दूरदर्शन दिवस विशेष: देश में टेलीविजन प्रसारण के 62 साल, आओ सुनहरे दिनों को करें याद

प्रसारण के क्षेत्र में आज देश के लिए बहुत ही ‘गौरव’ का दिन है. साथ ही एक ऐसा ‘हमसफर’ जो 62 सालों से हमारे साथ आज भी जुड़ा हुआ है. करोड़ों लोगों की बचपन की सुनहरी यादों का यह ‘साक्षी’ भी रहा है. आज 15 सितंबर है. यह तारीख देश के लिए इसलिए खास है क्योंकि आज से 62 साल पहले 1959 में राजधानी दिल्ली से ‘दूरदर्शन’ के प्रसारण की शुरुआत हुई थी.

तब से लेकर अब तक इसने लंबा ‘सफर’ तय किया है. ‘भारत में दूरदर्शन ने ही पहली बार टीवी पर चित्र उकेरे थे, इसी के साथ देश में टेलीविजन के इतिहास की कहानी भी शुरू हुई’. आज भी दूरदर्शन का नाम सुनते ही अतीत के कई ‘गुदगुदाते पल’ याद आ जाते हैं. बता दें कि शुरुआत में दूरदर्शन पर हफ्ते में केवल 3 दिन ही प्रोग्राम ब्रॉडकास्ट किए जाते थे, वो भी केवल आधे घंटे के लिए.

भारत में दूरदर्शन की शुरुआत एक्सपेरिमेंट के तौर पर हुई थी और इसका नाम ‘टेलीविजन इंडिया’ दिया गया था. वर्ष 1965 से दूरदर्शन ने अपना प्रसारण रोजाना शुरू कर दिया. पांच मिनट के समाचार बुलेटिन का आगाज भी इसी साल हुआ. उसके बाद 10 वर्ष तक दूरदर्शन धीरे-धीरे अपनी गति में आगे बढ़ता रहा.‌ 1975 तक यह सिर्फ 7 शहरों तक ही सीमित था.

यह भी पढ़ें -  कोरोना वायरस के नए वैरिएंट ओमिक्रॉन को लेकर कई राज्यों में भी बढ़ी सख्ती

इसी वर्ष इसका हिंदी नामकरण ‘दूरदर्शन’ से किया गया. 1982 का साल भारत में टीवी के लिए अहम था. इसी साल दूरदर्शन ने ‘इनसैट-1’ के जरिए पहली बार नेशनल ब्रॉडकास्ट किया. इसके बाद दूरदर्शन पर होने वाले मनोरंजन, धारावाहिक और टेलीविजन पर दिखाई जाने वाली फिल्में समेत आदि कार्यक्रम घर-घर में ‘लोकप्रिय’ हो गए. लेकिन दो दशकों से देश में निजी चैनलों की बाढ़ आ गई है, उसके बावजूद दूरदर्शन का महत्व कम नहीं हुआ.‌

साल 2020 में देश में कोरोना महामारी फैलने के बाद लगाए गए लॉकडाउन में केंद्र सरकार ने एक बार फिर से दूरदर्शन को देशवासियों से जोड़ दिया था. 90 दशक के पुराने और लोकप्रिय धारावाहिक ‘रामायण और महाभारत’ का प्रसारण दूरदर्शन पर किया. इन धारावाहिकों को देख लाखों लोगों ने यादें ताजा की. आइए आज दूरदर्शन दिवस पर कुछ पुरानी यादों को ताजा करें.

दूरदर्शन प्रसारण में साल 1982 महत्वपूर्ण, देश में ‘कलर टेलीविजन’ की हुई थी शुरुआत
आपको बता दें कि दूरदर्शन की विकास यात्रा शुरू में काफी धीमी थी. इसके पीछे कई कारण थे. ग्रामीण क्षेत्रों में जागरूकता और खराब बिजली व्यवस्था का अभाव और सरकारों का दूरदर्शन को बढ़ाने में ज्यादा रुचि न लेना, आदि कारण रहे.

लेकिन वर्ष 1982 में ऐसा वर्ष था जो दूरदर्शन की विकास यात्रा को गति देने के लिए जाना जाता है. इस वर्ष नई दिल्ली में आयोजित हुए ‘एशियाई खेलों’ के प्रसारण ने भारत में दूरदर्शन की दिशा में ‘क्रांति’ ला दी थी.

यह भी पढ़ें -  टीएमसी के अंदर पार्टी का नाम बदलने पर हो रही चर्चा, अंतिम फैसला ममता बनर्जी करेंगी

1982 में ही देश में रंगीन (कलर) टेलीविजन बाजार में आ गए थे. इससे दूरदर्शन के दर्शकों में इसके प्रति दीवानगी अचानक बढ़ गई थी. 80 के दशक में पूरा देश दूरदर्शन पर प्रसारित कार्यक्रमों को देखकर अपना मनोरंजन करते थे. उस दौर में टेलीविजन ही मनोरंजन करने का सस्ता साधन हुआ करता था. अपने मनपसंद कार्यक्रमों और धारावाहिकों के लिए देशवासी एक सप्ताह तक इंतजार करते थे.

टेलीविजन पर चित्रहार, सिनेमा, धारावाहिक और अन्य कार्यक्रमों को देखने के लिए लोग अपने महत्वपूर्ण काम भी छोड़ दिया करते थे. यही नहीं कई बड़े फिल्म स्टारों ने भी अपनी यात्रा टेलीविजन से ही शुरू की थी. शाहरुख खान, इरफान खान, पंकज कपूर, विद्या बालन, राकेश बेदी, मंदिरा बेदी, और मुकेश खन्ना आदि ऐसे कलाकार रहे जो दूरदर्शन से ही निकलकर बॉलीवुड के बड़े स्टार बने.

रामायण-महाभारत के प्रसारण से दूरदर्शन की लोकप्रियता तेजी के साथ बढ़ी
हम बात करेंगे रामानंद सागर द्वारा निर्मित ‘रामायण’ धारावाहिक की. वर्ष 1986 में धारावाहिक रामायण का टेलीविजन पर प्रसारण किया गया था. रामायण देखने के लिए लोग एक सप्ताह इंतजार करते थे. उसके बाद वर्ष 1988 में फिल्म डायरेक्टर बीआर चोपड़ा ने दूरदर्शन पर धारावाहिक महाभारत का प्रसारण शुरू किया. ‘इन दोनों धारावाहिकों ने देश में टेलीविजन देखने वालों का एक नया दर्शक तैयार कर दिया था’.‌

यह भी पढ़ें -  त्रिवेंद्र सिंह रावत काल से देवस्थानम बोर्ड का मामला सीएम धामी को भी करता रहा परेशान

उस दौर में रामायण और महाभारत के प्रसारण के दौरान देश की सड़कों पर सन्नाटा पसर जाता था.‌ उसके बाद धारावाहिक हम लोग, बुनियाद, नुक्‍कड़, यह जो है जिंदगी, शांति और शक्तिमान जैसे कार्यक्रमों ने दूरदर्शन की लोकप्रियता को बुलंदियों पर पहुंचा दिया. इसके साथ ही ‘चित्रहार’ और हर रविवार को सुबह प्रसारित होने वाली ‘रंगोली’ को भी नहीं भूल पाएंगे. वर्ष 1990 के बाद दूरदर्शन ने अपने लोकप्रिय ‘मेट्रो चैनल’ की शुरुआत की थी.

मेट्रो ने कम समय में ही लोगों को अपना दीवाना बना लिया था. अगर विज्ञापनों की बात करें तो ‘मिले सुर मेरा तुम्हारा’ जहां लोगों को एकता का संदेश देने में कामयाब रहा, वहीं बुलंद भारत की बुलंद तस्वीर-हमारा बजाज से अपनी व्यावसायिक क्षमता का लोहा भी मनवाया.

उस दौर में दूरदर्शन पर दिखाए जाने वाले लोकप्रिय विज्ञापन आज भी लोगों के जेहन में बसे हुए हैं. आपको बता दें कि तीन नवंबर 2003 में दूरदर्शन का 24 घंटे चलने वाला समाचार चैनल शुरू किया गया था. मौजूदा समय में दो राष्‍ट्रीय और 11 क्षेत्रीय चैनलों के साथ दूरदर्शन के 21 चैनल प्रसारित होते हैं.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,155FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

राशिफल 01-12-2021: जानिए कैसा रहेगा सभी राशियों का महीने का पहला बुधवार

0
मेष: सोच सकारात्मक रखें. भविष्य को बेहतर बनाने की योजना बनाएं. परिवार वालों को मदद मिलेगी. वृष: आज का दिन सामान्य रहेगा. सेहत को...

1 दिसम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो अगर आज के दिन यानी 1 दिसम्बर 2021 को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान...

सिक्किम में महसूस किए गए भूकंप के झटके, रिक्टर स्केल पर 5.4 मापी गई...

0
पूर्वोत्तर राज्य सिक्कम में मंगलवार को भूकंप के झटके महसूस किए गए. रिक्टर स्केल पर इसकी तीव्रता 5.4 मापी गई है. भूकंप का...

IPL 2022 Players Retention: 8 टीमों ने किन खिलाड़‍ियों को किया रिटेन! फ्रेंचाइजी के...

0
इंडियन प्रीमियर लीग (आईपीएल) 2022 का क्रेज अभी से फैंस के सिर-चढ़कर बोल रहा है. आज 8 टीमें घोषणा करेंगी कि वह किन खिलाड़‍ियों...

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 28 नए कोरोना संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 28 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. 19 मरीजों को ठीक होने के...
Uttarakhand News

उत्तराखंड सरकार ने ओमिक्रॉन को देखते हुए जारी की नई गाइडलाइंस

0
देहरादून| कोरोना का डर कुछ समय पहले तक लोगों के जेहन से निकल गया था. लेकिन नए वैरिएंट ओमिक्रॉन के बढ़ते संक्रमण के बाद...

बिहार विधान भवन परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलने के बाद नीतीश सरकार...

0
बिहार में शीतकालीन सत्र के दूसरे दिन विधान भवन परिसर में शराब की खाली बोतलें मिलने के बाद राज्य की सियासत गरमा गई है....

कांग्रेस मुक्त विपक्ष! क्या आप और टीएमसी ने बदल दिया देश सबसे पुरानी पार्टी...

0
राज्य सभा के 12 सांसदों के निलंबन को लेकर कांग्रेस ने जो पत्र जारी किया है, वह पार्टी के अंदर के असमंजस को...

सुप्रीम कोर्ट की अहम घोषणा: 18 जनवरी 2022 को होगी विजय माल्या मामले की...

0
भगोड़े व्यवसायी विजय माल्या के खिलाफ अवमानना के मामले में सुप्रीम कोर्ट ने मंगलवार को अहम घोषणा की. सुप्रीम कोर्ट ने कहा कि "जिस मामले में भगोड़े...

पाकिस्‍तान ने पहले टेस्‍ट में बांग्‍लादेश को 9 विकेट से हराया, दो मैचों की...

0
चटगांव|.... सलामी बल्लेबाज आबिद अली लगातार दूसरा शतक नौ रन से चूक गए लेकिन पाकिस्तान ने 202 रन के लक्ष्य का आसानी से पीछा...