Shardiya Navratri 2021: शारदीय नवरात्रि के पहले‌ दिन करें मां शैलपुत्री की पूजा, जानें मां शैलपुत्री की आरती-पूजा विधि

सनातन धर्म के प्रमुख पर्वों में से एक शारदीय नवरात्रि 2021 का पर्व 07 अक्टूबर से प्रारंभ हो रहा है. नवरात्रि का शुभ शुरुआत घटस्थापना के साथ होता है. इसी दिन अखंड ज्योत जलाया जाता है तथा माता शैलपुत्री की पूजा की जाती है. नवरात्र का पहला दिन मां दुर्गा के पहले स्वरूप मां शैलपुत्री को समर्पित है.

पौराणिक कथाओं के अनुसार, माता शैलपुत्री का जन्म पर्वतराज हिमालय के पुत्री के रूप में हुआ था इसीलिए उन्हें शैलपुत्री कहा जाता है. शैलपुत्री माता पार्वती तथा उमा के नाम से भी जानी जाती हैं. माता शैलपुत्री बेहद शुभ मानी जाती हैं जिनके एक हाथ में त्रिशूल और दूसरे हाथ में कमल मौजूद रहता है.

माता शैलपुत्री वृषभ पर विराजमान रहती हैं. संपूर्ण हिमालय पर्वत माता शैलपुत्री को समर्पित है. कहा जाता है कि माता शैलपुत्री अत्यंत सौम्य स्वभाव की हैं और अपने भक्तों को वरदान देती हैं.

माता शैलपुत्री को प्रसन्न करने के लिए विधिवत तरीके से पूजा करें तथा आरती, मंत्र, कथा और भोग के साथ उनकी आराधना करें.

मां शैलपुत्री की आरती
शैलपुत्री मां बैल असवार. करें देवता जय जयकार.
शिव शंकर की प्रिय भवानी. तेरी महिमा किसी ने ना जानी.

पार्वती तू उमा कहलावे. ‌ जो तुझे सिमरे सो सुख पावे.
ऋद्धि-सिद्धि परवान करे तू. दया करे धनवान करे तू.

सोमवार को शिव संग प्यारी. आरती तेरी जिसने उतारी. ‌
उसकी सगरी आस पुजा दो. सगरे दुख तकलीफ मिला दो.

घी का सुंदर दीप जला‌ के. गोला गरी का भोग लगा के.
श्रद्धा भाव से मंत्र गाएं. प्रेम सहित फिर शीश झुकाएं.

जय गिरिराज किशोरी अंबे. शिव मुख चंद्र चकोरी अंबे.
मनोकामना पूर्ण कर दो. भक्त सदा सुख संपत्ति भर दो.

मां शैलपुत्री मंत्र
वन्दे वाच्छितलाभाय चन्द्रार्धकृतशेखराम्.
वृषारुढां शूलधरां शैलपुत्रीं यशस्विनीम्..

मां शैलपुत्री की कथा
मां शैलपुत्री की यह कथा बहुत प्राचीन और प्रसिद्ध है, जानकार बताते हैं कि बहुत समय पहले प्रजापति दक्ष ने एक यज्ञ का आयोजन किया था जिसमें उन्होंने सभी देवी-देवताओं को आमंत्रित किया था. लेकिन प्रजापति दक्ष ने भगवान शिव को इस यज्ञ के बारे में कुछ नहीं बताया और ना ही आमंत्रित किया. जब यह बात देवी सती ने सुनी तब उन्हें इस यज्ञ में जाने का बहुत मन हुआ जिसके बाद वह भगवान शिव से आग्रह करने लगीं.

भगवान शिव के कहने पर भी नहीं रुकीं देवी सती
भगवान शिव ने कहा की अगर प्रजापति दक्ष ने हमें इस यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया है तो इसके पीछे कोई ना कोई बड़ी वजह जरूर होगी. शायद वह हमसे किसी बात पर नाराज हैं इसीलिए उन्होंने हमें इस यज्ञ में आमंत्रित नहीं किया है. यह बात सुनकर देवी सती भगवान शिव से आग्रह करने लगी कि वह उस यज्ञ में शामिल होना चाहती हैं. भगवान शिव ने उन्हें मना किया लेकिन देवी सती की इच्छा को देखकर भगवान शिव मान गए और देवी सती को यज्ञ में शामिल होने की अनुमति दे दिए.

योगाग्नि में भस्म हो गई थीं देवी सती

जब देवी सती उस यज्ञ में पहुंची तब उन्होंने देखा कि यज्ञ में मौजूद सभी परिवारजन उनसे प्रेम से बात नहीं कर रहे थे. यह सब देखकर देवी सती को बहुत बुरा लगा और वह भगवान शिव की बात ना मन कर पछताने लगीं. अपने द्वारा अपने पति का किया हुआ अपमान उन्हें सहन नहीं हुआ और वह योगाग्नि में भस्म हो गईं. जब भगवान शंकर को इस बात का पता चला तब उन्होंने इस यज्ञ को विध्वंस करने का आदेश दिया.

अगले जन्म ‌में देवी सती शैलराज हिमालय की पुत्री के रूप में जन्मी. इसलिए उनका नाम शैलपुत्री रखा गया.

मां शैलपुत्री का भोग
कहा जाता है कि मां शैलपुत्री को घी अर्पित करना चाहिए क्योंकि ऐसा करना बेहद मंगलकारी होता है. जो भक्त नवरात्र के पहले दिन मां शैलपुत्री के चरणों में गाय का घी अर्पित करता है उसे आरोग्य जीवन प्राप्त होता है.

यह भी पढ़ें -  T20 World Cup 2021: न्यूजीलैंड के खिलाफ टीम इंडिया की प्लेइंग इलेवन में बदलाव की संभावना

Related Articles

स्वामी का नाम: प्रदीप चन्द्र पाठक
फ़र्म का नाम: यूटी मीडिया वेंचर्स
पता: HNo - 6 , सर्वोदय कॉलोनी, रनवीर गार्डेन के सामने, धानमिल रोड, हल्द्वानी। पिन: 263139
ईमेल - [email protected]
फोन: 8650000291

Stay Connected

58,944FansLike
3,122FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

IPL 2022: हार्दिक पंड्या को मुंबई इंडियन ने दिया झटका, नीलामी पूल में...

0
टीम इंडिया के ऑलराउंडर हार्दिक पंड्या को मुंबई इंडियंस द्वारा आईपीएल नीलामी पूल में वापस भेजे जाने की संभावना है. 5 बार की चैंपियन...

Covid19: उत्तराखंड में मिले नौ नए कोरोना संक्रमित, सक्रिय मरीजों की संख्या घटकर 150 से...

0
उत्तराखंड में अब कोरोना संक्रमण थम गया है. बीते 24 घंटे में प्रदेश में नौ नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई...

सीएम धामी ने कोरोना काल में बंद मुख्यमंत्री आँचल अमृत योजना का किया...

0
गुरुवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने रिंग रोड ,देहरादून स्थित होटल में आयोजित कार्यक्रम में प्रतिभाग करते हुए मुख्यमंत्री आँचल अमृत योजना...

क्रूज ड्रग्‍स मामला: समीर वानखेड़े को मुंबई हाईकोर्ट से मिली बड़ी राहत, गिरफ्तारी से...

0
मुंबई क्रूज ड्रग्‍स केस में रोज नए खुलासे सामने आ रहे हैं. इस मामले में जांच की आंच अब नार्कोटिक्‍स कंट्रोल ब्‍यूरो (NCB) के...

आर्यन खान जमानत: कल जेल से बाहर आने की संभावना

0
फिल्म अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को आखिरकार हाईकोर्ट ने आज जमानत दे दी. लेकिन उन्हें आज रात जेल में ही गुजारनी...

पीएम मोदी का पांच दिनी विदेशी दौरा कल से ,इटली में जी-20 की बैठक...

0
कल से प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी विदेशी दौरे पर रहेंगे. मोदी इटली के प्रधानमंत्री मारियो ड्रैगी के निमंत्रण पर जी-20 शिखर सम्मेलन में भाग लेने...

आर्यन खान को मिली बड़ी राहत, बॉम्बे हाईकोर्ट ने दी जमानत

0
बॉम्बे हाईकोर्ट ने अभिनेता शाहरुख खान के बेटे आर्यन खान को जमानत दे दी है. गुरुवार को एनसीबी के दलीलें पेश करने के बाद...

Covid 19: भारत सरकार ने देशभर में कोरोना प्रतिबंधों को 30 नवंबर तक बढ़ाया

0
त्योहारी मौसम के कारण गृह मंत्रालय ने देश भर में कोविड प्रतिबंधों को 30 नवंबर तक बढ़ा दिया है. त्योहारी मौसम देखते हुए माना...

सीएम धामी ने बद्रीनाथ धाम पहुंचकर की बद्रीनारायण की पूजा

0
गुरुवार को मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने बद्रीनाथ धाम पहुंचकर भगवान श्री बद्रीनाथ की विशेष पूजा अर्चना करते हुए देश और प्रदेश...

उत्तराखंड: प्रदेश में बढ़ रहा डेंगू का प्रकोप, अब तक कुल 382 मरीज की...

0
उत्तराखंड में लगातार डेंगू का प्रकोप बढ़ता जा रहा है. रुड़की में गुरुवार को 12 नए डेंगू के मरीज मिले हैं जिसके बाद अब राज्य...