कर्नाटक: बीएस येडियुरप्पा के इस्तीफे के बाद बीजेपी की राह आसान नहीं, सामने है ये चुनौतियां

बेंगलुरु| मुख्यमंत्री बीएस येडियुरप्पा के इस्तीफे के बाद राज्य में बीजेपी के सामने नई मुश्किल खड़ी होती नजर आ रही है.

अब सियासी समीकरण फिर से मजबूत करने के लिहाज से बीजेपी के सामने दो चुनौतियों से पार पाना सबसे ज्यादा जरूरी होगा. पहला तो बीजेपी को यह सुनिश्चित करना होगा कि 2012 की तरह येडियुरप्पा दोबारा बगावत नहीं करेंगे. दूसरा लिंगायत समुदाय में अपना समर्थन बनाए रखना. खास बात यह है कि लिंगायत समुदाय में येडियुरप्पा का खास वर्चस्व है.

बीजेपी को 2013 विधानसभा चुनाव में एहसास हो गया था कि येडियुरप्पा को साथ लिए बगैर लिंगायत समर्थन हासिल नहीं किया जा सकता. दरअसल, 2011 में मुख्यमंत्री पद से हटाए जाने के बाद येडियुरप्पा ने बीजेपी का साथ छोड़कर कर्नाटक जनता पक्ष (केजेपी) तैयार की थी.

यह भी पढ़ें -  हरक सिंह रावत को बीजेपी से क्यों निकाला! सीएम पुष्कर सिंह धामी ने बताई ये वजह

इसके दो साल बाद हुए चुनाव में केजेपी ने बीजेपी को भारी नुकसान पहुंचाया और आंकड़े बताते हैं कि 1994 के बाद 2013 चुनाव में बीजेपी का प्रदर्शन सबसे बुरा था.

2019 में बीजेपी ने 28 में से 25 लोकसभा सीटें जीतकर अपना सबसे मजबूत प्रदर्शन किया था. हिंदुओं का बड़े समर्थन के बाद लिंगायत की तरफ से भी 87 प्रतिशत समर्थन हासिल था. लिंगायत आबादी की राज्य में 16%-17% फीसदी की हिस्सेदारी है. 2019 लोकसभा चुनाव के बाद कांग्रेस-जेडीएस सरकार गिर गई थी, जिसके बाद येडियुरप्पा को सीएम बनाया गया था. कर्नाटक में लिंगायत बीजेपी के बड़े समर्थक हैं, लेकिन वे येडियुरप्पा के भी वफादार हैं.

यह भी पढ़ें -  अक्टूबर 2014 के बाद से कच्चे तेल में रिकॉर्ड तेजी, ग्राहकों को लगेगा झटका

अगर समुदाय के हिसाब से 2008 और 2013 का वोट शेयर की तुलना की जाए, तो सीएसडीए लोकनीति का सर्वे दिखाता है कि लिंगायत ने 2013 में बीजेपी से मुंह मोड़ लिया था. जबकि, 2014 चुनाव में लिंगायत समर्थन पार्टी को वापस मिलता दिखा और उस समय तक येडियुरप्पा की भी पार्टी में वापसी हो चुकी थी.

यह भी पढ़ें -  जनता इंतजार में: उत्तराखंड में 'पहले आप पहले आप में' अटकी भाजपा और कांग्रेस के प्रत्याशियों की सूची

कर्नाटक में जातिवाद की राजनीति बहुत जरूरी रही है. देवराज के नेतृत्व में कांग्रेस ने AHINDA गठबंधन पर कमान हासिल कर ली थी. इमें अल्पसंख्यक, पिछड़ा वर्ग और दलित शामिल थे.

वहीं, 2018 चुनाव के दौरान कांग्रेस एक तरफ AHINDA कार्ड खेल रही थी, तो दूसरी ओर लिंगायत को लुभाने में लगी थी. ऐसे में पार्टी को लिंगायत का समर्थन तो मिला, लेकिन अन्य वर्गों में नुकसान उठाना पड़ा.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,181FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 19-01-2022: आज भाग्य देगा इस राशि का साथ, इन्हें होगी आकस्मिक धन की...

0
मेष- आज भाग्य आपका साथ देगा.आज पार्टनरशिप में किया गया काम फायदेमंद है. आज आपको पुरानी बीमारी से मुक्ति मिलेगी. वृष- आज घर में...

19 जनवरी 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 19 जनवरी 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का...

मुंबई: युद्धपोत आईएनएस रणवीर में विस्फोट, नौसेना के 3 जवानों की मौत

0
मुंबई में युद्धपोत आईएनएस रणवीर में ब्लास्ट हुआ है, इस धमाके में नौसेना के 3 जवानों की मौत हो गई है. भारतीय नौसेना के...

नैनीताल: हल्द्वानी में शनिवार को बाजार बंद

0
उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते केसो के बीच प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है. नैनीताल जिला प्रशासन ने शनिवार को बाजार को पूरी...

बसंत पंचमी और शिवरात्रि के दिन बद्रीनाथ, केदारनाथ धाम के कपाट खुलने की तिथि...

0
उत्तराखंड में कोरोना के बढ़ते केसो के बीच प्रशासन ने सख्ती शुरू कर दी है. नैनीताल जिला प्रशासन ने शनिवार को बाजार को पूरी...

नीट यूजी काउंसलिंग 19 जनवरी से, जान लें शेड्यूल, रजिस्ट्रेशन प्रॉसेस और नए नियम

0
नीट यूजी काउंसलिंग कल (19 जनवरी) से शुरू हो रही है. मेडिकल काउंसलिंग कमेटी (MCC) के अनुसार NEET UG 2021 AIQ काउंसलिंग का...

Covid19: उत्तराखंड में बेकाबू हुआ कोरोना-एक दिन में मिले 4400 से ज्यादा मामले-6 की...

0
उत्तराखंड में मंगलवार को कोरोना विस्फोट हुआ है. स्वास्थ्य विभाग की ओर से मंगलवार को जारी हेल्थ बुलेटिन के अनुसार, संयुक्त मजिस्ट्रेट, पयर्टक, छात्र...

उत्तराखंड चुनाव: हरक सिंह रावत ने भाजपा-कांग्रेस की प्रत्याशियों की जारी होने वाली सूची...

0
देहरादून| उत्तराखंड में 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. कांग्रेस ने अपने प्रत्याशियों के नाम तय कर दिए थे. पार्टी पहली...

जनता इंतजार में: उत्तराखंड में ‘पहले आप पहले आप में’ अटकी भाजपा और कांग्रेस...

0
उत्तराखंड में सबसे पहले चरण यानी 14 फरवरी को विधानसभा चुनाव होने जा रहे हैं. करीब 25 दिन बाकी रह गए हैं लेकिन भारतीय...

हरीश रावत बड़े भाई हैं, 100 दफा मांग सकता हूं माफी: हरक सिंह रावत

0
उत्तराखंड में कैबिनेट मंत्री रहे हरक सिंह रावत इस समय बिना दल के हैं. दरअसल बीजेपी ने उन्हें सरकार और पार्टी दोनों जगह से...
%d bloggers like this: