जानिए ‘नर कंकालों’ वाली रूपकुंड झील’ का रहस्य

भारत बहुत सारी रहस्मयी घटनाओं के लिए जाना जाता है. इन्हीं में से एक है यहां की अनोखी झील, जो कि कंकालों से भरी हुई है. यह झील हिमालय की चोटियों में स्थित है, जिसे रूपकुंड झील के नाम से जाना जाता है. इसे खास तौर पर यहां मौजूद कंकालों की वजह से पहचान मिली है. भारत की सबसे ऊंची झीलों में सुमार रूपकुंड झील समुद्र से 5000 मीटर की ऊंचाई पर स्थित है.

इस झील के आस- पास कई कंकाल बिखरे नजर आते हैं इसलिए इसे कंकालों वाली झील भी कहते हैं. क्या है इस झील का राज और कैसे ऐसी स्थिति निर्मित हुई. कंकालों से घिरी इस झील के बारे में आइए जानते हैं.

क्या है इसके पीछे का राज
इस झील के बारे में कई कहानियां बताई जाती हैं, इसी में से एक कहानी है वहां के राजा की. कहा जाता है कि राजा ने एक बार झील के पास बने नंदा देवी मंदिर जाकर दर्शन करने का सोचा. नंदा देवी को पहाड़ों की देवी माना जाता है, जब राजा पहाड़ चढ़ने निकले तो उनके साथ उनके यहां काम करने वाले लोग भी साथ जाने लगे. ऐसा माना जाता है पूरे रास्ते उन्होंने खुब हुड़दंग मचाया जिससे नंदा देवी नाराज हो गईं और उन्होंने उन सब पर क्रोध में बिजली गिरा दी जिससे सभी की मौत हो गई.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में धामी सरकार ने कई पीसीएस अफसरों के किए तबादले, देखें लिस्ट

वहीं कुछ लोग बताते हैं कि यह हड्डियां महामारी की चपेट में आए लोगों की है, जो महामारी की वजह से मारे गए थे और कुछ लोगों का यह भी कहना है कि यह हड्डियां सेना के जवानों की हैं, जिनकी मृत्यु बर्फ के तूफान में फसने से हुई थी.

यह भी पढ़ें -  उत्तराखड: प्रदेश के नए राज्यपाल लेफ्टिनेंट जनरल गुरमीत सिंह ने ली शपथ
यह भी पढ़ें -  इंजीनियर दिवस पर पीएम मोदी ने दी भारत रत्न से सम्मानित एम विश्वेश्वरैया को श्रद्धांजलि

पहली बार इन कंकालों के बारे में 1942 में पता चला था कहा जाता है एक ब्रिटिश फॉरेस्ट गार्ड ने इसके बारे में सबको बताया था. लोगों को लगा कि यह कंकाल जापान के सैनिकों का हो सकता है. ऐसा माना गया कि जो सैनिक दूसरे विश्व युद्ध के दौरान वहां से गुजर रहे थे वह बर्फ की चपेट में फस कर वहीं मर गए होंगे.

कब आए होंगे यह लोग?
कई सालों से वैज्ञानिक इन कंकालों पर रिसर्च कर रहें हैं, रिसर्च से यह पता चलता है कि यह सभी कंकाल एक देश के नहीं हैं. यह भारत और उसके आस- पास के देशों के हैं. कुछ कंकाल को ग्रीस और साउथ ईस्ट का बताया गया है.

यह भी पढ़ें -  राहुल गांधी के दुर्गा-लक्ष्मी वाले बयान पर मचा सियासी घमासान, बीजेपी एफआईआर दर्ज कराने की तैयारी में

यह सारे कंकाल वहां एक समय पर नहीं आए हैं ऐसा बताया जाता है कि भारत और उसके पास के इलाकों के कंकाल 7वीं से 10वीं शताब्दी में वहां आए थे, ग्रीस और अन्य इलाकों के कंकाल 17वीं से 20वीं शताब्दी में वहां आए थे. अभी तक यह बात साफ नहीं हो पाई है की इन लोगों की मौत कैसे हुई, लेकिन रिसर्च में यह बात साफ हो गई है कि यह किसी महामारी से नहीं मरे. सिर्फ लोगों द्वारा इस बात का अंदाजा लगाया जा सकता है कि इनकी मृत्यु बर्फ में दबने की वजह से हो सकती है.

यह भी पढ़ें -  चारधाम यात्रा 2021: नैनीताल हाईकोर्ट में यात्रा शुरू करने के मामले में आज होगी सुनवाई

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,056FollowersFollow
474SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

सोनू सूद के घर एक बार फिर पहुंची इनकम टैक्स विभाग की टीम

बॉलीवुड और साउथ फिल्मों के अभिनेता सोनू सूद घर पर दो दिनों से इनकम टैक्स के अधिकारियों का सर्वे ऑपरेशन चल रहा है.बुधवार को...

पूर्व सीएम त्रिवेंद्र और हरक में विवाद के बीच देहरादून पहुंचे चुनाव प्रभारी प्रह्लाद...

उत्तराखंड में अगले साल होने वाले विधानसभा चुनाव के लिए पिछले दिनों भाजपा हाईकमान के द्वारा नियुक्ति के चुनाव प्रभारी आज अपनी पूरी तैयारी...

पीएम मोदी ने किया रक्षा कार्यालय परिसरों का उद्घाटन

प्रधानमंत्री नरेन्‍द्र मोदी ने आज रक्षा मंत्रालय के दो नए कार्यालय परिसरों का उद्घाटन किया. ये दोनों रक्षा कार्यालय दिल्ली के कस्तूरा गांधी मार्ग और...

उत्तराखंड: नैनीताल हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा से हटाई रोक, लेकिन….

उत्तराखंड हाईकोर्ट ने चारधाम यात्रा पर लगी रोक हटा दी है. गुरुवार को इस मामले में हाईकोर्ट में हुई सुनवाई के दौरान हाईकोर्ट ने...

जन्मदिन पर सीएम धामी ने की बड़ी घोषणा, बेरोजगारों की बढ़ती फौज को मिलेगी...

आज उत्तराखंड के मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी का जन्मदिन है. धामी ने अपने जन्मदिन की शुरुआत पूजा-अर्चना के साथ की.अपने जन्मदिन के अवसर पर धामी...

राहुल गांधी के दुर्गा-लक्ष्मी वाले बयान पर मचा सियासी घमासान, बीजेपी एफआईआर दर्ज कराने...

कांग्रेस नेता राहुल गांधी के दुर्गा-लक्ष्मी वाले बयान पर सियासी घमासान मच गया है. कांग्रेस नेता के इस बयान के बाद हमलावर हुई भारतीय...

विधानसभा चुनाव 2022: चुनाव के लिए दस लाख नए सदस्य बनाएगी कांग्रेस

उत्तराखंड में विधानसभा चुनाव से पहले कांग्रेस ने 10 लाख नए सदस्य बनाने का लक्ष्य रखा है. प्रत्येक बूथ में कम से कम 50...

गुजरात: सीएम भूपेंद्र पटेल की टीम में ये मंत्री होंगे शामिल, आज होगा शपथ...

गांधीनगर| गुजरात मंत्रिमंडल का विस्तार गुरुवार(16सितम्बर) दोपहर को होगा. खबर है कि इस दौरान 27 मंत्री शपथ ले सकते हैं. राज्य के नए मुख्यमंत्री...

उत्तराखंड में आफत की बारिश अभी भी जारी , कुमाऊं क्षेत्र में येलो अलर्ट

उत्तराखंड राज्य में बारिश का दौर अभी भी जारी है. पहाड़ों से लेकर मैदानी इलाको तक यह बारिश आफत की जड़ बनी हुई है....

उत्तराखंड में धामी सरकार ने कई पीसीएस अफसरों के किए तबादले, देखें लिस्ट

उत्तराखंड की धामी सरकार ने सचिवालय व जिलों में तैनात चार आइएएस समेत 19 अधिकारियों के पदभार में बदलाव किया है. सभी अधिकारियों...