आने वाले दिनों में ये दवाएं रोकेगी कोरोना की लहर, बस मंजूरी का इंतजार

कोराना वायरस की पहचान करीब दो साल पहले चीन में हुई थी, लेकिन तब से लेकर अब तक इस बेहद खतरनाक वायरस को मात देने के लिए कोई खास कारगार दवा सामने नहीं आई है. दूसरी बीमारियों में इस्तेमाल होने वाली दवाइयां ही कोरोना संक्रमित मरीजों को दी जाती हैं. हालांकि अब कोरोना से लड़ने के लिए दवाइयों के मोर्चे पर अच्छी खबर सामने आ रही है. भारत में इस वक्त करीब 20 दवाओं का ट्रायल किया जा रहा है. इनमें से कुछ को जल्द ही हरी झंडी मिल सकती है.

हालांकि कोरोना संक्रमण की गिरती संख्या को देखकर ऐसा लग रहा है कि इन दवाओं कि डिमांड फिलहाल थोड़ी कम होगी, लेकिन एक्सपर्ट्स का मानना है कि आने वाले दिनों में ये दवाएं कोरोना की लहर को रोकेगी, साथ ही ऐसे लोगों के लिए रामबाण साबित होगी जिनकी इम्यूनिटी थोड़ी कम है.

स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार कोरोना वायरस के खिलाफ भारत की लड़ाई में दवाएं बेहद महत्वपूर्ण भूमिका निभाएंगी. उनका तर्क है कि कोविड-19 टीके केवल लोगों को इम्यूनिटी देगी, लेकिन ये वायरस कई लोगों की जान ले सकता है. ऐसे में दवा से काफी फायदा होगा.

यह भी पढ़ें -  राजधानी दिल्ली में डेंगू बरकरार, मामले हुए 1,000 के पार

वैक्सीन होने पर दवा की जरूरत क्यों?
एक्सपर्ट्स का मानना है कि कुछ लोग वैक्सीन लेने के बावजूद प्रतिरक्षा प्रतिक्रिया उत्पन्न करने में सक्षम नहीं हो पाते हैं. या फिर ऐसे लोग जिन्हें वैक्सीन लने की सलाह नहीं दी जाती है, उन पर वायरस के संक्रमण का खतरा लगातार बना रहता है. विशेषज्ञों का मानना ​​है कि 100% आबादी को टीकों के साथ कवर करना बेहद असंभव है और ऐसे में कोरोना वायरस का इलाज ढूंढ़ना बहुत अहम है.

उदाहरण के लिए चेचक को दशकों पहले खत्म कर दिया गया था. इसके लिए साल 2020 में Tecorivimat नाम की दवा को अमेरिका ने मंजूरी दी थी, जबकि कई वर्षों से चेचक का कोई मामला सामने नहीं आया था.

यह भी पढ़ें -  यूपी में चुनाव से पहले 14 आईपीएस और 10 आईएएस अफसरों के तबादले, देखे लिस्ट

कौन-कौन सी दवा का चल रहा है ट्रायल
मोलनुपिरवीर: अमेरिकी फार्मा दिग्गज मर्क एंड रिजबैक बायोथेरेप्यूटिक्स की ओरल एंटीवायरल दवा मोलनुपिरवीर ने कोरोना के खिलाफ अब तक अच्छा काम किया है. इस दवा को लेने वाले 50% लोगों को अस्पताल में भर्ती होने की जरूरत नहीं पड़ी है. साथ ही इस दवा के इस्तेमाल से मौत की दर में भी 50% तक की कमी देखी गई है. भारत में इस दवा का ट्रायल सिप्ला, डॉक्टर रेड्डीज लैबोरेट्रीज, सन फार्मास्युटिकल इंडस्ट्रीज और टोरेंट फार्मास्यूटिकल्स के जरिए किया जा रहा है.

ज़ायडस कैडिला: अहमदाबाद स्थित Zydus Cadila एकमात्र भारतीय कंपनी है, जिसने मोनोक्लोनल एंटीबॉडी को बेअसर करने वाली कॉकटेल दवा विकसित करने का दावा किया है. स्विस दवा निर्माता रोश द्वारा निर्मित ये दवा पूर्व अमेरिकी राष्ट्रपति डोनाल्ड ट्रम्प को दी गई थी. भारत में इस दवा का दूसरे और तीसरे फेज़ का ट्रायल चल रहा है.

ग्लेनमार्क की नेज़ल स्प्रे: मुंबई स्थित ग्लेनमार्क द्वारा कोविड-19 के लिए नाइट्रिक ऑक्साइड नेज़ल स्प्रे को भारत में बड़े स्तर पर ट्रायल करने की मंजूरी दी गई है. ब्रिटेन में स्प्रे पर अध्ययन ने सुझाव दिया है कि ये कोविड -19 रोगियों में वायरल लोड को कम करने और फैलने से रोकने में प्रभावी है.

यह भी पढ़ें -  हल्द्वानी: भारी बारिश में गौला पुल की एप्रोच रोड बही, निरीक्षण करने पहुंचे सीएम धामी

कई और दवाएं: इसके अलावा और भी ढेर सारी दवाओं पर रिसर्च किया जा रहा है. ये हैं- सीबीसीसी ग्लोबल रिसर्च के निकलोसामाइड, गुफिक बायोसाइंसेज के थाइमोसिन α-1 इंजेक्शन, सन फार्मा की दवा

सरकार से सहयोग की जरूरत
स्वास्थ्य विशेषज्ञों के अनुसार सरकारों को सक्रिय रूप से कोविड -19 के ट्रायल का समर्थन करना चाहिए. हेल्थ एक्सपर्ट चंद्रकांत लहारिया ने कहा, ‘वास्तव में, सरकार को उसी तरह सहयोग करना चाहिए जैसे वैक्सीन में किया गया. जैसे ही कोरोना मरीजों की संख्या गिरती है ट्रायल को पूरा करने में वक्त लगेगा. दरअसल ट्रायल के लिए आसानी से वॉलिएंटर नहीं मिलेंगे. इसलिए इन परीक्षणों को मदद करने की आवश्यकता है.’


Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,114FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

सरकारी कर्मियों के लिए दीवाली का तोहफा! अक्‍टूबर के वेतन में मिलेंगे 3 भत्‍ते-...

0
केंद्र सरकार दीवाली से पहले सरकारी कर्मचारियों को बड़ा तोहफा देने की तैयारी कर चुकी है. इसी क्रम में मोदी सरकार ने पिछले...

आईपीएल 2022 में जुड़ेंगी दो नई टीमें, लखनऊ और अहमदाबाद बने आईपीएल के नए...

0
आईपीएल 2022 में दो नई टीमें जुड़ेंगी, जिसके लिए आज दुबई में बोली की प्रक्रिया चल रही है. यह पहला मौका नहीं है जब...

Covid19: बीते 24 घंटे में उत्तराखंड में मिले 11 नए कोरोना संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण काबू में आ गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में 11 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत...

सीएम पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर आपदा प्रभावितों को सहायता राशि बढ़ाई गई

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने आपदा प्रभावितों को विभिन्न मदों में दी जा रही सहायता राशि को बढ़ाने के निर्देश दिये हैं. उन्होंने कहा...

एक और चुनावी घोषणा: पीएम मोदी के यूपी दौरे के दौरान प्रियंका गांधी ने...

0
उत्तर प्रदेश के विधानसभा चुनाव जैसे-जैसे नजदीक आते जा रहे हैं कांग्रेस की महासचिव और प्रदेश प्रभारी प्रियंका गांधी अपनी सक्रियता हर रोज बढ़ातीं...

राजधानी दिल्ली में डेंगू बरकरार, मामले हुए 1,000 के पार

0
कोरोना महामारी के बीच अब डेंगू भी बेकाबू होने लगा है. दिल्ली-एनसीआर में अब तक डेंगू के 1,000 से अधिक मामले सामने आ चुके...

वाराणसी में बोले पीएम-अब गरीब माता-पिता के बच्चे भी डॉक्टर बनने का सपना देख...

0
सोमवार को पीएम मोदी ने वाराणसी दौरे में प्रधानमंत्री आत्मनिर्भर स्वस्थ भारत योजना का शुभारंभ क‍िया वहीं इस मौके पर उन्‍होंने वाराणसी के...

उत्तराखंड: हरीश रावत ने धामी सरकार पे साधा निशाना, कहा- 28 से प्रदेशभर में...

0
उत्तराखंड के पूर्व मुख्यमंत्री हरीश रावत ने राज्य में बीते दिनों आई आपदा को लेकर धामी सरकार पे एक बार फिर निशाना साधा है....

सीएम धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड में “एक जनपद दो उत्पाद” योजना संबंधी शासनादेश...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी के निर्देश पर उत्तराखण्ड में “एक जनपद दो उत्पाद” (वन डिस्ट्रिक्ट टू प्रोडक्ट्स) ONE DISTRICT TWO PRODUCTS योजना संबंधी...

‘सत्यमेव जयते 2’ का धमाकेदार ट्रेलर हुआ रिलीज: अब डबल नहीं, ट्रिपल रोल में...

0
‘सत्यमेव जयते’ की सफलता के बाद बनी फिल्म ‘सत्यमेव जयते 2’ अब जल्द ही बड़े परदे में रिलीज होने वाली है. फ़िलहाल आज...