एक और चोट: मुकुल रॉय के जाने के बाद बंगाल में भाजपा हुई कमजोर, ममता की ‘हुंकार’ और तेज

भाजपा के लिए बंगाल का जख्म कम होने के बजाय बढ़ता जा रहा है. दो मई को आए राज्य विधानसभा चुनाव नतीजों के बाद हर मोर्चे पर बीजेपी टीएमसी से ‘हारती’ जा रही है. बंगाल चुनाव से पहले टीएमसी में गए भाजपा नेताओं ने अब फिर से घर वापसी शुरू कर दी है. शुक्रवार को भाजपा के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष मुकुल रॉय पार्टी से सभी ‘नाता’ तोड़कर एक बार फिर से ममता बनर्जी की ‘शरण’ में आ गए हैं. इसके बाद बंगाल में भाजपा की ‘रीढ़’ भी कमजोर हो गई है.

वहीं मुकुल के लिए भाजपा में करने के लिए अब कुछ बचा भी नहीं था. बंगाल में विधानसभा 5 वर्ष और लोकसभा के चुनाव 3 साल बात होने हैं. इस प्रकार मुकुल की बीजेपी में राजनीति ‘ठंडी’ हो जाती. दूसरी ओर भाजपा हाईकमान ने उन्हें शुभेंदु अधिकारी से भी ‘जूनियर’ बना दिया था. ‘अब मुकुल ममता के साथ रहकर सत्ता पक्ष में बने रहेंगे, इससे बंगाल में उनका रुतबा भी बरकरार रहेगा’. ‘बता दें कि मुकुल रॉय ही ऐसे नेता थे जिनके सहारे भाजपा ने बंगाल की सत्ता पर काबिज होने के लिए साल 2017 से सपने देखने शुरू कर दिए थे, रॉय बंगाल की राजनीति का ऐसा पहला बड़ा चेहरा हैं जो बीजेपी से टीएमसी में शामिल हुए थे’.

यह भी पढ़ें -  अनुशासन की दी सीख: नाराज नेताओं को सोनिया का सख्त संदेश, कहा- 'मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष और सक्रिय हूं'

‘मुकुल के चुनावी प्रबंधन का ही कमाल था कि भाजपा ने 2018 में हुए पंचायत चुनाव में कई सीटों पर शानदार प्रदर्शन किया था, इसके बाद साल 2019 लोकसभा में पार्टी ने 18 सीटें जीतकर इतिहास रच दिया इसके पीछे भी रॉय का बड़ा रोल रहा’. उसके बाद सब कुछ ठीक चलता रहा भाजपा में मुकुल की अहमियत बढ़ती चली गई है. उन्हें बीजेपी का राष्ट्रीय उपाध्यक्ष बनाया गया. लेकिन बंगाल विधानसभा चुनाव के दौरान भाजपा हाईकमान का मुकुल पर भरोसा कम होता चला गया. ‘बंगाल चुनाव के दौरान रॉय ने महसूस किया कि 2019 लोकसभा चुनाव के दौरान उनसे मशविरा किया गया, तो बीजेपी को इस चुनाव में शानदार जीत मिली थी.

लेकिन साल 2021 में ऐसा संभव नहीं हो पाया, उन्हें पार्टी की सभी बैठकों और चर्चा में शामिल नहीं किया गया और न ही उनके सुझावों को भी ज्यादा महत्व नहीं दिया गया’. जबकि तृणमूल कांग्रेस में मुकुल रॉय का कद कभी नंबर-2 का हुआ करता था. ये भी एक बड़ी वजह रही उनके पार्टी से बाहर कदम रखने की. रॉय को भाजपा ने कोलकाता की कृष्णानगर उत्तर सीट से चुनावी मैदान में उतारा . उन्होंने टीएमसी की उम्मीदवार कौशानी मुखर्जी को हराया . मुकुल रॉय के बेटे शुभ्रांग्शु रॉय को भी बीजेपी ने टिकट दिया था, लेकिन वे हार गए.

बीजेपी ने भले ही उपाध्यक्ष का पद मुकुल रॉय को दे दिया हो, लेकिन बंगाल की सियासत के तमाम ‘निर्णय’ केंद्रीय नेतृत्व ही लेता रहा. चुनाव के दौरान भी वो अपने विधानसभा क्षेत्र तक सीमित रहे. चुनाव के नतीजे आने के बाद से ही उन्होंने पार्टी से ‘दूरी’ बनानी शुरू कर दी थी. वहीं बंगाल में हार के बाद दिल्ली भाजपा हाईकमान भी उन्हें ‘दरकिनार’ करने लगा नंदीग्राम से शुभेंदु अधिकारी ने ममता बनर्जी को हरा दिया तो उन्हें लगने लगा कि अब बीजेपी इस चेहरे के साथ आगे की राजनीतिक ‘सफर’ को तय करेगी.

यह भी पढ़ें -  देहरादून : ट्रेन से सफर करने वाले ध्यान दें, एक दिसंबर से 28 फरवरी तक ये पांच ट्रेनें रहेंगी रद्द 
यह भी पढ़ें -  सोनिया गांधी अगले साल तक बनी रहेंगी कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष

लेकिन जब शुभेंदु अधिकारी को नेता विपक्ष की जिम्मेदारी दी गई तो मुकुल रॉय को आभास होने लगा कि अब बीजेपी में उनके लिए बहुत कुछ करने के लिए नहीं रह गया है. ‘मुकुल वर्तमान में बीजेपी के राष्ट्रीय उपाध्यक्ष और शुभेंदु अधिकारी से सीनियर थे. लेकिन शुभेंदु के बढ़ते कद की वजह से भी यह नाराजगी सामने आई, विधानसभा चुनाव के बाद प्रतिपक्ष के नेता के चयन का मामला आया तो मुकुल रॉय की जगह बंगाल चुनाव के दौरान पार्टी में शामिल शुभेंदु अधिकारी को इस पद पर बिठा दिया गया’.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

यह भी पढ़ें -  अगर चाहिए शनि देव की कृपा, तो आजमाएं ये उपाय
यह भी पढ़ें -  अयोध्या से लौटने पर सीएम धामी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि दी

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,082FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

नारायण दत्त तिवारी के नाम से जाना जाएगा पंतनगर इंडस्ट्रियल स्टेट, सीएम धामी...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पंतनगर में स्थित औद्योगिक क्षेत्र (इंडस्ट्रियल स्टेट) का नाम पूर्व मुख्यमंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी जी के नाम पर...

कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने बिहार के तीन लोगों को मारी गोली, दो...

जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों से आतंकवादियों की घटना तेजी के साथ बढ़ती जा रही है. ये आतंकी बाहरी राज्यों के मजदूरों को निशाना बनाने...

अयोध्या से लौटने पर सीएम धामी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि...

उत्तर प्रदेश के अयोध्या दौरे से लौटे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रविवार को जम्मू कश्मीर में पिछले दिनों शहीद...

उत्तराखण्ड पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने...

उत्तराखण्ड राज्य, पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने वाला राज्य बन गया है. मीडिया सेंटर सचिवालय में...

उत्तराखंड: दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी, 18 अक्टूबर को सभी जिलों...

मौसम विभाग ने उत्तराखंड में दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. इसे देखते हुए एहतियातन प्रदेश के सभी जिलों...

आसान नहीं होगी सोनिया की अगुवाई में कांग्रेस की राह, सामने है ये चुनौतियां

शनिवार को (16अक्टूबर ) सोनिया गांधी ने हुई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बेहद अहम बैठक में इस बात पर खासा जोर दिया...

बीसीसीआई ने हेड कोच सहित 5 पदों के लिए निकाला विज्ञापन

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को मुख्य कोच बनने के लिये मनाने के दो दिन बाद बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) ने लोढा समिति की...

गूगल ने किया किस बारे में खुलासा जो है खतरे की घंटी, आप भी...

गूगल की एक रिपोर्ट का कहना है कि रैंसमवेयर की मुसीबत झेल रहे दुनिया के 140 देशों की लिस्ट में भारत छठवें नंबर...

पश्चिम बंगाल: दुर्गापुर में ‘दुर्गा प्रतिमा विसर्जन’ से लौट रही भीड़...

शनिवार रात पश्चिम बंगाल के दुर्गापुर में 'दुर्गा प्रतिमा विसर्जन' से लौट रही भीड़ पर कुछ लोगों ने देशी बम...

सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी, इन 13 मुद्दों का किया जिक्र

एक बार फिर पंजाब कांग्रेस के अध्यक्ष नवजोत सिंह सिद्धू ने चिट्ठी लिखी है. कांग्रेस की अंतरिम अध्यक्ष सोनिया गांधी को चार पेज की...