जन्मदिन विशेष: दीन-दुखियों और बेसहारा लोगों के लिए मदर टेरेसा का पूरा जीवन रहा समर्पित

उन्होंने अपना पूरा जीवन मानव समाज की सेवा करने के लिए ‘न्योछावर’ कर दिया. बीसवीं शताब्दी में गरीब, बेसहारा और पीड़ितों की सबसे बड़ी मसीहा के रूप में उन्हें याद किया जाता रहेगा. मूल रूप से वह भारत की नहीं थीं लेकिन उन्होंने इस देश के लाखों-करोड़ों लोगों की ‘मां’ के रूप में अपने आप को स्थापित किया. ‘वे ममता की मूरत थीं. दीन-दुखियों को गले लगाना और बीमार लोगों के चेहरे में मुस्कान लाने की कोशिश करना ही उनकी पहचान थी.

वे अपनी मृत्यु तक निस्वार्थ भाव से लोगों की सेवा में लगी रहीं’. आपको बता दें कि उन पर गरीबों की सेवा करने के बदले उनका धर्म बदलकर ईसाई बनाने का आरोप लगाया गया, लेकिन उन्हें हमेशा खुद को मानव सेवा में लगाए रखा. आज हम बात करेंगे एक ऐसी महान शख्सियत की जो जवानी के दिनों 19 साल की आयु में भारत आईं थीं लेकिन यहां जब उन्होंने गरीबी, असहाय लोगों को देख उनकी भलाई और सेवा के लिए रहीं रहने का फैसला किया. ‌उनका कहना था, ‘जख्म भरने वाले हाथ प्रार्थना करने वाले होंठ से कहीं ज्यादा पवित्र हैं’.

यह भी पढ़ें -  फांसी पर लटकने से महंत नरेंद्र गिरी की मौत, पोस्टमार्टम रिपोर्ट में हुआ खुलासा

हम बात कर रहे हैं मदर टेरेसा की. आज टेरेसा की 111वीं जयंती पर दुनिया उनको निस्वार्थ सेवा के लिए याद कर रही है. 20वीं सदी की महानतम मानवतावादियों में से एक मानी जाने वाली महिला थी. मदर टेरेसा कैथोलिक थीं, लेकिन उन्हें भारत की नागरिकता मिली हुई थी. अल्बानिया मूल की मदर टेरेसा ने कोलकाता में गरीबों और पीड़ित लोगों के लिए जो किया वो दुनिया में ‘अभूतपूर्व’ माना जाता है. उन्होंने 12 सदस्यों के साथ अपनी संस्था की शुरुआत की थी और अब यह संस्था 133 देशों में काम कर रही है. आज मदर टेरेसा के जन्मदिन पर आइए जानते हैं उनके जीवन और त्याग-समर्पण के बारे में.

यह भी पढ़ें -  क्या आप जानते है सड़क किनारे लगे माइल स्टोन पर अलग-अलग रंगों के पीछे का रहस्य

टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 में अल्बानिया में हुआ था, 19 साल में आईं थीं भारत–

यह भी पढ़ें -  महत्वपूर्ण दौरा: पीएम मोदी अमेरिका रवाना, व्यापार-रक्षा और सुरक्षा सहयोग पर राष्ट्रपति बाइडेन से होगी बात

टेरेसा का जन्म 26 अगस्त 1910 को छोटे से देश अल्बानिया के संपन्न परिवार में हुआ था. वे अपने परिवार में सबसे छोटी संतान थीं और आठ साल की उम्र में उन्होंने अपने पिता को खो दिया था. दुनिया उन्हें मदर टेरेसा के नाम से जानती है, लेकिन वास्तविक में उनका नाम अगनेस गोंझा बोयाजिजू था.

साल 1929 में वह भारत आईं थी. टेरेसा ने अपना पूरा जीवन गरीबों की सेवा में समर्पित कर दिया. वे भारत से विशेष ‘स्नेह’ रखती थीं. साल 1946 में उन्होंने गरीबों, असहायों की सेवा का ‘संकल्प’ लिया था. उन्होंने साल 1948 में स्वेच्छा से भारतीय नागरिकता ली थी. अपने जीवन के 68 साल भारत में रहकर मदर टेरेसा ने लोगों की सेवा की‌. निस्वार्थ सेवा के लिए टेरेसा ने 1950 में कोलकाता में ‘मिशनरीज ऑफ चैरिटी’ की स्थापना की. उन्होंने भारत में कुष्ठ रोगियों और अनाथों की सेवा करने में पूरी जिंदगी लगा दी. मदर टेरेसा अपनी मृत्यु तक कोलकाता में ही रहीं और आज भी उनकी संस्था गरीबों के लिए काम कर रही है.

यह भी पढ़ें -  Covid19: देश में 24 घंटे में मिले 26,964 नए मामले, 383 लोगों की मौत

बता दें कि उन्हें 1979 में ‘नोबेल शांति पुरस्कार के साथ देश का सर्वोच्च नागरिक सम्मान भारत रत्न, टेम्पटन प्राइज, ऑर्डर ऑफ मेरिट और पद्मश्री से भी नवाजा गया है’. वेटिकन सिटी में एक समारोह के दौरान रोमन कैथोलिक चर्च के पोप फ्रांसिस ने मदर टेरेसा को ‘संत’ की उपाधि दी. दुनिया भर से आए लाखों लोग इस ऐतिहासिक क्षण के गवाह बने थे. बता दें कि लगातार गिरती सेहत की वजह से 5 सितंबर 1997 को उनकी मृत्यु हो गई. टेरेसा की दी गई सीखों ने समाज में शांति और प्रेम बनाए रखने का काम किया है. आज उनकी जयंती पर न केवल देशभर में बल्कि दुनिया के विभिन्न हिस्सों में उन्हें याद किया जा रहा है.

यह भी पढ़ें -  22 सितम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,061FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--

Latest Articles

औद्योगिक संगठनों के साथ मिलकर राज्य में रोजगार सृजन को बढ़ावा दिया जायेगा: सीएम...

सीएम पुष्कर सिंह धामी ने सचिवालय में वर्चुअल माध्यम से सीआईआई के प्रतिनिधियों के साथ राज्य में औद्योगिक विकास को बढ़ावा देने के...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 17 नए मामले, एक भी मरीज की...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि 20 मरीजों को ठीक होने के...

असम: अतिक्रमण हटाने पहुंची पुलिस और प्रदर्शनकारियों में हिंसक झड़प, 2 की मौत,...

गुवाहाटी| असम के दर्रांग जिले में 800 परिवारों के पुनर्वास को लेकर हुए प्रदर्शन के दौरान पुलिस फायरिंग में दो लोगों की मौत हो...

सीएम धामी की बड़ी घोषणा, आयुष्मान कार्ड बनाने का कोई शुल्क नहीं लिया जायेगा

गुरुवार को सीएम धामी ने आई.एस.बी.टी देहरादून स्थित एक होटल में आयुष्मान भारत योजना के 3 वर्ष पूर्ण होने पर स्वास्थ्य विभाग द्वारा आयोजित...

इन बीमारियों के लिए रामबाण का काम करता है काला नमक

काले नमक के बहुत सारे फायदे होते हैं. आमतौर पर सभी घरों में साधारण नमक का इस्तेमाल होता है. काले नमक का इस्तेमाल घरों...

घुसपैठ कर रहे थे तीन आतंकियों को सेना ने किया ढेर, हथियारों का...

गुरुवार को जम्‍मू कश्‍मीर में आतंकियों के खिलाफ अभियान में भारतीय सेना को बड़ी कामयाबी हाथ लगी. सेना ने यहां तीन पाक‍िस्‍तानी आतंकियों को...

खुशखबरी: उत्तराखंड में होमगार्ड पदों के लिए निकली भर्ती

उत्तराखंड सरकार ने कोरोना का कहर कम होते ही अलग-अलग विभागों में खाली पदों को भरने की तैयारी शुरू कर दी है. जिला कमांडेंट होमगार्ड्स...

सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए सीएम चन्नी, स्टेज पर किया दमदार ‘भांगड़ा’-देखें...

पंजाब के सीएम चरणजीत सिंह चन्नी सत्ता संभालते ही सुर्खियों में आ गए हैं. सीएम चरणजीत सिंह चन्नी ने एक कार्यक्रम में भांगड़ा...

उत्तराखंड: शक्तिमान घोड़े की मौत के जिम्मेदार माने जाने वाले गणेश जोशी समेत पांच...

बीजेपी विधायक गणेश जोशी समेत अन्य पांच आरोपी शक्तिमान घोड़े की मौत के मामले में दोषमुक्त हो गये हैं. 14 मार्च 2016 को...

भूतिया किले के नाम से जाना जाता है भानगढ़ किला, जानें इतिहास व रोचक...

राजस्थान के अलवर जिले में अरावली पहाडि़यों के बीच सरिस्का अभ्यारण्य की सीमा पर पर मौजूद है भानगढ़ किला. यह किला अपने भूतिया चर्चाओं...