आकाशवाणी डे-उत्तरांचल टुडे विशेष स्टोरी: रेडियो से शुरू हुआ समाचारों-मनोरंजन का सुरीला सफर डिजिटल युग में हुआ ‘कैद’

आज गूगल और सोशल मीडिया के दौर में देश-दुनिया ने भले ही बहुत कुछ पा लिया है. प्रसारण के क्षेत्र और मनोरंजन के तमाम चैनलों की भरमार है.लेकिन इसकी देश में शुरुआत 94 साल पहले हुई थी. आज हम आपको बताएंगे आकाशवाणी के बारे में. भारत में आकाशवाणी की स्थापना 23 जुलाई 1927 को की गई थी. मुंबई (बंबई) में इंडियन ब्रॉडकास्टिंग कंपनी ने रेडियो प्रसारण सेवा शुरू की थी.

तब इसका नाम भारतीय प्रसारण सेवा रखा गया था. 1936 में इसका नाम बदलकर ऑल इंडिया रेडियो कर दिया और 1957 में आकाशवाणी के नाम से पुकारा जाने लगा. मैसूर के विद्वान और चिंतक एमवी गोपालस्वामी ने आकाशवाणी का अर्थ ‘आकाश से मिला संदेश’ बताया. पंचतंत्र की कथाओं में इस शब्द का जिक्र मिलता है. यहां हम आपको बता दें कि अकाशवाणी में जब भी किसी कार्यक्रम की शुरुआत होती थी तो सबसे पहले कहा जाता है, ‘ये आकाशवाणी है, अब आप समाचार सुनिए’.

आइए अब बात को आगे बढ़ाते हैं और जानते हैं आकाशवाणी के सफर के बारे में. साल 1951 में रेडियो के विकास को पंचवर्षीय योजना में शामिल कर लिया गया था इसके बाद से ही आकाशवाणी अस्तित्व में आ गया और जन-जन में लोकप्रिय हो गया . बता दें कि सरकारी प्रसारण संस्थाओं को स्वायत्तता देने के इरादे से 23 नवंबर 1997 को प्रसार भारती का गठन किया गया, जो देश की एक सार्वजनिक प्रसारण संस्था है और इसमें मुख्य रूप से दूरदर्शन और आकाशवाणी को शामिल किया गया है.

यह भी पढ़ें -  जन्मदिन पर सीएम धामी ने की बड़ी घोषणा, बेरोजगारों की बढ़ती फौज को मिलेगी राहत

आकाशवाणी के प्रसारण में आती गई तेजी, श्रोता खूब सुनते थे रेडियो
60 के दशक में भारत में रेडियो और ट्रांजिस्टर का इतना अधिक क्रेज हो गया कि यह समाज के हर तबके और हर घर में सुना जाने लगा . 3 अक्टूबर 1957 को आकाशवाणी की ‘विविध भारती सेवा’ शुरू हुई और देखते ही देखते विविध भारती देश में फरमाइशी फिल्मी गीतों के कार्यक्रम घर-घर में सुने जाने लगे . धीरे-धीरे प्रसारणों में तेजी आती चली गई आकाशवाणी के फिल्मी कलाकारों से मुलाकात, फौजी भाइयों के लिए ‘जयमाला’, ‘नवरंग’, ‘हवा महल’ के नाटक व अन्य लोक कार्यक्रम तेजी से लोकप्रिय हो गए.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखण्ड: नैनीताल हाई कोर्ट में खुला ई-सेवा केन्द्र, वादियों की मिलेगी पूरी जानकारी

उसी दौरान आकाशवाणी से ‘बिनाका गीतमाला’ भी शुरू की गई जिसे अमीन सयानी सुनाया करते थे. बाद में सन 1994 में बिनाका का नाम बदलकर सिबाका हो गया. आप को एक और जानकारी दे दें कि बिनाका और सिबाका के नाम से टूथपेस्ट भी आते हैं. 70 और 80 के दशक में लोग रेडियो लेकर गाना सुनते हुए सड़कों पर निकल जाते . उस दौरान क्रिकेट कमेंट्री सुनने का सबसे जबरदस्त माध्यम रेडियो ही हुआ करता था. लोग रेडियो को लेकर ट्रेनों, बसों और साइकिल पर भी लेकर दिखाई देते.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: मुख्य सचिव ने किया केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण

कई ऑफिसों में भी रेडियो सुना जाता था. पहले मनोरंजन और समाचार सुनने का सबसे बड़ा माध्यम आकाशवाणी हुआ करता था. गांव से लेकर शहर तक लोगों को रेडियो पर प्रसारित होने वाले कार्यक्रमों का बेसब्री से इंतजार रहता . रेडियो की आवाज दूर-दूर तक सुनाई पड़ती थी. लेकिन उसके बाद रंगीन टेलीविजन आने के बाद रेडियो का महत्व कम होता चला गया. ‘केबल नेटवर्क’ ने आकाशवाणी को और पीछे कर दिया.

साल 2000 के बाद देश में आकाशवाणी के प्रसारणों का क्रेज कम होने लगा
वर्ष 2000 के बाद आकाशवाणी और रेडियो का क्रेज धीरे धीरे कम होना शुरू हो गया. कुछ वर्षों तक रेडियो पर एफएम प्रसारण ने भी युवाओं को अपनी ओर आकर्षित तो किया लेकिन कुछ साल बाद सोशल मीडिया एफएम रेडियो पर भारी पड़ गया. उसके बाद मोबाइल, इंटरनेट, कंप्यूटर, गूगल, फेसबुक, व्हाट्सएप, इंस्टाग्राम, टि्वटर और एंड्राइड फोन आदि ने रेडियो का सुरीला सफर कम कर दिया.

यह भी पढ़ें -  18 सितम्बर से शुरू होगी चार धाम और हेमुकंड साहिब यात्रा, सीएम धामी ने कहा-'भक्तों एवं श्रद्धालुओं का स्वागत'

धीरे-धीरे रेडियो के श्रोता कम होते चले गए, जो कल तक आकाशवाणी रेडियो सुनने के जबरदस्त प्रशंसक थे उनको ही रेडियो सुनना अब ‘बोर’ लगने लगा था . साल 2014 में केंद्र में भाजपा की सरकार आने पर प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी आकाशवाणी को गति देने की कोशिश कर रहे हैं. प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी ने जन-जन में रेडियो को एक बार फिर से पहुंचाने के लिए ‘मन की बात’ का प्रसारण शुरू कर दिया.

यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में मिले 25 नए संक्रमित मामले, एक भी मरीज की मौत नहीं

अमेरिका में भी कई राष्ट्रपति हुए हैं जो अपनी मन की बात रेडियो के माध्यम से ही लोगों तक पहुंचाया करते थे . पीएम मोदी का मन की बात प्रत्येक महीनेे के आखिरी रविवार को प्रसारित किया जाता है. इसके माध्यम से प्रधानमंत्री देश की समस्याओं से लेकर अन्य मुद्दों पर देश की जनता के सामने राय रखते हैं. इसके साथ पीएम सीधे लोगोंं से बात भी करते हैं. आकाशवाणी की स्थापना दिवस पर आइए रेडियो से बात करें.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,056FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

GST Meeting: कोरोना संबंधित दवाओं पर छूट रहेगी जारी, पेट्रोल-डीजल पर फैसला नहीं

शुक्रवार को वस्तु एवं सेवा कर काउंसिल की हुई महत्वपूर्ण बैठक में कई फैसले किए गए हैं. कई जीवन रक्षक दवाओं को जीएसटी फ्री...

उत्तराखंड: मुख्य सचिव ने किया केदारनाथ पुनर्निर्माण कार्यों का निरीक्षण

शुक्रवार मुख्य सचिव डॉ एस.एस. सन्धु ने को भगवान केदारनाथ के दर्शन कर प्रदेश की खुशहाली की कामना की. इस अवसर पर मुख्य...

Covid19: उत्तराखंड में मिले 25 नए संक्रमित मामले, एक भी मरीज की मौत नहीं

उत्तराखंड में शुक्रवार को 25 नए संक्रमित मामले मिले हैं. वहीं किसी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि 23 मरीज स्वस्थ हुए हैं. स्वास्थ्य...

सड़क की क्वालिटी जांच: दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे पर केंद्रीय मंत्री गडकरी ने 170 की...

केंद्रीय परिवहन और भूतल मंत्री नितिन गडकरी गुरुवार 16 सितंबर को निर्माणाधीन दिल्ली-मुंबई एक्सप्रेस वे पर सड़क और गाड़ियों की स्पीड जानने के लिए...

उत्तराखंड में 21 सितम्बर से खुलेंगे 1 से 5 वीं तक के स्कूल

उत्तराखंड शिक्षा विभाग से एक बड़ी खबर सामने आ रही है है शिक्षा मंत्री अरविंद पांडे ने मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी से मुलाकात कर...

महिला फिल्म निर्माताओं के लिए मुख्य आवाज बना कलाकारी फिल्म महोत्सव

500+ महिलाओं के साथ ऋषि निकम द्वारा कलाकरी फिल्म समारोह भारतीय और अंतर्राष्ट्रीय महिलाओं को एक अंतरराष्ट्रीय मंच प्रदान कर रहा है. फिल्म निर्माता...

पीएम मोदी के जन्मदिन पर भारत ने रचा इतिहास, लगाई गई 2 करोड़ वैक्सीन

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी के जन्मदिन को एतिहासिक बनाने के लिए वैक्सीनेशन का नया रिकॉर्ड बनाने का लक्ष्य रखा गया था. इस अवसर पर विशेष अभियान के...

भाजपा अध्यक्ष नड्डा ने मोदी के जन्मदिन पर की ‘सेवा और समर्पण अभियान’ की...

प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का आज 71वां जन्मदिन है. भारतीय जनता पार्टी ने इस दिन को एतिहासिक बनाने के लिए देश के अलग-अलग हिस्सों...

पाकिस्तान-न्यूजीलैंड क्रिकेट सीरीज ऐन मौके पर रद्द

पाकिस्तान और न्यूजीलैंड के बीच सीमित ओवरों की क्रिकेट सीरीज ऐन मौके पर रद्द कर दी गई है. सुरक्षा कारणों के चलते न्यूजीलैंड क्रिकेट...

सीएम धामी ने किया सहकारी बैंक की 10 मोबाईल एटीएम वैन का फ्लैग ऑफ

शुक्रवार को सीएम धामी ने सीएम आवास में सहकारी बैंक की 10 मोबाईल एटीएम वैन का फ्लैग ऑफ किया. ये मोबाईल एटीएम वैन राज्य...