सुप्रीम कोर्ट ने किसानों द्वारा अवरुद्ध सड़कों को साफ करने के लिए उठाए गए कदमों के बारे में केंद्र से मांगा जवाब

गुरुवार को सुप्रीम कोर्ट ने जोर देकर कहा कि सड़कों को हमेशा के लिए अवरुद्ध नहीं किया जा सकता है. कोर्ट ने केंद्र से पूछा कि दिल्ली की सीमाओं पर तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसानों द्वारा सड़क की नाकेबंदी को हटाने के लिए क्या कदम उठाए गए हैं? न्यायमूर्ति संजय किशन कौल की अध्यक्षता वाली पीठ ने केंद्र के वकील से कहा, “हमने पहले ही कानून बना दिया है और आपको इसे लागू करना होगा. अगर हम अतिक्रमण करते हैं, तो आप कह सकते हैं कि हमने आपके डोमेन पर अतिचार किया है.”

पीठ ने आगे कहा, “कानून को कैसे लागू किया जाए यह आपका काम है. अदालत के पास इसे लागू करने का कोई साधन नहीं है.”

यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड में भारी बारिश ने किया लोगो का हाल बेहाल: नैनीताल में मजदूरों की झोपड़ी पर गिरी रिटेनिंग दीवार, दबकर पांच की मौत

शीर्ष अदालत ने कहा कि ऐसी शिकायतें हैं, जिन्हें संबोधित करने और पूछने की जरूरत है, “राजमार्गों को हमेशा के लिए कैसे अवरुद्ध किया जा सकता है? यह कहां समाप्त होता है.” पीठ ने जोर देकर कहा कि समस्या को न्यायिक मंच या संसदीय बहस के माध्यम से हल किया जा सकता है, लेकिन राजमार्गों को हमेशा के लिए अवरुद्ध नहीं किया जा सकता है.

पीठ ने सॉलिसिटर जनरल तुषार मेहता और अतिरिक्त सॉलिसिटर जनरल के.एम. नटराज से पूछा कि सरकार मामले में क्या कर रही थी?

मेहता ने अपनी ओर से कहा कि एक उच्च स्तरीय समिति का गठन किया गया था जहां किसानों को आमंत्रित किया गया था, लेकिन उन्होंने इसमें शामिल होने से इनकार कर दिया. उन्होंने कहा कि इस मामले में कुछ किसानों के प्रतिनिधियों को पक्षकार बनाया जाना है, ताकि उन्हें सरकार की योजनाओं से अवगत कराया जा सके. हालांकि, पीठ ने कहा कि केंद्र को उन्हें पक्षकार के रूप में फंसाना होगा, क्योंकि याचिकाकर्ता को किसानों का प्रतिनिधित्व करने वाले नेताओं के बारे में पता नहीं हो सकता है.

यह भी पढ़ें -  जन्मदिन विशेष: 90 के दौर में कुमार सानू की आवाज का 'जादू' बॉलीवुड और प्रशंसकों में खूब छाया
यह भी पढ़ें -  उत्तराखंड: रुद्रपुर के पुलभट्टा क्षेत्र में हंसली नदी का पुल टूटा, कई मकान क्षतिग्रस्त

शीर्ष अदालत मोनिका अग्रवाल द्वारा दायर एक याचिका पर सुनवाई कर रही थी, जिसमें दिल्ली और नोएडा के बीच यातायात की मुक्त आवाजाही में बाधा डालने वाले सड़क अवरोधों को हटाने का निर्देश देने की मांग की गई थी.

पीठ ने केंद्र के वकील से कहा कि वह एक आवेदन पेश करे, जिसमें उठाए गए कदमों का जिक्र हो और यह भी बताया जाए कि किस तरह से कुछ पक्षों को फंसाने से विवाद के समाधान में मदद मिलेगी.

यह भी पढ़ें -  Covid19: उत्तराखंड में मिले 6 नए कोरोना संक्रमित, एक भी मरीज की मौत नहीं

शीर्ष अदालत ने मामले की अगली सुनवाई के लिए 4 अक्टूबर की तिथि निर्धारित की है. शीर्ष अदालत ने 23 अगस्त को केंद्र से तीन कृषि कानूनों का विरोध कर रहे किसान समूहों द्वारा सड़कों की नाकेबंदी का समाधान खोजने को कहा था. इससे पहले, शीर्ष अदालत ने कहा था कि प्रदर्शनकारियों को एक निर्दिष्ट स्थान पर विरोध करने का अधिकार है, लेकिन सार्वजनिक सड़कों को अवरुद्ध नहीं कर सकते.

याचिकाकर्ता ने आरोप लगाया था कि सामान्य 20 मिनट के बजाय, उसने नोएडा से दिल्ली की यात्रा के लिए दो घंटे खर्च किए.

यह भी पढ़ें -  पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द समेत अन्य नेताओं ने देशवासियों को दी ईद-ए-मिलाद-उन-नबी की बधाई

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,097FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

उत्तराखंड: राज्य में आई आपदा में बुधवार को नैनीताल-चंपावत में मलबे से बरामद हुए...

उत्तराखंड में सोमवार और मंगलवार को भारी बारिश के चलते राज्य के कई क्षेत्रों मे तबाही मच गयी. उफान पर आई नदियों ने बाढ़...

दुबई के कश्मीर में निवेश से पाक को लगी मिर्ची, बोला-हम मजाक बनकर रह...

कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से लेकर अब तक पाकिस्तान हर मंच पर भारत के खिलाफ जहर उगलता रहा है. लेकिन उसे...

उत्तराखंड: पिथौरागढ़ में भयानक सड़क हादसा, रिटायर ब्रिगेडियर सहित पांच लोगों की मौत

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद से में दर्दनाक हादसे की खबर सामने आ रही हैं. इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई...

यूपी में सियासी घमासान: अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिलने जा रही प्रियंका...

पुलिस कस्टडी में मारे गए व्यक्ति अरुण वाल्मीकि के परिजनों से मिलने आगरा जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के काफिले को आगरा एक्सप्रेस...

बारिश से प्रभावित क्षेत्रों में किसानों के बीच ट्रैक्टर पर सवार होकर सीएम धामी...

पिछले तीन दिनों से उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में बारिश और भूस्खलन ने भारी तबाही मचा रखी है. सबसे ज्यादा नुकसान नैनीताल के आस-पास...

उत्तराखंड: बीते दिन हुए आपदा के हालातों का जायजा लेने आज शाम उत्तराखंड पहुंचेंगे...

बीते दिन उत्तराखंड में आई आपदा ने काफी नुकसान पहुंचाया है. इसमें 50 लोगों की मौत तथा कई लोगो के अभी भी लापता होने...

उत्तरखंड: कुमायूं के कई इलाकों में अभी भी संपर्क मार्ग कटा हुआ है

उत्तराखंड के कुमाऊं के कई इलाकों का बाकी हिस्सों से संपर्क पूरी तरह से कट चुका है. मलबे के कारण जिले के कई रास्ते...

मुंबई क्रूज डग्स मामला: आर्यन खान को राहत नही, चौथी बार ख़ारिज हुई जमानत...

मुंबई क्रूज डग्स पार्टी मामले में आर्यन खान को राहत नही मिली. कोर्ट ने आर्यन की जमानत याचिका चौथी बार खारिज कर दी....

हरीश रावत का कांग्रेस आला कमान से आग्रह, मुझे पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से...

कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने पार्टी नेतृत्व से आग्रह किया है कि उन्हें पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए ताकि वह अपने...

उत्तराखंड: रुद्रपुर के पुलभट्टा क्षेत्र में हंसली नदी का पुल टूटा, कई मकान क्षतिग्रस्त

उत्तराखंड राज्य में सोमवार और मंगलवार को हुई भारी वर्षा से सबसे ज्यादा नैनीताल जिला प्रभावित हुआ है. कई  मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं और...