हरेला 2021: जानिए उत्तराखंड लोक पर्व हरेला का इतिहास एवं महत्व

उत्तराखंड की धरती पर ऋतुओं के अनुसार कई अनेक पर्व मनाए जाते हैं. यह पर्व हमारी संस्कृति को उजागर करते हैं , वहीं पहाड़ की परंपराओं को भी कायम रखे हुए, इन्हीं खास पर्वो में शामिल, हरेला उत्तराखंड में एक लोकपर्व है. हरेला शब्द का तात्पर्य हरयाली से हैं. यह पर्व वर्ष में तीन बार आता हैं. पहला चैत मास में दूसरा श्रावण मास में तथा तीसरा व् वर्ष का आखिरी पर्व हरेला आश्विन मास में मनाया जाता हैं .

चैत्र मास में – प्रथम दिन बोया जाता है तथा नवमी को काटा जाता है.श्रावण मास में – सावन लगने से नौ दिन पहले आषाढ़ में बोया जाता है और दस दिन बाद श्रावण के प्रथम दिन काटा जाता है. आश्विन मास में – आश्विन मास में नवरात्र के पहले दिन बोया जाता है और दशहरा के दिन काटा जाता है.

यह भी पढ़ें -  नवमी पर मां सिद्धिदात्री की पूजा-आराधना के साथ शारदीय नवरात्र का होता है समापन

उत्तराखंड के लोगो द्वारा श्रावण मास में पढने वाले हरेले को अधिक महत्व दिया जाता हैं क्योंकि श्रावण मास शंकर भगवान जी को विशेष प्रिय है. सावन लगने से नौ दिन पहले पांच या सात प्रकार के अनाज के बीज एक रिंगाल को छोटी टोकरी में मिटटी डाल के बोई जाती हैं. इसे सूर्य की सीधी रोशनी से बचाया जाता है और प्रतिदिन सुबह पानी से सींचा जाता है. 9 वें दिन इनकी पाती की टहनी से गुड़ाई की जाती है और दसवें यानि कि हरेला के दिन इसे काटा जाता है. और विधि अनुसार घर के बुजुर्ग सुबह पूजा-पाठ करके हरेले को देवताओं को चढ़ाते हैं. उसके बाद घर के सभी सदस्यों को हरेला लगाया जाता हैं

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 10 नए कोरोना संक्रमित, एक भी मरीज की मौत नहीं

हरेला चढ़ाते समय बड़े- बुजुर्गो द्वारा आशीर्वाद कुछ इस प्रकार दी जाती है

जी रया ,जागि रया ,

यह भी पढ़ें -  नवमी पर मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने कन्याओं को भोजन करा कर लिया आशीर्वाद

यो दिन बार, भेटने रया,

दुबक जस जड़ हैजो,

पात जस पौल हैजो,

स्यालक जस त्राण हैजो,

हिमालय में ह्यू छन तक,

गंगा में पाणी छन तक,

हरेला त्यार मानते रया,

जी रया जागी रया.

हरेला घर मे सुख, समृद्धि व शान्ति के लिए बोया और काटा जाता है. हरेला अच्छी फसल का सूचक है, हरेला इस कामना के साथ बोया जाता है कि इस साल फसलो को नुकसान ना हो.

यह भी मान्यता है कि जिसका हरेला जितना बडा होगा उसे कृषि मे उतना ही फायदा होगा. वैसे तो हरेला घर-घर में बोया जाता है, लेकिन किसी-किसी गांव में हरेला पर्व को सामूहिक रुप से स्थानीय ग्राम देवता मंदिर में भी मनाया जाता हैं गाँव के लोग द्वारा मिलकर मंदिर में हरेला बोई जाती हैं. और सभी लोगों द्वारा इस पर्व को हर्षोल्लास से मनाया जाता हैं.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 14-10-2021: शारदीय नवरात्रि के महानवमी के दिन कैसा रहेगा आप का दिन, जानिए

सावन का महीना हिन्दू धर्म में पवित्र महीनों में से एक माना जाता है. यह महिना भगवान शिव को समर्पित है. और भगवान शिव को यह महीना अत्यधिक पसंद भी है. इसीलिए यह त्यौहार भी भगवान शिव परिवार को समर्पित है. और उत्तराखंड की भूमि को तो शिव भूमि (देवभूमि) ही कहा जाता है. क्योंकि भगवान शिव का निवास स्थान यही देवभूमि कैलाश (हिमालय) में ही है. इसीलिए श्रावण मास के हरेले में भगवान शिव परिवार की पूजा अर्चना की जाती हैं. (शिव,माता पार्वती और भगवान गणेश) की मूर्तियां शुद्ध मिट्टी से बना कर उन्हें प्राकृतिक रंग से सजाया-संवारा जाता है. जिन्हें स्थानीय भाषा में डिकारे कहां जाता है . हरेले के दिन इन मूर्तियों की पूजा अर्चना हरेले से की जाती है. और इस पर्व को शिव पार्वती विवाह के रूप में भी मनाया जाता है.

यह भी पढ़ें -  यशपाल आर्य की 'घर वापसी' से बढ़ा बीजेपी का सिरदर्द, तो उधर कांग्रेस के भीतर भी मची खलबली

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,083FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या के 15 घंटे बाद निहंग का सरेंडर

सिंघु बॉर्डर पर युवक की हत्या के 15 घंटे बाद एक निहंग ने पुलिस के सामने सरेंडर कर दिया है. कुंडली थाने से पुलिस...

वरिष्ठ पत्रकार हरीश कोठारी मुख्यमंत्री धामी के बने मीडिया कोऑर्डिनेटर, शासनादेश जारी

साल 2022 में होने वाले विधानसभा चुनाव से पहले मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने अपनी टीम में एक और नियुक्ति की. सीनियर रिपोर्टर हरीश...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 10 नए कोरोना संक्रमित, एक भी मरीज की मौत...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 10 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि पांच मरीजों को ठीक होने...

आईपीएल का फाइनल शुरू, चेन्नई सुपरकिंग और कोलकाता नाइटराइडर्स आमने-सामने

चेन्‍नई सुपरकिंग्‍स और कोलकाता नाइटराइडर्स के बीच आज दुबई इंटरनेशनल स्‍टेडियम में आईपीएल 2021 का फाइनल मुकाबला शुरू हो गया है. सीएसके ने पहले...

छाई रौनक: मैसूर और कुल्लू का दशहरा रहा है आकर्षण का केंद्र, देश-दुनिया से...

देश में दशहरा पर्व की रौनक छाई हुई है. सभी लोग शाम को होने वाले दशहरा उत्सव की तैयारी में जुटे हैं. मैदानों...

हल्द्वानी: हड़ताल के चलते नलकूप बंद, ढाई लाख से ज्यादा आबादी प्रभावित

जल संस्थान संविदा श्रमिक संघ के आह्वान पर आउटसोर्स कर्मी अनिश्चितकालीन हड़ताल पर चले गए हैं. जिससे हल्द्वानी में जल संकट पैदा हो गया...

20 नवंबर को शीतकाल के लिए बंद होंगे बद्रीनाथ के कपाट, विजयदशमी के खास...

15 अक्टूबर विजयदशमी के खास मौके पर श्री बद्रीनाथ धाम के कपाट बंद होने की तारीख का ऐलान कर दिया गया है. 20 नवंबर...

केंद्रीय कर्मचारियों को इस साल दिवाली से पहले मिल सकती है ये तीन सौगातें,...

केंद्रीय कर्मचारियों के लिए इस साल दिवाली बेहद खास होने वाला है. इस साल दिवाली से पहले सरकारी कर्मचारियों को तीन सौगातें मिलने...

पुंछ एकाउंटर में घायल दो जवानों ने भी दम तोड़ा, अब तक कुल...

जम्मू-कश्मीर के पुंछ में जारी एकाउंटर में गुरुवार से अब तक कुल चार जवान शहीद हो चुके हैं. घायल हुए दो राइफलमैन भी इलाज...

विजयदशमी विशेष: बुराई पर अच्छाई का प्रतीक और शुभ कार्यों के साथ पूजन उत्सव...

आज देशवासियों में विजय उत्सव के साथ हर्षोल्लास का माहौल है. देश में रौनक छाई है. बाजारों में चहल-पहल है. घरों में सभी छुट्टी...