कलाई पर क्यों बांधा जाता है कलावा, जानिए इसके नियम-धार्मिक और वैज्ञानिक महत्व

हिंदू धर्म में कोई भी पूजा पाठ कभी बगैर कलावे के संपन्न नहीं होता. कलावा को रक्षा सूत्र माना जाता है. मान्यता है कि कलावे की सूती डोर में स्वयं भगवान का वास होता है. इसे बांधने से व्यक्ति की तमाम विपत्तियों से रक्षा होती है. इसके अलावा व्यक्ति के अंदर सकारात्मकता आती है और उसके तमाम काम बनने लगते हैं.

लेकिन कलावे को बांधते समय विशेष मंत्रोच्चारण किया जाता है, जिसका सही उच्चारण बहुत जरूरी है. तभी ये प्रभावी होता है. इसके अलावा भी कलावे के कुछ विशेष नियम हैं, जिनके बारे में बहुत से लोग नहीं जानते. यहां जानिए इसके नियम, महत्व और विशेष मंत्र के बारे में.

शास्त्रों में बताया गया है कि कलावा बांधने की शुरुआत माता लक्ष्मी ने की थी. जब भगवान विष्णु ने बामन अवतार में तीन पग धरती नाप ली थी, तो राजा बलि की दानवीरता से प्रसन्न होकर उन्होंने उसे पाताल लोक रहने के लिए दे दिया था. तब राजा बलि ने भगवान विष्णु से प्रार्थना की कि वे भी उनके साथ पाताल लोक में आकर रहें. विष्णु जी ने प्रसन्न होकर उसकी ये प्रार्थना स्वीकार कर ली.

यह भी पढ़ें -  ब्रेकिंग: सीबीएसई ने 10वीं और 12वीं का टर्म-1 परीक्षा की डेटशीट की जारी

इसके बाद माता लक्ष्मी भगवान विष्णु को वहां से वापस लाने के लिए भेष बदलकर पाताल पहुंची और बालि के सामने रोने लगीं कि मेरा कोई भाई नहीं है. इसके बाद बालि ने कहा आज से मैं आपका भाई हूं. इस पर माता लक्ष्मी ने तब राजा बलि को रक्षा सूत्र के तौर पर कलावा बांधा और उसे अपना भाई बना लिया. इसके बाद उपहार के तौर पर भगवान विष्णु को उनसे मांग लिया. तब से इस कलावे को रक्षा सूत्र के तौर पर बांधा जाने लगा.

यह भी पढ़ें -  गोदियाल ने सुरेंद्र कुमार को उत्तराखंड कांग्रेस मीडिया सलाहकार के पद पर नियुक्त किया

तीन बार लपेटा जाता है कलावा
नियम के अनुसार कलावा कलाई पर सिर्फ तीन बार लपेटा जाता है. तीन बार लपेटने भर से व्यक्ति को ब्रह्मा, विष्णु और महेश, त्रिदेव की कृपा प्राप्त हो जाती है. त्रिदेव के आशीर्वाद के साथ ही सरस्वती, लक्ष्मी और पार्वती तीनों देवियों का भी आशीर्वाद मिलता है.

यह भी पढ़ें -  यूपी में सियासी घमासान: अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिलने जा रही प्रियंका गांधी हिरासत में

इस मंत्र का करें उच्चारण
आपने देखा होगा कि कोई भी पंडित कलावा बांधते समय एक मंत्र जरूर बोलता है. वो मंत्र है- ‘येन बद्धो बलि राजा, दानवेन्द्रो महाबलः, तेन त्वां मनुबध्नामि, रक्षंमाचल माचल’. मान्यता है कि इस मंत्र के साथ कलावा बांधने से वो प्रभावी हो जाता है. कलावे को पुरुष और कुंवारी कन्याओं के दाहिने हाथ की कलाई पर और शादीशुदा महिलाओं के बाएं हाथ की कलाई पर बांधना चाहिए. साथ ही कलावा बांधते समय मुट्ठी बंद होनी चाहिए और दूसरा हाथ सिर पर होना चाहिए. महिलाएं अपना सिर किसी दुपट्टे आदि से ढंक सकती हैं.

यह भी पढ़ें -  पीएम मोदी और राष्ट्रपति रामनाथ कोविन्द समेत अन्य नेताओं ने देशवासियों को दी ईद-ए-मिलाद-उन-नबी की बधाई

कितने दिनों में बदलें कलावा
शास्त्रों में बताया गया है कि कलावा को हर अमावस्या पर उतार देना चाहिए और अगले दिन नया बांधना चाहिए. इसके अलावा ग्रहण काल के बाद कलावा बदलना चाहिए क्योंकि सूतक के बाद कलावा अशुद्ध हो जाता है और अपनी शक्ति खो देता है. कलावा उतारने के बाद उसे जल में प्रवाहित करना चाहिए या पीपल के नीचे रख दें. कभी किसी गंदे स्थान पर न फेंकें.

कलावा बांधने का वैज्ञानिक कारण
कलावा बांधने का धार्मिक कारण तो आपने जान लिया लेकिन इसका वैज्ञानिक कारण भी समझना चाहिए. शरीर के ज्यादातर अंगों तक पहुंचने वाली नसें कलाई से होकर गुजरती हैं. ऐसे में कलाई पर कलावा बांधने से नसों की क्रिया नियंत्रित बनी रहती है. शरीर में त्रिदोष यानी वात, पित्त और कफ का संतुलन बनता है, जिससे तमाम रोगों से बचाव होता है.

यह भी पढ़ें -  शरद पूर्णिमा 2021: क्यों विशेष है इस बार यह व्रत! जानें पूजा तिथि, शुभ मुहूर्त एवं महत्व

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo – 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल – [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,097FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

उत्तराखंड: राज्य में आई आपदा में बुधवार को नैनीताल-चंपावत में मलबे से बरामद हुए...

उत्तराखंड में सोमवार और मंगलवार को भारी बारिश के चलते राज्य के कई क्षेत्रों मे तबाही मच गयी. उफान पर आई नदियों ने बाढ़...

दुबई के कश्मीर में निवेश से पाक को लगी मिर्ची, बोला-हम मजाक बनकर रह...

कश्मीर से आर्टिकल 370 हटाने के बाद से लेकर अब तक पाकिस्तान हर मंच पर भारत के खिलाफ जहर उगलता रहा है. लेकिन उसे...

उत्तराखंड: पिथौरागढ़ में भयानक सड़क हादसा, रिटायर ब्रिगेडियर सहित पांच लोगों की मौत

उत्तराखंड के पिथौरागढ़ जनपद से में दर्दनाक हादसे की खबर सामने आ रही हैं. इस हादसे में पांच लोगों की मौत हो गई...

यूपी में सियासी घमासान: अरुण वाल्मीकि के परिवार से मिलने जा रही प्रियंका...

पुलिस कस्टडी में मारे गए व्यक्ति अरुण वाल्मीकि के परिजनों से मिलने आगरा जा रही कांग्रेस महासचिव प्रियंका गांधी के काफिले को आगरा एक्सप्रेस...

बारिश से प्रभावित क्षेत्रों में किसानों के बीच ट्रैक्टर पर सवार होकर सीएम धामी...

पिछले तीन दिनों से उत्तराखंड के कुमाऊं मंडल में बारिश और भूस्खलन ने भारी तबाही मचा रखी है. सबसे ज्यादा नुकसान नैनीताल के आस-पास...

उत्तराखंड: बीते दिन हुए आपदा के हालातों का जायजा लेने आज शाम उत्तराखंड पहुंचेंगे...

बीते दिन उत्तराखंड में आई आपदा ने काफी नुकसान पहुंचाया है. इसमें 50 लोगों की मौत तथा कई लोगो के अभी भी लापता होने...

उत्तरखंड: कुमायूं के कई इलाकों में अभी भी संपर्क मार्ग कटा हुआ है

उत्तराखंड के कुमाऊं के कई इलाकों का बाकी हिस्सों से संपर्क पूरी तरह से कट चुका है. मलबे के कारण जिले के कई रास्ते...

मुंबई क्रूज डग्स मामला: आर्यन खान को राहत नही, चौथी बार ख़ारिज हुई जमानत...

मुंबई क्रूज डग्स पार्टी मामले में आर्यन खान को राहत नही मिली. कोर्ट ने आर्यन की जमानत याचिका चौथी बार खारिज कर दी....

हरीश रावत का कांग्रेस आला कमान से आग्रह, मुझे पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से...

कांग्रेस महासचिव हरीश रावत ने पार्टी नेतृत्व से आग्रह किया है कि उन्हें पंजाब प्रभारी की जिम्मेदारी से मुक्त किया जाए ताकि वह अपने...

उत्तराखंड: रुद्रपुर के पुलभट्टा क्षेत्र में हंसली नदी का पुल टूटा, कई मकान क्षतिग्रस्त

उत्तराखंड राज्य में सोमवार और मंगलवार को हुई भारी वर्षा से सबसे ज्यादा नैनीताल जिला प्रभावित हुआ है. कई  मकान क्षतिग्रस्त हो गए हैं और...