध्य मिलेगा. रोजी-रोजगार में आप तरक्की करेंगे. स्वास्थ एवं प्रेम की स्थिति ठीक रहेगी. वृष- आज के दिन...

3 दिसम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 3 दिसम्बर को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का मुहूर्त...

पन्तनगर: सीएम धामी ने किया राकेट इंडिया प्रा.लि. के विस्तार परियोजना का शुभारम्भ

0
पन्तनगर| गुरूवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रॉकेट इण्डिया प्रा.लि. की नवीनतम विस्तार परियोजना का शुभांरभ किया. उन्होने कहा कि कम्पनी के विस्तार...