उत्तरांचल टुडे सावन विशेष स्टोरी: धार्मिक रीति-रिवाजों और हरियाली-रिमझिम के बीच मन को सुखद एहसास भी कराता है सावन

आज संडे होने की वजह से और दिनों की अपेक्षा सुकून है. मन गुनगुनाने को कर रहा है. तो देर किस बात की है आइए कुछ सुन लिया जाए, फिर चर्चा को आगे बढ़ाते हैं. ‘आया सावन झूम के, तुझे गीतों में ढालूंगा सावन को आने दो, तेरी दो टकियो की नौकरी में, मेरा लाखों का सावन जाए, सावन का महीना पवन करे शोर, दिल में आग लगाए सावन का महीना, सावन जो आग लगाए, उसे कौन बुझाए’.

अब तक आप समझ ही गए होंगे यह फिल्मी गानों की लाइनें क्यों लिखी जा रही हैं, नहीं समझे चलिए हम ही बता देते हैं. आज से सावन का महीना शुरू हो गया है. आषाढ़ के बाद आने वाला यह माह धार्मिक के साथ कई प्राचीन परंपराओं की भी याद दिलाता है.

यहां हम आपको बता दें कि हिंदू धर्म में सावन के महीने का बहुत अधिक महत्व है. सावन का महीना भगवान शिव का प्रिय महीना भी माना जाता है. इस बार सावन 25 जुलाई से 22 अगस्त तक रहेगा. सावन चातुर्मास मास का प्रथम महीना होता है.चातुर्मास में भगवान शिव पृथ्वी का भ्रमण करते हैं और अपने भक्तों को शुभ फल प्रदान कर आशीर्वाद देते हैं. इसलिए चातुर्मास में सावन के महीने का विशेष महत्व है.

सोमवार का व्रत दांपत्य जीवन के लिए शुभ फलदायी माना गया है. सावन में सोमवार के व्रत और भगवान शिव का अभिषेक करने से सभी प्रकारों के कष्टों से मुक्ति प्रदान करता है. इस महीने में भगवान शिव की पूजा-अर्चना करने का विशेष महत्व है. ज्योतिष के अनुसार इस बार सावन के महीने में पड़ने वाले हर सोमवार को विशेष योग बन रहा है. माना जा रहा है कि इसमें पूजा-व्रत करने से भगवान शिव की कृपा प्राप्त होती है.

यह भी पढ़ें -  महत्वपूर्ण दौरा: पीएम मोदी अमेरिका रवाना, व्यापार-रक्षा और सुरक्षा सहयोग पर राष्ट्रपति बाइडेन से होगी बात

26 जुलाई को सावन का पहला सोमवार है. इस दिन सौभाग्य योग बन रहा है. 2 अगस्त को सावन का दूसरा सोमवार है. इस दिन सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है. 9 अगस्त को सावन का तीसरा सोमवार पड़ रहा है. इस दिन वरीयान योग बन रहा है. 16 अगस्त को सावन का चौथा सोमवार है. इस दिन ब्रह्मयोग, यायिजय योग और सर्वार्थ सिद्धि योग बन रहा है.

सावन सोमवार को भगवान शिव की विशेष पूजा अर्चना की जाती है
माना जाता है कि सावन में सोमवार के व्रत करने से व्यक्ति के मन की हर मनोकामना पूरी होती है. भक्त सावन सोमवार के व्रत रखते हैं. इस दिन को सावन की सोमवारी के नाम से जाना जाता है ‌. कहा जाता है इस व्रत को करने से भगवान शिव प्रसन्न होकर अपने भक्तों की सभी मनोकामनाएं पूर्ण कर देते हैं.

यह भी पढ़ें -  असम: अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प, 2 की मौत, 9 पुलिसकर्मी घायल

सुखी वैवाहिक जीवन की कामना से भी सावन सोमवार व्रत रखने की मान्यता है. इस महीने में भक्त पवित्र नदियों से जल लाते हैं और भगवान शिव का जलाभिषेक करते हैं.

सावन लेकर ऐसी धार्मिक मान्यता भी चली आ रही है कि जब सनत कुमारों ने भगवान शिव से सावन महीना प्रिय होने का कारण पूछा तो भगवान शिव ने बताया कि जब देवी सती ने अपने पिता दक्ष के घर में योगशक्ति से शरीर त्याग किया था, उससे पहले देवी सती ने महादेव को हर जन्म में पति के रूप में पाने का प्रण किया था.

अपने दूसरे जन्म में देवी सती ने पार्वती के नाम से हिमाचल और रानी मैना के घर में पुत्री के रूप में जन्म लिया. पार्वती ने युवावस्था के सावन में निराहार रह कर कठोर व्रत किया और शिव को प्रसन्न कर उनसे विवाह किया, जिसके बाद ही शंकर महादेव के लिए यह विशेष हो गया.

यह भी पढ़ें -  IPL2021: एक बार फिर आईपीएल पर कोरोना की मार, टी नटराजन कोरोना पॉजिटिव

हरिद्वार से गंगाजल लाकर भगवान शिव को जलाभिषेक करते हैं भक्त
सावन में पूरे एक महीने श्रद्धालुओं के बम-बम बोल उद्घोष सुनाई पड़ते हैं.‌ बता दें कि सावन के महीने में पूरे देश भर में श्रद्धालु कावड़ यात्रा करते हैं. उत्तर प्रदेश, उत्तराखंड, हरियाणा में कांवड़ यात्रियों की सबसे अधिक भीड़ देखी जाती है. साथ ही कांवड़ मेले का आयोजन भी नहीं होगा.

कांवड़ यात्रा केेे बारे में ऐसी मान्यता चली आ रही है कि भगवान परशुराम ने शिव मंदिर बनाने का संकल्प लिया था. इस मंदिर में शिवलिंग की स्थापना करने के लिए पत्थर लाने वह हरिद्वार गंगा तट पर पहुंचे. हरिद्वार के गंगा तट से भगवान परशुराम पत्थर लेकर आए और उसे शिवलिंग के रूप में पुरेश्वर महादेव मंदिर में स्थापित किया.

तब से ही कहा जाता है कि परशुराम ने हरिद्वार से पत्थर लाकर उसका शिवलिंग पुरेश्वर महादेव मंदिर में स्थापित किया तब से कावड़ यात्रा की शुरुआत मानी जाती है. सावन में लाखों की संख्या में श्रद्धालु कांवड़ में पवित्र जल लेकर एक स्थान से लेकर दूसरे स्थान जाकर शिवलिंगों पर जलाभिषेक करते हैं.

इस बार भी कोविड-19 महामारी चलते इस बार श्रद्धालु कांवड़ नहीं ला सकेंगे. जिसकी वजह से लाखों श्रद्धालु मायूस है. अब बात करेंगे पुरानी परंपराओं और रीति-रिवाजों की.

यह भी पढ़ें -  जम्मू-कश्मीर: सुरक्षा बलों और पुलिस में मुठभेड़, एक वांछित आतंकी ढेर

सावन में हरियाली के बीच बारिश की फुहारों में झूला झूलने की रही है परंपरा
बता दें कि सावन में चारों ओर हरियाली अपनी छटा बिखेरती हैं. मोर भी नृत्य करने लगते हैं. बारिश की रिमझिम-फुहारों हर किसी का मन मोह लेती है. सावन की घटाएं छा जाती हैं. मन प्रफुल्लित (आनंदमय) होने लगता है.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 22-09-2021: श्री गणेश की कृपा से आज इन को होगा लाभ

वैसे यह भी सच है कि बदलते परिवेश में सावन जैसा एहसास अब कम ही होने लगा है. पहले जैसा सावन मन में न आग लगाता है और न दिल मचलता है. गांवों में भी सावन की बहारें भी कम दिखती हैं. सावन के झूलों ने मुझको बुलाया, मैं परदेसी घर आया.

इसी प्रकार के सावन में झूलों को लेकर सैकड़ों गीत लिखे गए हैं. सावन में अगर झूलों की बात न हो तो यह माह पूरा नहीं होता है. हमारे देश में सावन मास में झूलों का पेड़ों की टहनियों में पड़ जाना पुरानी परंपरा रही है.‌ महिलाएं और बच्चे, बड़े सभी झूले के आनंद में सराबोर हो जाते हैं. झूले को झोंका देते हुए महिलाएं मल्हार गाती थीं और हल्की बारिश की फुहारों में झूले पर लंबी-लंबी पैंग बढ़ाकर झूले को तेज करते हुए पेड़ों की शाखाओं को छू लेना सुखद हो जाता है.

लेकिन यह परंपरा धीरे-धीरे कम होती जा रही है. वो झूले, मल्हार, सखा सहेलियों का बचपन सब कुछ ओझल सा हुआ जा रहा है. भागदौड़ भरी जिंदगी में अब लोगों को पता ही नहीं चलता कि सावन कब आकर गुजर जाता है. अब वही बचपन सोशल मीडिया (डिजिटल युग) में उलझकर रह गया है.

इंसान की जिंदगी इतनी व्यस्त हो गई है कि उसे परंपराओं की परवाह नहीं रहती. सावन के झूले भी धीरे-धीरे इतिहास बनने की ओर अग्रसर हैं. आओ सावन मास में झूला झूलने की परंपरा को एक बार फिर वापस लें आए.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,060FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--

Latest Articles

औद्योगिक संगठनों के साथ मिलकर राज्य में रोजगार सृजन को बढ़ावा दिया जायेगा: सीएम...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में वर्चुअल माध्यम से सीआईआई के प्रतिनिधियों के साथ राज्य में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 17 नए मामले, एक भी मरीज की...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि 20 मरीजों को ठीक होने के...

असम: अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प, 2 की मौत,...

गुवाहाटी| असम के दर्रांग जिले में 800 परिवारों के पुनर्वास को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में दो लोगों की मौत हो...

सीएम धामी की बड़ी घोषणा, आयुष्मान कार्ड बनाने का कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा

गुरुवार को सीएम धामी ने आई.एस.बी.टी देहरादून स्थित एक होटल में आयुष्मान भारत योजना के 3 वर्ष पूर्ण होने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित...

इन बीमारियों के लिए रामबाण का काम करता है काला नमक

काले नमक के बहुत सारे फायदे होते हैं. आमतौर पर सभी घरों में साधारण नमक का इस्तेमाल होता है. काले नमक का इस्तेमाल घरों...

घुसपैठ कर रहे थे तीन आतंकियों को सेना ने किया ढेर, हथियारों का...

गुरुवार को जम्‍मू कश्‍मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान में भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी हाथ लगी. सेना ने यहां तीन पाक‍िस्‍तानी आतंकियों को...

खुशखबरी: उत्तराखंड में होमगार्ड पदों के लिए निकली भर्ती

उत्तराखंड सरकार ने कोरोना का कहर कम होते ही अलग-अलग विभागों में खाली पदों को भरने की तैयारी शुरू कर दी है. जिला कमांडेंट होमगार्ड्स...

सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए सीएम चन्नी, स्टेज पर किया दमदार ‘भांगड़ा’-देखें...

पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए हैं. सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने एक कार्यक्रम में भांगड़ा...

उत्तराखंड: शक्तिमान घोड़े की मौत के जिम्मेदार माने जाने वाले गणेश जोशी समेत पांच...

बीजेपी विधायक गणेश जोशी समेत अन्य पांच आरोपी शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में दोषमुक्त हो गये हैं. 14 मार्च 2016 को...

भूतिया किले के नाम से जाना जाता है भानगढ़ किला, जानें इतिहास व रोचक...

राजस्थान के अलवर जिले में अरावली पहाडि़यों के बीच सरिस्का अभ्यारण्य की सीमा पर पर मौजूद है भानगढ़ किला. यह किला अपने भूतिया चर्चाओं...