आखिर क्यों लगता है अग्रसेन की बावली में डर! जानें इतिहास और रोचक तथ्य

अग्रसेन की बावली एक लोकप्रिय पर्यटन स्थल है. भारत की राजधानी नई दिल्ली में कनॉट प्लेस, जंतर मंतर के पास हैली रोड पर स्थित अनगढ़ तथा गढ़े हुए पत्थर से निर्मित यह बावड़ी प्राचीन समय की उत्कृट कला का नमूना है.

अग्रसेन की बावली घुमावदार सीढ़ियों के लिए पहचानी जाती है.इस बावली में करीब 105 सीढ़ियां हैं. इसका निर्माण 14वीं शताब्दी में महाराजा अग्रसेन ने कराया था. इस बावली का निर्माण लाल बलुए पत्थर से हुआ है.

अनगढ़ तथा गढ़े हुए पत्थर से निर्मित यह दिल्ली की बेहतरीन बावलियों में से एक है. जंतर मंतर के निकट, हेली रोड पर स्थित इस बावली में कभी दिल्ली के लोग तैराकी सीखने के लिए आते थे.

यह बावली क़रीब 60 मीटर लंबी और 15 मीटर ऊंची है और इसके बारे में एक मान्‍यता यह भी है कि इसका निर्माण अग्रसेन ने नहीं, बल्कि महाभारत काल में कराया गया था और बाद में 14वीं शताब्‍दी में अग्रवाल समाज ने इस बावली का जीर्णोद्धार कराया, जिसके कारण अग्रसेन बावली के नाम से जाना जाने लगा. यह दिल्ली की उन गिनी चुनी बावलियों में से एक है, जो अभी भी अच्छी स्थिति में हैं.

यह भी पढ़ें -  'सत्यमेव जयते 2' का धमाकेदार ट्रेलर हुआ रिलीज: अब डबल नहीं, ट्रिपल रोल में नज़र आयेंगे जॉन अब्राहम

बावली का इतिहास
अग्रसेन बावली के नाम से जानी जाने वाली इस बावड़ी की स्थापत्य शैली उत्तरकालीन तुग़लक़ तथा लोदी काल से मेल खाती है. इतिहासकारों का मानना है कि इस बावली की वास्तु संबंधी विशेषताएं तुग़लक़ और लोदी काल की तरफ़ संकेत कर रहे हैं, लेकिन कहा जाता है कि इस प्राचीन बावली को अग्रहरि एवं अग्रवाल समाज के पूर्वज उग्रसेन ने बनवाया था.

इमारत की मुख्य विशेषता है कि यह उत्तर से दक्षिण दिशा में 60 मीटर लंबी तथा भूतल पर 15 मीटर चौड़ी है. बावली में आने के लिए पश्चिम की ओर तीन प्रवेश द्वार युक्त एक मस्जिद है. यह एक ठोस ऊंचे चबूतरे पर किनारों की भूमिगत दालानों से युक्त है. इसके स्थापत्य में व्‍हेल मछली की पीठ के समान छत का निर्माण किया गया है.

अग्रसेन की बावली से जुड़े रोचक तथ्य
1. माना जाता है कि अग्रसेन की बावली का निर्माण राजा अग्रसेन द्वारा किया गया था, परंतु इसका कोई पुख्ता सबूत या ऐतिहासिक रिकॉर्ड नहीं है. वहीं भारत के राष्ट्रीय अभिलेखागार के नक्शे के अनुसार 1868 में इस स्मारक का निर्माण ब्रिटिश सरकार द्वारा किया गया था. इस स्मारक को ओजर सेन की बावली के रूप में सूचीबद्ध किया गया है.
2. भारतीय पुरातत्व सर्वेक्षण और अवशेष अधिनियम 1958 के तहत भारत सरकार द्वारा संरक्षित हैं.
3. कहा जाता है कि एक समय इसमें काला पानी हुआ करता था, जो लोगों को अपनी और लुभा कर आत्महत्या करने को प्रेरित करता था. हालांकि आज के समय में यह कुआं पूरी तरह से सुख गया है.
4. इसको देश की सबसे भयावह जगहों में भी गिना जाता है. ऊपर-ऊपर से तो यह बावली लाल बलुए पत्थरों से बनी दीवारों के कारण बेहद सुंदर लगती है, लेकिन आप जैसे-जैसे इसकी सीढ़ियों से नीचे उतरते जाते हैं, एक अजीब सी गहरी चुप्पी फैलने लगती और आकाश गायब होने लगता है.
5. इस बावली के शांत वातावरण में जब कबूतरों की गुटरगूं और चमकादड़ों की चीखें और फड़फड़ाहट गूंजती है, तो बावली का माहौल पूरे शरीर में सिहरन पैदा कर देता है
6. साल 2012 में भारतीय डाक द्वारा अग्रसेन के बावली पर डाक टिकट भी जारी किया गया है.
7. अग्रसेन की बावली को कई फिल्मों में दिखाया गया है और यह दिल्ली में प्रसिद्ध फिल्म शूटिंग स्थानों में से एक है. यह हिन्दी बॉलीवुड फिल्म पीके और झूम बराबर झूम में दर्शाई गई है.
8. माना जाता है की इस बावली को तुगलक काल के दौरान पुनर्निर्मित किया गया था. बावली की स्थापत्य शैली उत्तरकालीन 13वी.16वी ईस्वी तुग़लक़ तथा लोदी काल के समकालीन लगती है.
9. बावली के पश्चिमी कोने में एक छोटी सी मस्जिद भी बनी है. इस मस्जिद के स्तंभों में कुछ ऐसे विशेष लक्षण और रंग रूप उभरे हुए हैं, जो बौद्ध काल की कुछ असाधारण संरचनाओं से मेल खाते हैं.
10. इस बावली का नक्शा इसके ढांचे के उत्तर-पश्चिमी दिशा की ओर एक और इसी के समान संरचना दिखाता है. यह संरचना 1911 में दिल्ली में शुरू हुए शहरी विस्तार के बाद धीरे-धीरे गायब हो गई.

यह भी पढ़ें -  पंजाब के पूर्व प्रभारी हरीश रावत के बयानों पर मनीष तिवारी का हमला, कहा-कभी नहीं सुनी ऐसी गटरछाप भाषा
बावली के बाहर लगा शिलापट – फोटो : Social Media


Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,115FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले 12 नए संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण कम हो गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 12 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं...

”मुख्यमंत्री स्वरोजगार नैनो योजना” में अब 50 हजार तक मिल सकेगा ऋण और 20...

0
उत्तराखंड में छोटे व्यवसायियों एवं उद्यमियों को मजबूत बनाने की दिशा में मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखंड शासन ने मुख्यमंत्री स्वरोजगार...

परेशान किंग खान: बेटे को जेल से बाहर लाने के लिए शाहरुख ने अब...

0
फिल्म अभिनेता शाहरुख खान ने अपने बेटे आर्यन खान की जमानत करवाने के लिए 15 दिनों से सभी दांव चल दिए हैं. लेकिन शाहरुख...

सीएम धामी ने किया खटीमा मंडी में धान क्रय केन्द्रों का निरीक्षण, किसानों की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी मंगलवार को अपराह्न में खटीमा पहुंचे. उन्होंने निर्माणाधीन आश्रम पद्धति जनजाति विद्यालय खटीमा के निर्माणाधीन भवन का निरीक्षण किया तथा...

अखिलेश ने फोटो ट्वीट कर सत्ता में वापसी का किया दावा, भाजपा पर लगाया...

0
उत्तर प्रदेश विधानसभा चुनाव में सत्ता में वापसी के लिए कमर कस चुके सपा प्रमुख अखिलेश यादव लगातार योगी सरकार पर हमला करते आ...

आइसीसी टी20 वर्ल्ड कप SA vs WI: दक्षिण अफ्रीका ने टॉस जीतकर पहले गेंदबाजी...

0
दुबई|… एनरिक नॉर्किया की अगुवाई में अपने गेंदबाजों के शानदार प्रदर्शन के बाद एडेन मार्कराम के 26 गेंद में नाबाद 51 रन की मदद...

नेताओं में जुबानी जंग: केजरीवाल के ‘हिंदुत्व पॉलिटिक्स’ पर योगी का चढ़ा पारा तो...

0
यूपी विधानसभा चुनाव अभी शुरू होने में कुछ माह बचे हैं लेकिन राजनीतिक दलों के नेताओं के बीच 'जुबानी जंग' तेज होती जा रही...

बागेश्वर ग्लेशियर हादसा: सुंदरढूंगा से एसडीआरएफ ने निकाले पांच शव, लापता गाइड की तलाश...

0
बागेश्वर ज़िले के ग्लेशियर रूट पर गायब हुए लोगों में से 5 के मारे जाने की बात​ पिछले करीब चार दिनों से कही जा...

कल होगी राज्यों के स्वास्थ्य मंत्रियों के साथ मनसुख मंडाविया की बैठक, कोरोना टीकाकरण...

0
कल केंद्रीय स्वास्थ्य मंत्री मनसुख मंडाविया देश में कोविड-19 वैक्सीनेशन अभियान की चर्चा करने के लिए राज्यों और केंद्रशासित प्रदेशों के स्वास्थ्य मंत्रियों...

भारत के पूर्व कप्तान राहुल द्रविड़ ने किया टीम इंडिया के हेडकोच पद के...

0
पूर्व भारतीय कप्तान और नेशनल क्रिकेट एकेडमी (एनसीए) के हेड राहुल द्रविड़ ने टीम इंडिया के हेडकोच पद के लिए आवेदन दिया है. बीसीसीआई...