Doctor’s Day: बीमारियों को ठीक करने के साथ जिंदगी जीने का ‘हौसला’ भी देते हैं डॉक्टर्स

आज हम एक ऐसे पेशे की चर्चा करने जा रहे हैं जो सभी की जिंदगी से कभी न कभी जुड़ा हुआ होता है. इसके साथ उनकी बातों को लोग गंभीरता के साथ ‘अमल’ भी करते हैं. इनकी तुलना ‘भगवान’ से भी की जाती है. ‘कोरोना महामारी के दौरान इनकी ड्यूटी के साथ समर्पण और सेवा भाव का महत्व और बढ़ गया है’. खुशहाल जीवन जीने के लिए अच्छी सेहत बहुत जरूरी है. अगर कोई भी इंसान बीमारियों से घिर जाता है तब उसे डॉक्टर याद आते हैं.

ऐसे समय में हमें डॉक्टर जिंदगी जीने के लिए ‘हौसला’ भी देते हैं. जी हां हम बात कर रहे हैं डॉक्टर की. आज 1 जुलाई है . हर साल इस तारीख को ‘राष्ट्रीय डॉक्टर्स डे’ मनाया जाता है. ‘इस दिन को मनाने का मुख्य उद्देश्य बेहतर स्वास्थ्य के प्रति लोगों को जागरूक करना और डॉक्टरों को उनकी समर्पित सेवा के लिए शुक्रिया अदा करना है’. इस साल 2021 नेशनल डॉक्टर्स डे की थीम कोरोना वायरस से जोड़ कर ही रखी गई है, ‘बिल्डिंग ए फेयरर, हेल्दियर वर्ल्ड’ है.

यह भी पढ़ें -  बड़ी खबर! अक्टूबर माह से होगा 12-18 साल के बच्चो का टीकाकरण

‘आपने देखा होगा हर घर में छोटी-मोटी बीमारियों के लिए आवाजें सुनाई पड़ती हैं अरे डॉक्टर को नहीं दिखाया क्या, बीमारी आगे बढ़ जाए उससे पहले डॉक्टर को दिखा लो’. डॉक्टर के पास जाने से ही आधी बीमारी मनोवैज्ञानिक दृष्टि से दूर हो जाती है.‌ आज नेशनल डॉक्टर्स डे पर आइए डॉक्टर के त्याग-समर्पण को लेकर कुछ चर्चा की जाए. ‘डॉक्टर हमारे जिंदगी में बहुत ही खास रोल अदा करते हैं, जब भी कोई व्यक्ति बीमार पड़ता है, तो वो डॉक्टर के पास ही जाता है, क्योंकि डॉक्टर ही लोगों को छोटी ही नहीं कई गंभीर और खतरनाक बीमारियों से भी बचाते हैं’.

यह भी पढ़ें -  अच्छी खबर: कोरोना वायरस के आर-वैल्‍यू में आई गिरावट, जानिए क्या है इसका मतलब

ऐसे मुश्किल भरे वक्त में डॉक्टर ही उन्हें ठीक करते हैं और एक नई जिंदगी देने का काम करते हैं. हमारी सेहत का ध्यान रखने के साथ ही वो हमें कई तरह के ‘रोग’ से भी दूर रखते हैं. कोविड-19 महामारी में अपनी जान की परवाह किए बगैर डॉक्टर्स लोगों को नया जीवन देने की हर संभव कोशिश कर रहे हैं. ‘जबकि सही मायने में देश और दुनिया के डॉक्टर इस खतरनाक जानलेवा वायरस से लड़ने के लिए तैयार नहीं थे, लेकिन फिर भी मरीजों को बचाने के लिए हर दिन जूझ रहे हैं’. आपको बता दें कि डॉक्टर एक ऐसा प्रोफेशन है, जिसमें मरीजों का साथ पूरे जीवन भर बना रहता है.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड चारधाम यात्रा 2021: देवस्थानम बोर्ड द्वारा तीर्थयात्रियों हेतु जारी ई-पास का विवरण

देश में साल 1991 से डॉक्टर्स डे मनाने की हुई थी शुरुआत

बता दें कि भारत में हर साल 1 जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे यानी राष्ट्रीय चिकित्सक दिवस मनाया जाता है. केंद्र सरकार ने साल 1991 में इस दिवस को मनाने की शुरुआत की थी, जिसके बाद से हर साल इस दिवस को एक ‘थीम’ के साथ मनाया जाता रहा. लेकिन साल 2020 में कोरोना महामारी के चलते नेशनल डॉक्टर्स डे थीम की घोषणा नहीं की जा सकी. आइए आपको बताते हैं डॉक्टर्स डे क्यों और किसकी याद में मनाया जाता है.

‘एक जुलाई को डॉक्टर बिधानचंद्र रॉय का जन्मदिन और पुण्यतिथि होती है, उन्होंने चिकित्सा के क्षेत्र में अहम योगदान दिया है, उन्हें उनके दूरदर्शी नेतृत्व के लिए बंगाल का आर्किटेक्ट भी कहा जाता है’. 1961 में उन्हें सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न से नवाजा गया था. उन्हीं की याद में तत्कालीन केंद्र सरकार ने साल 1991 में नेशनल डॉक्टर्स डे मनाने का एलान किया था, तब से हर साल एक जुलाई को नेशनल डॉक्टर्स डे मनाया जा रहा है.

यह भी पढ़ें -  अच्छी खबर: कोरोना वायरस के आर-वैल्‍यू में आई गिरावट, जानिए क्या है इसका मतलब

‘यह खास दिन उन तमाम डॉक्टरों को समर्पित है जो जिंदगी और मौत के बीच जूझ रहे इंसानों का न सिर्फ इलाज करते हैं, बल्कि एक नया जीवन भी देते हैं’. बता दें कि प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आज डॉक्टर्स डे के अवसर पर चिकित्सा जगत से जुड़े लोगों को संबोधित करेंगे. इस अवसर पर इंडियन मेडिकल एसोसिएशन ने एक कार्यक्रम पीएम मोदी चिकित्सकों का मनोबल बढ़ाएंगे.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: सीएम धामी ने की बड़ी घोषणा- प्रदेश में 9वीं से 12वीं तक के छात्र-छात्राओं को मिलेंगी मुफ्त किताबें

प्रधानमंत्री ने बुधवार को ट्वीट कर कहा, ‘कोविड-19 के खिलाफ लड़ाई में भारत को अपने सभी डॉक्‍टरों के प्रयासों पर गर्व है. एक जुलाई को नेशनल डॉक्‍टर्स डे मनाया जाता है. गुरुवार दोपहर तीन बजे आईएमए की ओर से आयोजित एक कार्यक्रम में चिकित्सक समुदाय को संबोधित करूंगा.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,060FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--

Latest Articles

औद्योगिक संगठनों के साथ मिलकर राज्य में रोजगार सृजन को बढ़ावा दिया जायेगा: सीएम...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में वर्चुअल माध्यम से सीआईआई के प्रतिनिधियों के साथ राज्य में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 17 नए मामले, एक भी मरीज की...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि 20 मरीजों को ठीक होने के...

असम: अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प, 2 की मौत,...

गुवाहाटी| असम के दर्रांग जिले में 800 परिवारों के पुनर्वास को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में दो लोगों की मौत हो...

सीएम धामी की बड़ी घोषणा, आयुष्मान कार्ड बनाने का कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा

गुरुवार को सीएम धामी ने आई.एस.बी.टी देहरादून स्थित एक होटल में आयुष्मान भारत योजना के 3 वर्ष पूर्ण होने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित...

इन बीमारियों के लिए रामबाण का काम करता है काला नमक

काले नमक के बहुत सारे फायदे होते हैं. आमतौर पर सभी घरों में साधारण नमक का इस्तेमाल होता है. काले नमक का इस्तेमाल घरों...

घुसपैठ कर रहे थे तीन आतंकियों को सेना ने किया ढेर, हथियारों का...

गुरुवार को जम्‍मू कश्‍मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान में भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी हाथ लगी. सेना ने यहां तीन पाक‍िस्‍तानी आतंकियों को...

खुशखबरी: उत्तराखंड में होमगार्ड पदों के लिए निकली भर्ती

उत्तराखंड सरकार ने कोरोना का कहर कम होते ही अलग-अलग विभागों में खाली पदों को भरने की तैयारी शुरू कर दी है. जिला कमांडेंट होमगार्ड्स...

सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए सीएम चन्नी, स्टेज पर किया दमदार ‘भांगड़ा’-देखें...

पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए हैं. सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने एक कार्यक्रम में भांगड़ा...

उत्तराखंड: शक्तिमान घोड़े की मौत के जिम्मेदार माने जाने वाले गणेश जोशी समेत पांच...

बीजेपी विधायक गणेश जोशी समेत अन्य पांच आरोपी शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में दोषमुक्त हो गये हैं. 14 मार्च 2016 को...

भूतिया किले के नाम से जाना जाता है भानगढ़ किला, जानें इतिहास व रोचक...

राजस्थान के अलवर जिले में अरावली पहाडि़यों के बीच सरिस्का अभ्यारण्य की सीमा पर पर मौजूद है भानगढ़ किला. यह किला अपने भूतिया चर्चाओं...