चित्रकूट में चिंतन: धार्मिक नगरी में संघ की बैठक में राजनीतिक हलचल, योगी सरकार की टटोली जाएगी ‘नब्ज’

आइए आज आपको मर्यादा पुरुषोत्तम प्रभु श्री राम की ‘तपोभूमि’ लिए चलते हैं. अयोध्या के बाद इस धार्मिक नगरी को भी प्रभु राम के त्याग और तपस्या के रूप में जाना जाता है. जी हां हम बात कर रहे हैं चित्रकूट की. उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश की सीमा पर स्थित यह धार्मिक नगर मंदाकिनी नदी की कलकल बहती धारा पर बसा हुआ है. 14 साल के ‘वनवास’ में अधिकांश समय प्रभु श्री राम ने यहीं बिताया था इसी को देखने के लिए हर साल देश-विदेश से लाखों श्रद्धालु चित्रकूट आते हैं. यहां कई साधु, संन्यासियों के आश्रम भी हैं.

यहां के लोगों की सबसे बड़ी समस्या रही है कि यह शहर दो राज्यों उत्तर प्रदेश और मध्य प्रदेश के बंधन में ‘जकड़ा’ हुआ है. यहां की आम समस्याओं के लिए भी चित्रकूट वासी असमंजस में रहते हैं कि वह अपनी ‘फरियाद’ कौन सी राज्य सरकारों के सामने कहें. ऐसे ही कई घटनाओं पर भी यूपी-एमपी की पुलिस भी ‘उलझी’ रहती है. खैर यह तो मुद्दा चलता ही रहेगा. लेकिन आज हम चर्चा करने जा रहे हैं चित्रकूट में एक बार फिर से संघ की बैठक के बाद राजनीति जगत में भी ‘हलचल’ बढ़ी हुई है. राष्ट्रीय स्वयंसेवक संघ का चिंतन शिविर आज से चित्रकूट के पंडित दीनदयाल शोध संस्थान आरोग्यधाम शुरू हो गया.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: विधि विधान से प्रारंभ हुई हेमकुंड साहिब की यात्रा, एक दिन में 1000 श्रद्धालुओं को इजाजत

9-10 जुलाई को 11 क्षेत्रों के ‘क्षेत्र प्रचारक’ और सह क्षेत्र प्रचारकों की बैठक होगी . इसमें विशेष रूप से सरसंघचालक डॉ. मोहन भागवत, सरकार्यवाह दत्तात्रेय होसबाले और सभी पांचों सहसरकार्यवाह उपस्थित रहेंगे. संघ के सातों कार्य विभाग के अखिल भारतीय प्रमुख और सह प्रमुख भी सहभागी होंगे. 12 जुलाई को देशभर के संघ रचना के अनुसार सभी 45 प्रांतों के प्रांत प्रचारक और सह प्रांत प्रचारक ऑनलाइन जुड़ेंगे.

13 जुलाई को विविध संगठन के अखिल भारतीय संगठन मंत्री बैठक से जुड़ेंगे. बैठक में यूपी और एमपी दोनों ही राज्यों के बीजेपी नेता भी पहुंच सकते हैं और सरकार के मंत्रियों के भी पहुंचने की संभावना हैै. बैठक के लिए संघ प्रमुख भागवत और सर सहकार्यवाह दत्तात्रेय होसबोले दो दिन पहले ही चित्रकूट पहुंचे . आरएसएस की यह बैठक यहां हर साल होती है, लेकिन पिछले साल कोविड-19 की वजह से यह रद कर दी गई थी. ‘यह बैठक इसलिए महत्वपूर्ण मानी जा रही है कि अगले साल उत्तर प्रदेश में विधानसभा चुनाव होने हैं’. इस बैठक में योगी सरकार के कामकाज की ‘नब्ज टटोली’ जाएगी.

यह भी पढ़ें -  संडे सियासत: केजरीवाल की आज कुमायूं में दस्तक, हल्द्वानी में रोड शो कर टटोलेंगे मिशन 22 की सियासी नब्ज

संघ काफी समय से उत्तर प्रदेश को लेकर सक्रिय है. पिछले दिनों योगी सरकार मे मची ‘उठापटक’ के बीच संघ के शीर्ष नेताओं ने लखनऊ आकर कई बार बैठक की. संघ के दूसरे नंबर के शीर्ष नेता दत्तात्रेय होसबोले को दो बार लखनऊ आकर लंबी बैठक भी करनी पड़ी थी. इसके अलावा बीएल संतोष, सुनील बंसल ने भी कई दिनों तक लखनऊ में डेरा जमाए रखा था. ऐसे में संघ की पांच दिवसीय बैठक पर सभी की निगाहें हैं.

यह भी पढ़ें -  योगी सरकार ने अपने 4.5 साल के कार्यकाल का रिपोर्ट कार्ड किया पेश, गिनाई सरकार की उपलब्धियां

आरएसएस प्रमुख भागवत के चित्रकूट पहुंचने से पहले से ही कई मंत्रियों ने डेरा डाल रखा है. माना जा रहा है कि इस बैठक में तमाम सामाजिक और देश के अन्य मुद्दों पर मंथन किया जाएगा. धर्मांतरण से लेकर राम मंदिर निर्माण पर भी चर्चा होगी.

भागवत के हिंदू-मुस्लिम डीएनए बयान पर राम भद्राचार्य ने जताई नाराजगी
यहां हम आपको बता दें कि पिछले दिनों संघ प्रमुख मोहन भागवत ने गाजियाबाद में कहा था हिंदू और मुसलमान का ‘डीएनए’ एक है. इस बयान के बाद भागवत विपक्ष और अपनों से ही ‘घिर’ गए . इसका संघ में ही आंशिक रूप से ‘विरोध’ भी देखने को मिला.

इसके साथ विपक्ष के नेता और मध्य प्रदेश के पूर्व सीएम दिग्विजय सिंह, बसपा प्रमुख मायावती, असदुद्दीन ओवैसी आदि नेताओं ने मोहन भागवत के बयान पर निंदा कर सवाल उठाए थे. गुरुवार को जब आरएसएस प्रमुख मोहन भागवत ने तुलसी पीठ में राम भद्राचार्य से मुलाकात के दौरान कई मुद्दों पर खुलकर बात की.

यह भी पढ़ें -  आईसीएआई सीए इंटर परीक्षा 2021 का परिणाम जारी, ऐसे करें चेक
यह भी पढ़ें -  Covid19: देश में कोरोना संक्रमण के 30,773 नए मामले-309 मरीजों की मौत

राम भद्राचार्य ने संघ प्रमुख से ही उनके डीएनए वाले बयान पर ‘नाराजगी’ जताते हुए कहा कि बयान अनुकूल नहीं था. ‘रामभद्राचार्य ने यूपी में योगी सरकार के कामकाज पर चर्चा करते हुए कहा कि उनका काम अच्छा नहीं है, योगी का काम केवल सोशल मीडिया तक ही सीमित है, धरातल पर कोई असर नहीं दिख रहा है’.

रामभद्राचार्य यहीं नहीं रुके वे बोले-यूपी के जिला पंचायत चुनाव से मैं संतुष्ट नहीं हूं, फिर भी यूपी में अगली सरकार भाजपा की ही बनेगी. उन्होंने संघ प्रमुख से कहा कि हिंदी को अब ‘राष्ट्रभाषा’ घोषित किया जाए और गोहत्या पर पूरी तरह रोक लगाई जाए.

साथ ही उन्होंने कहा कि चित्रकूट को मध्य प्रदेश और उत्तर प्रदेश के बंधन से ‘मुक्त’ किया जाना चाहिए. इसे किसी एक प्रदेश में रखने से समस्याओं का निस्तारण जल्द होगा. अब देखना है संघ की इस बैठक में मोहन भागवत का मुस्लिमों को लेकर आगे क्या रुख रहता है.

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,058FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--

Latest Articles

आत्मशांति: पितृपक्ष में पूर्वज पृथ्वी पर परिजनों के पास आते हैं, पितरों का श्रद्धा...

आज से हमारे देश में श्राद्ध पक्ष (पितृ पक्ष) आरंभ हो गए हैं. हिंंदू शास्त्रों के अनुसार (16 दिन) तक चलने वाले श्राद्ध पक्ष...

चरणजीत चन्नी का शपथ ग्रहण आज, बनेंगे पंजाब के पहले दलित मुख्यमंत्री

कैप्टन अमरिंदर सिंह के इस्तीफे के बाद विधायक चरणजीत सिंह चन्नी पंजाब के 17वें मुख्यमंत्री के रूप में आज शपथ लेंगे. चन्नी आज 11...

पंजाब के बाद अब क्या छत्तीसगढ़ में बदलेगा मुख्यमंत्री! टीएस सिंहदेव को बुलाया...

पंजाब के बाद अब छत्तीसगढ़ कांग्रेस में भी गुटबाजी खत्म होने का नाम नहीं ले रही है. छत्तीसगढ़ में ढाई-ढाई साल के फॉर्मूले को...

महाराष्ट्र: कराड रेलवे स्टेशन पर हिरासत में लिए गए भाजपा नेता किरीट सोमैया, मंत्री...

महाराष्ट्र| भाजपा नेता किरीट सोमैया को पुलिस ने सतारा जिले के कराड रेलवे स्टेशन पर हिरासत में लिया है. मुंबई पुलिस द्वारा सोमैया...

सीएम हेमंत बिस्वा का बड़ा बयान, बोले- अगला कश्मीर बनने की राह पर ‘असम’

सिलचर| असम के सीएम हेमंत बिस्वा सरमा ने बड़ा बयान देते हुए कहा कि असम अगला कश्मीर बनने की राह पर है. उन्होंने कहा...

विराट कोहली ने टी20 के बाद आईपीएल में भी कप्तानी छोड़ने का किया फैसला

विराट कोहली ने 3 दिन के भीतर दूसरी टीम की भी कप्तानी छोड़ दी. अब वो आईपीएल में भी रॉयल चैलेंजर्स बेंगलोर की कप्तानी...

आखिर कांग्रेस ने चुनाव से ठीक पहले चन्नी पर ही क्यों खेला दांव, जानें...

कांग्रेस ने चरणजीत सिंह चन्‍नी को पंजाब के नए मुख्यमंत्री के तौर पर चुना है. वो आज शपथ लेंगे. 58 साल के चन्नी...

उत्तराखंड: इस मंदिर में देवताओं के साथ होते हैं संत-महापुरुषों और स्वतंत्रता सेनानियों के...

भारत माता मंदिर में देश ही नहीं विदेशों से भी श्रद्धालु आते हैं. समन्वय सेवा ट्रस्ट के मैनेजर उदय नारायण पांडे बताते हैं कोरोनाकाल...

राशिफल 20 -09- 2021: श्राद्ध पक्ष के पहले दिन इन राशियों का चमकेगा...

मेष-: विवाह के लिए किए गए प्रयास सफल रहेंगे. सामाजिक प्रतिष्ठा बढ़ेगी. निवेश शुभ रहेगा. धन प्राप्ति सुगम होगी.
यह भी पढ़ें -  पंजाब: सिद्धू के सलाहकार मोहम्मद मुस्तफा का कैप्टन पर हमला, बोले- मैं पूरी किताब खोल दूंगा
वृषभ-: शुभ समाचार मिलेंगे. निवेश...

20 सितम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 20 सितम्बर 2021 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...