वाल्मीकि जयंती 2021: कब है वाल्मीकि जयंती, जानिए इतिहास और महत्व

हिंदू धर्म में वाल्मीकि जयंती का विशेष महत्व है. यह हर साल आश्विन मास की पूर्णिमा तिथि को मनाई जाती है. इस बार वाल्मीकि जयंती 20 अक्टूबर यानी बुधवार को मनाई जा रही है. मान्यताओं के अनुसार इसी तिथि को महर्षि वाल्मीकि ने जन्म लिया था. पौराणिक ग्रंथों के अनुसार महर्षि वाल्मीकि ने ही रामायण की रचना की है.

वाल्मीकि जयंती का इतिहास और महत्व:
शास्त्र के अनुसार जब भगवान श्री राम ने माता सीता का त्याग कर दिया तब महर्षि वाल्मीकि ने ही उन्हें अपने आश्रम में जगह दी थी और वहीं माता सीता ने अपने दोनों पुत्र लव और कुश को जन्म दिया था.

महर्षि वाल्मीकि को कई भाषाओं का ज्ञाता और संस्कृत भाषा का पहला कवि माना जाता है. उन्होंने रामायण में चौबीस हजार छंद और 77 कांड लिखे है. वाल्मीकि जयंती के दिन महर्षि के उपलब्धियों को याद किया जाता है पवित्र रामायण की पूजा की जाती है. प्रत्येक वर्ष वाल्मीकि जयंती धूमधाम से मनाई जाती है.

यह भी पढ़ें -  रूद्रपुर: सीएम धामी ने किया राष्ट्रीय सरल मेले का शुभारम्भ,

कौन थे महर्षि वाल्मीकि:
पौराणिक मान्यताओं के अनुसार वाल्मीकि महर्षि कश्यप और अदिति के पोते थे. वह महर्षि वरुण और चर्षणी के नौवें पुत्र थे. उन्हें महर्षि भृगु का भाई भी कहा जाता है. पुराणों में उल्लेख है कि वाल्मीकि को बचपन में एक भीलनी ने चुरा लिया था और भील समाज में ही उनका लालन पालन हुआ. बड़े होने पर वाल्मीकि डाकू बन गए.

ऐसे मिला वाल्मीकि नाम:
महर्षि वाल्मीकि घोर तपस्या में लीन थे तभी उनको दीमकों ने चारों तरफ से घेर लिया. दीमकों ने उनके शरीप पर भी घर बना लिया. अपनी तपस्या पूरी करके वाल्मीकि दीमकों के घर से बाहर निकले. दीमकों के घर को वाल्मीकि कहा जाता है. तभी से उनका नाम महर्षि वाल्मीकि पड़ गया.

यह भी पढ़ें -  सीएम धामी ने बिल्डिंग न्यू उत्तराखण्ड कार्यक्रम में किया प्रतिभाग, बोले -प्रदेश का समग्र विकास हमारा ध्येय वाक्य

डाकू से ऐसे बने वाल्मीकि:
पौराणिक कथाओं के अनुसार वाल्मीकि का असली नाम रत्नाकर था, जो पहले लुटेरे हुआ करते थे और उन्होंने नारद मुनि को लूटने की कोशिश की. नारद मुनि ने वाल्मीकि से प्रश्न किया कि क्या परिवार भी तुम्हारे साथ पाप का फल भोगने को तैयार होंगे? जब रत्नाकर ने अपने परिवार से यही प्रश्न पूछा तो उसके परिवार के सदस्य पाप के फल में भागीदार बनने को तैयार नहीं हुए. तब रत्नाकर ने नारद मुनि से माफी मांगी और नारद ने उन्हें राम का नाम जपने की सलाह दी. राम का नाम जपते हुए डाकू रत्नाकर वाल्मीकि बन गए.

यह भी पढ़ें -  नए साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना पड़ेगा महंगा, जानिए डिटेल्स

भारत भर में वाल्मीकि जयंती समारोह :
वाल्मीकि जयंती भारत के उत्तरी हिस्सों में विशेष रूप से हिंदू भक्तों द्वारा बड़े उत्साह के साथ मनाई जाती है. इस दिन, लोग शोभा यात्रा नाम से महान जुलूसों का हिस्सा बनते हैं और वाल्मीकि क्षेत्र की सड़कों के माध्यम से, हाथों में तख्तियों और कागजों के साथ भगवा रंग के वस्त्र पहने एक पुजारी का प्रतिनिधित्व करते हैं. ऋषि के मंदिरों को फूलों और रोशनी से सजाया जाता है, और भक्त मुफ्त भोजन कराकर और पूजा पाठ जैसे अनुष्ठान भी करते हैं.

Related Articles

Stay Connected

58,944FansLike
3,158FollowersFollow
494SubscribersSubscribe

-- Advertisement --

--Advertisement--
--Advertisement--

Latest Articles

दिल्ली में ‘ओमिक्रॉन’ की दस्तक, मिले 12 संदिग्ध मरीज

0
राजधानी दिल्ली में कोरोना वायरस के नए वेरिएंट ‘ओमिक्रॉन’ के 12 संदिग्ध मरीज मिले हैं. सभी को लोक नायक जय प्रकाश नारायण अस्पताल...

IND vs NZ 2nd Test: टीम इंडिया को लगे तीन झटके, गिल-पुजारा और...

0
भारत और न्यूजीलैंड के बीच दो मैचों की टेस्ट सीरीज का आज दूसरा और आखिरी मुकाबला है. इस सीरीज का पहला मैच ड्रॉ होने के...

आंध्र प्रदेश में चक्रवात जवाद का खौफ: सरकार ने दिया दो दिनों तक स्कूल...

0
आंध्र प्रदेश में चक्रवात जवाद के खौफ से सरकार ने विशाखापत्तनम और श्रीकाकुलम जिलों में स्कूलों को बंद करने का आदेश दिया गया है....

पीएम मोदी ने किया इनफिनिटी फोरम का उद्घाटन, पढ़े पीएम का महत्वपूर्ण भाषण

0
शुक्रवार को पीएम मोदी ने वीडियो कॉन्फ्रेंसिंग के जरिए फिनटेक पर एक विचारशील नेतृत्व मंच, इनफिनिटी फोरम का उद्घाटन किया है. पीएम मोदी...

निलंबित सांसदों के प्रदर्शन के विरोध में भाजपा सांसदों ने निकाला पैदल मार्च

0
गांधी प्रतिमा पर धरना दे रहे विपक्षी दलों के सांसदों के विरोध में शुक्रवार को भाजपा सांसदों ने गांधी प्रतिमा से लेकर बाबा साहेब...

विशेष: भोपाल गैस त्रासदी के 37 बरस-5 हजार से अधिक लोगों ने जहरीली गैस...

0
आज से 37 साल पहले विश्व की भीषणतम औद्योगिक त्रासदी यानी भोपाल गैस कांड ने पूरी दुनिया को झकझोर कर दिया था. इस घटना...

फटाफट समाचार (3-12-2021) सुनिए अब तक की ख़ास खबरें

0
देश में 'ओमिक्रोन' की दस्तक से बढे कोरोना के मामले, बीते 24 घंटो में सामने आये 9,216 नए केस उत्तराखंड राज्य में गुरुवार...

उत्तराखंड में बदला मौसम का मिज़ाज, पहाड़ों में बर्फबारी -मैदानों में रिमझिम बारिश

0
देहरादून| उत्तराखंड में मौसम का मिज़ाज बदल गया है. पहाड़ी इलाकों में बर्फीली हवाएं शुरू हो गई हैं. मौसम विज्ञान केंद्र के मुताबिक पहाड़ी...

उत्तराखंड: देहरादून में पीएम मोदी की रैली को लेकर चार दिसंबर को बदले रहेंगे...

0
कल प्रधानमंत्री नरेंद्र मोदी का उत्तराखंड दौरा है. देहरादून के परेड ग्राउंड में मोदी रैली में हिस्सा लेंगे. इसको देखते हुए पुलिस ने रूट...

नए साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना पड़ेगा महंगा, जानिए डिटेल्स

0
अगले महीने यानी साल 2022 से एटीएम से कैश निकालना महंगा पड़ेगा. जी हां..अब कैश निकालना और महंगा होने वाला है. ग्राहक...