छाई रौनक: मैसूर और कुल्लू का दशहरा रहा है आकर्षण का केंद्र, देश-दुनिया से हजारों लोग पहुंचते हैं देखने

देश में दशहरा पर्व की रौनक छाई हुई है. सभी लोग शाम को होने वाले दशहरा उत्सव की तैयारी में जुटे हैं. मैदानों और पार्कों में रावण के पुतले दहन करने के लिए तान दिए गए हैं. देशवासी विजयदशमी के उल्लास में सराबोर हैं. आज बात करते हैं भारत में उन जगहों की जहां का दशहरा विश्व प्रसिद्ध है. ‌

देश के कई शहरों में यह आयोजन किया जाता है. लेकिन कई राज्यों में दशहरा पर्व देखने के लिए दुनिया भर से लोग आते हैं. इन जगहों पर दशहरा बहुत भव्य तरीके से मनाया जाता है और यहां की रौनक बिल्कुल अलग होती है. अब जानते हैं कि भारत की किन जगहों पर सबसे बड़ा दशहरा मनाया जाता है. पहले बात करेंगे कर्नाटक के शहर में मैसूर की. मैसूर का दशहरा मैसूर में दशहरे का त्योहार कई दिनों तक मनाया जाता है. यहां का दशहरा दुनिया भर में प्रसिद्ध है.

दशहरा को कर्नाटक का प्रादेशिक त्योहार भी माना जाता है. यहां नवरात्रि से ही दशहरा मेला की शुरुआत हो जाती है जिसमें हजारों लोग शामिल होते हैं. मैसूर का नाम महिषासुर के नाम पर रखा गया था. मैसूर महल को एक दुल्हन की तरह सजाया जाता है और शोभायात्रा निकाली जाती है. शहर में दशहरा का त्योहार बहुत ही भव्य तरीके से मनाया जाता है . इस त्योहार को यहां के लोग नबाबबा कहते हैं. इस त्योहार में मैसूर के सबसे मशहूर शाही वोडेयार परिवार सहित पूरा शहर शामिल होता है.

यह भी पढ़ें -  सांसदों का निलंबन वापसी की मांग के बीच राहुल गांधी ने ट्वीट कर कहा सवालों और सच से डरती है सरकार

मैसूर पैलेस को 10 दिनों तक सजा कर रखा जाता है. साथ ही यहां सांस्कृतिक और धार्मिक कार्यक्रम भी आयोजित किए जाते हैं. इसके अलावा महल के मैदान के सामने एक दशहरा प्रदर्शन का भी आयोजन किया जाता है. ऐसे ही कर्नाटक का मंगलौर भी अपने भव्य दशहरे के कार्यक्रम के लिए मशहूर यहां का दशहरा देशभर से श्रद्धालुओं को आकर्ष‍ित करता है. दशहरे पर यहां का टाइगर डांस पूरी दुनिया में आकर्षण का केंद्र है. यहां पर इस दिन कई तरह के सांस्कृतिक कार्यक्रमों का आयोजन भी किया जाता है.

हिमाचल के कुल्लू का दशहरा अंतरराष्ट्रीय फेस्टिवल घोषित किया गया
अब बात करेंगे हिमाचल प्रदेश की. कुल्लू शहर शांति और अपनी सुंदरता के लिए जाना जाता है. वहीं दशहरा के दिन इस शहर का भव्य आयोजन सभी लोगों के आकर्षण का केंद्र बना हुआ है. कुल्लू में दशहरा का त्योहार भी बड़े धूमधाम से मनाया जाता है. जब पूरे देश में दशहरा खत्म होता है, उसी दिन यहां पर दशहरे का उत्सव शुरू होता है. कुल्लू में यह पर्व सात दिनों तक मनाया जाता है.

जहां पूरे देश में दशहरा असत्य पर सत्य की जीत के रूप में मनाया जाता है वहीं कुल्लू में काम, क्रोध, मोह, लोभ और अहंकार के नाश के तौर पर पांच जानवरों की बलि देकर इसे मनाते हैं. ‘कुल्लु के दशहरे को अंतर्राष्ट्रीय फेस्ट‍िवल घोषित किया गया है’. यहां बड़ी तादात में पर्यटक दशहरे का मेला देखने के लिए आते हैं. ढालपुर मैदान में मनाया जाने वाले दशहरा दुनिया भर में प्रसिद्ध है.

यह भी पढ़ें -  गुलाम नबी आजाद बोले, मुझे नहीं लगता अगले लोकसभा चुनाव में कांग्रेस 300 सीटें जीत पाएगी

यहां दशहरा का त्योहार मनाने की परंपरा 17वीं शताब्दी से चली आ रही है. यहा दशहरे के दिन सांस्कृतिक कार्यक्रमों का भी आयोजन किया जाता है. इसी प्रकार दक्षिण भारत के मदिकेरी में दशहरे का त्योहार 10 दिनों तक मनाया जाता है. इसकी भव्यता के लिए इसे मदिकेरी दशहरा भी कहा जाता है.

यहा दशहरे को मनाने की तैयारी तीन महीने पहले से ही शुरु हो जाती है. यहां के दशहरे को देखने के लिए काफी दूर- दूर से लोग आते हैं. दशहरे के त्योहार की वजह से ही इस छोटे से शहर की रौनक बहुत बढ़ जाती है.

कोटा और बस्तर में दशहरा पर्व मनाने की अलग रही है परंपरा
वैसे तो राजस्थान का कोटा शहर अपनी कोचिंग क्लासेज के लिए पूरे देश भर में प्रसिद्ध है. लेकिन यहां का दशहरा भी लोगों को लुभाता रहा है. बता दें कि कोटा में दशहरा काफी धूमधाम से मनाया जाता है.

यहां का दशहरा देखने के लिए बहुत भीड़ जुटती है. कोटा में दशहरे मेले का आयोजन सदियों से किया जाता रहा है. दुनिया भर के लोग यहां की भव्यता देखने इकट्ठा होते हैं.

यह भी पढ़ें -  राशिफल 02-12-2021: आज इस राशि को होगा अपेक्षा से अधिक लाभ

दशहरे के दिन यहां पर भजन कीर्तन के साथ-साथ कई प्रकार की प्रतियोगिताएं भी होती हैं. चंबल नदी के किनारे बसा यह शहर दशहरा पर अपनी अलग छटा बिखेरता है. अब बात करेंगे देश के आदिवासी जनपद बस्तर की. यह शहर भी विजयदशमी पर्व मनाने के लिए प्रसिद्ध है. बता दें कि बस्तर में दशहरा बहुत भव्य तरीके से मनाया जाता है.

पुराणों के अनुसार भगवान राम ने अपने 14 वर्षों का वनवास यहीं पर बिताया था. बस्तर के जगदलपुर में मां दंतेश्वरी का मंदिर में दशहरा बहुत धूमधाम से मनाया जाता है. इस मौके पर यहां हर साल हजारों आदिवासी आते हैं. यहां रावण का दहन नहीं किया जाता है. राजा पुरुषोत्तम ने यहां पर रथ चलाने की प्रथा शुरू की थी.

इसी कारण यहां पर रावण दहन की जगह दशहरे के दिन रथ चलाने की परंपरा है. इनके अलावा राजधानी दिल्ली के रामलीला मैदान पर भी दशहरा मनाने की परंपरा काफी समय से चली आ रही है. दिल्ली के रामलीला मैदान को राजनीति के तौर पर भी जाना जाता है. दशहरे के दिन तमाम नेता पहुंचते रहे हैं.

शंभू नाथ गौतम, वरिष्ठ पत्रकार

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,158FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

राशिफल 03-12-2021: आज कर्क राशि की वाहन खरीदारी सम्भव, जानें अन्य का हाल

0
मेष- आज के दिन जीवनसाथी का सानिध्य मिलेगा. रोजी-रोजगार में आप तरक्की करेंगे. स्वास्थ एवं प्रेम की स्थिति ठीक रहेगी. वृष- आज के दिन...

3 दिसम्बर 2021 पंचांग: जानें आज का शुभ मुहूर्त, कैलेंडर-व्रत और त्यौहार

0
आपके लिए आज का दिन शुभ हो. अगर आज के दिन यानी 3 दिसम्बर को कार लेनी हो, स्कूटर लेनी हो, दुकान का मुहूर्त...

पन्तनगर: सीएम धामी ने किया राकेट इंडिया प्रा.लि. के विस्तार परियोजना का शुभारम्भ

0
पन्तनगर| गुरूवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रॉकेट इण्डिया प्रा.लि. की नवीनतम विस्तार परियोजना का शुभांरभ किया. उन्होने कहा कि कम्पनी के विस्तार...

देहरादून: सीएम धामी ने किया परेड ग्राउण्ड का निरीक्षण, पीएम मोदी के कार्यक्रम की...

0
मुख्यमंत्री पुष्कर सिंह धामी ने गुरूवार सायं को भी परेड ग्राउण्ड का स्थलीय निरीक्षण कर व्यवस्थाओं का जायजा लिया. मुख्यमंत्री ने संबंधित अधिकारियों को...

रूद्रपुर: सीएम धामी ने किया राष्ट्रीय सरल मेले का शुभारम्भ,

0
गुरूवार को सीएम पुष्कर सिंह धामी ने रूद्रपुर गांधी मैदान में राष्ट्रीय सरस मेला-2021 का शुभारम्भ किया. मेले में आये हुए 147 स्वयं सहायता...

Corona In Uttarakhand: बीते 24 घंटे में मिले 17 नए संक्रमित, एक भी मरीज...

0
उत्तराखंड में बीते 24 घंटे में 17 नए कोरोना संक्रमित मिले हैं. वहीं, एक भी मरीज की मौत नहीं हुई है. नौ मरीजों को ठीक होने के बाद...

अधीर रंजन चौधरी का सवाल- क्या 4 प्रतिशत पोपुलर वोट के साथ पीएम मोदी...

0
तृणमूल कांग्रेस के यूपीए को लेकर बयान के बाद कांग्रेस और टीएमसी के बीच तकरार बढ़ने लगा है. कांग्रेस के नेताओं ने टीएमसी सुप्रीमो...

चक्रवाती तूफान जवाद के चलते रेलवे ने रद्द की 95 ट्रेनें-दखे लिस्ट

0
भुवनेश्वर| ईस्ट कोस्ट रेलवे ने ओडिशा तट पर चक्रवाती तूफान जवाद की आशंका के मद्देनजर 3 दिनों के लिए 95 ट्रेनों का...

आंवले के ये औषधीय गुण जानकर दंग रह जाएंगे आप

0
आंवला एक बहुत ही साधारण फल है, जो बाजारों में आसानी से मिल जाता है. पुराने समय से ही आंवले का कई तरह से...

नहीं रहे हिट वेब सीरीज ‘मिर्जापुर’ के ‘ललित’ उर्फ ब्रह्मा मिश्रा

0
मुंबई| अमेजन प्राइम वीडियो की हिट वेब सीरीज 'मिर्जापुर' में ललित का किरदार निभाने वाले एक्टर ब्रह्म मिश्रा नहीं रहे. बॉलीवुड अभिनेता दिव्येंदु ने...