वर्ल्ड टूरिज्म डे विशेष: सैर-सपाटा के साथ देश की अर्थव्यवस्था को भी मजबूत करने में पर्यटन स्थलों की अहम भूमिका

घूमने-फिरने के शौकीनों के लिए आज का दिन किसी ‘पर्व’ (त्योहार) से कम नहीं है. धार्मिक, पौराणिक, दर्शनीय स्थलों, हरे भरे पहाड़, झरने, वादियां समुद्री बीच, ऐतिहासिक इमारतें, सेंचुरी पार्क आदि की याद आते ही हरेक के मन में ताजगी का अहसास होने लगता है. ‘पर्यटन एक ऐसी यात्रा है जो मनोरंजन या फुरसत के क्षणों का आनंद उठाने के उद्देश्यों से की जाती है’. बात शुरू करते हैं हिंदी के साहित्यकार राहुल सांकृत्यायन की प्रसिद्ध पंक्ति से, ‘सैर कर ले दुनिया की गाफिल जिंदगानी फिर कहां, गर जिंदगानी रही तो नौजवानी फिर कहां’. सांकृत्यायन की यह लाइनें घुमक्कड़ों के लिए लिखी गई है. आज 27 सितंबर है. हर साल इस दिन ‘विश्व पर्यटन दिवस’ मनाया जाता है. सही मायने में यह दिन सैलानियों और पर्यटन स्थलों के लिए समर्पित रहता है. साथ ही ऐसे देश जो पर्यटन उद्योग पर ही निर्भर हैं, उनके लिए यह दिन किसी ‘उत्सव’ से कम नहीं है.

भारत में भी कई ऐसे राज्य हैं जिनकी ‘आमदनी’ का बड़ा जरिया पर्यटन ही है। भारत अपने ऐतिहासिक और प्राकृतिक खूबसूरती के लिए पूरे विश्व में मशहूर है. हमारे देश में जम्मू-कश्मीर, हिमाचल प्रदेश, उत्तराखंड और गोवा समेत कई राज्य देश और विदेशी सैलानियों को अपनी ओर आकर्षित करते रहे हैं. पर्यटन किसी भी देश के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक और आर्थिक विकास के लिए महत्वपूर्ण होता है. लोगों को पर्यटन का महत्‍व समझाने के लिए इसे एक दिवस के रूप में मनाने की शुरुआत की गई थी.

यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में मिले आठ नए कोरोना संक्रमित

इस दिन लोगों को ग्‍लोबल कम्‍युनिटी और टूरिज्‍म पर होने वाले इवेंट्स के प्रति जागरूक किया जाता है, ताकि लोग पर्यटन के महत्व को समझ सकें. ये विकासशील देशों के लिए आय का मुख्य स्रोत भी है. केंद्र या राज्य सरकारें पर्यटन को बढ़ावा देने के लिए समय-समय पर नई नीतियां बनाती रहीं हैं. कोरोना महामारी से पर्यटन उद्योग ने देश ही नहीं पूरी दुनिया भर में सबसे अधिक नुकसान उठाया और अर्थव्यवस्था का बड़ा हिस्सा गंवाया. सरकारों की लगाई गई पाबंदी से देश के पर्यटन स्थलों पर बिना सैलानियों के महीनों वीरानी छाई रही. अब कुछ समय से इन स्थानों पर रौनक दिखाई देने लगी है.

यह भी पढ़ें -  16 अक्टूबर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार
यह भी पढ़ें -  रविवार को भगवान सूर्य देवता को जल चढ़ाने के होते हैं कई फायदे, जानिए अर्घ्य देने का सही तरीका

वर्ष 1980 से दुनिया भर में मनाया जा रहा है विश्व पर्यटन दिवस

बता दें कि संयुक्त राष्ट्र संघ की ओर से वर्ष 1980 से 27 सितंबर को ‘विश्‍व पर्यटन दिवस’ के तौर पर मनाने का निर्णय लिया गया था. इस दिवस को मनाने के पीछे का उद्देश्य यह था कि पर्यटन दिवस के महत्व के साथ ही प्रत्‍येक वर्ष आम जन को विभिन्न तरीकों से जागरूक करने को अलग-अलग ‘थीम’ रखा जाए.
बता दें कि इस वर्ष थीम ‘इनक्लूसिव ग्रोथ के लिए पर्यटन’ है. इसका उद्देश्य पर्यटन क्षेत्र से जुड़े लोगों की हर संभव मदद करना है. आज के समय में जहां हर देश की पहली जरूरत अर्थव्यवस्था को मजबूत करना है वहीं पर्यटन के कारण कई देशों की अर्थव्यवस्था पर्यटन उद्योग के इर्द-गिर्द घूमती है.

भारत के लिए पर्यटन का खास महत्व होता है। देश की पुरातात्विक विरासत या संस्कृति केवल दार्शनिक स्थल के लिए नहीं होती है इसे राजस्व प्राप्ति का भी स्रोत माना जाता है और साथ ही पर्यटन क्षेत्रों से कई लोगों की रोजी-रोटी भी जुड़ी होती है. नदियों, झीलों, जल प्रपातों के किनारे दुनियाभर में कई पर्यटन स्थलों का विकास हुआ है. भारत में पर्यटन का गौरवशाली इतिहास रहा है. प्राकृतिक विविधता एवं रंगी संस्कृत यहां के पर्यटन स्थल दुनिया भर में एक अलग पहचान देते हैं. ऐतिहासिक किले और महल स्थापित कला के महत्वपूर्ण केंद्र है. लोक संगीत, लोक नृत्य, मेले और वैभवशाली धरोहर पर्यटकों को अपनी ओर सहज ही आकर्षित कर लेते हैं. पर्यटन सिर्फ हमारे जीवन में खुशियों के पल को वापस लाने में ही मदद नहीं करता है बल्कि यह किसी भी देश के सामाजिक, सांस्कृतिक, राजनैतिक और आर्थिक विकास में महत्वपूर्ण भूमिका निभाता है.

यह भी पढ़ें -  अनुशासन की दी सीख: नाराज नेताओं को सोनिया का सख्त संदेश, कहा- 'मैं पूर्णकालिक अध्यक्ष और सक्रिय हूं'
यह भी पढ़ें -  सिद्धू ने सोनिया गांधी को लिखी चिट्ठी, इन 13 मुद्दों का किया जिक्र

हर व्यक्ति को अपने जीवन में कुछ समय ऐसा जरूर निकालना चाहिए जिससे वो अपनी विरासताें, ऐतिहासिक इमारतों, पर्यटन स्थलों और धरोहराें को सहेज लें और खुशियों को फिर से गले लगा सके.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,082FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

Uttarakhand Political News

Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले 9 नए मामले-एक भी मरीज की...

उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में नौ नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. जबकि सात मरीजों को ठीक होने...

सीएम धामी ने नालापानी चौक में प्रीतम भरतवाण जागर ढोल सागर इंटर नेशनल अकादमी...

रविवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने नालापानी चौक में प्रीतम भरतवाण जागर ढोल सागर इंटर नेशनल अकादमी का शुभारंभ किया. सीएम ने इस...

नारायण दत्त तिवारी के नाम से जाना जाएगा पंतनगर इंडस्ट्रियल स्टेट, सीएम धामी...

मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने पंतनगर में स्थित औद्योगिक क्षेत्र (इंडस्ट्रियल स्टेट) का नाम पूर्व मुख्यमंत्री पंडित नारायण दत्त तिवारी जी के नाम पर...

कश्मीर के कुलगाम में आतंकियों ने बिहार के तीन लोगों को मारी गोली, दो...

जम्मू-कश्मीर में कुछ दिनों से आतंकवादियों की घटना तेजी के साथ बढ़ती जा रही है. ये आतंकी बाहरी राज्यों के मजदूरों को निशाना बनाने...

अयोध्या से लौटने पर सीएम धामी ने जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर शहीद जवानों को श्रद्धांजलि...

उत्तर प्रदेश के अयोध्या दौरे से लौटे मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने देहरादून जौलीग्रांट एयरपोर्ट पर रविवार को जम्मू कश्मीर में पिछले दिनों शहीद...

उत्तराखण्ड पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने...

उत्तराखण्ड राज्य, पूर्ण रूप से पात्र लाभार्थियों को कोविड-19 वैक्सीन की प्रथम डोज लगाये जाने वाला राज्य बन गया है. मीडिया सेंटर सचिवालय में...

उत्तराखंड: दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी, 18 अक्टूबर को सभी जिलों...

मौसम विभाग ने उत्तराखंड में दो-तीन दिन तक भारी बारिश की चेतावनी जारी की है. इसे देखते हुए एहतियातन प्रदेश के सभी जिलों...

आसान नहीं होगी सोनिया की अगुवाई में कांग्रेस की राह, सामने है ये चुनौतियां

शनिवार को (16अक्टूबर ) सोनिया गांधी ने हुई कांग्रेस कार्य समिति (सीडब्ल्यूसी) की बेहद अहम बैठक में इस बात पर खासा जोर दिया...

बीसीसीआई ने हेड कोच सहित 5 पदों के लिए निकाला विज्ञापन

पूर्व भारतीय कप्तान राहुल द्रविड़ को मुख्य कोच बनने के लिये मनाने के दो दिन बाद बीसीसीआई (भारतीय क्रिकेट बोर्ड) ने लोढा समिति की...

गूगल ने किया किस बारे में खुलासा जो है खतरे की घंटी, आप भी...

गूगल की एक रिपोर्ट का कहना है कि रैंसमवेयर की मुसीबत झेल रहे दुनिया के 140 देशों की लिस्ट में भारत छठवें नंबर...