बसव ‘राज’ शुरू: येदियुरप्पा के करीबी ने ही संभाली कमान, हाईकमान ने नहीं दोहराई पिछली गलती

बसवराज बोम्मई ने कर्नाटक की कमान संभाल ली है. राज्यपाल थावरचंद गहलोत ने उन्हें मुख्यमंत्री पद की शपथ दिलाई. इसके साथ ही वे राज्य के 23वें मुख्यमंत्री बन गए. बसवराज इससे पहले येदियुरप्पा सरकार में गृह और कानून मंत्रालय देख रहे थे. बसवराज के पिता एसआर बोम्मई भी कर्नाटक के मुख्यमंत्री रहे हैं. ‘नए मुख्यमंत्री बोम्मई साफ छवि के माने जाते हैं. साथ ही येदियुरप्पा के करीबी भी हैं’.

इस वक्त बीजेपी येदियुरप्पा को नाराज करने का रिस्क नहीं उठा सकती, यही कारण है कि येदियुरप्पा के कहे गए नाम पर ‘मुहर’ लगानी पड़ी. इसे येदियुरप्पा का ‘मास्टरस्ट्रोक’ कह सकते हैं क्योंकि बोम्मई येदियुरप्पा का मोहरा हैं और लिंगायत समुदाय से ही आते हैं. इसी के साथ बीएस येदियुरप्पा की सक्रिय राजनीति का ‘सफर’ भी खत्म हो गया है. लेकिन इस बार भाजपा केंद्रीय नेतृत्व ने कर्नाटक में नेतृत्व परिवर्तन को लेकर दूरदृष्टि की नीति अपनाई. पिछली बार नेतृत्व परिवर्तन का सबक लेते हुए इस बार आलाकमान पूरी तरह सतर्क था.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 19-01-2022: आज भाग्य देगा इस राशि का साथ, इन्हें होगी आकस्मिक धन की प्राप्ति

बता दें कि कर्नाटक की सियासत में ठीक एक दशक पहले साल 2011 में जो हुआ था वह अब दोहराया नहीं गया. उस समय भी राज्य में विधानसभा चुनाव होने के लिए दो साल बाकी थे, जो 2013 में हुए थे. अब कर्नाटक में 2 साल बाद 2023 में चुनाव होंगे. बात को आगे बढ़ाते हैं. ‘कर्नाटक में एक दशक के सियासी घटनाक्रम भाजपा के वरिष्ठ नेता बीएस येदियुरप्पा से जुड़े हुए हैं. दोनों बार मुख्यमंत्री की कुर्सी से येदियुरप्पा को हटाया गया.

लेकिन इस बार हाईकमान ने कर्नाटक में बीएस येदियुरप्पा को हटाने में रणनीति बनानी पड़ी’. मतलब साफ है कर्नाटक की राजनीति में मुख्यमंत्री के पद से इस्तीफा देने से लेकर नए नेता के चयन की जिम्मेदारी पूरी तरह बीएस येदियुरप्पा को ही दी गई . सही मायने में आलाकमान ने इस बार साल 2011 वाली गलती नहीं की. बता दें कि उस साल मुख्यमंत्री पद पर रहते हुए येदियुरप्पा पर ‘गंभीर आरोप’ लगे थे. उसके बाद आनन-फानन में भाजपा हाईकमान ने येदयुरप्पा को हटाने का ‘फरमान’ सुना दिया था. भाजपा की ओर से सदानंद गौड़ा को मुख्यमंत्री बनाया गया था जो वह दूसरे समुदाय के थे.

यह भी पढ़ें -  सिख चेहरे पर दांव: पंजाब में भगवंत मान आम आदमी पार्टी के सीएम चेहरा होंगे, केजरीवाल ने किया एलान

आलाकमान के इस फैसले के बाद राज्य का ‘लिंगायत समुदाय’ भारतीय जनता पार्टी के खिलाफ हो गया था. साल 2013 में हुए राज्य विधानसभा चुनाव में भाजपा की करारी हार हुई थी और पार्टी मात्र 40 सीटों पर ही सिमट कर रह गई . मंगलवार को हुई लिंगायत समुदाय के मठाधीशों के साथ हुई बैठक में येदियुरप्पा ने अपनी तरफ से इस नाम को उन सबके बीच रखा . बंगलुरु में हुई विधायक दल की बैठक पूर्व मुख्यमंत्री येदियुरप्पा ने ही बसवराज का मुख्यमंत्री पद के लिए नाम सुझाया. लिंगायत समुदाय के होने की वजह से उनके नाम पर सभी मठाधीश राजी हो गए.

यह भी पढ़ें -  देहरादून: त्रिवेंद्र सिंह रावत नहीं लड़ना चाहते विधानसभा चुनाव, नड्डा को खत लिख कर बताई वजह

विधायक दल की बैठक में पर्यवेक्षक के रूप में पहुंचे केंद्रीय मंत्री जी किशन रेड्डी और धर्मेंद्र प्रधान ने स्वीकृति दे दी. 28 जनवरी 1960 को जन्मे बसवराज सोमप्पा बोम्मई कर्नाटक के गृह, कानून, संसदीय मामलों के मंत्री रहे हैं. उनके पिता एसआर बोम्मई भी राज्य के मुख्यमंत्री रह चुके हैं. मैकेनिकल इंजीनियरिंग में ग्रेजुएट बसवराज ने जनता दल के साथ राजनीति की शुरुआत की थी. वे धारवाड़ से दो बार 1998 और 2004 में कर्नाटक विधान परिषद के लिए चुने गए.

इसके बाद वे जनता दल छोड़कर 2008 में भाजपा में शामिल हो गए और उसी साल शिगगांव से विधायक चुने गए. येदयुरप्पा के दो दिन पहलेे इस्तीफा देने से जो लिंगायत समुदाय में आक्रोश फैल गया था उसे भाजपा केंद्रीय नेतृत्व ने आखिरकार शांत कर दिया है.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,183FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

Latest Articles

राशिफल 20-01-2022: कैसा रहेगा आप का आज का दिन, जानिए

0
मेष:- आज का दिन मिला-जुला रहेगा. कठिन परिश्रम से कार्यों में सफलता मिलेगी. जिससे मन में उत्साह रहेगा. मित्रों से मुलाकात अच्छी रहेगी. वृषभ:- आज...

20 जनवरी 2022 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 20 जनवरी 2022 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

हरिद्वार नगर निगम के 33 कर्मचारी निकले कोरोना पॉजिटिव, मचा हड़कंप

0
देश के साथ कुछ दिनों से उत्तराखंड में भी कोरोना के संक्रमित मरीज हर रोज तेजी के साथ बढ़ रहे हैं. हर रोज 4000...

Ind Vs SA: अपनी पहली वनडे कप्तानी में राहुल फेल, टीम इंडिया को मिली...

0
बोलैंड पार्क|.... केएल राहुल के टेस्ट क्रिकेट की तरह वनडे कप्तानी की शुरुआत हार के साथ हुई. मेजबान दक्षिण अफ्रीका के खिलाफ तीन मैच...

यूपी चुनाव 2022: बीजेपी का गठबंधन फाइनल, अपना दल और निषाद पार्टी के साथ...

0
बीजेपी ने बुधवार को 2022 के उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनावों के लिए अपना गठबंधन फाइनल कर दिया. बीजेपी राज्य में अपना दल और निषाद...

Covid19: उत्तराखंड में मिले 4400 से ज्यादा नए-छह की मौत-एक्टिव केस 22000 से ज्यादा

0
उत्तराखंड में बुधवार को 4402 नए मामले सामने आए हैं. वहीं छह लोगों की मौत भी हुई है. पिछले 24 घंटे में 1956 मरीज...

भारतीय महिला टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने किया संन्यास का ऐलान

0
मेलबर्न|..... ऑस्ट्रेलियन ओपन में भाग ले रही भारतीय महिला टेनिस स्टार सानिया मिर्जा ने संन्यास का ऐलान कर दिया है. सानिया ने कहा है...

सीडीएस जनरल बिपिन रावत के भाई कर्नल विजय रावत बीजेपी में शामिल

0
हेलिकॉप्टर हादसे में जान गंवाने वाले देश के पहले सीडीएस जनरल बिपिन रावत के भाई कर्नल विजय रावत (सेवानिवृत्त) बीजेपी में शामिल हो गये...

यूपी चुनाव के लिए पीएम मोदी-शाह समेत 30 बीजेपी स्टार प्रचारकों की सूची...

0
निर्वाचन आयोग के रैलियों और सभाओं पर फिलहाल 22 जनवरी तक रोक लगा रखी है. इसी को देखते हुए आज भारतीय जनता पार्टी ने...

देहरादून: त्रिवेंद्र सिंह रावत नहीं लड़ना चाहते विधानसभा चुनाव, नड्डा को खत लिख कर...

0
देहरादून| उत्तराखंड विधानसभा चुनाव से पहले भाजपा से जुड़ी एक बड़ी खबर सामने आई है. उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री और भाजपा के दिग्गज...
%d bloggers like this: